myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

पॉपी सीड यानी खसखस मूल रूप से एक तिलहन है जो खसखस के पौधे (पैपर सोम्नीफेरम) से प्राप्त होता है। 3,000 से भी अधिक वर्षों से इसकी खेती होती आ रही है। कई यूरोपीय राष्ट्रों के अलावा ऑस्ट्रेलिया, भारत और तुर्की जैसे देशों में इसकी खेती की जा रही है। भारत में इसकी खेती मुख्य रूप से उत्तर प्रदेश, पंजाब के होशियारपुर, राजस्थान और मध्य प्रदेश में की जाती है।

आम तौर पर लोगों को खसखस के पौधे के मादक गुणों के कारण खसखस के सेवन को लेकर चिंता होती है। यह सच है कि इसके कच्चे बीजों में मॉर्फिन जैसे अल्फ़ाइड होता है, एक दर्द निवारक जिससे नशे की आदत भी लग सकती है लेकिन इसके पके बीजों में ये न की मात्रा में होता है जिससे किसी भी प्रकार की लत नहीं लगती है। 

खसखस में कैल्शियम, पोटेशियम, मैग्नीशियम और आयरन जैसे खनिजों की अच्छी मात्रा होती है।  साथ ही यह फाइबर और आवश्यक फैटी एसिड से समृद्ध होता है जो हमारे सम्पूर्ण स्वास्थ्य को अच्छा रखने में मदद करते हैं। आमतौर पर इसका उपयोग खाने के स्वाद को बढ़ाने के लिए किया जाता है। इसके और भी बहुत सारे स्वास्थ्य लाभ हैं तो चलिए जानते हैं इनके बारे में -

  1. खसखस के फायदे मुंह में अल्सर में - Poppy seeds for mouth ulcers in hindi
  2. खसखस के गुण करे कब्ज को दूर - Poppy seeds good for constipation in hindi
  3. खसखस का महत्व दिलाए अच्छी नींद - Poppy seeds induce sleep in hindi
  4. खसखस के दाने के फायदे दिल के लिए - Poppy seeds good for heart in hindi
  5. खसखस के लाभ हड्डियों के लिए - Khus khus ke fayde for bone in hindi
  6. खसखस के उपयोग दिलाए त्वचा संक्रमण से छुटकारा - Khas khas for skin in hindi
  7. खसखस के बीज करे मस्तिष्क का विकास - Poppy seeds benefits for brain in hindi
  8. खसखस खाने के फायदे बढ़ाए प्रतिरक्षा प्रणाली - Khus khus seeds health benefits for immunity in hindi
  9. पोस्ता दाना के फायदे दर्द में - Eating poppy seeds for pain in hindi
  10. पोस्ता दाना बेनिफिट्स फॉर अस्थमा - Poppy seeds for asthma in hindi
  11. पोस्ता दाना के गुण गुर्दे की पथरी में - Poppy seeds prevent kidney stones in hindi
  12. खसखस के नुकसान - Khus khus side effects in hindi

आयुर्वेद के अनुसार शरीर में अत्यधिक गर्मी के कारण मुंह में अल्सर की समस्या हो सकती है। खसखस हमारे शरीर पर ठंडा प्रभाव डालता है और मुंह के अल्सर से राहत प्रदान करने में मदद करता है। अलसर से तत्काल राहत प्राप्त करने के लिए इसे पीस कर इसमें थोड़ी चीनी मिला लें और इसका सेवन करें। ( और पढ़ें – मुंह के छालों का घरेलू इलाज)

खसखस में बहुत अधिक डाइटरी फाइबर पाया जाता है जो कब्ज की समस्या से छुटकारा दिलाने में हमारी मदद करता है। इसके साथ साथ इसके सेवन से बहुत लम्बे समय तक भूख नहीं महसूस होती है। कब्ज की समस्या से राहत पाने के लिए इसे पीसकर भोजन से पहले इसका सेवन करें या इसे अपने पकवान में मिलाएं। ( और पढ़ें – कब्ज के घरेलू उपचार)

