सिरका मुख्य रूप से 'एसिटिक' एसिड होता है। सिरके का स्वाद खट्टा होता है और गंध तीखी होती है। आजकल, इसे खाना पकाने में एक आम घटक के रूप में प्रयोग किया जाता है, लेकिन ऐतिहासिक रूप से इसका उपयोग दवा के रूप में किया जाता था।

सिरका को अंग्रेजी में विनेगर (Vinegar) कहते हैं। यह नाम फ्रांसीसी शब्द 'विन' और 'ऐग्रे' से मिल कर बना है, जिसका अर्थ है खट्टी शराब। यह मुख्यतः सेब द्वारा उत्पादित की जाती है, जिसे लोकप्रिय सेब साइडर सिरका के रूप में जाना जाता है, लेकिन अब इसे बीयर, गन्ना, चावल, माल्टा, नारियल, खजूर, किशमिश, शहद और कीवी से भी बनाया जाता है।

(और पढ़ें - गन्ने के जूस के फायदे)

  1. सिरके के फायदे - Vinegar Benefits in Hindi
  2. सिरके के नुकसान - Vinegar Side Effects in Hindi

राष्ट्रीय पोषक तत्व डेटाबेस के अनुसार, 100 ग्राम सिरके में 94 ग्राम पानी, 21 किलो कैलोरी ऊर्जा, 1 ग्राम कार्बोहाइड्रेट, 0.4 ग्राम चीनी, 7 मिलीग्राम कैल्शियम, 0.2 मिलीग्राम लोहा होता है। इसके अलावा इसमें 5 मिलीग्राम मैग्नीशियम, 8 मिलीग्राम फॉस्फोरस, 73 मिलीग्राम पोटेशियम, 5 मिलीग्राम सोडियम और 5 ग्राम एसिटिक एसिड भी होता है।

सिरके के कुछ स्वास्थ्य लाभों में मधुमेह नियंत्रण, रक्तचाप नियंत्रण और कीड़े का डंक के लिए प्राथमिक चिकित्सा शामिल है। यह शरीर के एसिड-क्षारीय संतुलन को बेहतर बनाने में भी मदद करता है एवं साथ ही साथ अपने एंटीबायोटिक गुणों में परिपूर्ण होने के कारण कैंसर को नियंत्रित करता है और मौखिक बैक्टीरिया से बचाता है। तो आइये जानते हैं सिरके से होने वाले लाभों के बारे में-

(और पढ़ें - हाई बीपी के लिए योग)

सिरके के फायदे हैं डायबिटीज में उपयोगी - Vinegar for Diabetes in Hindi

सिरका मधुमेह रोगियों के लिए बहुत ही उपयोगी होता है। टाइप 2 डायबिटीज पर इसके प्रभाव देखने के लिए एक परीक्षण किया गया था। शोध से पता चला है कि मधुमेह के रोगियों में इंसुलिन पर इसका एक उत्तेजक प्रभाव था और इंसुलिन प्रतिरोधी लोगों के मामले में, इससे इंसुलिन संवेदनशीलता को बढ़ाने में मदद मिली। बिस्तर पर जाने से पहले 2 चम्मच सिरके के सेवन से टाइप 2 डायबिटीज के रोगियों की स्थिति में सुधार हो सकता है। 

(और पढ़ें - डायबिटीज का आयुर्वेदिक इलाज

सिरके का सेवन करे वजन कम - Vinegar for Weight loss in Hindi

सिरके का सेवन भी तृप्ति (खाने का सेवन न करने की इच्छा) के स्तर को बढ़ाता है, जो वजन के नियंत्रण में इसकी उपयोगिता को दर्शाता है। तृप्ति के स्तर से पता चलता है कि लोग अपनी भूख को संतुष्ट करने के लिए कितना भोजन खाते हैं।

(और पढ़ें - वजन कम करने के लिए डाइट)

डबल-ब्लाइंड क्लीनिकल स्टडी के अनुसार, सिरके के सेवन से शरीर का वजन, बॉडी फैट मास और मोटे जापानियों में सीरम ट्राइग्लिसराइड का स्तर कम पाया गया। इसलिए सिरके का दैनिक रूप से सेवन मोटापे को कम करके चयापचय सिंड्रोम की रोकथाम में मददगार हो सकता है। इससे सीरम एचडीएल के स्तर में भी वृद्धि हुई और ट्राइग्लिसराइड्स और एलडीएल में कमी पाई गई है। इसलिए दैनिक रूप से सिरके का सेवन वजन को कम करने में लाभकारी हो सकता है। 

(और पढ़ें - मोटापा कम करने के लिए क्या खाना चाहिए)

सिरके के लाभ हैं कोलेस्ट्रॉल में फायदेमंद - Vinegar Good for Cholesterol in Hindi

