मेलाटोनिन शरीर में बनने वाला एक हार्मोन है। यह हमारे सोने और जागने के चक्र को नियंत्रित करता है। इसके अलावा आज कल मेलाटोनिन प्रयोगशाला में भी बनाया जाता है। अंधेरा शरीर को अधिक मेलाटोनिन बनाने के लिए प्रेरित करता है, जो शरीर को सोने का संकेत देता है। प्रकाश  मेलाटोनिन उत्पादन को कम कर देता है और शरीर को जागने का संकेत देता है। कुछ लोग जिन्हें सोने में परेशानी होती है उनमें मेलाटोनिन का स्तर कम होता है। पूरक आहार में मेलाटोनिन मिलाने से उन्हें सोने में मदद मिल सकती है।

(और पढ़ें-मेलाटोनिन के फायदे व नुकसान)

लोग आमतौर पर अनिद्रा और जेट लैग जैसी स्थितियों में नींद में सुधार के लिए मेलाटोनिन का उपयोग करते हैं। इसका उपयोग अवसाद, पुराने दर्द, मनोभ्रम जैसी  स्थितियों के लिए भी किया जाता है। 

  1. मेलाटोनिन क्या है - What is melatonin
  2. क्या मेलाटोनिन अवसादग्रस्त कर सकता है - Can melatonin cause depressants?
  3. क्या मेलाटोनिन अवसाद को बदतर बना सकता है - Can melatonin make depression worse?
  4. क्या मेलाटोनिन अवसाद को कम करने में मदद कर सकता है - Can melatonin help ease depression?
  5. यदि अवसाद से पीड़ित हैं तो क्या मेलाटोनिन लेना चाहिए - Should you take melatonin if you suffer from depression?
  6. क्या मेलाटोनिन को अन्य दवाइयों के साथ लेना चाहिए - Should melatonin be taken with other treatments?
  7. मेलाटोनिन की मात्रा - dose of melatonin
  8. सारांश

मेलाटोनिन एक हार्मोन है जो बाहर अंधेरा होने पर दिमाग में स्वाभाविक रूप से पैदा होता है और इस कारण जैसे ही रात होगी आप अपने शरीर में थकान महसूस करेंगे। लेकिन कई बार लोग बाहर से भी खरीदकर मेलाटोनिन  का सेवन करते हैं जिसके कुछ दुष्प्रभाव हो सकते हैं जैसे :

मेलाटोनिन का उपयोग करने का निर्णय लेने से पहले, अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें। डॉक्टर यह निर्धारित करने में मदद करेंगे कि क्या मेलाटोनिन आपके लिए सही है या नही? कहीं आप पहले से ही अवसाद से पीड़ित तो नहीं हैं।  

(और पढ़ें-मेलाटोनिन युक्त खाद्य पदार्थ व फायदे )

 
अनिद्रा से छुटकारा पाने और अच्छी नींद के लिए Melatonin Sleep Support Tablets का उपयोग करें -
Sleeping Tablets
₹499  ₹549  9% छूट
खरीदें

कुछ अध्ययनों से पता चलता है कि अवसाद से पीड़ित लोगों में मेलाटोनिन का स्तर बढ़ सकता है और जब मरीज़ों में अवसाद के प्रमुख लक्षण ठीक हो जाते हैं तो मेलाटोनिन का उत्पादन कम हो सकता है। हालाँकि, इसका मतलब यह नहीं है कि मेलाटोनिन बढ़ने से हर बार अवसाद होगा ही । इसके बजाय, रात में बढ़ा हुआ मेलाटोनिन अवसाद का ज्यादा कारण बनता है। अवसाद होने से शरीर की ऊर्जा खत्म हो जाती है। मेलाटोनिन लेने से कई बार दिन के दौरान अधिक थकान और कमजोरी महसूस हो सकती है।

(और पढ़ें-तनाव दूर करने के घरेलू उपाय)

प्रश्न वही कि क्या मेलाटोनिन वास्तव में आपको उदास कर सकता है? शायद नहीं। ज्यादातर मामलों में, मेलाटोनिन वास्तव में अवसाद का कारण नहीं बनता है, खासकर ऐसे व्यक्ति में जिसमें पहले से ही अवसाद के लक्षण नहीं हैं। अच्छी नींद और अनिद्रा से राहत के लिए माई उपचार के Urjas Ashwagandha Tablet ट्राइ करें।

Ashwagandha Tablet
₹359  ₹399  10% छूट
खरीदें

बहुत अधिक मात्रा में मेलाटोनिन लेने से अवसाद के प्रारम्भिक लक्षण दिख सकते हैं। मरीज को थकान महसूस हो सकती है। कुछ मरीज़ जो नींद आने के लिए मेलाटोनिन लेते हैं, उन्हें अगले दिन सुस्ती या मतिभ्रम भी हो सकता है।आम तौर पर, मेलाटोनिन शरीर में लगभग पांच घंटे तक ही रहता है। हालाँकि, कुछ मरीज़ों में लंबे समय तक भी लक्षण दिख सकते हैं। अगर इसे गलत तरीके से लिया जाए, तो यह अवसाद से जुड़े कुछ लक्षणों को खराब कर सकता है जिसमें बहुत अधिक मात्रा में मेलाटोनिन लेना या गलत समय पर दवा लेना शामिल है। 

