शिलाजीत क्‍या है?

शिलाजीत एक प्राकृतिक रूप से पाया जाने वाला खनिज पदार्थ है जो हिमालय और भारतीय उपमहाद्वीप की हिंदुकुश पर्वतमाला में पाया जाता है। ये एक दुर्लभ पदार्थ है जो हजारों वर्षों से  पौधों और पौधों की सामग्री के विघटन से बनता आया है। शिलाजीत एक गाढ़ा और लसलसेदार पदार्थ होता है।

पिछले हजारों वर्षों से भारत की पारंपरिक औषधियों में शिलाजीत का इस्‍तेमाल किया जा रहा है। चक्र संहिता और सुश्रुत संहिता में भी शिलाजीत का उल्‍लेख किया गया है। इन ग्रंथों में इसे ‘सोने जैसे धातु का पत्‍थर’ और ‘चिपचिपे पदार्थ’ के रूप में बताया गया है।

आयुर्वेद में शिलाजीत को रसायन (शक्‍तिवर्द्धक) कहा गया है क्‍योंकि इससे संपूर्ण सेहत में सुधार आता है। शिलाजीत का अर्थ ‘पहाड़ों को जीतने वाला और कमजोरी को दूर करने वाला’ होता है। इसी बात से आप अंदाजा लगा सकते हैं कि शिलाजीत सेहत के लिए कितना गुणकारी होता है।

क्‍या आप जानते हैं?

आयुर्वेदिक चिकित्‍सकों के अनुसार शिलाजीत से गौमूत्र जैसी गंध आती है। शुद्ध शिलाजीत का सेवन करना महिलाओं और पुरुषों दोनों के लिए ही बुहत लाभकारी माना जाता है।

शिलाजीत के बारे में तथ्‍य:

  • लैटिन नाम: एस्‍फैल्‍टम पंजाबिअनम
  • सामान्‍य नाम: ऐस्‍फाल्‍ट, मिनरल पिच, मिनरल वैक्‍स, शिलाजीत
  • संस्‍कृ‍त नाम: शिलाजीत, शिलाजतु
  • भौगोलिक विवरण: हिमालय के साथ-साथ हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, अरुणाचल प्रदेश और कश्‍मीर में शिलाजीत सबसे ज्‍यादा पाया जाता है। भारत के अलावा शिलाजीत चीन, नेपाल, पाकिस्‍तान, तिब्‍बत और अफगानिस्‍तान में मिलता है।
  1. शिलाजीत के फायदे व आयुर्वेदिक गुण - Shilajit ke fayde hindi me
  2. शिलाजीत के नुकसान - Shilajit ke nuksan in hindi
  3. शिलाजीत की तासीर क्या होती है - Shilajit taseer in Hindi
  4. शिलाजीत का उपयोग कैसे करें - How to use Shilajit in Hindi

दिमाग़ तेज़ करने का उपाय है शिलाजीत - Shilajit Benefits for Sharp Mind in Hindi

शिलाजीत को नॉट्रोपिक के रूप में वर्गीकृत किया गया है, जिसका अर्थ यह है कि यह नई चीजों को सीखने के लिए मस्तिष्क की क्षमता को बढ़ाता है। तेज दिमाग सबकी जरुरत होती है और शिलाजीत इस ज़रूरत को पूरा करने में सहायक साबित हो सकता है। शिलाजीत स्मरण-शक्ति को बढ़ाता है और दिमाग़ को पोषित करता है। यह तनाव को दूर रखता है और एकाग्रता में भी सुधार लाता है। 

(और पढ़ें – दिमाग तेज़ कैसे करें)

शिलाजीत में फुलविक एसिड (fulvic acid) एक एन्टीऑक्सडेंट के रूप में मौजूद होता है जो मष्तिष्क को स्वस्थ बनाए रखने में मदद करता है। शोधकर्ताओं का मानना है कि शिलाजीत में मौजूद फुलविक एसिड ताऊ प्रोटीन (Tau protein) के असामान्य निर्माण को रोक सकता है और सूजन को कम कर सकता है, संभावित रूप से अल्जाइमर के लक्षणों में सुधार कर सकता है। हालांकि इस पर अभी और अधिक शोध और नैदानिक परीक्षण की आवश्यकता है।

