myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

हममें से ज्यादातर लोगों की सुबह की शुरुआत एक प्याली गर्म चाय या कॉफी से होती है ताकि शरीर में थोड़ी ताजगी आये। हालांकि जब पानी पीना होता है तो हम ठंढा पीना पसंद करते हैं। लेकिन आयुर्वेद के मुताबिक यह गलत है।  नियमित रूप से और विशेष तौर पर सुबह गुनगुना पानी पीना स्वास्थ्यवर्धक होता है। इससे पाचन शक्ति बढ़ती है और चयापचय के दौरान पैदा विषाक्त तत्वों को दूर करने में मदद मिलती जो अन्यथा हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली में जमा हो सकते हैं।

(और पढ़ें - गर्म पानी पीने के फायदे)

 

  1. गुनगुना पानी पीने के फायदे बंद नाक खोलने के लिए - Gunguna pani peene ke fayde band naak ke liye
  2. गुनगुने पानी पीने के लाभ स्वस्थ पाचन के लिए - gungune pani peene ke labh swsth paachan ke liye
  3. गुनगुने पानी पीने के फायदे रखें नर्वस सिस्टम को मजबूत - Gungune pani peene ke fayde rakhen nervous system ko majboot
  4. वार्म वाटर फॉर कॉन्स्टिपेशन - Warm Water for Constipation in hindi
  5. गुनगुना पानी पीने के लाभ हाइड्रेशन के लिए - Gunguna pani peene ke labh hydration ke liye
  6. गुनगुना पानी पिएं वजन कम करने के लिए - gunguna pani piyen wajan kam karne ke liye
  7. गुनगुने पानी का सेवन करें सर्कुलेशन बढाने के लिए - Gungune pani ka sewan karen circulation badhaane ke liye
  8. तनाव को दूर करें गुनगुना पानी पीकर - Tanav ko dur karen gunguna paani pee kar
  9. गुनगुने पानी के सेवन से करें विषाक्त पदार्थ को दूर - Gungune paani ke sewan se karen vishakt padartho ko dur
  10. एकैल्शिया ठीक करें गुनगुना पानी पी कर - Achalasia thik karen gunguna pani pee kar

गुनगुना पानी सेहत के लिए फायदेमंद होता है।  इससे साइनस की समस्या में भी आराम मिलता है। प्याली भर गरम पानी से निकलती हलकी भाप साइनस के कारण बंद नाक खोल सकती है और यहाँ तक कि इससे साइनस से होने वाले सिरदर्द भी दूर होता है। आपकी गर्दन और धड़ के ऊपरी भाग में श्लेष्माँ झिल्ली (Mucous Membranes) होती है और गुनगुना पानी पीने से यह हिस्सा गर्म होता है और कफ के कारण गला खराब हो तो उसमें भी आराम मिलता है।

(और पढ़ें - बंद नाक खोलने के उपाय)

सुबह गुनगुने पानी के सेवन विषाक्त पदार्थों को दूर कर शरीर को निर्मल करता है। पानी और अन्य तरल पदार्थ पेट में भोजन को विघटित करने में मदद करते हैं और पाचन तंत्र को स्वस्थ रखते हैं। लेकिन गुनगुना पानी इन खाद्य पदार्थों को और जल्दी घुलाने में मदद करता है जिससे इनका पचना अपेक्षाकृत आसान हो जाता है। दरअसल भोजन के दौरान या इसके बाद ठंढा पानी पीने से आहार में मौजूद वसा सख्त हो सकती है और आंतों में जमा हो सकती है।इसलिए यदि आप अपने पाचन तंत्र को स्वस्थ और मजबूत रखना चाहते हैं तो गुनगुने पानी का सेवन आज से ही शुरू करें।

(और पढ़ें - पाचन शक्ति बढ़ाने के उपाय)

गुनगुने पानी का सेवन तंत्रिका तंत्र को शांत-स्थिर और शरीर को सुचारू बनाता है। स्थिर चित्त होना स्वस्थ और नियंत्रित भावनात्मक प्रतिक्रिया के लिए आवश्यक है। इससे आपकी कई किस्म के दुःख-दर्द खुद-ब-खुद दूर हो जाते हैं, चिंता तथा घबराहट की स्थिति भी कम आती है और दिन बेहतर गुजरता है। जो गठिया की समस्या से पीड़ित हैं उनके लिए गुनगुने पानी का सेवन बेहद फायदेमंद है।

