myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

एपस्टीन-बार वायरस क्या है?

एपस्टीन-बार एक वायरस है, जिसकी वजह से मोनोन्यूक्लिओसिस की समस्या होती है। एपस्टीन-बार का उपनाम है 'मोनो', इसे 'किसिंग डिजीज' के नाम से भी जाना जाता है, क्योंकि ये बीमारी किस करने से ही एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलती है। कई लोगों को यह वायरस होने पर बीमारी का एहसास नहीं होता है।

एपस्टीन-बार वायरस के लक्षण

निम्नलिखित लक्षणों से एपस्टीन-बार वायरस के संकेतों को पहचाना जा सकता है:

इस बीमारी से ग्रसित व्यक्ति दो से चार हफ्ते में बेहतर महसूस करने लगता है, लेकिन हो सकता है कि करीब दो माह तक थकान महसूस होती रहे। 

एपस्टीन-बार वायरस का कारण

यह वायरस लार में पाया जाता है, जो किसी संक्रमित व्यक्ति को किस करने से फैल सकता है। 

  • अन्य कारण में एक ही बर्तन में साथ खाना-पीना शामिल है। 
  • यदि संक्रमित व्यक्ति का टूथब्रश इस्तेमाल करें, तो इस स्थिति में भी यह वायरस फैल सकता है। 
  • चूंकि यह वायरस खून और वीर्य में भी पाया जाता है, इसलिए संभव है कि सेक्स करने या अंग प्रत्यारोपण से भी यह फैल जाए।

एपस्टीन-बार वायरस का इलाज

अन्य वायरस की तरह इसे एंटीबायोटिक के जरिए ठीक नहीं किया जा सकता है। एपस्टीन-बार कुछ सप्ताह में अपने आप ही ठीक हो जाता है। प्रभावित व्यक्ति इसके लक्षणों को कम करने के लिए निम्न तरीके अपना सकते हैं:

ईबीवी की वजह से कई तरह की समस्याएं हो सकती हैं। यदि किसी व्यक्ति को ईबीवी संक्रमण के लक्षण दिखाई देते हैं तो उसे डॉक्टर के पास जाकर चेकअप कराने की जरूरत है।

  1. एपस्टीन-बार वायरस (लार से फैलने वाली बीमारी) के डॉक्टर
Dr. Neha Gupta

Dr. Neha Gupta

संक्रामक रोग

Dr. Lalit Shishara

Dr. Lalit Shishara

संक्रामक रोग

Dr. Alok Mishra

Dr. Alok Mishra

संक्रामक रोग

क्या आप या आपके परिवार में किसी को यह बीमारी है? सर्वेक्षण करें और दूसरों की सहायता करें

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें