myUpchar Call

सेक्शुअल एक्टिविटी को एन्जॉय करना तो आपको पसंद होता है, लेकिन क्या कभी शारीरिक संबंध बनाने के बाद आपने अपने सीमेन का रंग को नोटिस किया है? शायद ज्यादातर का जवाब न हो, लेकिन रिसर्च की मानें तो वीर्य के रंग पर जरूर ध्यान देना चाहिए, क्योंकि वीर्य के रंग से पुरुषों की सेहत से जुड़ी जानकारी मिल सकती है. इसलिए आज हम इस आर्टिकल के जरिए वीर्य का रंग चार्ट आपके साथ आगे शेयर करेंगे. इससे आपको अपनी सेहत के बारे में समझने में मदद मिल सकेगी और जरूरत के अनुसार डॉक्टर से सलाह भी ले सकेंगे.

शरीर में टेस्टोस्टेरोन के जरिए वीर्य की मात्रा बढ़ाने के लिए आज से ही लें टी बूस्टर कैप्सूल.

  1. वीर्य क्या है?
  2. वीर्य का रंग
  3. वीर्य के गाढ़ेपन में बदलाव के कारण
  4. डॉक्टर से कब करें संपर्क?
  5. सारांश
यौन रोग के डॉक्टर

वीर्य यानी सीमेन को सेमिनल फ्लूइड भी कहा जाता है. यह फ्लूइड यानी तरल पदार्थ मेल रिप्रोडक्टिव ट्रैक्ट से श्रवित होता है, जिसमें स्पर्म सेल्स मौजूद होते हैं. इसी स्पर्म सेल से फीमेल एग फर्टिलाइज होता है. वीर्य में तरल पदार्थ भी होते हैं, जो मिलकर वीर्य प्लाज्मा बनाते हैं, जो शुक्राणु कोशिकाओं को जीवित बनाए रखने में मदद करता है. सेक्शुअली रूप से मैच्योर पुरुषों में स्पर्म सेल्स टेस्टिस में बनते हैं, जो कुल वीर्य की मात्रा का लगभग 2 से 5 प्रतिशत ही होते हैं. ये हैं वीर्य से जुड़ी महत्वपूर्ण बातें, लेकिन वीर्य के रंगों के बारे में भी समझना जरूरी है, क्योंकि इसमें विटामिन, एंजाइम्स, मिनरल्स, प्रोटीनएंटीऑक्सीडेंट और शुगर मौजूद होता है.

(और पढ़ें - वीर्य की कमी का इलाज)

myUpchar के डॉक्टरों ने अपने कई वर्षों की शोध के बाद आयुर्वेद की 100% असली और शुद्ध जड़ी-बूटियों का उपयोग करके myUpchar Ayurveda Urjas Capsule बनाया है। इस आयुर्वेदिक दवा को हमारे डॉक्टरों ने कई लाख लोगों को सेक्स समस्याओं के लिए सुझाया है, जिससे उनको अच्छे प्रभाव देखने को मिले हैं।
Long time capsule
₹719  ₹799  10% छूट
खरीदें

रिसर्च के अनुसार वीर्य का रंग सफेद, पीला-हरा, गुलाबी, लाल, भूरा, नारंगी या फिर काला भी हो सकता है. वीर्य के अलग-अलग रंगों में सेहत से जुड़ी जानकारी छिपी है, जिनके बारे में आगे समझेंगे -

सफेद वीर्य

अगर वीर्य का रंग सफेद है, तो इसे सेहत के लिए हेल्दी माना जाता है. दरअसल, वीर्य का रंग सफेद सिट्रिक एसिड, सोडियमकैल्शियम, एसिड फॉस्फेट्स, पोटैशियम एवं फाइब्रिनोलिसिन के कारण होता है. साफ, दूध की तरह सफेद या फिर क्लाउडी ग्रे जैसे वीर्य स्वस्थ माने जाते हैं, लेकिन इनमें होने वाले बदलाव को इग्नोर करना अनजाने में किसी गंभीर समस्या को दावत देने की तरह है.

सेक्स टाइम को बढ़ाने के लिए हमारे विशेषज्ञों की टीम ने तैयार किया है एक्स्ट्रा टाइम स्प्रे. ब्लू लिंक पर क्लिक कर अभी खरीदें.

पीला-हरा वीर्य

वीर्य और पेशाब दोनों का रास्ता एक ही होने के कारण कभी-कभी वीर्य का रंग पीला हो सकता है और इसका सेहत पर कोई नकारात्मक प्रभाव नहीं पड़ता है. हां, अगर लगातार कई दिनों से वीर्य का रंग गहरा पीला नजर आ रहा है, तो ऐसे में डॉक्टर से सलाह लेना चाहिए, क्योंकि ऐसी समस्या यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शनबढ़े हुए प्रोस्टेट या फिर पीलिया के कारण हो सकती है.     