(और पढ़ें - नसों में दर्द का इलाज)

 

गुनगुने पानी के सेवन से आंतों को संकुचन में मदद मिलती है। इससे आंतों में अटका मल बाहर आ जाता है। नियमित रूप से गुनगुना पानी पीने से आपको हमेशा स्वस्थ रहने में मदद मिलती है। कब्ज के दौरान गुनगुने पानी का सेवन जरूर करना चाहिए। इससे कब्ज दूर होती है।

(और पढ़ें - कब्ज दूर करने के उपाय)

शरीर में पानी की मात्रा पर्याप्त रहे इसके लिए कमरे के तापमान वाले या ठंढे पानी की तरह ही गुनगुना पानी भी लाभदायक है। दिन भर में नौ से 12 गिलास पानी पीना सेहत के लिए फायदेमंद है। लेकिन ज्यादातर लोगों के लिए यह मुश्किल हो सकता है। सो दिन की शुरुआत गुनगुने पानी से करें और सोने के पहले एक गिलास गुनगुना पानी पी लें तो शरीर में पानी की कमी नहीं होगी।  

(और पढ़ें - पानी की कमी के लक्षण​)

यदि आप वजन कम करने की कोशिश कर रहे हैं तो शायद आपने सुना ही होगा कि सुबह-सुबह एक गिलास गुनगुना पानी पीने से इसमें मदद मिल सकती है। गुनगुने पानी से शरीर का तापमान बढ़ जाता है जिससे चयापचय (मेटाबोलिस्म) की प्रक्रिया तेज हो जाती है जिससे अतिरक्त कैलोरी से निजात मिलती है। जिससे वजन घटता है। इसके अलावा यह पाचन तंत्र और किडनी को भी दुरुस्त रखता है।

(और पढ़ें - वजन कम करने की दवा​)

गुनगुने पानी से स्नान करने से रक्त प्रवाह से जुड़े अंगों जैसे धमनियों और नसें को फैलने और पूरे शरीर में सुचारु रूप से खून के संचार में मदद मिलती है। गुनगुना पानी भी यही काम करता है। शरीर में रक्त प्रवाह ठीक से हो रहा हो तो ब्लड प्रेशर से लेकर कार्डियोवैस्कुलर बीमारी तक के खतरे खुद-ब-खुद कम हो जाते हैं। एक और फायदा यह है कि रात को गुनगुना पानी पीने या गुनगुने पानी से स्नान से आपको विश्रांति मिलती है और नींद अच्छी आती है।

(और पढ़ें - हृदय को स्वस्थ रखने के लिए आहार)

गुनगुना पानी पीने से तंत्रिका तंत्र बेहतर काम करता है और आपको चिंता या घबराहट की स्थिति अपेक्षाकृत कम महसूस होगी। एक अध्ययन के मुताबिक रात को सोने से पहले गुनगुने पानी में थोड़ा गर्म दूध मिला दें तो इसका असर और बढ़ जायेगा।

(और पढ़ें - तनाव दूर करने के घरेलू उपाय)

गुनगुना पानी पीने या गुनगुने पानी से स्नान से शरीर का अंतःस्रावी तंत्र (Endocrine System) सक्रिय हो जाता है और आपको पसीना आने लगता है। पसीने से कुछ लोगों को परेशानी हो सकती है लेकिन यह अंदरूनी और बाहरी विभिन्न किस्म के विषाक्त तत्वों से निजात दिलाता है।

(और पढ़ें - बॉडी को डिटॉक्स कैसे करें)

एकेलेशिया एक ऐसी समस्या है जिसमें भोजन नली phagus) को आपके पेट में भोजन को भेजने में परेशानी होती है। एकेलेशिया पीड़ितों को निगलने में परेशानी होती है और कभी-कभी ऐसा लगता है जैसे भोजन पेट में जाने के बजाय भोजन नाली में ही अटक गया हो। विशेषज्ञों को अब तक ठीक-ठीक नहीं पता कि इसकी वजह क्या है लेकिन एकेलेशिया पीड़ितों को गुनगुने पानी से पाचन प्रक्रिया में मदद मिलती है। इस बीमारी से पीड़ित लोगों के लिए तैलीय भोजन या मांस-मछली वाले गरिष्ठ भोजन के साथ गुनगुने पानी का सेवन बहुत लाभकारी साबित हो सकता है।

(और पढ़ें - पाचन तंत्र के रोग)

और पढ़ें ...