myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

त्वचा पर चिप्पी का होना कोई नई बात नहीं है। चिप्पी अक्सर किसी न किसी में देखने को मिल ही जाती है। कई बार तो यह शरीर में कई जगहों पर हो जाती है। लेकिन इसको लेकर परेशान होने की जरूरत नहीं है। चिप्पी किसी तरह से खतरनाक नहीं होती है। यह मुलायम और बाहर की ओर लटकती हुई चमड़ी होती है। आमतौर पर यह गर्दन, कमर के पास या छाती के आसपास होती है। चिप्पी पलकों और नितंबों जैसे शरीर के संवेदनशील अंगों में भी होती है। स्किन पर चिप्पी अपने आप हो जाती है। यह उस समय समस्या बनती है, जब यह बढ़ते-बढ़ते बहुत ज्यादा बढ़ जाती है और दिखने लगती है। ऐसे में यह शरीर की खूबसूरती को कम करती मालूम पड़ती है। अगर आपको भी शरीर की चिप्पी से समस्या है तो परेशान होने की जरूरत नहीं है। यहां हम आपको बताने जा रहे हैं कि किस तरह से आप त्वचा की चिप्पी से छुटकारा पा सकते हैं।

(और पढ़ें - त्वचा की देखभाल कैसे करें)

  1. त्वचा की चिप्पी को कब हटाना चाहिए - Twacha ki chippi ko kab hatana chahiye
  2. त्वचा पर चिप्पी के घरेलू उपाय - Twacha par chippi ke gharelu upchar
  3. इन परिस्थितियों में न अपनाएं घरेलू उपाय - In paristhitiyo me na apanaye gharelu upay

वैसे तो त्वचा की चिप्पी खतरनाक नहीं होती हैं लेकिन कुछ ऐसी स्थितियां होती हैं, जिनमें स्किन की चिप्पी को हटाना जरूरी हो जाता है, जैसे: 

  • कपड़े या गहने पहनने के कारण त्वचा में जलन हो रही हो।
  • धीरे-धीरे इसमें दर्द बढ़ता जा रहा हो।
  • त्वचा पर चिप्पियों की वजह से आपका आत्मविश्वास प्रभावित हो रहा हो।
  • त्वचा की चिप्पियों के कारण से आपकी खूबसूरती प्रभावित हो रही हो।

(और पढ़ें - रूखी त्वचा की देखभाल ऐसे करें)

कुछ ऐसी घरेलू सामग्रियां हैं, जिनका इस्तेमाल आप त्वचा की चिप्पियों को हटाने के लिए कर सकते हैं। लेकिन त्वचा के मामले में हमेशा इस बात का ख्याल रखें कि किसी भी सख्त या किसी ऐसी चीज का इस्तेमाल सीधे तौर पर त्वचा पर न करें, जिनसे त्वचा को नुकसान पहुंचने का खतरा हो। आपकी जानकारी के लिए यहां हम आपको कुछ ऐसे घरेलू सामग्रियों को बताने जा रहे हैं, जिन्हें आप बिना किसी खतरे के घर पर आजमा सकते हैं। 

त्वचा पर चिप्पी हटाने के लिए निम्नलिखित चीजों का करें इस्तेमाल:

नीचे हम एक-एक करके आपको इनके इस्तेमाल करने के तरीकों के बारे में विस्तार से बताने जा रहे हैं।

  1. चिप्पी हटाने के लिए चिप्पी तक खून के प्रवाह को रोकें - Chippi hatane ke liye vaha tak khoon ke pravah ko roke
  2. चिप्पी हटाने का तरीका है केला - Chippi hatane ka tarika hai kela
  3. चिप्पी हटाने के लिए है फायदेमंद है विटामिन ई - Vitamin E se hataye chippi
  4. त्वचा की चिप्पी हटाता है टी ट्री ऑयल - Tea tree oil hatata hai twacha ki chippi
  5. त्वचा की चिप्पी का घरेलू उपाय है लहसुन - Lahasun ke ishtemal se door kare twacha ki chippi
  6. स्किन टैग हटाने के लिए सेब का सिरका है फायदमंद - Skin tag hatane ke liye seb ka sirka hai fayademand

चिप्पी हटाने के लिए चिप्पी तक खून के प्रवाह को रोकें - Chippi hatane ke liye vaha tak khoon ke pravah ko roke

लोगों के बीच यह तरीका काफी प्रचलित है। इस तरीके में लोग किसी धागे से चिप्पी को जड़ से कसकर बांध देते हैं जिससे चिप्पी में खून का दौड़ान रुक जाता है। हम सब जानते हैं कि किसी भी सजीव चीज को जिंदा रहने के लिए पोषक तत्वों की जरूरत होती है। इसलिए चिप्पी तक खून न पहुंचने के कारण चिप्पी खुद ही सिकुड़ने लगती है और कुछ दिनों के बाद खुद ही कटकर गिर जाती है। 