इसकी जाँच हेतु चूहों को 19 दिनों के लिए सेब के सिरके का सेवन कराया गया था, जिसके कारण कुल कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड के स्तर में भारी कमी पाई गई। सिरका में मौजूद क्लोरोजेनिक एसिड (Chlorogenic Acid) नामक एक एंटीऑक्सिडेंट एलडीएल कोलेस्ट्रॉल पार्टिकल को ऑक्सीकरण से बचा सकता है, जिससे एलडीएल के स्तर और कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद मिलती है।

जानवरों में, सेब का सिरका हीमोग्लोबिन ए 1 सी (एचबीए 1 सी) को काफी कम कर देता है और साथ ही साथ कम घनत्व वाले लिपोप्रोटीन (एलडीएल) कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड्स को कम करता है और उच्च घनत्व वाले लिपोप्रोटीन (एचडीएल) कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाता है। 

(और पढ़ें - हाई कोलेस्ट्रॉल कम करने के घरेलू उपाय)

सिरके के फायदे उठाएं एंटी एजिंग के लिए - Vinegar for Anti Aging in Hindi

कई संस्कृतियों में, सिरके को प्रतिरक्षा में सुधार लाने के बारे में और लंबे जीवन एवं ताकत के लिए जाना जाता था। चूहों पर किये गए टेस्ट के अनुसार, काफी उत्साहजनक परिणाम दिखाए गए हैं। इसके अलावा अगर सिरके को प्याज के रस के साथ मिलाकर चेहरे के निशानों पर लगाया जाए तो यह कुछ ही दिनों में निशानों को हल्का कर सकता है। 

(और पढ़ें - एजिंग के लक्षणों को कम करने के आयुर्वेदिक उपाय

सिरके का प्रयोग रखे ह्रदय को स्वस्थ - Vinegar for Heart Health in Hindi

एक अध्ययन के मुताबिक, तेल और सिरके से तैयार सलाद के सेवन (सप्ताह में पांच से छह दिन या उससे ज्यादा) से महिलाओं में हृदय रोग के जोखिम को कम किया जा सकता है। सिरका में मौजूद एसिटिक एसिड उच्च रक्तचाप को कम करने के लिए जाना जाता है। अध्ययनों में यह भी बताया गया है कि सिरके ने गैर-उच्च रक्तचाप वाले चूहों में रेनिन-एंजियोटेंसिन प्रणाली (हार्मोन सिस्टम) को बाधित किया था।

(और पढ़ें - सलाद खाने के फायदे)

रेनिन-एंजियोटेनसिन प्रणाली पर सिरका के प्रभावों की जांच करने वाले परीक्षण मनुष्यों पर अभी नहीं किए गए हैं और इसका कोई भी वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है कि सिरका का सेवन मनुष्यों में रक्तचाप को बदलता है। यह निर्धारित करने के लिए और अधिक शोध की आवश्यकता है। 

(और पढ़ें - हृदय को स्वस्थ रखने के लिए आहार

सिरके का उपयोग करें जेलीफ़िश के डंक का इलाज - Vinegar Treat Jellyfish Stings in Hindi

जेलीफ़िश को इस ग्रह पर सबसे अधिक विषैले जीवों में से एक माना जाता है। इस जीव की मूंछ में विषग्रस्त ग्रंथियां होती हैं, जो प्रकृति के सबसे बुरे जहरों में से एक हैं। इस जहर के उपचार के पहले तरीकों में से एक सिरका है। यह जहर को हानिकारक प्रोटीन में तोड़ता है।

(और पढ़ें - मछली खाने के फायदे)

सिरके के गुण हैं अल्जाइमर रोग में लाभकारी - Vinegar for Alzheimer's in Hindi

एक अध्ययन के अनुसार, कुरुजो (Kurozu)- एक पारंपरिक चावल से बना शराब सिरका, चूहों में संज्ञानात्मक रोग और अमाइलाइड संचय को दबाने की प्रवृत्ति को दर्शाता है। इस विशेष अध्ययन में पाया गया कि सिरका एचएसपीए 1 ए जैसे प्रोटीन के उत्पादन में मदद कर सकता है, जो प्रोटीन एचएसपी70 के समान है एवं जो मस्तिष्क में अमाइलाइड गठन को कम करने में मदद कर सकता है। एक जापानी अध्ययन में पाया गया कि सिरके का सेवन अल्जाइमर रोग और डिमेंशिया के दौरान संज्ञानात्मक कार्य में सुधार कर सकता है। 