2013 में मस्तिष्क की चोट से जुडी परेशानियों में शिलाजीत के प्रभाव पर, केरमेन यूनिवर्सिटी ऑफ मेडिकल साइंसेज में फिजियोलॉजी रिसर्च सेंटर द्वारा आयोजित एक अध्ययन में शोधकर्ताओं ने पाया कि मस्तिष्क की चोट के बाद होने वाली मौत के संभावित कारकों पर इसका सकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

(और पढ़ें - मस्तिष्क की चोट का इलाज)

उच्च रक्तचाप के लिए घरेलू उपचार है शिलाजीत - Shilajit for High Blood Pressure and in Hindi

उच्च रक्तचाप (high blood pressure) एक हृदय रोग है और आजकल की जीवन शैली के कारण अधिकतर लोग इस परेशानी से ग्रसित हो सकते हैं। रक्त चाप के नियंत्रित न होने के कारण ह्रदय रोगो का खतरा बढ़ जाता है। शिलाजीत का सेवन करने से ना केवल रक्तचाप सामान्य स्थिति में रहता है अपितु मानव हृदय रोग से भी दूर रहता है।

(और पढ़ें – उच्च रक्तचाप के लिए बहुत ही उपयोगी जूस)

एक आहार पूरक के रूप में शिलाजीत का उपयोग करने पर दिल से जुडी परेशानियां कम हो सकती है और यह दिल के स्वास्थ में भी सुधार कर सकता है। यदि आप किसी भी ह्रदय रोग से ग्रस्त है तो शिलाजीत का उपयोग डॉक्टर कि सलाह लेने के बाद ही करें क्योकि शिलाजीत के उपयोग से ब्लड प्रेशर कम होने की संभावना होती है।

(और पढ़ें - ब्लड प्रेशर कम करने के उपाय)

गठिया का आयुर्वेदिक इलाज है शिलाजीत - Shilajit Use for Arthritis in Hindi

गठिया (arthritis) जोड़ो का शत्रु है और जोड़ो में सूजन एवं अकड़न से जोड़ो के दर्द को बढ़ा देता है। शिलाजीत जोड़ो के असहनीय दर्द और सूजन से राहत दिलाता है और अकड़न दूर कर जोड़ो को मज़बूत भी बनाता है। शिलाजीत में एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते है और शिलाजीत जोड़ों के दर्द को कम कर गठिया के उपचार में मदद करता हैं। यह जोड़ों को मजबूत करता है तथा जोड़ों में रक्त के प्रवाह को बढ़ाने में भी सहायक है। शोध के अनुसार शिलाजीत शरीर में विभिन्न रसायनों की वजह से हुई सूजन को भी कम कर सकता है।

(और पढ़ें – गठिया रोग के लिए जड़ीबूटियां)

एनीमिया का प्रबल उपचार है शिलाजीत - Shilajit for Anemia in Hindi

एनीमिया (anemia) शरीर में खून की कमी की वजह से होती है। इससे शरीर में बहुत थकान आ जाती है, रोगी को सामान्य रूप से साँस लेने में समस्या होती है एवं चक्कर भी आते हैं। शिलाजीत रक्त बनाने में मदद करता है और शरीर में फुर्ती भर देता है। शिलाजीत में ह्यूमिक एसिड और आयरन पाया जाता है। इस प्रकार शिलाजीत आयरन की कमी के कारण होने वाले एनीमिया के इलाज में सहायक साबित हो सकता है। 

(और पढ़ें – आयरन के स्रोत)

