myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत
संक्षेप में सुनें

सोरायसिस एक त्वचा विकार है जिसमें त्वचा पर लाल, परतदार चकत्ते दिखाई देते हैं। सोरायसिस एक संक्रामक रोग नहीं है। यह एक बार बार होने वाली बीमारी है जो कि समय के साथ बदतर और बदतर हो सकती है। सोरायसिस को एक ऑटोइम्यून प्रतिक्रिया से चिह्नित किया गया है। शरीर के इम्यून सिस्टम यानी रोग प्रतिरोधक प्रणाली की गड़बड़ी को इसका कारण माना जाता है। हमारी त्वचा पुरानी कोशिकाओं को बदलने के लिए और नई कोशिकाओं का निर्माण करने में लगभग 28 दिनों का समय लेती है, लेकिन सोरायसिस से पीड़ित लोगों की त्वचा सिर्फ 4-5 दिनों में नई कोशिकाओं का उत्पादन करती है। इससे कोशिकाओं का जमना शुरू हो जाता है। यह अंततः त्वचा पर लाल, शुष्क और खुजली वाले पैच का कारण बनती हैं।

(और पढ़ें - चर्म रोग का इलाज)

  1. सोरायसिस (छाल रोग) के लक्षण - Psoriasis Symptoms in Hindi
  2. सोरायसिस (छाल रोग) के कारण - Psoriasis Causes in Hindi
  3. सोरायसिस (छाल रोग) से बचाव - Prevention of Psoriasis in Hindi
  4. सोरायसिस (छाल रोग) का परीक्षण - Diagnosis of Psoriasis in Hindi
  5. सोरायसिस (छाल रोग) का इलाज - Psoriasis Treatment in Hindi
  6. सोरायसिस (छाल रोग) की आयुर्वेदिक दवा और इलाज
  7. सोरायसिस के घरेलू उपाय
  8. सोरायसिस की होम्योपैथिक दवा और इलाज
  9. सोरायसिस की दवा - Medicines for Psoriasis in Hindi
  10. सोरायसिस की दवा - OTC Medicines for Psoriasis in Hindi
  11. सोरायसिस के डॉक्टर

सोरायसिस (छाल रोग) के लक्षण - Psoriasis Symptoms in Hindi

सोरायसिस एक बार बार होने वाली बीमारी है जो आपकी त्वचा को प्रभावित करती है। त्वचा पर बहुत खुजली होती है और कभी-कभी कंडीशन अधिक खराब होकर त्वचा पर सूजन हो सकती है। कई बार आप दर्द भी महसूस कर सकते हैं। इसके परिणामस्वरूप त्वचा पर छोटे परतदार धब्बे, शुष्क, फटी त्वचा जिसमें से खून निकल सकता है। इसमें कई बार आपकी त्वचा पर छाले बनने लगते हैं। निरंतर खुजली की ज़रूरत बहुत परेशान कर सकती है। सोरायसिस जोड़ों को भी प्रभावित कर सकता है और जोड़ों में सूजन का कारण बन सकता है। सोरायसिस गठिया एक विकार है जिसमें जोड़ों में सूजन और दर्द होता है। इस विकार के कुछ मानसिक प्रभाव हो सकते हैं।

सोरायसिस (छाल रोग) के कारण - Psoriasis Causes in Hindi

  1. आनुवंशिकी है सोरायसिस के कारण - Genetic Causes of Psoriasis in Hindi
  2. सोरायसिस का कारण है प्रतिरक्षा प्रणाली - Psoriasis Related to Immune System in Hindi
  3. सोरायसिस का कारण बनता है बैक्टीरियल संक्रमण - Psoriasis Caused by Bacterial Infection in Hindi
  4. तनाव और आहार के कारण सोरायसिस - Psoriasis Due to Stress and Food in Hindi

आनुवंशिकी है सोरायसिस के कारण - Genetic Causes of Psoriasis in Hindi

आनुवंशिकी सोरायसिस के लिए सबसे लोकप्रिय कारण माना जाता है। यह माना जाता है कि अगर एक अभिभावक को सोरायसिस है, तो बच्चे को 15% तक इस रोग के विकास की संभावना रहती है। अगर दोनों माता-पिता को यह रोग है तो संतानों को 60% तक यह रोग हो सकता है।

सोरायसिस का कारण है प्रतिरक्षा प्रणाली - Psoriasis Related to Immune System in Hindi

