केराटोमेलेशिया - Keratomalacia in Hindi

Dr. Ajay Mohan (AIIMS)MBBS

October 22, 2020

January 20, 2021

केराटोमेलेशिया
केराटोमेलेशिया

केराटोमेलेशिया आंख से जुड़ी स्थिति है, जिसमें कॉर्निया, आंख के सामने का हिस्सा मुलायम और क्लाउडी (धुंधला) हो जाता है। आमतौर पर इसमें दोनों आंखें प्रभावित होती हैं। आंखों से संबंधित यह रोग अक्सर जीरोपथलमिया के रूप में शुरू होता है, जिसमें कॉर्निया और कंजंक्टिवा में गंभीर रूप से सूखापन आ जाता है।

कंजंक्टिवा एक पतली श्लेष्मा झिल्ली है जो पलक के अंदर होती है और आपके आई बॉल के सामने के हिस्से को कवर करती है। एक बार जब कंजंक्टिवा सूख जाता है, तो यह मोटा हो जाता है और इसमें झुर्रियां पड़ जाती हैं।

यदि केराटोमेलेशिया का इलाज नहीं किया जाता है, तो कॉर्निया के नरम होने से संक्रमण, टूटना और ऊतकों में बदलाव हो सकता है, जिसकी वजह से अंधेपन की समस्या हो सकती है। केराटोमेलेशिया को जेरोटिक केराटाइटिस और कॉर्नियल मेल्टिंग के रूप में भी जाना जाता है।

(और पढ़ें - जानें दृष्टिवैषम्य के बारे में)

केराटोमेलेशिया के संकेत और लक्षण क्या हैं? - Keratomalacia Symptoms in Hindi

केराटोमेलेशिया के संकेत और लक्षणों में शामिल हैं :

केराटोमेलेशिया का निदान कैसे किया जाता है? - Keratomalacia Diagnosis in Hindi

केराटोमेलेशिया के निदान में डॉक्टर विटामिन ए की कमी का पता करने के लिए आंखों की जांच और ब्लड टेस्ट कर सकते हैं। इसके अलावा इलेक्ट्रोरेटिनोग्राफी का उपयोग करके भी केराटोमेलेशिया का निदान किया जा सकता है। इलेक्ट्रोरेटिनोग्राफी (ईआरजी) को इलेक्ट्रोरेटिनोग्राम नाम से भी जाना जाता है। यह एक ऐसा नैदानिक परीक्षण है, जिसमें रोशनी के प्रति संवेदनशील कोशिकाओं की विद्युत प्रतिक्रिया को मापा जाता है।

(और पढ़ें - आंखों से पानी आना)

केराटोमेलेशिया के लिए जोखिम कारक क्या हैं? - Keratomalacia Risk Factor in Hindi

जिन लोगों में केराटोमेलेशिया के विकास का जोखिम होता है, उन्हें दो समूहों में बाटा जा सकता है : पहला, जिन लोगों के आहार में विटामिन ए की कमी है और दूसरा, ऐसे लोग जिनके आहार में विटामिन ए होने की बावजूद उसे अवशोषित नहीं कर सकते हैं :

ऐसे लोग जो कम मात्रा में विटामिन ए का सेवन करते हैं उनमें शामिल हैं :

  • शिशु और छोटे बच्चे जो आर्थिक परेशानियों से जूझ रहे हैं
  • ऐसे लोग, विशेषकर बच्चे, जो कुपोषण का शिकार हैं
  • ऐसे लोग, विशेष रूप से बच्चे, जो विकासशील देशों में रहते हैं

जिन लोगों को विटामिन ए अवशोषित करने में कठिनाई होती है उनमें शामिल हैं :

केराटोमेलेशिया का कारण क्या है? - Keratomalacia Causes in Hindi

केराटोमेलेशिया विटामिन ए की कमी के कारण होता है। हालांकि, अभी तक यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि यह स्थिति आहार में विटामिन ए की कमी से होती है या विटामिन ए को अवशोषित न कर पाने की वजह से।

केराटोमेलेशिया एक व दोनों आंखों को प्रभावित कर सकता है। आमतौर पर यह ऐसे विकासशील देशों में होता है, जहां की आबादी के आहार में विटामिन ए या प्रोटीन की कमी होने के साथ ही कैलोरी की कमी होती है।

केराटोमेलेशिया और जेरोफथैल्मिया के बीच क्या अंतर है? - Keratomalacia and Xerophthalmia Difference in Hindi

केराटोमेलेशिया एक प्रगतिशील (लगातार बढ़ने वाली) बीमारी है, जो जेरोफथैल्मिया के रूप में शुरू होती है, यह विटामिन ए की कमी के कारण होता है। यदि इस स्थिति का इलाज नहीं किया जाए, तो यह केराटोमेलेशिया का रूप ले सकता है। इसमें आंखों में असामान्य रूप से सूखापन हो जाता है। हालांकि, यह स्थिति कंजंक्टिवा के सूखापन के साथ शुरू होती है, जिसे 'कंजंक्टिवल जेरोसिस' भी कहा जाता है। बाद में यह कॉर्निया में सूखापन का कारण बनता है।



केराटोमेलेशिया के डॉक्टर

Dr. Meenakshi Pande Dr. Meenakshi Pande ऑपथैल्मोलॉजी
22 वर्षों का अनुभव
Dr. Upasna Dr. Upasna ऑपथैल्मोलॉजी
7 वर्षों का अनुभव
Dr. Akshay Bhatiwal Dr. Akshay Bhatiwal ऑपथैल्मोलॉजी
1 वर्षों का अनुभव
Dr. Surbhi Thakare Dr. Surbhi Thakare ऑपथैल्मोलॉजी
2 वर्षों का अनुभव
डॉक्टर से सलाह लें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