myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

पिछले कुछ दशकों में दुनियाभर में कैंसर के मरीजों की संख्या काफी तेजी से बढ़ी है। इसका सीधा-सा कनेक्शन हमारे असंतुलित खान-पान से है, जिनसे मिलने वाली अतिरिक्त कैलोरी मोटापे का कारण बनती है। यही मोटापा आगे चलकर कैंसर के खतरे को बढ़ाता है, इसीलिए हम बात कर रहे हैं ऐसे पांच खाद्य और पेय पदार्थों की, जिनकी वजह से कैंसर का खतरा बढ़ सकता है। 

शराब

जब शरीर अल्कोहल का चयापचय (भोजन को ऊर्जा में बदलने वाली एक प्रक्रिया) करता है, तो यह एसेटल्डेहाइड नमक एक रासायनिक यौगिक का उत्पादन करता है, जो डीएनए को नुकसान पहुंचा सकता है और इससे कैंसर जैसी घातक बीमारी हो सकती है। शोध में पाया गया है कि आप जितना ज्यादा शराब पीते हैं उतना ही ज्यादा आपमें कुछ प्रकार के कैंसर (जैसे: सिर और गर्दन, ग्रासनली, लिवर, स्तन और कोलोरेक्टल) बढ़ने का खतरा अधिक होता है। इसीलिए विशेषज्ञ इन जोखिमों से बचने के लिए शराब से परहेज करने की सलाह देते हैं। 

शोधकर्ताओं का कहना है कि यदि आप अल्कोहल का इस्तेमाल करना ही चाहते हैं तो, इसका सेवन बहुत कम (एक दिन में एक गिलास) कर दें। महिलाओं को प्रति दिन एक गिलास और पुरुषों को दो गिलास से ज्यादा अल्कोहल का सेवन नहीं करना चाहिए। 

(और पढ़ें - कैंसर में क्या खाना चाहिए)

प्रोसेस्ड मीट 

प्रोसेस्ड मीट जैसे कि बेकन, सॉसेज, हॉट डॉग्स, पेपरोनी को प्रिजर्व करने के लिए नमक, धुएं या केमिकल प्रिजर्वेटिव्स का इस्तेमाल किया जाता है। शोध में पाया गया है कि रोज 50 ग्राम प्रोसेस्ड मीट खाने से कोलोरेक्टल कैंसर का खतरा 18 प्रतिशत तक बढ़ जाता है। 

रेड मीट

अधिक मात्रा में रेड मीट खाने से कोलोरेक्टल, अग्नाशय और प्रोस्टेट कैंस हो सकता है। इसलिए अपने आहार में रेड मीट को शामिल न करें।

(और पढ़ें - कैंसर का आयुर्वेदिक इलाज)

पैकेज्ड स्नैक्स व फिजी ड्रिंक

शोध बताते हैं कि अगर आपकी रोजाना की डाइट में 10 फीसदी पैकेज्ड स्नैक्स, फिजी ड्रिंक और उच्च श्रेणी के प्रोसेस्ड फूड हों तो इससे कैंसर का जोखिम 12 प्रतिशत तक बढ़ जाता है, जबकि अल्ट्रा-प्रोसेस्ड फूड (एडेड शुगर, केमिकल्स, आर्टिफिशियल कलर और फ्लेवर से बना) के अत्यधिक सेवन के कारण स्तन कैंसर हो सकता है। माना कि इन खाद्य पदार्थों का स्वाद बहुत अच्छा होता है लेकिन इनमें चीनी, नमक और वसा की मात्रा बहुत ज्यादा होती है। इनमें विटामिन, फाइबर और अन्य पोषक तत्वों की भी कमी होती है।

शुगर 

चीनी का कैंसर से सीधा संबंध नहीं है लेकिन स्वीटनर (मीठी चीजें) में कोई पोषक तत्त्व नहीं होते हैं, जिस कारण वजन बढ़ सकता है और मोटापे की समस्या हो सकती है। आपको बता दें कि मोटापे का संबंध 13 प्रकार के कैंसर से होता है।

आज की जीवनशैली इतनी खराब हो गई है कि हम हर रोज ऐसी चीजों का सेवन करने लगे हैं जिनमे पोषक तत्वों की मात्रा न के बराबर होती है। इनकी वजह से कई बीमारियों का खतरा बढ़ रहा है और अगर इस आदत को समय पर कंट्रोल न किया जाए तो ये कैंसर जैसी घातक बीमारी का रूप ले सकता है। इसलिए अगर आप स्वस्थ रहना चाहते हैं तो उपरोक्त चीजों का सेवन न करें।

और पढ़ें ...