प्रतिरक्षा प्रणाली एक असामान्य प्रतिक्रिया का अनुभव करती है जिसमें यह स्वस्थ त्वचा कोशिकाओं पर हमला करने लगती है। हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली आमतौर पर वायरस और जीवाणुओं पर हमला करने के लिए जिम्मेदार होती है, लेकिन अनेक कारणों से शरीर की रोग प्रतिरोधक शक्ति अपने ही शरीर के अंगो को हानि पंहुचाने लगती है और अनेक रोगों का कारण बनती है। इससे नई त्वचा कोशिकाओं का उत्पादन होता है जो स्केल पैच बनाने के लिए तैयार होते हैं।

सोरायसिस का कारण बनता है बैक्टीरियल संक्रमण - Psoriasis Caused by Bacterial Infection in Hindi

कभी-कभी, वायरल या बैक्टीरियल संक्रमण भी सोरायसिस के लिए एक कारण हो सकता है। कई बार त्वचा पर चोट लगाने के कारण चोट की जगह या उसके आस पास की जगह पर सोरायसिस हो सकता है। कुछ पर्यावरण स्थितियों में जीन का सक्रिय होना भी सोरायसिस के पीछे का एक कारण हो सकता है।

तनाव और आहार के कारण सोरायसिस - Psoriasis Due to Stress and Food in Hindi

आयुर्वेद में, यह माना जाता है कि बहुत अधिक असमान भोजन को एक साथ खाना (दही और मछली) दोष असंतुलन हो सकता है। इसलिए शहद, लहसुन, मूली, तेलयुक्त भोजन, समुद्री भोजन, खट्टा या मसालेदार भोजन, जंक फूड का अत्यधिक सेवन भी सोरायसिस का कारण हो सकता है। तनाव और मानसिक विकार भी सोरायसिस में एक प्रमुख भूमिका निभा सकते हैं। शराब और अत्यधिक धूम्रपान की अत्यधिक खपत से सोरायसिस बढ़ सकता है। कुछ दवाएं भी इसके पीछे का कारण हो सकती है।

सोरायसिस (छाल रोग) से बचाव - Prevention of Psoriasis in Hindi

सोरायसिस एक गैर संक्रामक त्वचा रोग है जिसके कारण का अभी तक ठीक से पता नहीं चला है। इस रोग से पीड़ित व्यक्ति की त्वचा पर लाल रंग की मोटी सतह उभरकर आती है। यह त्वचा पर लाल दाग-धब्बों के रूप में दिखने लगती है जिसमें काफी दर्द भी हो सकता है। सोरायसिस में हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली और ज्यादा कम करने लगती है, जिसके कारण पुरानी त्वचा हटे बिना अतिरिक्त नई त्वचा की कोशिकाएं उत्पन्न होती हैं। इससे मोटी लाल पैच की परतें बनने लगती हैं। आप कुछ कारगर उपायों से इस त्वचा विकार को कम कर सकते हैं।

  1. सोरायसिस में क्या खाएं - Food to eat in psoriasis in hindi
  2. सोरायसिस रोग में करें त्वचा की देखभाल - Skin care for psoriasis in hindi
  3. सोरायसिस का सफल इलाज है तनाव से दूरी - Stress management for psoriasis in hindi

सोरायसिस में क्या खाएं - Food to eat in psoriasis in hindi

इस समस्या में आपको हरी पत्तेदार सब्जियां, फलियां, दाल, फल, मछली आदि का उपभोग करना चाहिए। इन खाद्य पदार्थों में एंटी-इंफ्लेमेटरी (anti-inflammatory) गुण होते हैं और कुछ खाद्य पदार्थ फाइबर में समृद्ध होते हैं, जो शरीर की गंदगी बाहर निकालने में मदद करते हैं। आपको बहुत ज्यादा नमकीन भोजन के सेवन से बचना चाहिए। जंक फूड का सेवन बिलकुल नहीं करें और आसानी से पचने योग्य भोजन का सेवन करें। बहुत खट्टा खाना आपके लिए उचित नहीं है। अत्यधिक दही और उड़द की दाल के सेवन से बचें। शराब ना पिएं और धूम्रपान बिलकुल ना करें। स्वस्थ पोषण क्रिया का पालन करें।

