myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

हैलिटोसिस या सांसों की बदबू एक आम मौखिक स्वास्थ्य समस्या है। यह कुछ खाद्य पदार्थों जैसे प्याज और लहसुन खाने के बाद, दांत और मुंह के अंदर सही से सफाई न करने से, मुंह से सांस लेने, मुंह सूखने, मसूड़ों या लार ग्रंथि से संबंधित रोग हो जाने के कारण हो सकता है। जो लोग आर्टिफिशियल दांत का प्रयोग करते हैं, उनके द्वारा सही से दांतों की सफाई न करने से भी मुंह से दुर्गंध आ सकती है।

मुंह से दुर्गंध के गैर-मौखिक कारणों में डायबिटीज, क्रोनिक ब्रोंकाइटिस, पोस्ट नेजल ड्रिप, लिवर या गुर्दे की बीमारी, जठरांत्र संबंधी विकार, नाक, गले या फेफड़ों में संक्रमण और क्रोनिक साइनसाइटिस शामिल हैं। हैलिटोसिस में निम्नलिखित लक्षण दिखाई दे सकते हैं :

  • मुंह सूखना
  • सुबह के समय सांसों से बदबू आना व जीभ में जलन लगना
  • जीभ पर सफेद कोटिंग, खासकर जीभ के पीछे
  • गाढ़ी लार
  • नाक बहना या बलगम आना
  • मुंह में लगातार कड़वा, खट्टा या धातु स्वाद

हैलिटोसिस के होम्योपैथिक उपचार का उद्देश्य स्थिति के अंतर्निहित कारण का इलाज करना है। एक योग्य होम्योपैथिक डॉक्टर मरीज के लिए सही उपाय चुनने से पहले रोगी के व्यक्तिगत लक्षणों, शारीरिक और मानसिक स्थिति को समझता है। सामान्य उपचारों में कार्बो वेजिटेबिलिस, कैलियम फास्फोरिकम, क्रियोसोटम, मर्क्यूरियस सॉल्यूबिलिस, पल्सेटिला, पाइरोजेनियम और सीपिया शामिल हैं। इन खुराकों को प्रत्येक व्यक्तिगत मामले के आधार पर होम्योपैथिक चिकित्सक द्वारा निर्धारित किया जाता है।

होम्योपैथी की सही खुराक न सिर्फ रोगी के लक्षणों को ठीक करती है, बल्कि मनोवैज्ञानिक तनाव से निपटने के साथ-साथ समग्र स्वास्थ में भी सुधार करती है। हालांकि, कई बार, मुंह से दुर्गंध आना काल्पनिक भी हो सकता है, इस स्थिति में चिकित्सक व आसपास के लोग सांस में बदबू आने की पुष्टि नहीं कर सकते हैं।

  1. हैलिटोसिस या सांसों की बदबू के लिए होम्योपैथिक दवाएं - Sans ki badbu ki homeopathic medicine
  2. होम्योपैथी के अनुसार के अनुसार हैलिटोसिस या सांसों की बदबू के लिए आहार और जीवन शैली में बदलाव - Sans me badbu ke liye khanpan aur jeevan shaili me badlav
  3. हैलिटोसिस या सांसों की बदबू के लिए होम्योपैथिक दवाएं और उपचार कितने प्रभावी हैं - Sans me badbu ke liye homeopathic medicine kitni effective hai
  4. हैलिटोसिस या सांसों की बदबू के लिए होम्योपैथिक दवा के नुकसान और जोखिम - Sans me badbu ki homeopathic medicine ke nuksan
  5. हैलिटोसिस या सांसों की बदबू के लिए होम्योपैथिक उपचार से संबंधित टिप्स - Sans me badbu ke liye homeopathic treatment se jude tips

निम्नलिखित कुछ महत्वपूर्ण होम्योपैथिक उपचार बताए गए हैं जो मुंह से दुर्गंध के उपचार में सहायक हैं। 

कार्बो वेजिटेबिलिस
सामान्य नाम :
वेजीटेबल चारकोल
लक्षण : कार्बो वेजिटेबिलिस मुंह से दुर्गंध के साथ निम्नलिखित लक्षणों को भी ठीक कर सकता है :

