myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

पैरों में सूजन की समस्या बहुत आम है और ये परेशानी हर किसी के साथ देखने को मिलती है। यह एक प्रकार की बीमारी नहीं है लेकिन ये किसी परेशानी का लक्षण ज़रूर हो सकता है।

आमतौर पर यह समस्या तब होती है जब ऊतकों में तरल पदार्थ बढ़ने लगता है जिसकी वजह से सूजन बढ़ना शुरू हो जाती है। इसे एडेमा (edema) कहा जाता है। ये कई कारणों से हो सकती हैं जैसे अधिक वज़न बढ़ने से, लम्बे समय तक बैठे या खड़े रहने से, बुढ़ापा, गर्भावस्था, प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम (PMS), पोषण की कमी, शारीरिक व्यायाम की कमी और खराब रक्त परिसंचरण आदि।

(और पढ़ें - सूजन कम करने के घरेलू उपाय)

टांग, टखने, पैरों में चोट या सर्जरी होने की वजह से भी पंजों में सूजन उतपन्न होने लगती है। जिन लोगो को शुगर, ह्रदय की समस्या, किडनी रोग या लीवर से संबंधित बीमारियां होती हैं उन्हें भी पंजों में सूजन की परेशानी रहती है। साथ ही गर्भवती महिलाओं को भी पंजों में सूजन की शिकायतें रहना आम है। जैसे जैसे सूजन बढ़ती जाती है वैसे वैसे पीड़ा भी बढ़ती रहती है और इस वजह से आपको चलने उठने-बैठने में दिक्कते आती हैं।

(और पढ़ें - चोट की सूजन का इलाज करें ये घरेलू उपाय)

लेकिन घबराने की ज़रूरत नहीं है क्योंकि आप घर बैठे बैठे भी कुछ प्रभावी टिप्स और घरेलू उपाय की मदद से सूजन कम कर सकते हैं। हालाँकि अगर सूजन तब भी ठीक नहीं होती तो आप अपने डॉक्टर से परामर्श ज़रूर लें। ये ह्रदय, किडनी या लीवर की समस्या के चिन्ह हो सकते हैं जिनका समय पर उपचार कराना आवश्यक है। 

(और पढ़ें - पैर में दर्द के घरेलू उपाय)

तो आइये आपको बताते हैं पंजों की सूजन के घरेलू उपाय –

  1. पैरों में सूजन के लिए गर्म या ठंडे पानी का करें इस्तेमाल - Pair ki sujan ka upay hai hot aur cold water
  2. पैरों में सूजन को सेंधा नमक करेगा दूर - Pair ki sujan ka gharelu upay hai epsom salt
  3. पैर की सूजन कम करने के उपाय के लिए करें अदरक का उपयोग - Pair ki sujan kam karne ke upay hai ginger
  4. पैरों की सूजन को कम करने के लिए करें मसाज - Pairo ki sujan ka upay hai massage
  5. पंजों की सूजन का घरेलू उपाय है डंडेलियन - Pair me sujan ka upay dandelion
  6. पैरों की सूजन का नुस्खा है नींबू पानी - Pairo ki sujan kam karne ka tarika hai lemon water
  7. पैर की सूजन का देसी नुस्खा है सेब का सिरका - Pairo ki sujan kam karne ka gharelu upay apple vinegar
  8. पैरों में सूजन का उपाय है धनिये के बीज - Pairo ki sujan kam karne ka nuskha hai coriander seeds
  9. पैरों के पंजों की सूजन के लिए करें व्यायाम - Pairo ki sujan kam karne ka upay hai exercise
  10. पैर की सूजन से छुटकारा दिलाता है मैग्नीशियम - Pairo se sujan kam karne ka upay hai magnesium
  11. पैरों में सूजन के लिए टिप्स - Pairo ki sujan kam karne ke liye tips

इस तरह की हाईड्रोथेरेपी में गर्म और ठंडा पानी का इस्तेमाल किया जाता है जो पंजे की सूजन को दूर करने में बेहद प्रभावी हैं। गर्म पानी परिसंचरण को सुधारने में मदद करता है और ठंडा पानी सूजन को दूर करता है।

गर्म या ठंडे पानी का इस्तेमाल कैसे करें

  1. सबसे पहले एक टब में दो फुट गर्म पानी मिलाएं और दूसरे टब में दो फुट ठंडा पानी मिला लें।
  2. अब अपने पंजों को गर्म पानी में तीन से चार मिनट तक डुबोकर रखें।
  3. तीन से चार मिनट के बाद एकदम अपने पंजों को ठंडे पानी में एक मिनट तक डुबोकर रखें।
  4. इसी तरह अपने पंजों को 15 से 20 मिनट तक बदलते रहें।
  5. इस प्रक्रिया को रोज़ाना तब तक करें जब तक आपको आराम न मिल जाये।