सोरायसिस रोग में करें त्वचा की देखभाल - Skin care for psoriasis in hindi

अपनी त्वचा को विशेष रूप से सुरक्षित रखें। जब आपकी त्वचा के खुले हिस्से में कहीं कट लग जाता है, तो बैक्टीरिया और वायरस के प्रवेश के लिए रास्ता बन जाता है। अपनी त्वचा को सूखने नहीं दें, इसे स्वस्थ रखने के लिए मॉइस्चराइज़र का इस्तेमाल करें ताकि पूरे समय त्वचा में नमी बानी रहे। सोरायसिस में एक सुरक्षित सीमा तक सूरज की रोशनी में रहना अच्छा हो सकता है। (और पढ़ें - सोरायसिस में मदद करे बनाना पील)

सोरायसिस का सफल इलाज है तनाव से दूरी - Stress management for psoriasis in hindi

सोरायसिस में तनाव की एक प्रमुख भूमिका है। तनाव सोरायसिस त्वचा विकार के होने का कारण नहीं होता है पर सोरायसिस में तनाव होने पर सोरायसिस रोग बढ़ने का खतरा रहता है। आप अपनी स्थिति के बारे में अपने चिकित्सक से बात कर सकते हैं। आप अपने आपको उन गतिविधियों में व्यस्त रखेँ जो आपको मूड को अच्छा करें। इसके लिए आप योग और व्यायाम भी कर सकते हैं जो आपके शरीर में रक्त परिसंचरण में सुधार करेंगे। इससे त्वचा को स्वस्थ रखने में मदद मिलती है। (और पढ़ें - सिर में खुजली के लिए घरेलू उपचार)

सोरायसिस (छाल रोग) का परीक्षण - Diagnosis of Psoriasis in Hindi

सोरायसिस का निदान कैसे किया जाता है?

सोरायसिस के निदान के लिए दो परीक्षण आवश्यक हो सकतें हैं -

शारीरिक परीक्षण

अधिकांश डॉक्टर एक साधारण परीक्षण से सोरायसिस का निदान करते हैं। सोरायसिस के लक्षण आम तौर पर स्पष्ट और अन्य स्थितियों से अंतर करने में आसान होते हैं। जो समान लक्षण पैदा कर सकते हैं।

इस परीक्षण के दौरान, अपने चिकित्सक को सोरायसिस वाली त्वचा दिखाएं और यह भी बताएं कि क्या किसी भी परिवार के सदस्य को सोरायसिस हुआ है।

बायोप्सी

यदि लक्षण स्पष्ट नहीं हैं या डॉक्टर अपने संदेह निदान की पुष्टि करना चाहते हैं, तो वे त्वचा का एक छोटा सा नमूना ले सकते हैं। इसे बायोप्सी के रूप में जाना जाता है। त्वचा को एक प्रयोगशाला में भेजा जाता हैं, जहां माइक्रोस्कोप के नीचे इसकी जांच की जाती है। परिक्षण आपके सोरायसिस के प्रकार का निदान कर सकता है। यह अन्य संभावित विकारों या संक्रमणों का भी निदान कर सकता है।

अधिकांश बायोप्सी आपके डॉक्टर के कार्यालय में आपके अपॉइंटमेंट के दिन की जाती हैं। बायोप्सी को कम दर्दनाक बनाने के लिए डॉक्टर एक स्थानीय सुन्न करने वाली दवा का इस्तेमाल कर सकते हैं। जब परिणाम आ जाए, तो डॉक्टर आपके साथ निष्कर्षों और इलाज विकल्पों पर चर्चा करने के लिए एक अपॉइंटमेंट का अनुरोध कर सकते हैं।

सोरायसिस (छाल रोग) का इलाज - Psoriasis Treatment in Hindi

सोरायसिस के लिए इलाज कैसे करें?