  • दांतों में सड़न
  • ब्रश करते समय मसूड़ों से खून आना
  • अपच और पेट फूलना
  • जीभ पर सफेद या पीले रंग की कोटिंग के साथ अल्सर
  • मसूड़ों में संक्रमण और सूजन
  • सुस्ती और आलस्य
  • क्रोनिक परेशानियों से पीड़ित होने की प्रवृत्ति
  • रिसीडिंग गम्स (मसूड़ों के पीछे खिसकने के कारण दांत बड़े दिखना), जिसमें आसानी से ब्लीडिंग हो सकती है
  • अत्यधिक कमजोरी और आसानी से बेहोश होने की प्रवृत्ति
  • त्वचा में नीलेपन के साथ ठंड लगने का एहसास

यह लक्षण वसायुक्त भोजन करने या अधिक खाने के बाद बदतर होते हैं और डकार आने के बाद इनमें सुधार होता है।

कैलियम फॉस्फोरिकम
सामान्य नाम :
फॉस्फेट ऑफ पोटैशियम
लक्षण : यह उपाय ऐसे युवा व्यक्तियों में अच्छी तरह से काम करता है जो शारीरिक रूप से कमजोर हैं और आसानी से (मानसिक और शारीरिक रूप से दोनों) थक जाते हैं। यह निम्नलिखित विशेषताओं और लक्षणों से संबंधित मुंह से दुर्गंध का इलाज करने में मदद करता है :

  • दांत में दर्द
  • तैलीय त्वचा, एनीमिया, वजन में कमी और आसानी से ठंड लगने की प्रवृत्ति
  • जीभ पर एक भूरे रंग की कोटिंग
  • मुंह के अंदर ऊपरी हिस्से पर सूजन
  • सांसों की बदबू
  • कड़वा या खट्टा स्वाद के साथ मुंह सूखना, विशेष रूप से सुबह में
  • मसूड़ों के पीछे खिसकने के कारण दांत बड़े दिखना, इस स्थिति में आसानी से ब्लीडिंग हो सकती है।

क्रियोसोटम
सामान्य नाम :
अ डिस्टीलेशन ऑफ वुड टार/बीचबुड क्रियोसोटे
लक्षण : क्रेओसोटे ऐसे लोगों में अच्छा असर करता है जिनका रंग डार्क है, दिखने में पतले, लंबे और कुपोषित हैं। इसके अलावा जो निम्नलिखित लक्षणों का अनुभव करते हैं :

  • मुंह में कड़वे स्वाद के साथ सांसों की बदबू
  • दांतों का रंग बदलना जो बाद में तेजी से खराब हो जाते हैं 
  • मसूड़ों में सूजन जिनमें आसानी से ब्लीडिंग हो सकती है
  • होठों में लालिमा और ब्लीडिंग
  • तेज दांत दर्द होना, जिसकी वजह से नींद आने में परेशानी हो सकती है

यह लक्षण खुली हवा के संपर्क में आने और महिलाओं में पीरियड्स के बाद बढ़ जाते हैं। रोगी तब बेहतर महसूस करता है जब वह प्रभावित हिस्से पर गर्म सिकाई करता है या गर्म भोजन का सेवन करता है।

मर्क्यूरियस सॉल्यूबिलिस
सामान्य नाम :
क्विकसिल्वर
लक्षण : मर्क्यूरियस सॉल्यूबिलिस निम्नलिखित विशेषताओं के साथ मुंह से दुर्गंध हटाने का एक शानदार उपाय है :

  • हाथ और पैर ठंडे होना
  • मुंह में हल्का मीठा व धातु जैसा स्वाद
  • शरीर से अधिक मात्रा में पसीना और तेज गंध आना
  • मुंह से अत्यधिक लार आना, जिसमें नमकीन स्वाद आ सकता है
  • मसूड़ों में सूजन, मसूड़ों का दांतों की सतह से पीछे होना व ब्लीडिंग
  • दांत में फोड़ा और कैविटी
  • जीभ मोटी व पीली होना व साथ में अल्सर
  • अत्यधिक प्यास लगना
  • टॉन्सिलाइटिस और गले में खराश व साथ में गले और टॉन्सिल में मवाद
  • तेज डकार

