myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

काम का अतिरिक्त दबाव, बदलती जीवनशैली और बिगड़ता खानपान। ये आधुनिक युग के जीवन के प्रमुखतम अंग हैं। हालांकि इन्होंने नकारात्मक रूप से ही जीवन को अधिक प्रभावित किया है। इसमें से भी सबसे बुरा असर पड़ा है नींद पर। रहन-सहन की आदतों, कुछ भी खा लेने के शौक और देर रात तक जागने के चलते आम जीवन में सोने की प्रक्रिया पूरी तरह से अस्त-व्यस्त हो गई है। जिसके चलते न केवल आलस्य लोगों को अपनी जद में लेता है बल्कि ढेर सारी बीमारियां भी आ घेरती हैं। इससे बचने हेतु जरुरी है कि पर्याप्त नींद ली जाए। कुछ लोग पर्याप्त नींद लेने के लिए एक्सरसाइज तक करते हैं। इसके बावजूद नींद की कमी को पूरा नहीं कर पाते या फिर अच्छी नींद हासिल नहीं कर पाते। दरअसल अच्छी नींद के लिए अपने खानपान में भी कुछ परिवर्तन करने जरूरी होते हैं। साथ ही यह जानना भी आवश्यक होता है कि किस आहार से नींद अच्छी आती है और कौन सा आहार विशेष आपकी नींद में खलल डालता है।

(और पढ़ें - अच्छी गहरी नींद आने के घरेलू उपाय)

वसा युक्त आहार: 
अपनी डाइट में वसा युक्त आहार को बढ़ाने का साफ मतलब है, बढ़ता वजन। अगर आपको वजन नियंत्रित रखना है तो अपनी डाइट से वसा युक्त आहार को निकाल बाहर करें। इसके साथ ही इस बात का ध्यान रखें कि वसा युक्त आहार आपकी नींद को भी प्रभावित करते हैं। दरअसल वसा युक्त आहार पचने में समस्या पैदा करते हैं। इसलिए इन आहार को रात में लेना कतई सही नहीं है।

कैफीन:
आपको यह जानकर हैरानी होगी कि पीने में स्वादिष्ट काॅफी अनिद्रा की समस्या को बढ़ाती है। यहां तक कि सामान्य काॅफी भी नींद में खलल डालने के लिए जिम्मेदार है। चाॅकलेट, कोला और चाय भी आपकी नींद को प्रभावित करती है। अगर आप बेहतर नींद लेना चाहते हैं तो बिना देरी किए अपनी डाइट में कैफीन वाले पदार्थों से तौबा करें।

चिकन:
चिकन या किसी भी तरह के प्रोटीन को रात में लेना सही नहीं माना जाता है। असल में रात को सोने के दौरान पाचन शक्ति 50 फीसदी तक घट जाती है। लेकिन रात को प्रोटीन लेने से पाचन शक्ति में इससे भी ज्यादा कमी आती है। विशेषज्ञों के अनुसार अच्छी नींद लेने की ओर ध्यान देने की बजाय अपने पाचन तंत्र को बेहतर करने पर गौर करें। रात को प्रोटीन के साथ-साथ कार्बोहाइड्रेट भी लें। इससे नींद आने में मदद मिलेगी।

मसालेदार चीजें:
हालांकि  ज्यादातर लोगों को मसालेदार आहार का जायका खूब पसंद आता है। पार्टी, फंक्शन में सब इसे खूब चाव से खाते हैं। लेकिन यह आपकी नींद के लिए सही नहीं है। खासकर रात को सोने से पहले मसालेदार आहार नहीं खाना चाहिए। मसालेदार आहार खाने से सीने में जलन, अपच और एसिड रिफ्लक्स हो सकता है। कई मामालों में सीने में जलन की स्थिति इतनी खराब हो सकती है कि लेटना भी मुश्किल हो जाता है। इससे नींद भी प्रभावित होती है।

उच्च प्रोटीन युक्त आहार:
उच्च प्रोटीन युक्त आहार भी नींद को प्रभावित करने के लिए जिम्मेदार हैं। दरअसल रात को प्रोटीन को पचाना आसान नहीं होता। इसे पचने में सामान्य से ज्यादा समय लगता है। यही वजह है कि रात को उच्च प्रोटीन युक्त आहार खाने से शरीर सोने के बजाय पाचन तंत्र पर ज्यादा केंद्रित रहता है, जिससे नींद बाधित होती है। अत: रात को इस तरह के आहार न लें। 

रसीले फल
जिन फलों में पानी की मात्रा ज्यादा हो, उसका सेवन भी रात को सोने से पहले न करें। यही नहीं रात को सोने से पहले ज्यादा मात्रा में पानी पीना भी सही नहीं है। दरअसल रात को पानी पीकर सोने या रस भरे फलों का सेवन करने से आधी रात में आपको पेशाब आ सकता है। इससे आपकी नींद टूट सकती है।

ब्रोकली: 

हालांकि ब्रोकली पोषक तत्वों से भरपूर है। लेकिन रात को खाए जाने पर यह बहुत धीरे-धीरे पचती है। यही नहीं ब्रोकली में ना पचने वाली शुगर होती है, जो पेट में अधिक मात्रा में गैस बना सकती है। इसलिए रात को सोने से पहले ब्रोकली का सेवन करने से बचें।

तो यहां हमने आपको बताया है कि किस तरह से कुछ उचित आहार लेकर और कुछ तरह के विशेष आहारों से परहेज करके आप एक अच्छी नींद प्राप्त कर सकते हैं। ध्यान रहे कि एक स्वस्थ शरीर में एक स्वस्थ मन का वास होता है और शरीर को सौ फीसदी स्वस्थ रखने के लिए प्रतिदिन सात घंटे की नींद बहुत जरूरी होती है। ऐसे में अगर आप ठीक से नींद नहीं लेते हैं तो आपके शरीर में कई बीमारियां अपना घर बना सकती हैं। तो ख्याल रखें कि नींद के दुश्मन इन आहारों से दूर रहें ताकि आप हासिल कर सकें एक स्वस्थ तन और मन। 

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें