myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

जब ऊतकों में तरल जमा होने लगता है, तब सूजन की समस्या होती है। इस स्थिति में प्रभावित अंग सामान्य से बड़ा दिखने लगता है और यह अंग इतना संवेदनशील हो जाता है कि हल्के से छूने पर दर्द या लालिमा की समस्या हो सकती है। जब सूजन पूरे शरीर को प्रभावित करती है तो इस स्थिति को 'जर्नलाइज्ड स्वेलिंग' कहते हैं, वहीं जब सूजन शरीर के एक हिस्से को प्रभावित करती है तो इस स्थिति को 'लोकलाइज्ड स्वेलिंग' कहते हैं। सूजन विभिन्न अंतर्निहित स्थितियों जैसे जलन, नेफ्रोटिक सिन्ड्रोम, पोषण की कमी, क्रोनिक किडनी डिसीज, हार्ट फेल, लिवर फेल, गर्भावस्था, थायरॉयड डिसीज, एलर्जी, खून में एल्बुमिन की मात्रा सामान्य से कम होना, नमक और सोडियम की अतिरिक्त मात्रा के जरिए हो सकती है।

कुछ ऐसी दवाएं भी हैं, जिनके कारण सूजन की समस्या हो सकती है जैसे कॉर्टिकोस्टेरॉइड और हृदय रोग के उपचार के लिए उपयोग की जाने वाली दवाएं, हाई बीपी और डायबिटीज। डॉक्टर सूजन को पिटिंग और नॉन-पिटिंग के रूप में वर्गीकृत करते हैं। पिटिंग एडिमा तब होता है जब सूजन वाले हिस्से को दबाने से वहां कुछ देर के लिए गड्ढा हो जाता है, जबकि नॉन-पिटिंग एडिमा में प्रभावित हिस्से को दबाने से गड्ढा नहीं होता है।

होम्योपैथी में सूजन के प्रबंधन के लिए कई उपाए उपलब्ध हैं, जिनमें से कुछ हैं - टेरेबिनथिनिया ओलियम, स्ट्रोफेनथस हेस्पिडस, लैकेसिस म्यूटस, कैलियम नाइट्रिकम, कैलियम आयोडेटम, हेल्लेबरस नाइगर, फ्लूओरिकम एसिडम, क्रेटेजस ऑक्सीकैंथा, कौन्वैल्लेरिया मेजलिस, आर्सेनिकम एल्बम, एपोक्सीनम कैनेबिनम, एपिस मेल्लिफिका और एडोनिस वर्नैलिस।

एक योग्य होम्योपैथिक डॉक्टर मरीज में बीमारी के लक्षण और प्रवृत्ति के आधार पर इलाज करते हैं। इसीलिए एक व्यक्ति को दी जाने वाली होम्योपैथिक दवा का असर दूसरे व्यक्ति में काम नहीं कर सकती है। इसके अलावा, होम्योपैथिक दवाओं को 'लाइक क्योर लाइक' सिद्धांत के आधार पर दिया जाता है, जिसका मतलब है कि स्वस्थ व्यक्ति द्वारा किसी पदार्थ के ज्यादा मात्रा में सेवन करने से बीमारी के लक्षण पैदा हो सकते हैं, लेकिन हो सकता है कि उसी पदार्थ के घुलनशील रूप (जैसे जूस) से बीमार व्यक्ति के लक्षणों में सुधार हो जाए।

  1. सूजन के लिए होम्योपैथिक दवाएं - Homeopathic medicines for swelling in Hindi
  2. सूजन वाले रोगी के लिए आहार और जीवन शैली में बदलाव - Dietary and lifestyle changes for a patient with swelling as per homeopathy in Hindi
  3. सूजन के लिए होम्योपैथिक दवाएं और उपचार कितने प्रभावी हैं - How effective are homeopathic medicines and treatments for swelling in Hindi
  4. दवा के साइड इफेक्ट्स और जोखिम व सूजन के लिए उपचार - Side effects and risks of homeopathic medicine and treatments for swelling in Hindi
  5. टिप्स - Takeaway in Hindi

टेरेबिनथिनिया ओलियम
सामान्य नाम :
टर्पेंटाइन
लक्षण : यह किडनी में सूजन, श्लेष्मा झिल्ली (आंत और नाक जैसे कुछ अंगों की अंदरूनी परत) और एडिमा के उपचार के लिए एक प्रभावी उपाय है। इस दवा के उपयोग से निम्नलिखित लक्षणों को ठीक किया जा सकता है :

  • पेट का बढ़ना और एडिमा
  • किडनी वाले हिस्से में जलन वाला दर्द (शरीर के किनारे पसलियों के नीचे)
  • मुंहासे, त्वचा की खुजली और सूजन
  • मुंह के अंदर श्लेष्म झिल्ली में सूजन
  • फेफड़े का बढ़ना (फेफड़ों में सूजन)

स्ट्रॉफैंथस हेस्पिडस
सामान्य नाम :
कोम्बे-सीड
लक्षण : कोम्बे-सीड कई लक्षणों के प्रबंधन में उपयोगी है, जिनमें से कुछ निम्नलिखित हैं :

  • दिल की मांसपेशियों में कमजोरी
  • फेफड़ों में सूजन और तरल पदार्थ का जमाव
  • हाथ और पैर की सूजन
  • चकत्ते

लैकेसिस म्यूटस
सामान्य नाम :
बुशमास्टर
लक्षण : लैकेसिस म्यूटस निम्नलिखित लक्षणों का इलाज करने में मदद हो सकता है :

लक्षण सोने पर और गर्म पानी से स्नान करने के बाद बढ़ जाते हैं।

कैलियम नाइट्रिकम
सामान्य नाम :
पोटेशियम नाइट्रेट
लक्षण : आमतौर पर कैलियम नाइट्रिकम का उपयोग अस्थमा और पूरे शरीर में अचानक सूजन के इलाज के लिए किया जाता है। इसके अलावा यह निम्नलिखित लक्षणों को प्रबंधित करने में भी मदद कर सकता है :

  • नाक अंदर से सूजी हुई महसूस होना (विशेषकर दाहिनी नासिका)
  • तेज पीठ दर्द होना
  • सीने में जलन और दर्द
  • हाथ-पैर में सूजन

सभी लक्षण सुबह और दोपहर के समय बिगड़ सकते हैं। इस दौरान थोड़ा पानी पीने के बाद व्यक्ति बेहतर महसूस कर सकता है।

कैलियम आयोडेटम
सामान्य नाम :
पोटेशियम आयोडाइड
लक्षण : इसका उपयोग मुख्य रूप से ग्रंथियों की सूजन के इलाज के लिए किया जाता है। यह निम्नलिखित लक्षणों के प्रबंधन में भी मदद कर सकता है :

  • त्वचा पर छोटे-छोटे फोड़े
  • पित्ती
  • खोपड़ी में सूजन (खोपड़ी का हिस्सा जो सिर को ढकता है)

ये लक्षण गर्मी व नम मौसम में खराब हो जाते हैं, लेकिन खुली हवा में घूमने पर लक्षण बेहतर हो जाते हैं।

हेल्लेबरस नाइगर
सामान्य नाम :
स्नो-रोज
लक्षण : यह मांसपेशियों की कमजोरी के इलाज के लिए एक उपयोगी उपाय है। इसका उपयोग निम्नलिखित लक्षणों के उपचार के लिए भी किया जा सकता है :

  • त्वचा की सूजन में अचानक उतार-चढ़ाव
  • त्वचा की सूजन के साथ खुजली
  • पेट में सूजन और दर्द
  • प्रभावित हिस्से में दर्द होना

शाम के समय में लक्षण बिगड़ने लगते हैं और सुबह तक बढ़ जाते हैं। प्रभावित हिस्से को खुला रखने पर भी लक्षण खराब हो जाते हैं।

फ्लूओरिकम एसिडम
सामान्य नाम :
हाइड्रोफ्लूओरिक एसिड
लक्षण : जिन मरीजों में बूंद-बूंद करके पेशाब निकलने की समस्या है, उनमें यह असरदार है। यह निम्नलिखित लक्षणों के उपचार में उपयोगी है :

सभी लक्षण गर्म मौसम और गर्म पेय पदार्थों के सेवन पर बढ़ जाते हैं, लेकिन चलने व ठंडे वातावरण में यह लक्षण बेहतर हो जाते हैं।

क्रेटेजस ऑक्सीकैंथा
सामान्य नाम :
हॉथॉर्न बेरीज
लक्षण : यह दवा मुख्य रूप से हृदय पर कार्य करती है। यह एडिमा और निम्न संबंधित लक्षणों का इलाज करती है :

सभी लक्षण गर्म वातावरण में बिगड़ जाते हैं, लेकिन आराम करने या ताजी हवा में सांस लेने पर इन लक्षणों में सुधार होता है।

कौन्वैल्लेरिया मेजलिस
आम नाम :
लिली ऑफ दि वैली
लक्षण : यह सामान्यीकृत सूजन के उपचार में प्रभावी है। इसके अलावा यह निम्नलिखित लक्षणों के उपचार में भी मदद कर सकती है :

  • चिड़चिड़ापन
  • पीठ के निचले हिस्से में दर्द
  • गर्भाशय वाले हिस्से में तकलीफ
  • दिल के ऊतकों की सबसे भीतरी परत में सूजन
  • बुखार, जिसमें व्यक्ति को प्यास लगती है और ठंड लगने पर सिरदर्द होता है

यह लक्षण गर्म वातावरण में बिगड़ते हैं और खुली हवा में बाहर जाने पर बेहतर होते हैं।

आर्सेनिकम एल्बम
सामान्य नाम :
आर्सेनियस एसिड
लक्षण : आर्सेनिकम एल्बम का उपयोग मुख्य रूप से जलन और बेचैनी के इलाज के लिए किया जाता है। हालांकि, निम्न समस्याओं में भी मदद मिल सकती है :

  • आंखों के आसपास सूजन और जलन
  • सूजा हुआ चेहरा, जो पीला दिखता है
  • जीभ में जलन या चुभने जैसा दर्द महसूस होना
  • गले में सूजन और जलन
  • त्वचा में खुजली, जलन, सूजन और त्वचा का फटना
  • सूखी, खुरदुरी और पपड़ीदार त्वचा

बरसात और ठंड के मौसम में, आधी रात के बाद और ठंडे भोजन व पेय पदार्थों के सेवन से यह लक्षण बिगड़ जाते हैं। गर्म वातावरण में यह लक्षण ठीक हो जाते हैं।

एपोसाइनम कैनाबिनम
सामान्य नाम :
इंडियन हेंप
लक्षण : एपोसाइनम कैनाबिनम का उपयोग एडिमा के इलाज के लिए किया जाता है, पेट में तरल पदार्थ का संचय और पेट की समस्या के साथ-साथ प्यास बढ़ती है। इसके अलावा यह निम्नलिखित लक्षणों का भी इलाज कर सकता है :

  • हृदय की मांसपेशियों में सूजन
  • किडनी में सूजन और जलन
  • बेचैनी और नींद में कमी
  • गुदा में दर्द और बेचैनी, भोजन के बाद यह लक्षण और बिगड़ जाते हैं

ठंडे वातावरण, कोल्ड ड्रिंक का सेवन करने और प्रभावित ​हिस्से को खुला रखने पर लक्षण बिगड़ जाते हैं।

एपिस मेलिफिका
सामान्य नाम :
दि हनी-बी
लक्षण: एपिस मेलिफिका उन व्यक्तियों के लिए सबसे उपयुक्त है, जिनके शरीर के विभिन्न हिस्सों में सूजन है। यह गुर्दे और द्रव के संचय से उत्पन्न होने वाली स्थितियों का इलाज कर सकता है। फिलहाल, निम्नलिखित कुछ अन्य लक्षण हैं जिन्हें एपिस मेलिफिका के उपयोग से प्रबंधित किया जा सकता है :

  • सूजन, लाल और पलकों में जलन
  • नाक में लालिमा और सूजन
  • कटने और एलर्जी के कारण त्वचा में सूजन
  • अचानक सामान्य सूजन होना
  • सूजन और पैर में अकड़न