यह लक्षण रात में और नम मौसम में खराब हो जाते हैं।

पल्सेटिला प्रेटेंसिस
सामान्य नाम :
विंड फ्लॉवर
लक्षण : पल्सेटिला उन व्यक्तियों के लिए एक प्रभावशाली उपाय है जो स्वभाव से संवेदनशील होते हैं और आसानी से रोना आ जाता है। यह निम्नलिखित लक्षणों के साथ मुंह से दुर्गंध के उपचार में मदद करता है :

  • लार में हल्का मीठा स्वाद व बदबू
  • प्यास की कमी के साथ मुंह में सूखापन; इस स्थिति में रोगी अपने मुंह को अक्सर धोता रहता है
  • भोजन का स्वाद कड़वा आना, विशेषकर रोटी में
  • बार-बार चक्कर आना
  • मुंह का स्वाद बार बार बदलना जैसे कभी कड़वा या ​कभी नमकीन लगना
  • होंठ सूखना; रोगी बार-बार अपने होंठ को चाटता है
  • जीभ पर सफेद या पीले रंग की परत और बलगम जमा होना

यह लक्षण शाम, वसायुक्त भोजन करने और बाईं ओर लेटने से बदतर हो जाते हैं जबकि ठंडा भोजन और पेय का सेवन करने पर इनमें सुधार होता है।

पाइरोजेनियम
सामान्य नाम :
आर्टिफिशियल सेप्सिन
लक्षण : निम्नलिखित लक्षणों के मामले में पाइरोजेन फायदेमंद है :

  • तेज बुखार, टाइफाइड
  • संक्रमण और घाव का सड़ना
  • बेचैनी और नाड़ी की दर तेज होना
  • मुंह में मवाद जैसा स्वाद आना
  • मतली और उल्टी
  • चिटकी और सूखी हुई जीभी जो चिकनी और लाल दिखाई देती है
  • गला सूखना और बात करने में कठिनाई होना

सीपिया ऑफिसिनैलिस
सामान्य नाम :
इंकी जूस ऑफ कटलफिश
लक्षण : यह उपाय उन लोगों में अच्छा असर करता है, जिनमें कमजोरी और आसानी से बेहोश होने की प्रवृत्ति होती है। इसके अलावा यह निम्नलिखित लक्षणों से भी राहत प्रदान करता है :

  • सांसों की बदबू व साथ में जीभ पर सफेद कोटिंग होना, जो कि मासिक धर्म के बाद साफ हो जाती है
  • मुंह में नमकीन स्वाद आना
  • जीभ और मुंह के अंदर ऊपर की ओर दर्द, जैसे कि वहां जल गया हो
  • निचले होंठ में सूजन और फटना
  • जीभ, मुंह और गले में सूखापन

यह लक्षण शाम को और ठंडी हवा के संपर्क में आने पर खराब हो जाते हैं, जबकि सोने और व्यायाम करने के बाद इनमें सुधार होता है।

होम्योपैथिक दवाइयां प्राकृतिक पदार्थों से तैयार की जाती हैं। इनका इस्तेमाल करने से पहले इन्हें अत्यधिक घुलनशील रूप दिया जाता है। यह सुनिश्चित करने के लिए कि होम्योपैथिक दवाओं का असर प्रभावित न हो, इसके लिए जीवनशैली की कुछ आदतों में बदलाव करने और उचित आहार को अपने रूटीन में शामिल करने की जरूरत है। होम्योपैथिक चिकित्सक तेज सुधार के लिए दवाओं के साथ निम्नलिखित परिवर्तनों की सलाह देते हैं :

क्या करना चाहिए

  • अपनी मांसपेशियों को मजबूत रखने के लिए खुली हवा में सक्रिय गतिविधि करनी चाहिए
  • दैनिक सैर के लिए जाएं और अपनी मांसपेशियों को मजबूत करने के लिए हल्की गतिविधियां करें। ऐसे में कुछ व्यायाम भी मन को शांत करने में मदद करते हैं।
  • स्वस्थ और पौष्टिक खाद्य पदार्थों का सेवन करें।

क्या नहीं करना चाहिए

कुछ चीजें ऐसी भी हैं जो दवाओं के साथ प्रतिक्रिया कर सकते हैं, इनसे बचा जाना चाहिए :