सोरायसिस का कोई इलाज नहीं है। इलाज का उद्देश्य सूजन को कम करना, त्वचा कोशिकाओं के विकास को धीमा करना होता है। सोरायसिस इलाज की तीन श्रेणियां होती है -

  1. सामयिक उपचार
  2. प्रणालीगत दवाएं
  3. लाइट थेरेपी

सामयिक उपचार

हल्के से मध्यम सोरायसिस को कम करने के लिए क्रीम और मरहम को सीधे त्वचा पर लगाया जाता हैं।

सामयिक सोरायसिस के इलाज में शामिल हैं -

  1. सामयिक कॉर्टिकोस्टिरॉइड्स
  2. सामयिक रेटिनोइड
  3. एन्थ्रालिन
  4. विटामिन डी एनालॉग्स
  5. सैलिसिलिक एसिड
  6. मॉइस्चराइज़र

प्रणालीगत दवाएं

मध्यम से गंभीर सोरायसिस वाले लोग और वह लोग जिनपर अन्य इलाजों का असर नहीं हुआ है, उन्हें मौखिक या इंजेक्शन वाली दवाओं का उपयोग करने की आवश्यकता हो सकती है। इन दवाओं के बहुत से गंभीर दुष्प्रभाव होते हैं, इसलिए चिकित्सक आमतौर पर उन्हें कम समय के लिए लिखते हैं।

दवाओं में शामिल हैं -

  1. मेथोट्रेक्सेट
  2. साइक्लोस्पोरिन
  3. बायोलॉजिक्स
  4. रेटिनॉइड्स

लाइट थेरेपी

इसमें सोरायसिस के इलाज के लिए पराबैंगनी (यूवी) या प्राकृतिक प्रकाश का उपयोग होता है। सूरज की रोशनी उन अति सक्रिय सफेद रक्त कोशिकाओं को ख़तम करती है। जो स्वस्थ त्वचा कोशिकाओं पर हमला कर रहे हैं। और तेजी से सेल पैदा कर रहे हैं। हल्के से मध्यम सोरायसिस के लक्षणों को कम करने में यूवीए और यूवीबी दोनों प्रकाश उपयोगी हो सकते हैं।

मध्यम से गंभीर सोरायसिस वाले अधिकांश लोग इलाज के संयोजन से लाभान्वित होंते हैं। इस प्रकार के इलाज में लक्षणों को कम करने के लिए एक से अधिक प्रकार के इलाज का उपयोग हो सकता हैं। कुछ लोग एक ही इलाज को अपने पूरे जीवन में उपयोग कर सकते हैं। यदि उनकी त्वचा पर उपयोग होने वाले इलाज का असर ख़तम हो जाता है तो उन्हें कभी-कभी इलाज बदलने की ज़रूरत पड़ सकती है।

सोरायसिस के लिए दवा

यदि आपको माध्यम से गंभीर सोरायसिस है। या सोरायसिस पर अन्य इलाजों का असर होना बंद हो गया हो। तो डॉक्टर आपको मौखिक या इंजेक्शन के रूप में दवाइयां दे सकतें हैं।

सोरायसिस के इलाज के लिए इस्तेमाल की जाने वाली सबसे आम मौखिक और इंजेक्शन वाली दवाओं में शामिल हैं - 

  1. जीवविज्ञान (biologics) - दवाओं का यह वर्ग आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को बदलता है। इन दवाओं को इंजेक्शन के माध्यम से नसों में दिया जाता है।
  2. रेटिनोइड्स (retinoids) - ये दवाइयां त्वचा के सेल उत्पादन को कम करती हैं। एक बार जब आप उनका प्रयोग करना बंद कर देते हैं, तो सोरायसिस के लक्षण होने की संभावना हो सकती है। गर्भवती महिलाओं को या अगले तीन वर्षों में गर्भवती होने वाली महिलाओं को, संभावित जन्म दोषों के जोखिम के कारण रेटिनॉयड नहीं लेनी चाहिए।
  3. साइक्लोस्पोरिन (cyclosporine) - यह दवा प्रतिरक्षा प्रणाली की प्रतिक्रिया को रोकती है, जिससे सोरायसिस के लक्षण कम हो सकते है। इसका मतलब यह है कि अगर आप की प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर है, तो आप आसानी से बीमार हो सकते हैं। दुष्प्रभावों में किडनी की समस्याएं और उच्च रक्तचाप शामिल हैं।
  4. मेथोट्रेक्सेट (methotrexate) - साइक्लोस्पोरिन की तरह, यह दवा प्रतिरक्षा प्रणाली पर दबाव डालती है। कम खुराक इस्तेमाल होने पर इसका कम दुष्प्रभाव हो सकता है, लेकिन दीर्घ अवधि में यह गंभीर दुष्प्रभाव पैदा कर सकता है। इसमें लिवर की क्षति, लाल और सफेद रक्त कोशिकाओं का कम उत्पादन शामिल है।
Dr. Abhishek Mishra