सेंधा नमक सूजन को दूर करने में बहुत तेज़ी से काम करता है और कम या ज़्यादा दर्द से राहत दिलाता है। सेंधा नमक में मैग्नीशियम सल्फेट होता है जो सूजन को खींच लेता है और परिसंचरण को सुधारता है। ये दर्द, थकी हुई मांसपेशियों और पंजों की गंध से भी राहत दिलाने में मदद करता है।

सेंधा नमक का इस्तेमाल कैसे करें –

  1. सबसे पहले आधा कप सेंधा नमक लें और फिर उसे गर्म पानी के टब में डाल दें।
  2. अब उस टब में 10 से 15 मिनट तक अपने पंजों को डालें रखें।
  3. इस प्रक्रिया को हफ्ते में तीन बार ज़रूर करें।

(और पढ़ें - सेंधा नमक के फायदे

अदरक एक प्राकृतिक औषधी है जो पंजों की सूजन का इलाज करने में मदद करती है। ये सोडियम को कम करता है, जो कि सूजन का एक बहुत बड़ा कारण है। इसके साथ ही इसमें सूजनरोधी गुण मौजूद होते हैं जो सूजन को दूर करते हैं।

अदरक का इस्तेमाल कैसे करें –

  1. रोज़ाना पूरे दिन में एक या दो बार अदरक के तेल से पंजों पर मसाज करें।
  2. इसके अलावा आप दो या तीन कप अदरक की चाय या अदरक के टुकड़ों को चबा भी सकते हैं।

(और पढ़ें - अदरक के फायदे)

फुट मसाज पंजों की सूजन के लिए सबसे बेहतरीन उपायों में से एक है। ये प्रभावित क्षेत्रों पर एक प्रेशर बनाता है जिससे आपकी मांसपेशियों को आराम पहुँचता है और परिसंचरण भी सुधरता है। मसाज की मदद से अधिक तरल पदार्थ को भी कम करने में मदद मिलती है जिससे सूजन कम होती है।

कैसे करें मसाज –

  1. सबसे पहले सरसो के तेल या जैतून के तेल को गर्म कर लें और फिर इन्हे अपने प्रभावित क्षेत्रों पर लगाएं।
  2. फिर पांच मिनट तक पंजों में ऊपर की तरफ हाथों को ले जाते हुए मसाज करें।
  3. ज़्यादा पंजों पर प्रेशर ना लगाएं।
  4. इस प्रक्रिया को पूरे दिन में कई बार करें।
  5. अगर आप नहाने के दौरान या बाद में मसाज करते हैं तो ये और भी ज़्यादा प्रभावी रहेगा।

नोट - अगर आपके पंजों में सूजन गर्भावस्था की वजह से हो रही है तो मसाज करने वाले थेरेपिस्ट को दिखाएं।

डंडेलियन के प्राकृतिक औषधीय गुण शरीर के अधिक तरल पदार्थ को कम करते हैं जो की पंजों की सूजन के लिए बेहद लाभदायक है। 2009 की एक रिसर्च के अनुसार डंडेलियन के औषधीय प्रभाव वाटर रिटेंशन का इलाज करने में मदद करते हैं। ये शरीर के सोडियम स्तर को सामान्य रखता है।

डंडेलियन का इलाज कैसे करें –

  1. सबसे पहले एक चम्मच ताज़ा और सूखे डंडेलियन की पत्तियों को एक कप गर्म पानी में डाल दें। अब इसे पांच मिनट के लिए ढकने को रख दें और फिर इस मिश्रण को छानकर पी जाएँ। इस हर्बल चाय को दो या तीन बार ज़रूर पियें।
  2. इसके अलावा आप डंडेलियन सप्लीमेंट्स भी ले सकते हैं लेकिन लेने से पहले अपने डॉक्टर से बात ज़रूर करें।

नींबू पानी पीने से अधिक तरल पदार्थ और विषाक्त पदार्थों को शरीर से निकालने में मदद मिलती है। वाटर रिटेंशन के कारण होने वाली सूजन को नींबू पानी पंजों के साथ साथ अन्य क्षेत्रों की सूजन को भी दूर करता है। इसके साथ ही ये आपके शरीर को हाइड्रेटेड रखता है और सूजनरोधी गुण भी आपके शरीर तक पहुंचते हैं।

नींबू पानी का इस्तेमाल कैसे करें –

  1. सबसे पहले दो चम्मच नींबू पानी को एक कप गर्म पानी में डाल दें।
  2. आप इस मीठा एक चम्मच शहद डालकर भी बना सकते हैं।
  3. नींबू पानी को पूरे दिन में दो या तीन बार पीने की कोशिश करें।