  • कमरे में तेज सुगंधित फूल
  • दांतों में लगाए जाने वाले औषधीय गुण वाले पाउडर और माउथवॉश
  • सुगंधित पाउच
  • मौसमी खाने और सॉसेज
  • तेज महक वाले खाद्य और पेय जैसे कॉफी, जड़ी बूटी की चाय, औषधीय मसाले और मसाले वाली चॉकलेट से तैयार शराब
  • जमी हुई चीजें जैसे आइसक्रीम का सेवन नहीं करना चाहिए
  • कच्ची जड़ी-बूटियां और व्यंजन जो इन जड़ी बूटियों से होते हैं या बनाए जाते हैं
  • दोपहर में लंबी झपकी लेना अधिक नुकसानदायक हो सकती है, इसलिए जहां तक संभव हो इससे बचना चाहिए।
  • मानसिक तनाव से बचें।

यह माना जाता है कि सामान्य आबादी के 50 प्रतिशत से अधिक लोग सांसों की दुर्गंध से पीड़ित हैं। ज्यादातर मामलों में कैविटी की वजह से दुर्गंध की समस्या होती है, जबकि गैर-मौखिक कारणों में गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल, श्वसन और मूत्र प्रणाली के विकार शामिल हैं। लगभग एक प्रतिशत रोगियों में यह समस्या किसी ड्रग्स या आहार की वजह से होती है।

हैलिटोसिस चिंता और सामाजिक शर्मिंदगी का कारण बन सकता है। ऐसे मरीज जिन्हें सांस की बदबू लंबे समय से है, अक्सर उन्हें पारंपरिक दवाओं के लगातार उपयोग से मनचाहे परिणाम नहीं मिलते हैं और न ही उन्हें स्थायी समाधान मिलता है। होम्योपैथी उपचार गहराई से स्थिति को ठीक करता है और दोबारा समस्या को ट्रिगर होने से रोकता है। यह एक सरल और सुरक्षित तरीका है, इसका कोई दुष्प्रभाव नहीं है।

इंटरनेशनल जर्नल ऑफ ओरल हेल्थ एंड मेडिकल रिसर्च में एक समीक्षा लेख प्रकाशित हुआ, जिसमें दंत चिकित्सा में होम्योपैथिक अनुप्रयोगों की प्रभावकारिता को संक्षेप में प्रस्तुत किया गया। लेख के अनुसार, होम्योपैथी उन रोगियों के लिए सहायक है जो आधुनिक उपचार लेने में हिचकते हैं या पारंपरिक उपचार से फायदा नहीं होता है।

होम्योपैथिक दवाएं पौधों और खनिजों जैसे प्राकृतिक पदार्थों से तैयार की जाती हैं। इन दवाइयों की खुराक कम मात्रा में ली जाती है और यह घुलनशील होती है। एक योग्य चिकित्सक रोगी के मानसिक और शारीरिक स्थिति को ध्यान में रखते हुए दवाइयों का निर्धारण करते हैं। इसलिए, ये सुरक्षित हैं और इनका कोई साइड इफेक्ट नहीं हैं। हालांकि, यह महत्वपूर्ण है कि व्यक्ति होम्योपैथिक उपचार शुरू करने से पहले किसी योग्य होम्योपैथिक चिकित्सक से सलाह जरूर लें।

हैलिटोसिस या सांसों की बदबू की समस्या विभिन्न मौखिक और गैर-मौखिक स्थितियों के कारण हो सकती है। आमतौर पर पारंपरिक उपचार मुंह से दुर्गंध का स्थायी इलाज करने में असमर्थ हैं, जबकि होम्योपैथी न सिर्फ स्थिति को जड़ से ठीक कर सकती है बल्कि यह सभी उम्र के लोगों के लिए सुरक्षित है। 

और पढ़ें ...

References

  1. Bahadır Uğur Aylıkcı, Hakan Çolak. Halitosis: From diagnosis to management. 2013 Jan-Jun; 4(1): 14–23. PMID: 23633830
  2. William Boericke. Homoeopathic Materia Medica. Kessinger Publishing: Médi-T 1999, Volume 1 Homoeopathic Materia Medica
  3. Wenda Brewster O’Reilly. Organon of the Medical art by Wenda Brewster O’Reilly . B jain; New Delhi
  4. Better health channel. Department of Health and Human Services [internet]. State government of Victoria; Halitosis or bad breath
  5. The European Comittee for Homeopathy. Benefits of Homeopathy. Belgium; [Internet]
ऐप पर पढ़ें