शिलाजीत दे उच्च रक्तवसा से राहत - Shilajit for Cholesterol in Hindi

हाई कोलेस्ट्रॉल लेवल (high cholesterol level) शरीर के रक्त प्रवाह में बाधा बन सकता है जिसके कारण दिल के दौरे जैसी समस्या हो सकती है। शिलाजीत रक्त में स्वस्थ कोलेस्ट्रॉल का स्तर बनाकर इस रोग से मुक्ति दिलाने में अत्यंत सहायक है। शिलाजीत कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करता है और दिल से सम्बन्धित अन्य परेशानियों को भी कम करने में सहायक है।

(और पढ़ें – कोलेस्ट्रॉल कम करने के उपाय)

शिलाजीत खाने के फायदे मधुमेह के लिए - Shilajit for Diabetes in Hindi

विश्व में आधे से भी अधिक लोग, मधुमेह (diabetes) के से ग्रस्त हैं। शिलाजीत रक्त में शर्करा (glucose) के स्तर को नियंत्रण में रखता है और मधुमेह में सुधार लाता है, इसलिए शिलाजीत को मधुमेह विनाशक भी कहा जाता है। यह मधुमेही न्यूरोपैथी (diabetic neuropathy) का भी एक फलप्रद निवारण है। यह हृदय को मज़बूत बनाता है और प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रबल कर संपूर्ण स्वास्थ्य में सुधार लाता है। यह शरीर में थकान को कम कर शरीर की ऊर्जा को बढ़ाता है। 

(और पढ़ें – योग कर सकता है मधुमेह को नियंत्रित, जानिए कैसे)

अध्यनो के अनुसार शिलाजीत रक्त में ग्लूकोज के स्तर को कम करता है इसके साथ ही यह ट्राइग्लिसराइड्स को भी कम करने में भी मदद करता है। शिलाजीत डी -400, डायबेकॉन, या ग्लूकोकेयर नामक एक पूरक में मुख्य तत्वों में से एक है। डी -400 रक्त ग्लूकोज के स्तर को कम करता है और मधुमेह के कारण होने वाले नुकसान से पैनक्रिया को बचाता है।

(और पढ़ें - शुगर कंट्रोल करने के उपाय)

शिलाजीत के फायदे मूत्र विकार के लिए - Shilajit for Urinary Problems in Hindi

शिलाजीत गुर्दों और मूत्राशय को स्वस्थ रखता है। यह मूत्र में जलन एवं पथरी से छुटकारा दिलाता है। यह गुर्दे की कार्य क्षमता को बढ़ाकर कई सारी परेशानियों को भी कम करता है इसके साथ यह मूत्राशय को भी स्वस्थ रखने में मदद करता है। 

(और पढ़ें – पथरी में क्या खाना चाहिए)

यौन शक्ति बढ़ाने के लिए देखें शिलाजीत के लाभ - Shilajit Boosts Up Sexual Power in Hindi

शिलाजीत ऊर्जा एवं शक्ति का दूसरा नाम है। प्राचीन काल से ही इसका सेवन मुख्य रूप से कमज़ोरी को दूर भगाने और जवान रहने के लिए किया जा रहा है। यह कोशिकाओं (cells) को पुनर्जीवित कर बुढ़ापे के लक्षणों और शारीरिक कमज़ोरी को दूर रखता है। शरीर को यौवन और फुर्ती से भर देता है। यह यौन शक्ति (sexual vitality) को बढ़ाकर यौन संभोग (sexual intercourse) को आनंदित बना देता है। 

(और पढ़ें – यौन-शक्ति को बढ़ाने वाले आहार)

यौन विकारों के लिए प्रभावी है शिलाजीत - Shilajit for Sexual Disorders in Hindi

शिलाजीत एक बहुत ही उत्तम यौन (sex) टॉनिक है। दुनिया की सबसे प्राचीन मानव यौन व्यवहार साहित्य - "काम सूत्र" में भी इसका उल्लेख किया गया है। यह दोनों लिंगों में यौन इच्छा और क्षमता को बढ़ाता है और यौन संबंधित रोगों को दूर रखता है। यह बांझपन को दूर कर गर्भ धारण करने में भी सहायक है। महिलाओं में यह मासिक धर्म चक्र (menstrual cycles) को नियंत्रित करता है और अंडाशय को पुष्ट एवं स्वस्थ करता है। पुरुषों में यह शुक्राणुओं को स्वस्थ बनाता है और उनके स्तर को बढ़ाता है। यह गर्भावस्था में भी अत्यंत लाभदायक होता है। 

