myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

राई दुनिया के सबसे महत्वपूर्ण अनाजों में से एक है और इस प्रकार की घास को पूरे विश्व में बड़े पैमाने पर उगाया जाता है। राई का वैज्ञानिक नाम सेचले केरेले (Secale cereale) है। यह गेहूं और जौ के समान होता है। ऐसा माना जाता है कि वर्तमान तुर्की में राय की उपज की शुरुआत हुई थी लेकिन इसकी खेती की शुरुआत इससे और भी पूर्व में होने की आशंका है। इसकी खेती रोमन समय में व्यापक रूप से की जाती थी और शायद उससे पहले भी इसकी खेती व्यापक रूप से हुई होगी क्योंकि इसे उगाना बहुत ही आसान है और यह एक कृषि स्टेपल के रूप में है।

आज भी राई की अधिक मात्रा पूर्वी यूरोप में और मध्य और उत्तरी रूस में उगाई जाती है लेकिन यह उत्तर अमेरिका, चीन और दक्षिण अमेरिका में भी उगाई जाती है। राई 5 सबसे अधिक उपयोग किए जाने वाले अनाजों में से एक है। इसका उपयोग कई रूपों में जैसे पशुओं के आहार के रूप में, व्हिस्की बनाने के लिए, ब्रैड बनाने के लिए किया जाता है।

आपकी कृषि जरूरतों के लिए राई पर निर्भर होने के बारे में सबसे खतरनाक बात यह है कि राई की फसल पर बहुत जड़ी फंगस लगती है और यह बहुत जल्दी सड़ सकती है। इससे राई की एक पूरी फसल साफ़ हो सकती है इसलिए कुछ देश दूसरे अनाजों को उगाना चुनते हैं। हालांकि, राई के स्वास्थ्य लाभ इन्हें अपने आहार में शामिल करने के लिए एक अच्छा तर्क प्रस्तुत करते हैं।

राई आपके स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छा है। इसमें पोषक तत्व जैसे खनिज, विटामिन और कार्बनिक यौगिक पाए जाते हैं। इनमें से कुछ प्रमुख घटक मैंगनीज, तांबा, मैग्नीशियम, फास्फोरस, विटामिन बी-कॉम्प्लेक्स, डाइटरी फाइबर और फिनालिक एंटीऑक्सीडेंट यौगिक हैं।

  1. राई के फायदे - Rye ke fayde in hindi
  2. राई के नुकसान - Rye ke nusksan in hindi

राई के फायदे वजन घटाने के लिए - Eating rye to lose weight in hindi

राई वजन घटाने के लिए गेहूं या जौ से बेहतर अनाज माना जाता है। राई में फाइबर भरपूर मात्रा में पाया जाता है। इसमें कैलोरी कम होती है जिससे आपको वजन नियंत्रित करने में मदद मिलती है। जब आप डाइट पर होते हैं तो आपको अक्सर भूख लगती है। इसलिए अनिवार्य रूप से इसका सेवन करने से इसमें मौजूद फाइबर आपके भूख लगने की प्रक्रिया को धीमा करता है और आप अधिक खाने से बच जाते हैं, जिससे आप अपने वजन को नियंत्रित रख सकते हैं। 

(और पढ़ें – फाइबर से भरे हुए होते हैं पिस्ता)

राई के लाभ रखें दूर पित्ताशय की पथरी से - Rye to prevent gallstone in hindi

एक अनुसंधान के अनुसार राई में पाए जाने वाले तत्व पित्ताशय की पथरी की गंभीरता को कम करने में मदद करते हैं। इसमें मौजूद फाइबर पाचन प्रक्रिया को अच्छा करते हैं जो पित्त एसिड (bile acid) की मात्रा को कम करने में मदद करते हैं। यही पित्त एसिड पित्ताशय की पथरी के विकास का मुख्य कारण होते हैं। 

