मलेरियल फाल्सीपेरम और विवैक्स एंटीजन टेस्ट एक प्रकार का ब्लड टेस्ट है। यह टेस्ट मलेरिया का कारण बनने वाले दो सबसे सामान्य एंटीजन प्लासमोडियम और पी. विवैक्स की उपस्थिति का पता लगाने और उनमें अंतर करने में मदद करता है।

प्लासमोडियम एक परजीवी है जो कि मादा एनोफिलीज नामक मच्छर की लार ग्रंथि में होता है। इस मच्छर के काटने से ही यह मानव शरीर के अंदर पहुंचता है। ये परजीवी शरीर के अंदर पहुंचकर, विशेष प्रोटीन (एंटीजन) बनाने लगते हैं और इसके परिणामस्वरूप बुखार जैसे लक्षण विकसित होने लगते हैं। 

प्लासमोडियम की चार प्रजातियां मलेरिया फैला सकती हैं। ये हैं पी. विवैक्स, पी.फाल्सीपेरम, पी. मलेरिए और पी.ओवल। हर प्रजाति विभिन्न प्रकार के एंटीजन बनाती हैं।

यह टेस्ट शरीर में मलेरिया के एंटीजन की जांच करता है और यह एंटीजन के प्रकार का भी पता लगाता है ताकि बीमारी फैलाने वाली प्रजाति का भी पता लगाया जा सके। यह टेस्ट संक्रमित लोगों में मृत्यु के खतरे को कम करने में काफी मदद करता है।

हर साल, बीस करोड़ से भी अधिक लोग इस बीमारी से ग्रस्त होते हैं और लगभग साढ़े चार लाख लोगों की मृत्यु हो जाती है। पी.फाल्सीपेरम से हुआ संक्रमण सबसे गंभीर होता है। पी. विवैक्स लिवर में कुछ महीनों तक असक्रिय रह सकता है और यह संक्रमण पैरासाइट के शरीर में आने के एक साल बाद दोबारा हो सकता है।

  1. मलेरियल फाल्सीपेरम और विवैक्स एंटीजन (पैरासाइट वी और एफ) टेस्ट क्यों किया जाता है - Malarial Falciparum and Vivax Antigen (Parasite V & F) Test kyon kiya jata hai
  2. मलेरियल फाल्सीपेरम और विवैक्स एंटीजन (पैरासाइट वी और एफ) टेस्ट से पहले - Malarial Falciparum and Vivax Antigen (Parasite V & F) Test se pahle
  3. मलेरियल फाल्सीपेरम और विवैक्स एंटीजन (पैरासाइट वी और एफ) टेस्ट के दौरान - Malarial Falciparum and Vivax Antigen (Parasite V & F) Test ke dauran
  4. मलेरियल फाल्सीपेरम और विवैक्स एंटीजन (पैरासाइट वी और एफ) टेस्ट के परिणाम का क्या मतलब है - Malarial Falciparum and Vivax Antigen (Parasite V & F) Test ke parinam ka kya matlab hai

यदि आपके डॉक्टर को यह संदेह हो जाता है कि आपको मलेरिया है, तो वे परजीवी की पहचान करने के लिए यह टेस्ट करवाने की सलाह दे सकते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि परजीवी की पहचान करके उचित इलाज शुरू किया जा सकता है।

यदि पी. फाल्सीपेरम के कारण हुए मलेरिया के लक्षण विकसित होने पर उसके चौबीस घंटों के भीतर इलाज शुरू न किया जाए, तो यह स्थिति जानलेवा हो सकती है।

मलेरिया के कुछ सामान्य लक्षण निम्न हैं :

मलेरिया की गंभीर स्थिति में ऑर्गन फेलियर जैसी स्थितियां भी हो सकती हैं :

कुछ लोगों में मलेरिया होने का खतरा अधिक होता है, इनमें निम्न शामिल हैं :

  • एशियाई और अफ्रीकी देशों में रहने वाले लोग (जैसे भारतीय)
  • ऐसे लोग जो हाल ही में उन स्थानों पर यात्रा कर के आए हैं जहां मलेरिया का खतरा अधिक है
  • छोटे बच्चे और नवजात शिशु
  • वृद्ध व्यक्ति
  •  गर्भवती महिलाएं और उनके गर्भ में शिशु

इसके लिए किसी विशेष तैयारी की जरूरत नहीं होती। यदि आपको पहले कभी मलेरिया हुआ है तो इसके बारे में डॉक्टर को बता दें। इसके अलावा आप डॉक्टर की सलाह से या उसके बिना किसी भी प्रकार की दवा, नशीले पदार्थ, विटामिन या अन्य सप्लीमेंट ले रहे हैं, तो उनके बारे में डॉक्टर को अवश्य बता दें।

यह एक ब्लड टेस्ट है। इसके लिए डॉक्टर या लैब टैक्नीशियन आपकी बांह की नस से कुछ बूंदें रक्त की सैंपल के रूप में ले लेंगे। इसके बाद इस सैंपल को लैब में आगे की एनालिसिस के लिए भेज दिया जाता है।

  • आपकी बांह पर जहां से सैंपन लिया जाना है वहां अल्कोहल युक्त घोल से साफ किया जाेगा।
  • इसके बाद नस से सुई की मदद से कुछ मिलीलीटर रक्त सैंपल के रूप में इकट्ठा कर लिया जाएगा।
  • इसके बाद फिर से अल्कोहॉल युक्त दवा लगी रुई को सैंपल ली हुई जगह पर लगाने को कहा जाएगा।

 

सामान्य परिणाम

सामान्य परिणाम को नेगेटिव लिखा जाता है। इसका मतलब है कि आपके शरीर में मलेरिया एंटीजन नहीं पाए गए, इसलिए आपको मलेरिया नहीं है।

असामान्य परिणाम

असामन्य परिणाम को पॉजिटिव लिखा जाता है। इसका मतलब है कि आपके शरीर में मलेरिया एंटीजन हैं और आपको इसके लिए इलाज कराने की जरूरत है। इस टेस्ट में आगे यह भी बताया जाता है कि आपके अंदर कौन सा मलेरिया एंटीजन (विवैक्स या फाल्सीपेरम) है।

और पढ़ें ...

संदर्भ

  1. World Health Organization [Internet]. Geneva (SUI): World Health Organization; How To Use a Rapid Diagnostic Test (RDT)
  2. World Health Organization [Internet]. Geneva (SUI): World Health Organization; Malaria
  3. Center for Disease Control and Prevention [internet], Atlanta (GA): US Department of Health and Human Services; Malaria
  4. Tintinalli JE, et al., eds. Malaria. In: Tintinalli's Emergency Medicine: A Comprehensive Study Guide. 8th ed. New York, N.Y.: McGraw-Hill Education; 2016
  5. Center for Disease Control and Prevention [internet], Atlanta (GA): US Department of Health and Human Services; Mutebi JP, et al. Protection against mosquitoes, ticks, & other arthropods
ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