(और पढ़ें - नींबू पानी के फायदे

सेब का सिरका पंजों की सूजन को दूर करने में मदद करता है। इसमें पोटेशियम की मात्रा अधिक होती है जो वाटर रिटेंशन को कम करता है।

सेब के सिरके का इस्तेमाल दो तरीको से करें -

पहले तरीका -

  1. सबसे पहले गर्म पानी और सेब के सिरके को बराबर मात्रा में मिला लें।
  2. अब एक तौलिया लें और फिर उसे इस मिश्रण में डुबो दें।
  3. डुबोने के बाद तौलिये को अच्छे से निचोड़ दें और फिर उसे प्रभावित क्षेत्रों पर लगाएं।
  4. इस प्रक्रिया को दस बार दोहराते रहें।
  5. जब तक सूजन कम न हो जाएँ इस प्रक्रिया को कुछ दिनों तक दोहराते रहें।

दूसरा तरीका -

  1. इसके अलावा दो चम्मच सेब के सिरके को एक ग्लास पानी में मिला दें।
  2. फिर इसमें शहद मिलाकर पी जाएँ।
  3. इस मिश्रण को हफ्ते में दो बार ज़रूर पियें।

(और पढ़ें - सेब के सिरके के फायदे

पंजों की सूजन के लिए लोकप्रिय आयुर्वेदिक इलाज है धनिये के बीज। इसके सूजनरोधी गुण सूजन को दूर करने में मदद करते हैं और परिसंचरण को भी सुधारते हैं।

धनिये के बीज का इस्तेमाल कैसे करें -

  1. सबसे पहले दो या तीन चम्मच धनिये के बीज को एक कप पानी में मिला दें।
  2. अब इस मिश्रण को उबालने के लिए रख दें और तब तक उबालें जब तक मात्रा आधी न हो जाए।
  3. अब इस मिश्रण को छान लें और ठंडा होने के लिए रख दें। ठंडा होने के बाद इस मिश्रण को पी लें।
  4. इस प्रक्रिया को पूरे दिन में दो बार ज़रूर दोहराएं।

(और पढ़ें - धनिये के बीज के फायदे

रोज़ाना व्यायाम पंजों की सूजन के लिए बेहद ज़रूरी है। व्यायाम परिसंचरण को उत्तेजित करता है और हाथ या पैर तक रक्त को अधिक पहुंचने से रोकता है।

किस तरह के व्यायाम करें –

  1. स्विमिंग सूजन और दर्द से राहत दिलाने में बेहद प्रभावी व्यायाम है।
  2. हफ्ते में पांच बार आधे घंटे के लिए चलना या जॉगिंग ज़रूर करें।
  3. कुछ लेग स्ट्रेंगथनिंग और स्ट्रेचिंग व्यायाम ज़रूर करें।
  4. परिसंचरण को सुधरने के लिए रोज़ाना योग भी ज़रूर करें।

शरीर में मग्नेशियम की कमी से भी पंजों में सूजन रहती है इसलिए सूजन को दूर करने के लिए मैग्नेशियम से भरपूर खाद्य पदार्थ खाएं।

मैग्नीशियम का इस्तेमाल कैसे करें -

  1. हरी पत्तेदार सब्ज़ियां खाएं, नट्स-बीज, मछली, सोयाबीन, एवोकाडो, केला और डार्क चॉक्लेट ज़रूर खाएं।
  2. इसके अलावा आप मैग्नेशियम सप्लीमेंट्स भी ले सकते हैं लेकिन लेने से पहले अपने डॉक्टर से बात ज़रूर करें।

नोट - जिन्हे ह्रदय और किडनी से संबंधित समस्याएं हैं वे मैग्नेशियम का सेवन न करें।

  1. सूजन को दूर करने के लिए अपने पैरों को ह्रदय से ऊचां रखें जिससे रक्त परिसंचरण बेहतर हो।
  2. कैफीन और नमक खाने की मात्रा को कम करें क्योंकि उनके कारण सूजन की समस्या बढ़ती है।
  3. ताज़ा फल और सब्जिया खाने की कोशिश करें। बंद उत्पाद का सेवन न करें।
  4. शरीर को हाइड्रेटेड और विषाक्त पदार्थों से दूर रखने के लिए ज़्यादा से ज़्यादा पानी पियें।
  5. ज़्यादा देर तक बैठकर काम न करें। कुछ घंटे में चलते फिरते रहें।
  6. लम्बी यात्रा पर गर्म जुराबे पहनना न भूलें इससे आपकी सूजन दूर रहेंगी।
और पढ़ें ...