आवश्यक सामग्री:

  • स्पिरीट या कोई एंटीसेप्टिक एस्ट्रिंजेन्ट
  • कोई धागा या सिल्क की पतली डोर

कैसे इस्तेमाल करें:

  • सबसे पहले तो चिप्पी के आसपास के क्षेत्र को स्पिरीट या किसी एंटीसेप्टिक से धो लें।
  • इसके बाद कोई धागा या रेशम की डोरी लें।
  • अब स्किन टैग को उसके जड़ के पास से कस के बांध दें।
  • इसे 3 से 6 दिनों तक के लिए बांध दें। 
  • इस दौरान आपको रोज-रोज धागे को कसना पड़े क्योंकि चिप्पी रोज साइज में घटती जाती है। 

ऐसा कब तक करें:
कुछ दिनों के बाद चिप्पी खुद ही गिर जाएंगी। तब तक इस प्रक्रिया को करते रहें। 

टिप: आमतौर पर तो त्वचा की चिप्पी दोबारा नहीं देखी जाती है। फिर भी आपके शरीर के किसी दूसरे हिस्से में फिर से चिप्पी हो सकती है।

(और पढ़ें - खून की कमी का इलाज)

चिप्पी हटाने का तरीका है केला - Chippi hatane ka tarika hai kela

आमतौर हम लोग केला खाने के बाद केले के छिलके को फेंक देते हैं। हमें लगाता है कि वह किसी काम का ही नहीं है। लेकिन जरा सोचिए, अगर आपको पता चले कि केले का छिलका आपकी त्वचा की चिप्पी को हटा सकता है तो आपको कितना आश्यर्य होगा। दरअसल केले के छिलके में प्रोटियॉलिटिक एंजाइम्स पाए जाते हैं। ये एंजाइम्स आपकी त्वचा की चिप्पी को ठीक कर सकते हैं। केले के छिलके ने बहुत ही सकारात्मक परिणाम दिए हैं। हालांकि त्वचा की चिप्पी के लिए केले के छिलके के फायदे का कोई स्थापित प्रमाण नहीं है। इसके अगर आप केले के छिलके का इस्तेमाल करना चाहते हैं तो यहां हम आपको इसके इस्तेमाल करने का तरीका बताने जा रहे हैं:

आवश्यक सामग्री:
केले का छिलका

कैसे इस्तेमाल करें:

  • त्वचा पर जितने क्षेत्र में चिप्पी को ढकना हो, उसके अनुसार केले का छिलका लें। 
  • केले के छिलके को चिप्पी वाले क्षेत्र पर रखें।
  • इस छिलके को रातभर वहां पड़ा रहने दें।
  • अगर आप चाहें तो केले के अंदर के अंदर के हिस्से को खुरचकर इसे त्वचा पर रातभर के लिए लगा सकते हैं।

ऐसा कब तक करें:
इस प्रक्रिया को लगभग एक सप्ताह तक या तब तक करें, जबतक कि चिप्पी पूरी तरह से ठीक न हो जाए।

(और पढ़ें - दूध के साथ केला खाने के फायदे)

चिप्पी हटाने के लिए है फायदेमंद है विटामिन ई - Vitamin E se hataye chippi

त्वचा की चिप्पी हटाने के लिए विटामिन ई से अधिक फायदेमंद कोई विटामिन नहीं माना जाता है। विटामिन ई का इस्तेमाल केवल कैप्सूल के रूप में ही नहीं बल्कि कई तरह से त्वचा के लिए भी किया जाता है। यहां तक कि विटामिन ई के इस्तेमाल के लिए आपको किसी एक्सपर्ट की भी जरूरत नहीं होगी। लेकिन आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि विटामिन ई के इस्तमाल से आप त्वचा की चिप्पी को हटा सकते हैं। यहां हम आपको बताने जा रहे हैं कि त्वचा की चिप्पी को किस तरह से हटाएं।

आवश्यक सामग्री:
विटामिन ई के कैप्सूल

कैसे इस्तेमाल करें:

  • सबसे पहले तो त्वचा की चिप्पी वाले स्थान को अच्छे से साफ कर लें।
  • इसके बाद एक विटमिन ई को कैप्शूल लें। 
  • इसमें एक छोटा सा छेंद कर लें।
  • अब त्वचा की चिप्पी पर एक-दो बूंद विटमिन ई को टपकाएं।
  • इस प्रक्रिया को दिन में कुछ बार इस्तेमाल करें।