(और पढ़ें-मेलाटोनिन हार्मोन के कार्य व कैसे बढ़ाएं)

 

कुछ मामलों में ये देखा गया है कि मेलाटोनिन अवसाद के लक्षणों को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है। अवसाद के इलाज में मेलाटोनिन कितना प्रभावी है यह व्यक्ति और उसके अवसाद पर निर्भर हो सकता है। उदाहरण के लिए, मेलाटोनिन कभी कभी अचानक से आने वाले अवसाद का इलाज करने में सहायक हो सकता है बजाय किसी विशेष प्रकार के अवसाद से।

  • मौसमी अवसाद और मेलाटोनिन

अचानक से आने वाला अवसाद अक्सर सर्कैडियन लय में गड़बड़ी के कारण होता है। जिन मरीजों का सर्कैडियन लय बिगड़ जाता है,उनके अवसाद का स्तर काफी बढ़ा हुआ होता है। उन रोगियों के लिए जो सर्कैडियन मिसलिग्न्मेंट से पीड़ित हैं, मेलाटोनिन लेने से कुछ अवसादग्रस्त लक्षणों को हल करने में मदद मिल सकती है। 

  • सर्कैडियन मिसलिग्न्मेंट, अवसाद, और मेलाटोनिन

कई मरीज़ अवसाद होने के कारण नींद न आने की समस्या से पीड़ित होते हैं। यह सर्कैडियन मिसलिग्न्मेंट का कारण भी बन सकता है। मेलाटोनिन लेने से नींद की कुछ गड़बड़ियों को नियंत्रित करने में मदद मिल सकती है और रोगियों के लिए सोना आसान हो सकता है। जिससे अवसाद में फायदा होता है। 

(और पढ़ें-डिप्रेशन (अवसाद) के घरेलू उपाय)

 

myUpchar के डॉक्टरों ने अपने कई वर्षों की शोध के बाद आयुर्वेद की 100% असली और शुद्ध जड़ी-बूटियों का उपयोग करके myUpchar Ayurveda Manamrit Capsule बनाया है। इस आयुर्वेदिक दवा को हमारे डॉक्टरों ने कई लाख लोगों को तनाव, चिंता और अनिद्रा जैसी समस्याओं में सुझाया है, जिससे उनको अच्छे प्रभाव देखने को मिले हैं।
Brahmi Tablets
₹899  ₹999  10% छूट
खरीदें

यदि आप अवसाद से पीड़ित हैं, तो आप मेलाटोनिन लेने के बारे में सोच रहे होंगे। हालाँकि, मेलाटोनिन अवसाद का समाधान नहीं है लेकिन अवसाद से जुड़े लक्षणों को कम करने या उनसे निपटने में मदद जरूर मिलती है। अवसाद से जुड़ी किसी भी समस्या या कोई भी दवाई लेने से पहले प्राथमिक देखभाल चिकित्सक या मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर से परामर्श करना महत्वपूर्ण है। अगर आप अवसाद के लिए मेलाटोनिन की पूरक दवाइयों का पहले से उपयोग कर रहे हैं तो अपने डॉक्टर को इस बारे में जरूर सूचित करें। 

(और पढ़ें-रोजाना 30 मिनट का व्यायाम रखता है डिप्रेशन को दूर)

 

यदि आप वर्तमान में अवसाद का इलाज करा रहे हैं, तो अन्य निर्धारित उपचारों के साथ मेलाटोनिन ले सकते हैं। हालाँकि, कुछ दवाओं के साथ मेलाटोनिन को छोड़ देना सुरक्षित हो सकता है, जिसमें शामिल हैं:

  • डायजेपाम (वैलियम) सहित केंद्रीय तंत्रिका तंत्र अवसादक
  • फ़्लूवोक्सामाइन (लुवोक्स)

  • इम्यूनोसप्रेसिव दवाएं प्रेडनिसोन, मिथाइलप्रेडनिसोलोन, हाइड्रोकार्टिसोन, कोर्टिसोन, डेक्सामेथासोन और कोडीन शामिल हैं। 

(और पढ़ें-डिप्रेशन में क्या खाएं, क्या नहीं और परहेज)

 

यदि आप अवसाद के लक्षणों के लिए मेलाटोनिन का उपयोग करना चाहते हैं, तो शुरुआत में कम मात्रा के साथ शुरू करें आमतौर पर 1 और 3 मिलीग्राम के बीच। 

(और पढ़ें-मेलाटोनिन की ओवरडोज लेने के नुकसान )

 

मेलाटोनिन लेते समय ये ध्यान रखें कि शुरू मे आप इसका ओवर डोज़ न लें रहें हों।इसे लेते समय अपने दिमाग और शरीर पर पूरा ध्यान दें। मेलाटोनिन को लेते समय दवा और थेरेपी सहित किसी भी अन्य उपचार विकल्प को भी जरूर आजमाएँ आग आपके डॉक्टर इसकी सलाह दें।

ऐप पर पढ़ें