एडोनिस वर्नेलिस
सामान्य नाम :
फीजंट आई
लक्षण : यह उपाय मुख्य रूप से हृदय की मांसपेशियों की सूजन के इलाज के लिए उपयोग किया जाता है। इस दवा के जरिए निम्नलिखित लक्षणों को भी ठीक किया जा सकता है :

  • हाथ-पैर में सूजन
  • हाथ-पैर में दर्द और अकड़न
  • पेट में भारीपन लगना
  • पेशाब में प्रोटीन एल्बुमिन की उपस्थिति
  • बेचैनी

एसिटिकम एसिडम
सामान्य नाम :
ग्लेशियल एसिटिक एसिड
लक्षण : ग्लेशियल एसिटिक एसिड मुख्य रूप से एनीमिया के कारण होने वाली सूजन और कमजोरी के इलाज के लिए उपयोग की जाती है। इसके अलावा यह निम्नलिखित लक्षणों का भी इलाज कर सकती है जैसे :

  • निचले अंगों में कमजोरी और सूजन
  • सूजी हुई और रूखी त्वचा
  • मोच और चोट
  • पेट में तरल पदार्थ जमा होना
  • गाल लाल होना

(और पढ़ें - सूजन का आयुर्वेदिक इलाज)

होम्योपैथिक उपचार घुलनशीन रूप में तैयार किया जाता है, इसलिए तेज खुशबू देने वाले पदार्थ या औषधीययुक्त पदार्थ आसानी से होम्योपैथिक दवाइयों के असर को प्रभावित कर सकते हैं। होम्योपैथिक उपचार से सबसे अच्छे परिणाम प्राप्त करने के लिए, रोगी के आहार और जीवन शैली में निम्नलिखित संशोधन अनिवार्य है :

क्या करना चाहिए

  • डॉक्टर की सलाह के अनुसार स्वस्थ और पौष्टिक भोजन करें
  • सक्रिय रहें और नियमित व्यायाम करें

क्या नहीं करना चाहिए

  • कैफीन युक्त पेय या ऐसे पेय न पिएं जिनमें तेज गंध हो।
  • नम वातावरण में न रहें।
  • किसी भी ऐसे भोजन और पेय का सेवन न करें, जिसमें औषधीय गुण हों। इसमें कुछ मीट और व्यंजन शामिल हैं जिनमें औषधीय जड़ी-बूटियां शामिल होती हैं।
  • नमक और चीनी की अधिकता से बचें।
  • ऐसी भावनाओं से बचें, जो शारीरिक या मानसिक तौर पर आपको प्रभावित कर सकती हैं।

(और पढ़ें - नसों में सूजन के कारण)

सूजन के लिए होम्योपैथिक दवाएं व्यक्ति के अंतर्निहित स्वास्थ्य स्थिति, शारीरिक और मानसिक स्थिति के आधार पर निर्धारित की जाती हैं। यह तभी प्रभावी होती हैं जब इन दवाइयों को किसी डॉक्टर के मार्गदर्शन में लिया जाता है। यह उपचार सूजन और इससे जुड़े लक्षणों का इलाज करने में मददगार होते हैं :

ऐसे कई अध्ययन हुए हैं, जो यह बताते हैं कि सूजन में होम्योपैथिक उपचार सकारात्मक प्रभाव छोड़ता है। उदाहरण के लिए, ब्रिटिश होम्योपैथिक एसोसिएशन द्वारा प्रकाशित एक अध्ययन में पता चला कि अस्थमा, एक्जिमा और आंख की गंभीर स्थिति के उपचार में होम्योपैथिक दवाओं ने सकारात्मक असर दिखाया। अध्ययन के अनुसार, 18 वर्षीय लड़का कई महीनों तक कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स और साइक्लोस्पोरिन थेरेपी ले रहा था, लेकिन कुछ हफ्तों में उसकी आंखों में कुछ तकलीफ हुई। वह पिछले 18 महीनों से अपने कान और आंखों के पीछे खुजली व गर्मियों के दौरान लक्षणों के बढ़ने व त्वचा की समस्याओं से जूझ रहा था। लड़के को 2 साल की उम्र में उसके चेहरे और पलकों में सूजन की समस्या थी। इसके अतिरिक्त, उस लड़ने ने 7 साल की उम्र में कॉर्निया सर्जरी कराई थी और 14 साल की उम्र तक इस सर्जरी के बाद स्टेरॉयड आई ड्रॉप लिया था।