(और पढ़ें - गर्भावस्था के दौरान पेट दर्द और प्रेग्नेंट होने के उपाय)

यूं तो माना जाता है कि शिलाजीत प्रकृति की कोख से जन्मा है परन्तु इसका ग़लत उपयोग करने से या फिर इसका सेवन ज़्यादा मात्रा में करने से मानव शरीर को हानि पहुँच सकती है। इसमें लौह (iron) उच्च मात्रा में पाया जाता है। लौह संबंधित रोग हो सकते है। इसलिए यदि इसका सेवन ज़्यादा मात्रा में करने से यह एलर्जी का भी एक कारण बन सकता है। गर्भावस्था (Pregnancy) में इसका सेवन डॉक्टर से पूछ कर ही करना चाहिए। इसके अतिरिक्त शिलाजीत की सही खुराक के लिए भी डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए। बाज़ार में बिकने वाले नकली शिलाजीत से सावधान रहना चाहिए और केवल अच्छे ब्रांड का ही शिलाजीत कॅप्सुल, चूर्ण या सिरप का सेवन करना चाहिए।

(और पढ़ें - लड़का होने के लिए उपाय और गोरा बच्चा पैदा करना से जुड़े मिथक)

सारांश -

शिला जीत में अनेक रोगों से लड़ने की प्रभावशाली क्षमता है। ख़ासकर सेक्स संबंधी समस्याओं में। शिलाजीत को परंपरागत रूप से यौन दुर्बलता को कम करने और सेक्स संबंधी ताक़त बढ़ाने में इस्तेमाल किया जाता है। साथ ही ये प्राकृतिक रूप से बांझपन को दूर करने में बेहद शक्तिशाली है।

(और पढ़ें - sex kaise kare)

यह कामेच्छा को बढ़ाने में, शुक्राणु के स्तर में वृद्धी करने में, स्तंभन दोष को दूर करने में, शीघ्रपतन में और महिलाओं में सेक्स संबंधित समस्याओं जैसे कई यौन विकारों के लिए प्रभावी इलाज के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। इसकी  क्षमता का उल्लेख कामसूत्र में भी किया गया है। यह भारत में भारतीय वियाग्रा के नाम से प्रसिद्ध है। सेक्स संबधी स्वास्थ्य के अलावा ये तनाव को कम करने और दिमाग़ को तेज़ बनाने में भी उपयोगी है। साथ ही यह हृदय और रक्त संबंधी रोगों जैसे मधुमेह, हाई बीपी, उच्च कोलेस्ट्रॉल और एनीमिया के इलाज में बहुत प्रभावी है।

(और पढ़ें - सेक्स की जानकारी)

मूत्राशय संबंधी समस्या में शिलाजीत बहुत मददगार है। लेकिन इसके बेहतर परिणाम और इसके दुष्प्रभाव से बचने के लिए इसके सेवन से पहले  डॉक्टर या विशेषज्ञ से सलाह ज़रूर लें। बाजार में उपलब्ध नकली शिलजीत उत्पादों से सावधान रहें और अच्छे ब्रांड के शिलजीत कैप्सूल या सिरप का ही इस्तेमाल करें।

(और पढ़ें - हली बार सेक्स और सेक्स पोजीशन)

शिलाजीत की तासीर गर्म होती है और यह पचने में भरी होता है। इसलिए इसका सेवन गर्मियों में और अधिक मात्रा में नहीं करना चाहिए। तासीर गर्म होने की वजह से सर्दियों में खांसी, जुखाम आदि से बचने के लिए इसका सेवन में अधिक मात्रा में करना उत्तम माना जाता है। 

शिलाजीत तरल और पॉवडर दोनों रूपों में मिलता है। शिलाजीत का उपयोग निर्देशानुसार ही करें अधिक मात्रा में इसका सेवन हानिकारक भी हो सकता है। यदि आप शिलाजीत को तरल रूप में उपयोग करते हैं तो मटर के दाने जितनी मात्रा में शिलाजीत को पानी में मिलाये और दिन में 2-3 बार पिए। शिलाजीत पॉवडर को आप दूध के साथ दिन में 2 बार ले सकते हैं। 


शिलाजीत के गुणकारी लाभ सम्बंधित चित्र


उत्पाद या दवाइयाँ जिनमें शिलाजीत है

और पढ़ें ...