इस प्रक्रिया को कबतक और कैसे करें:

  • ऐसा तब तक करें, जबतक कि त्वचा की चिप्पी पूरी तरह से ठीक न हो जाए।
  • ध्यान रहे कि विटमिन ई के तेल को इस्तेमाल करने पर आपको थोड़ी सी जलन हो सकती है।
  • अगर जलन अधिक होने लगे या फिर त्वचा लाल होने लगे तो इस प्रक्रिया को रोक दें।

(और पढ़ें - विटामिन ई की कमी के लक्षण)

त्वचा की चिप्पी हटाता है टी ट्री ऑयल - Tea tree oil hatata hai twacha ki chippi

त्वचा से संबंधित औषधियों की चर्चा के दौरान टी ट्री ऑयल की चर्चा न करना बेइमानी होगी। एरोमैटिक औषधिय तेल चाय के पौधों से तैयार किए जाते हैं। यह एक ऑस्ट्रेलियाई पौधा है। लेकिन इसकाम मतलब यह नहीं है कि आप इसे अपने यहां नहीं पा सकते हैं। घरेलू औषधियों में चाय ने अपना एक स्थान बना लिया है।

चाय के पौधे के तेल की सबसे खास बात यहा है कि हमारी त्वचा पर इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं होता है जिसके कारण दूसरी घरेलू औषधियों की अपेक्षा यह इस्तेमाल करने में आसान और अधिक सुरक्षित होता है। इसके अलावा लगातार इसका इस्तेमाल करने से त्वचा को कई बीमारियों से बचाया जा सकता है। यहां तक कि इसका इस्तेमाल लगातार करने से त्वचा पर चिप्पी होने से पहले ही रोका जा सकता है। यहां हम आपको बताने जा रहे हैं कि किस तरह से टी ट्री ऑयल से त्वचा की चिप्पी को हटाया जा सकता है। 

आवश्यक सामग्री:

  • टी ट्री ऑयल
  • ऐटीसेप्टिक

कैसे इस्तेमाल करें:

  • सबसे पहले तो चिप्पी के आसपास के क्षेत्र को एंटीसेप्टिक से साफ कर दें। 
  • इसके बाद एक कॉटन बाल पर 2-3 बूंद टी ट्री ऑयल ले लें। 
  • अब कॉटन बाल को चिप्पी पर कुछ मिनट तक लगाए रखें।

इस प्रक्रिया को कबतक करें:
ऐसा दिनभर में 3 बार करें और तब तक करें, जब तक कि त्वचा की चिप्पी से राहत न मिल जाए। चूंकि सभी ऑयल त्वचा पर इस्तेमाल के लिए पूरी तरह से सुरक्षित नहीं होते हैं। इसलिए किसी भी तेल का इस्तेमाल करने से पहले बोतल पर लिखे सुझाव को एक बार पढ़ लें। अतिरिक्त सुरक्षा के लिए 2-3 बूंद टी ट्री ऑयल में नारियल या बादाम जैसी चीजों के तेल को मिला कर उसका सांद्रण थोड़ा सा कम कर लें यानी तेल को थोड़ा सा पतला कर लें। 

(और पढ़ें - चर्म रोग के लक्षण)

त्वचा की चिप्पी का घरेलू उपाय है लहसुन - Lahasun ke ishtemal se door kare twacha ki chippi

लहसुन अपने आप में कई गुणों का खजाना है। लहसुन के फायदे गिनाने की बात आए तो लंबी लिस्ट तैयार हो जाए। लहसुन का इस्तेमाल सोरायसिस, मस्सा से लेकर त्वचा के कैंसर समेत तमाम बीमारियों में लहसुन का इस्तेमाल खूब होता है। हालांकि त्वचा की चिप्पी के मामले में लहसुन के इस्तेमाल के लिए अभी तक बहुत कम शोध हुए हैं। यहां हम आपको त्वचा की चिप्पी ठीक करने के लिए लहसुन के इस्तेमाल की तरकीब बताने जा रहे हैं: 

आवश्यक सामग्री: 
लहसुन

कैसे इस्तेमाल करें:

  • लहसुन के कुछ टुकड़े लें।
  • उनके छिलके उतार लें।
  • लहसुन को पीसकर अच्छे से पेस्ट तैयार कर लें।
  • अब इस पेस्ट को त्वचा की चिप्पी पर लगाएं।
  • ध्यान रहे कि लहसुन के इस पेस्ट को केवल चिप्पी पर ही लगाएं। चिप्पी के अलावा त्वचा पर न लगाएं।
  • लहसुन के पेस्ट को लगाकर 5 से 10 मिनट बाद उसे हटा दें। 

इस प्रक्रिया को कबतक करें:

  • इस प्रक्रिया को दिन में 2 से 3  बार करें।
  • ऐसा तबतक करें, जबतक कि त्वचा की चिप्पी पूरी तरह से मिट न जाए। 

इस बात का ख्याल रखें कि लहसुन जिस जगह लगाया जाता है, उस जगह पर जला सकता है, इसलिए लहसुन के पेस्ट को त्वचा पर इस्तेमाल करते समय सावधानी बरतने की जरूरत है। इस घरेलू नुस्खे को बहुत ज्यादा इस्तेमाल नहीं करना चाहिए क्योंकि इसके साइड इफेक्ट्स को घर पर नियंत्रित करना कठिन हो सकता है।

(और पढ़ें - खाली पेट लहसुन खाने के फायदे)

स्किन टैग हटाने के लिए सेब का सिरका है फायदमंद - Skin tag hatane ke liye seb ka sirka hai fayademand

त्वचा की चिप्पी को हटाने के लिए सेब के सिरके का एसिडीक नेचर काफी फायदेमंद है। सिरका वीक एसिड होता है। इसकी एसडिटी 4 से 8 परसेंट होती है। इतनी एसिडिटी त्वचा की चिप्पी को कुरेदने और उसे मिटाने के लिए पर्याप्त होती है। हालांकि इससे त्वचा पर जलन के साथ बुरे प्रभाव हो सकते हैं। स्टडी से पता चला है कि सेब के बिना डायलूट किये गये सिरके के इस्तेमाल से त्वचा को नुकसान हो सकता है। इसलिए अगर आप सेब के सिरके का इस्तेमाल त्वचा की चिप्पी को हटाने के लिए कर रहे हैं तो आपको थोड़ा सा सावधान रहने की जरूरत है। अगर सिरके के इस्तेमाल के दौरान आपको त्वचा पर किसी तरह का रिएक्शन दिखता है तो तुरंत सिरके का इस्तेमाल बंद कर दें। इसके बाद आगे के इस्तेमाल के लिए डॉक्टर से संपर्क करें। 

यहां हम आपको बताने जा रहे हैं कि सेब के सिरके का इस्तेमाल किस तरह से करें:

आवश्यक सामग्री:

कैसे इस्तेमाल करें:

  • किसी छोटी सी कटोरी में सिरका ले लें। 
  • रूई के बाल को सिरके में भिगो लें। 
  • इस सिरके में भीगे हुए रूई के बाल को चिप्पी पर लगाएं। 

इस प्रक्रिया को कबतक करें:

  • ऐसा हर रोज 2 से 3 बार करें। 
  • ऐसा तब तक करें, जबतक कि त्वचा की चिप्पी पूरी तरह से ठीक न हो जाए।

(और पढ़ें - सिरके के फायदे)

हालांकि यहां हम कुछ ऐसी स्थितियों को बताने जा रहे हैं, जब आपको घरेलू उपाय के जरिए त्वचा की चिप्पी को ठीक करने का प्रयास नहीं करना चाहिए। ऐसी स्थितियों में आपको किसी अच्छे डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। ये स्थितियां निम्नलिखित हैं:

  • चिप्पी आंख के आसपास के क्षेत्र में हो।
  • चिप्पी जननांग के आसपास हो।
  • चिप्पी या तो आकार में बहुत बड़ी हों या फिर किसी बड़े क्षेत्र को कवर कर रही हो। 
  • चिप्पी, जिसमें दर्द होता हो या फिर भीतर की ओर रक्तश्राव हो रहा हो। 

(और पढ़ें - रक्तस्राव के उपचार)  

और पढ़ें ...

References

  1. National Health Service [Internet]. UK; Skin tags.
  2. Stephanie Feldstein,Maryam Afshar,Andrew C. Krakowski. Chemical Bum from Vinegar Following an Internet-based Protocol for Self-removal of Nevi. J Clin Aesthet Dermatol. 2015 Jun; 8(6): 50. PMID: 26155328
  3. Nader Pazyar,Amir Feily. Garlic in dermatology. Dermatol Reports. 2011 Jan 31; 3(1): e4. PMID: 25386259
  4. Bagga S,Thomas Bs,Bhat M. Garlic burn as self-inflicted mucosal injury--a case report and review of the literature. Quintessence Int. 2008 Jun;39(6):491-4. PMID: 19057745
  5. Jimmy Jacks. Removing Skin Tags, Warts and Moles and Safely and Naturally. Lulu.com;2013. Page no 42