(और पढ़ें - ल्जाइमर रोग के खतरे को रोकने के तरीके

गुर्दे में पथरी का इलाज करें सिरके से - Vinegar for Kidney Problems in Hindi

गुर्दे में पथरी तब होती है, जब किसी व्यक्ति का मूत्र अधिक अम्लीय और केंद्रित हो जाता है और मूत्र एसिड या ऑक्सालेट से स्टोन बनने लगते हैं। सिरका मूत्राशय को क्षारीय बनाने का काम करता है, जिससे किडनी स्टोन को रोकने में मदद मिलती है। सिरका उन लोगों में स्टोन को तोड़ने में मदद कर सकता है जिनको पहले से ही स्टोन है। 

(और पढ़ें - पथरी में क्या खाना चाहिए

हाइपरटेंशन का इलाज करें सिरके से - Vinegar for Hypertension in Hindi

सिरका उच्च रक्तचाप और रेनिन गतिविधि को कम करने में मदद करता है। हाई ब्लड प्रेशर पर सिरके के प्रभाव के अध्ययन से पता चला है कि इसे लंबे समय तक इस्तेमाल करने से एसिटिक एसिड की मौजूदगी के कारण उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद मिलती है। 

(और पढ़ें - हाई बीपी का आयुर्वेदिक इलाज) 

सिरके के औषधीय गुण बचाएं कैंसर से - Vinegar Fights Cancer in Hindi

मानव कैंसर कोशिकाओं पर सिरके के प्रभाव पर एक अध्ययन किया गया, जिससे यह पता चला है कि चावल का सिरका कोलन कैंसर, लंग कैंसर, स्तन कैंसर, मूत्राशय कैंसर और प्रोस्टेट कैंसर से लेकर विभिन्न मानव कैंसर कोशिकाओं को नियंत्रित कर सकता है और साथ ही साथ कई अन्य कैंसर कोशिकाओं के विकास को भी नियंत्रित करता है। 

(और पढ़ें - कैंसर से लड़ने वाले दस बेहतरीन आहार

दांतों को स्वस्थ रखें सिरके से - Vinegar for Oral Health in Hindi

सिरके के रोगाणुरोधी गुण मौखिक बैक्टीरिया को नियंत्रित करने में सहायक होते हैं, जो अक्सर नकली दांत और अन्य मौखिक रोगों में पाए जाते हैं। 

(और पढ़ें - दांत दर्द के घरेलू उपाय

विनेगर फॉर हेयर - Vinegar for Hair in Hindi

सिरका आपके बालों को स्वस्थ बनाए रखने के लिए सबसे अधिक प्रभावी होता है। सर में एक चम्मच सेब का सिरका लगाने से रूसी, खोपड़ी में खुजली, बालों का झड़ना और सिर का गंजापन आदि समस्याओं को ठीक किया जा सकता है। 

(और पढ़ें - बाल झड़ने से रोकने के लिए हेयर मास्क

सिरका है त्वचा के लिए लाभकारी - Vinegar for Skin Problems in Hindi

स्वस्थ और चमकदार त्वचा के लिए त्वचा पर सिरका लगाने की सलाह दी जाती है। आधा कप सेब का सिरका लें और कम से कम 1 लीटर गर्म पानी में इसे मिक्स करें। अब इस मिश्रण को धीरे से अपनी त्वचा पर लगाएं। इसके उपयोग से आपकी त्वचा नरम हो जाएगी क्योंकि इससे पीएच स्तर का संतुलन शुरू होता है। यह मृत त्वचा कोशिकाओं और हानिकारक विषाक्त पदार्थों को हटा सकता है, जो आपकी त्वचा पर जमा होते हैं। यह मिश्रण सनबर्न को दूर करने के लिए भी अच्छी तरह से काम करता है।

(और पढ़ें - चमकदार त्वचा के उपाय)

  1. सिरका बहुत अम्लीय होता है, जिससे यह दांतों को नुकसान पहुंचा सकता है, खासकर अगर इसका सीधा उपयोग किया जाए। (और पढ़ें - दांतों में कीड़े का इलाज)
  2. सेब के सिरके से बनी गोलियां या कैप्सूल आपके गले में जलन पैदा कर सकते हैं, यदि वे गले में अटक जाएं। तो यह सुनिश्चित करें कि आप एक पूरे गिलास पानी के साथ गोलियां का सेवन करें। (और पढ़ें - गले में दर्द का इलाज)
  3. सिरके का आपके पोटेशियम के स्तर पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है।
  4. कुछ लोगों को सिरके के उपयोग से एलर्जी भी हो सकती है, जिसमें सूजन और साँस लेने में कठिनाई जैसी लक्षण शामिल होते हैं। (और पढ़ें - एलर्जी का इलाज)
  5. सेब के सिरके का अधिक मात्रा में उपयोग अपच और पेट में जलन का कारण बन सकता है। (और पढ़ें - बदहजमी का इलाज)
और पढ़ें ...
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