बार-बार पेशाब आने की समस्या के कई कारण हो सकते हैं, जैसे कि यूरिन इन्फेक्शन, पथरी, डायबिटीज आदि. अधिकतर मामलों में बार-बार पेशाब आने की समस्या का कारण यूरिन ट्रैक्ट इन्फेक्शन होना है. कमर के निचले हिस्से में दर्द रहना इस समस्या का लक्षण हो सकता है. ऐसे में चंद्रप्रभा वटी जैसी आयुर्वेदिक दवाएं बार-बार पेशाब आने की समस्या या यूरिन इन्फेक्शन में फायदेमंद हो सकती हैं.

आज लेख में हम बार-बार पेशाब आने की आयुर्वेदिक दवा के बारे में जानेंगे -

(और पढ़ें - बार बार पेशाब आने के घरेलू उपाय)

  1. बार-बार पेशाब आने की समस्या के लिए आयुर्वेदिक दवा
  2. सारांश
बार-बार पेशाब आने की आयुर्वेदिक दवा के डॉक्टर

डायबिटीज, किडनी स्टोन व हाई ब्लड प्रेशर ऐसे कारणों की वजह से बार-बार पेशाब आने की समस्या हो सकती है. इस समस्या की वजह से हर समय ब्लैडर भरा हुआ लगना या यूरिनेशन के समय ब्लड आना जैसे लक्षण भी दिख सकते हैं. ऐसे में डॉक्टर की सलाह पर प्रवला भस्म जैसी दवाइयों का सेवन बार-बार पेशाब आने में आराम दे सकता है. आइए, बार-बार पेशाब आने की आयुर्वेदिक दवाओं के बारे में जानते हैं विस्तार से -

अमृतादि क्वाथ - Amrutadi Kwatha

अमृतादि क्वाथ एक प्रकार का काढ़ा है, जिसे गुडुचीअश्वगंधा, आमलकी, गोक्षुरा व अन्य सामग्रियों के जरिए तैयार किया जा सकता है. पेशाब में आने वाली रुकावट, यूटीआई और यूरिनरी स्टोन जैसी स्थिति में इस दवाई का सेवन करने से काफी आराम मिल सकता है.

(और पढ़ें - महिलाओं में पेशाब रोक न पाने की समस्या के उपाय)

प्रवला भस्म - Pravala Bhasma

प्रवला भस्म दवा का सेवन यूरिन इंफेक्शन, बार-बार पेशाब आना और वजाइनल इंफेक्शन जैसी समस्याओं को कम कर सकता है. साथी यह दवा कुछ केस में श्वसन संबंधी समस्या में भी फायदेमंद हो सकती है. इस दवा का सेवन शहद व दूध के साथ किया जा सकता है.

(यहां से खरीदें - प्रवला भस्म)

चंद्रप्रभा वटी - ChandraPrabha Vati

चंद्रप्रभा वटी बहुत सारी यूरो जेनिटल स्थितियों जैसे ​डिस्यूरिया व यूरिनरी इंफेक्शन को ठीक करने में प्रभावी होती है. ये त्रिकटुपिप्पलीत्रिफला व शतावरी जैसे हर्ब्स से मिलकर बनी है. साथ ही इस दवा का सेवन यूरो जेनिटल बीमारियों के कारण होने वाली सर्जरी के साइड इफेक्ट्स से राहत भी दे सकता है.

(यहां से खरीदें - चंद्रप्रभा वटी)

एलादि चूर्ण - Eladi Churna

एलादि चूर्ण बार-बार पेशाब आना व हर समय ब्लैडर का भरा लगना जैसी समस्याओं के इलाज में फायदेमंद हो सकता है. यह दवा ट्वाक, पिप्पली और शुगर जैसी जड़ी-बूटी से मिलकर बनी है. इस चूर्ण का सेवन शहद में मिला कर एक पेस्ट की तरह कर सकते हैं.

(यहां से खरीदें - एलादि चूर्ण)

तारकेश्वर रस - Tarkeshwar Rasa

तारकेश्वर रस यूरिन इंफेक्शन से जुड़ी सभी समस्याओं के लिए एक बेहतरीन औषधि है. इसे हरताल भस्म के जरिए तैयार किया जाता है. इसमें पुनर्नवा जूस के फॉर्मुलेशन का भी प्रयोग होता है. इसे गाउट और यूटीआई जैसी स्थिति में प्रयोग किया जा सकता है. आप इसका सेवन शहद में मिलाकर पेस्ट बनाकर कर सकते हैं.

(यहां से खरीदें - तारकेश्वर रस)

बार-बार पेशाब आने की समस्या ओवरएक्टिव ब्लैडर या अन्य शारीरिक स्थितियों के कारण हो सकती है. कमर के निचले हिस्से में दर्द, हर समय ब्लैडर का भरा लगना, यूरिन में ब्लड का आना उसके कुछ लक्षण हैं. इस समस्या को तारकेश्वर रस व एलादि चूर्ण जैसी आयुर्वेदिक दवाओं से ठीक किया जा सकता है. बेहतर यही होगा कि किसी भी तरह की दवा के सेवन से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें.

(और पढ़ें - पेशाब न रोक पाने की होम्योपैथिक दवा)

Dr. Gourav Vashishth

Dr. Gourav Vashishth

आयुर्वेद
5 वर्षों का अनुभव

Dr. Anil Sharma

Dr. Anil Sharma

आयुर्वेद
8 वर्षों का अनुभव

Dr. Prerna Choudhary

Dr. Prerna Choudhary

आयुर्वेद
6 वर्षों का अनुभव

Dr. Satpal

Dr. Satpal

आयुर्वेद
24 वर्षों का अनुभव

ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