संदर्भ

  1. Harsahay Meena, H. K. Pandey, M. C. Arya, and Zakwan Ahmed. Shilajit: A panacea for high-altitude problems. Int J Ayurveda Res. 2010 Jan-Mar; 1(1): 37–40. PMID: 20532096
  2. J. M. Williams et al. Epithelial Cell Shedding and Barrier Function: A Matter of Life and Death at the Small Intestinal Villus Tip. Vet Pathol. 2015 May; 52(3): 445–455. PMID: 25428410
  3. Nader Shahrokhi, Zakieh Keshavarzi, Mohammad Khaksari. Ulcer healing activity of Mumijo aqueous extract against acetic acid induced gastric ulcer in rats. J Pharm Bioallied Sci. 2015 Jan-Mar; 7(1): 56–59. PMID: 25709338
  4. Goel RK1, Banerjee RS, Acharya SB. Antiulcerogenic and antiinflammatory studies with shilajit. J Ethnopharmacol. 1990 Apr;29(1):95-103. PMID: 2345464
  5. Biswas TK et al. Clinical evaluation of spermatogenic activity of processed Shilajit in oligospermia. Andrologia. 2010 Feb;42(1):48-56. PMID: 20078516
  6. Melissa L. Times, Craig A. Reickert, M.D. Functional Anorectal Disorders. Clin Colon Rectal Surg. 2005 May; 18(2): 109–115. PMID: 20011350
  7. Goel RK1, Banerjee RS, Acharya SB. Antiulcerogenic and antiinflammatory studies with shilajit. J Ethnopharmacol. 1990 Apr;29(1):95-103. PMID: 2345464
  8. Paranjpe P1, Patki P, Patwardhan B. Ayurvedic treatment of obesity: a randomised double-blind, placebo-controlled clinical trial. J Ethnopharmacol. 1990 Apr;29(1):1-11. PMID: 2278549
  9. Ranjan K. Pattonder, H. M. Chandola, S. N. Vyas. Clinical efficacy of Shilajatu (Asphaltum) processed with Agnimantha (Clerodendrum phlomidis Linn.) in Sthaulya (obesity). Ayu. 2011 Oct-Dec; 32(4): 526–531. PMID: 22661848
  10. Leanne Hodson. Adipose tissue oxygenation: Effects on metabolic function. Adipocyte. 2014 Jan 1; 3(1): 75–80. PMID: 24575375
  11. Pravenn Sharma et al. SHILAJIT: EVALUTION OF ITS EFFECTS ON BLOOD CHEMISTRY OF NORMAL HUMAN SUBJECTS. Ancient Science of Life Vol : XXIII(2) October, November, December 2003 3DJHV
  12. Carlos Carrasco-Gallardo, Leonardo Guzmán, Ricardo B. Maccioni. Shilajit: A Natural Phytocomplex with Potential Procognitive Activity. Int J Alzheimers Dis. 2012; 2012: 674142. PMID: 22482077
  13. C Velmurugan, B Vivek, E Wilson, T Bharathi, T Sundaram. Evaluation of safety profile of black shilajit after 91 days repeated administration in rats. Asian Pac J Trop Biomed. 2012 Mar; 2(3): 210–214. PMID: 23569899
  14. N. S. Gaikwad et al. Effect of shilajit on the heart of Daphnia: A preliminary study. J Ayurveda Integr Med. 2012 Jan-Mar; 3(1): 3–5. PMID: 22529672
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