(और पढ़ें - वीर्य और शुक्राणु में अंतर)

गुलाबी, लाल, भूरा, नारंगी वीर्य

गुलाबी या लाल रंग आमतौर पर फ्रेश ब्लड को दर्शाते हैं. वहीं भूरा या नारंगी रंग पुराने ब्लड को दर्शाते हैं. दरअसल, ऑक्सीजन के संपर्क में आने की वजह से ब्लड इस रंग में बदल सकता है. रिसर्च के अनुसार रक्त वाले वीर्य को मेडिकल टर्म में हेमेटोस्पर्मिया कहते हैं.

(और पढ़ें - वीर्य की जांच)

काला वीर्य

काले रंग का वीर्य हेमेटोस्पर्मिया की स्थिति को भी दर्शाता है. ऐसा खासकर रीढ़ की हड्डी में चोट लगने की वजह से, बॉडी में लेड या फिर मैंगनीज के बढ़ जाने की वजह से होता है.

(और पढ़ें - वीर्य पीला होने का इलाज)

myUpchar के डॉक्टरों ने अपने कई वर्षों की शोध के बाद आयुर्वेद की 100% असली और शुद्ध जड़ी-बूटियों का उपयोग करके myUpchar Ayurveda Urjas Oil बनाया है। इस आयुर्वेदिक तेल को हमारे डॉक्टरों ने कई लाख लोगों को सेक्स समस्याओं (शीघ्रपतन, लिंग में तनाव की कमी, पुरुषों में कामेच्छा की कमी) के लिए सुझाया है, जिससे उनको अच्छे प्रभाव देखने को मिले हैं।
Men Massage Oil
₹399  ₹449  11% छूट
खरीदें

हेल्दी सीमेन प्रायः चिपचिपा या जेली की तरह होता है, लेकिन निम्नलिखित कारणों की वजह से इसके बनावट या गाढ़ेपन में बदलाव नोटिस किए जा सकते हैं -

  • इजैकुलेशन में लगने वाला वक्त.
  • शराब का सेवन करना.
  • अनहेल्दी डाइट फॉलो करना.

गाढ़े या पानी जैसे वीर्य के कारणों को एक-एक कर आगे समझेंगे -

गाढ़ा वीर्य

अधिक गाढ़ा वीर्य डिहाइड्रेशनहार्मोनल असंतुलन या फिर इंफेक्शन के कारण हो सकता है. वहीं, जरूरत से ज्यादा गाढ़ा वीर्य इनफर्टिलिटी का भी कारण बन सकता है, क्योंकि गाढ़े वीर्य की वजह से स्पर्म का एग तक पहुंचना आसान नहीं होता है.

(और पढ़ें - सीमेन रिटेंशन क्या है)

पानी जैसा वीर्य

पानी जैसा वीर्य विटामिन की कमी या फिर इनफर्टिलिटी को दर्शाता है. एनसीबीआई के अनुसार पानी जैसे वीर्य में स्पर्म की संख्या भी कम होती है.

(और पढ़ें - हाइपरस्पर्मिया का उपचार)

निम्नलिखित स्थितियों में डॉक्टर से जरूर सलाह लें -

  • पेशाब करने के दौरान जलन महसूस होना.
  • पेशाब करने में तकलीफ होना या नहीं कर पाना.
  • जेनाइटल एरिया में गर्म, भारीपन या सूजन आना.
  • पेनिस या स्क्रोटम में रैश या परेशानी महसूस होना.
  • ठीक तरह से इजैकुलेट न कर पाना.
  • जेनाइटल एरिया से दुर्गंध आना.
  • वीर्य के रंग या टेक्सचर में बदलाव नजर आना.

(और पढ़ें - शुक्राणु की जांच)

myUpchar के डॉक्टरों ने अपने कई वर्षों की शोध के बाद आयुर्वेद की 100% असली और शुद्ध जड़ी-बूटियों का उपयोग करके myUpchar Ayurveda Urjas Energy & Power Capsule बनाया है। इस आयुर्वेदिक दवा को हमारे डॉक्टरों ने कई लाख लोगों को शारीरिक व यौन कमजोरी और थकान जैसी समस्या के लिए सुझाया है, जिससे उनको अच्छे प्रभाव देखने को मिले हैं।
Power capsule for men
₹719  ₹799  10% छूट
खरीदें

वीर्य का रंग, गाढ़ापन, मात्रा या दुर्गंध आने पर नजरअंदाज न करें और डॉक्टर से संपर्क करें. ध्यान रखें कि अगर सही समय पर डॉक्टर से परामर्श किया जाए तो, किसी भी तरह की स्वास्थ्य समस्याओं का निदान किया जा सकता है. इसके साथ ही डॉक्टर द्वारा दी गई सलाह का भी ठीक तरह से पालन करने पर बीमारी को जल्द दूर करने में मदद मिल सकती है.

(और पढ़ें - सीमेन फ्रुक्टोज टेस्ट)

Dr. Zeeshan Khan

Dr. Zeeshan Khan

सेक्सोलोजी
9 वर्षों का अनुभव

Dr. Nizamuddin

Dr. Nizamuddin

सेक्सोलोजी
5 वर्षों का अनुभव

Dr. Tahir

Dr. Tahir

सेक्सोलोजी
20 वर्षों का अनुभव

Dr. Ajaz  Khan

Dr. Ajaz Khan

सेक्सोलोजी
13 वर्षों का अनुभव

ऐप पर पढ़ें