Dr. Abhishek Mishra

डर्माटोलॉजी

Dr. Sheilly Kapoor

Dr. Sheilly Kapoor

डर्माटोलॉजी

Dr. Ramanjit Singh

Dr. Ramanjit Singh

डर्माटोलॉजी

सोरायसिस की दवा - Medicines for Psoriasis in Hindi

सोरायसिस के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

Medicine NamePack SizePrice (Rs.)
Sandimmun NeoralSANDIMMUN NEORAL 100MG CAPSULE 50S4039
SandimmunSANDIMMUNE NEORAL 25MG TABLET 5S0
PsoridPSORID 100MG CAPSULE404
BetnesolBETNESOL 0.1% EYE DROPS 5ML0
AerocortAEROCORT CFC FREE 200MD INHALER164
ConsiralConsiral 100 Mg Capsule472
AdapanAdapan 0.1% W/W Gel80
Candid GoldCANDID GOLD 30GM CREAM59
Exel GnExel Gn 0.05% W/W/0.5% W/W Cream41
Propyderm NfPROPYDERM NF CREAM 5GM60
CyclodropCYCLODROP EYE DROPS 5ML263
AdapenAdapen 0.1% W/W Gel106
Propygenta NfPROPYGENTA NF CREAM 20GM122
PropyzolePropyzole Cream0
CyrinCyrin 100 Mg Capsule0
AdaretAdaret 0.1% W/V Gel76
Propyzole EPropyzole E Cream0
ImudropsIMUDROPS DROP 0.5ML 12S356
AdeneAdene 0.1% Gel60
Canflo BnCanflo Bn 1%/0.05%/0.5% Cream34
Tenovate GnTenovate Gn Cream24
Toprap CToprap C Cream28
Imudrops DsImudrops Ds 0.5 Ml Eye Drop196
AdhibitAdhibit Gel60
Crota NCrota N Cream27

सोरायसिस की दवा - OTC medicines for Psoriasis in Hindi

सोरायसिस के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

OTC Medicine NamePack SizePrice (Rs.)
Baidyanath Talkeshwar RasBaidyanath Talkeshwar Ras Combo Pack Of 2100
Baidyanath Raktashodhak BatiBaidyanath Raktashodhak Bati Tablet114
Baidyanath Gandhak RasayanBaidyanath Gandhak Rasayan123
Patanjali Anti WrinklePatanjali Anti Wrinkle Cream135
Baidyanath Raktashodhak BatiBaidyanath Raktashodhak Tablets101
Himalaya Talekt SyrupHimalaya Talekt Syrup56
Baidyanath Surakta SyrupBaidyanath Surakta Syrup 100ml33
Hamdard Majun Musaffi KhasHamdard Majun Musaffi Khas65
Himalaya Talekt CapsulesHimalaya Talekt Capsules64
Divya Mahamanjisthadi Kwath (Pravahi)Divya Mahamanjishthadi Kwath (Pravahi)60
Baidyanath Rasmanikya RasBaidyanath Rasmanikya Ras155
Divya Neem Ghan VatiDivya Neem Ghan Vati72
Baidyanath Dadurin OintmentBaidyanath Dadurin Ointment40
Divya Somraaji TailaDivya Somraaji Taila48

क्या आप या आपके परिवार में किसी को यह बीमारी है? सर्वेक्षण करें और दूसरों की सहायता करें

References

  1. Merck Manual Consumer Version [Internet]. Kenilworth (NJ): Merck & Co. Inc.; c2018. Psoriasis.
  2. National Health Service [internet]. UK; Psoriatic arthritis
  3. National Health Service [Internet]. UK; Psoriasis
  4. National Psoriasis Foundation [Internet] reviewed on 10/23/18; Causes and triggers.
  5. American Academy of Dermatology. Rosemont (IL), US; Are triggers causing your psoriasis flare-ups?
  6. Whan B. Kim, Dana Jerome, Jensen Yeung. Diagnosis and management of psoriasis. Can Fam Physician. 2017 Apr; 63(4): 278–285. PMID: 28404701
  7. National Psoriasis Foundation [Internet] reviewed on 10/23/18; Life with Psoriasis.
  8. Gulliver W. Long-term prognosis in patients with psoriasis. Br J Dermatol. 2008 Aug;159 Suppl 2:2-9. PMID: 18700909
और पढ़ें ...