लड़के को प्रति दिन विभिन्न पोटेंसी और खुराक में नैट्रियम म्यूरिएटिकम दिया जाता था। दो महीनों के भीतर, उसे सूजन से पूरी तरह से राहत मिल गई थी।

(और पढ़ें - पैरों में सूजन के इलाज)

होम्योपैथिक उपचार का उपयोग पिछले दो सौ सालों से कई स्थितियों के लिए किया जा रहा है। ये दवाएं जड़ी-बूटियों जैसे प्राकृतिक उत्पादों, जानवरों या खनिज उत्पादों से बनाई जाती हैं। इन उत्पादों को दवा के रूप में उपयोग करने से पहले इन्हें पतला (घुलनशील) किया जाता है। घुलनशील होने के कारण यह सभी दुष्प्रभावों को दूर करता है और अपने चिकित्सीय गुणों को बनाए रखता है।

होम्योपैथिक उपचार बच्चों, गर्भवती महिलाओं और बुजुर्ग व्यक्तियों में सुरक्षित और प्रभावी माना जाता है। हालांकि, इन उपायों को एक योग्य चिकित्सक से परामर्श के बाद ही लिया जाना चाहिए।

एक डॉक्टर आपको उचित आहार और जीवनशैली के सुझावों के साथ सही दवा के लिए मार्गदर्शन कर सकता है।

(और पढ़ें - घुटने की सूजन के कारण)

सूजन कई अलग-अलग स्थितियों से जुड़ा एक सामान्य लक्षण है। यह शरीर के एक हिस्से या पूरे शरीर को प्रभावित कर सकता है। सूजन का इलाज करने के लिए कई पारंपरिक (मान्यताप्राप्त) उपचार उपलब्ध हैं, लेकिन बहुत से लोग प्राकृतिक उपचार पसंद करते हैं।

वर्तमान में होम्योपैथिक उपचार को काफी पसंद किया जा रहा है। एक होम्योपैथिक चिकित्सक व्यक्ति की नैदानिक, शारीरिक और मानसिक स्थिति के आधार पर इलाज निश्चित करता है। उचित आहार और जीवन शैली संशोधनों के साथ ये दवाएं प्रभावी रूप से सूजन और इसके संबंधित लक्षणों से छुटकारा पाने में मदद कर सकती हैं।

और पढ़ें ...

References

  1. MedlinePlus Medical Encyclopedia. [Internet] US National Library of Medicine; Swelling
  2. Oscar E. Boericke. Repertory. Médi-T; [lnternet]
  3. The European Comittee for Homeopathy. Benefits of Homeopathy. Belgium; [Internet]
  4. British Homeopathic Association. Allergies. London; [Internet]
  5. Wenda Brewster O’Reilly. Organon of the Medical art by Wenda Brewster O’Reilly . B jain; New Delhi
  6. Michigan Medicine: University of Michigan [internet]; Swelling
ऐप पर पढ़ें
कोरोना मामले - भारतx

कोरोना मामले - भारत

CoronaVirus
604643 भारत
2दमन दीव
100अंडमान निकोबार
15252आंध्र प्रदेश
195अरुणाचल प्रदेश
8582असम
10249बिहार
446चंडीगढ़
2940छत्तीसगढ़
215दादरा नगर हवेली
89802दिल्ली
1387गोवा
33232गुजरात
14941हरियाणा
979हिमाचल प्रदेश
7695जम्मू-कश्मीर
2521झारखंड
16514कर्नाटक
4593केरल
990लद्दाख
13861मध्य प्रदेश
180298महाराष्ट्र
1260मणिपुर
52मेघालय
160मिजोरम
459नगालैंड
7316ओडिशा
714पुडुचेरी
5668पंजाब
18312राजस्थान
101सिक्किम
94049तमिलनाडु
17357तेलंगाना
1396त्रिपुरा
2947उत्तराखंड
24056उत्तर प्रदेश
19170पश्चिम बंगाल
6832अवर्गीकृत मामले

मैप देखें