(और पढ़ें – पाचन क्रिया सुधारने के आयुर्वेदिक उपाय)

राई के उपयोग मधुमेह के लिए - Benefits of rye for diabetics in hindi

जब रक्त शर्करा की बात आती है मधुमेह रोगी सोचते हैं क्या खाएं जिससे उनका मधुमेह नियंत्रित रहे। गेहूं वास्तव में शरीर में इंसुलिन के स्तर में बढ़ोतरी का कारण होता है क्योंकि यह छोटे अणुओं से बना है जो जल्दी और आसानी से सरल चीनी में टूट जाते हैं, जिससे इंसुलिन में वृद्धि हो सकती है। राई बड़े अणुओं से बना है जो जल्दी से नहीं टूटते और इसलिए रक्त शर्करा पर कोई असर नहीं पड़ता है। 

(और पढ़ें – मधुमेह रोगियों के लिए एक स्वादिष्ट और सेहतमंद व्यंजन)

राई खाने के फायदे कब्ज करे दूर - Rye good for digestion in hindi

राई में आहार फाइबर की प्रभावशाली संरचना और घनत्व कब्ज या आंत की कुछ अन्य समस्याओं जैसे गैसपेट में दर्द और ऐंठन को कम करते हैं। राई अधिक गंभीर स्थिति जैसे अल्सर, पित्त पथरी या पेट का कैंसर जैसी समस्या को होने से रोकता है। 

(और पढ़ें – कब्ज की समस्या में उपयोगी जूस की रेसिपी)

राई के औषधीय गुण मेटाबॉलिज्म रखे नियंत्रित - Rye to control metabolism in hindi

यूनिवर्सिटी ऑफ़ कुओपीओ में किए गए शोध से पता चला है कि राई हानिकारक जीन के उत्पादन को कम करता है। राई हमारे कोशिकाओं के चयापचय प्रदर्शन को अनुकूलित करने में सबसे अच्छा होता है। 

(और पढ़ें – शरीर के चयापचय को भी तेज़ी से बढ़ाता है लहसुन )

राई के गुण बनाएं हृदय स्वास्थ्य बेहतर - Rye grain health benefits for heart heath in hindi

यदि आप उच्च रक्तचाप या एथिरोस्क्लेरोसिस (धमनियों का ब्लॉक होना) से पीड़ित हैं तो अपने आहार में राई को शामिल करें। इसमें मौजूद फाइबर, विटामिन और खनिज आपके हृदय स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद करते हैं। ( और पढ़ें – कैंसर रोगियों के लिए सूप रेसिपी )

राई खाने से लाभ कैंसर रखे दूर - Rye flour for Cancer Prevention in hindi

राई में एंटीऑक्सिडेंट बहुत अधिक होता है जो ब्रेस्ट कैंसर, पेट के कैंसर, और प्रोस्टेट कैंसर को रोकने में मदद करता है। राई में पाया जाने बाला फेनोलिक्स (Phenolics) एंटीऑक्सीडेंट भी इन समस्याओं में लाभदायक है।

राई खाने के गुण अस्थमा में - Rye benefits for asthma in hindi

बचपन में अस्थमा बहुत गंभीर समस्या है। लेकिन राई का नियमित सेवन बचपन के अस्थमा के विकास की संभावना को काफी कम कर सकता है। कई स्कूलों में किए गए शोध से पता चला है कि जिन बच्चों ने नियमित रूप से राई का सेवन किया था, उन बच्चों की तुलना में राई का सेवन नहीं करने वाले बच्चों में 60% अधिक अस्थमा विकसित होने की सम्भावना बढ़ी।

(और पढ़ें – अस्थमा से निजात पाने की रेसिपी)

राई लस अनाज (gluten grains) के वर्ग में आता है। यदि आप सीलिएक रोग (Celiac) के शिकार हैं तो राई का सेवन नहीं करें। यह आपकी समस्या को और बढ़ा सकता है।

और पढ़ें ...