यदि आप अनिद्रा या थकान की समस्या से पीड़ित हैं तो खसखस को पीस कर गर्म दूध और चीनी के साथ मिला कर सोने से एक घंटे पहले पी लें। यह नींद की समस्या से छुटकारा दिलाने में आपकी मदद करेगा। खसखस के बीज में कई यौगिक पाए जाते हैं जो न्यूरोट्रांसमीटर के उत्पादन में मदद करते हैं जिससे मस्तिष्क को बेहतर प्रदर्शन करने में मदद मिलती है। ( और पढ़ें – योग निद्रा के माध्यम से पायें सुखद गहरी नींद )

खसखस में आवश्यक फैटी एसिड पाए जाते हैं जैसे लिनोलिक एसिड जो शरीर में रक्त कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में मदद करते हैं। यह दिल की बीमारियों और दिल के दौरे को भी रोकने में मदद करते हैं। दिल के स्वास्थ्य को सुधारने के लिए अपने भोजन में मिलाकर खसखस का सेवन करें। ( और पढ़ें – हृदय को स्वस्थ रखने के लिए खाएं ये आहार)

खसखस के बीज में कैल्शियम, फास्फोरस पाया जाता है जो हड्डियों के स्वास्थ्य में सुधार करने में मदद करते हैं। खसखस के बीज में मैंगनीज भी होता है जो कोलेजन (प्रोटीन जो हड्डियों की हानी को रोकता है) उत्पादन में मदद करता है। जोड़ों के दर्द और सूजन से तुरंत राहत पाने के लिए इसे पीस कर पेस्ट बना लें और दर्द और सूजन वाली जगह पर लगाएं। ( और पढ़ें – हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए जूस रेसिपी)

खसखस खुजली और त्वचा पर चकत्ते जैसे त्वचा संक्रमण के उपचार के लिए भी बहुत फायदेमंद हैं। इस में सूजन-विरोधी गुण पाए जाते हैं जो त्वचा के संक्रमण से मुकाबला करने में मदद करते हैं। इसके लिए आप खसखस में नींबू के रास की कुछ बून्द मिलाकर मोटा पेस्ट बना लें और त्वचा के संक्रमण जैसे जलन या खुजली वाले प्रभावित छेत्र पर लगा लें। ( और पढ़ें – प्रदूषण से त्वचा को सुरक्षित रखने के लिए अपनाएं ये आसान तरीके)

खसखस के कैल्शियम, आयरन और ताम्बा जैसे खनिज पाए जाते हैं। ये खनिज न्यूरोट्रांसमीटर (मस्तिष्क के रसायनों) को नियमित करने में मदद करते हैं और मस्तिष्क के कार्यों में सुधार करते हैं। साथ-साथ ये खनिज न्यूरॉन्स (मस्तिष्क की तंत्रिका कोशिकाओं) के सामान्य वृद्धि और विकास में भी मदद करते हैं।

शरीर में जिंक की कमी के कारण भी प्रतिरक्षा प्रणाली बिगड़ जाती है। खसखस, जो जिंक से भरपूर है, उसके नियमित सेवन से हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत बनती है। यह प्रतिरक्षा कोशिकाओं का निर्माण करने में भी मदद करता है जिससे हमारी प्रतिरक्षा बढ़ती हैं। ( और पढ़ें – प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थ)

खसखस दर्द से राहत देने में मदद कर सकता है। इसको चबाने से दांत के दर्द के साथ-साथ मांसपेशी और तंत्रिका संबंधी दर्द से राहत मिलती है। यदि आपको कोई विशेष समस्या है तो इसका सेवन करने से पहले आयुर्वेदिक डॉक्टर से परामर्श करें। ( और पढ़ें – साइटिका के दर्द से निजात पाने के लिए करें ये एक्सरसाइज)

यदि आप अस्थमा और अन्य श्वसन समस्याओं से बहुत लंबे समय से पीड़ित हैं तो यह बहुत फायदेमंद होता है। खसखस सर्दी खाँसी की दवा के रूप में कार्य करता है और वायुमार्ग और गले के मार्ग को साफ करने में मदद करता है। यह खाँसी की समस्या को भी कम करता है और श्वसन समस्याओं को रोकने में मदद करता है। ( और पढ़ें – अस्थमा से निजात पाने की रेसिपी)

खसखस में एंटीऑक्सीडेंट और फाइबर पाया जाता है जो शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर मिकालने में मदद करते हैं। ये विषाक्त पदार्थ गुर्दे की पथरी सहित अन्य प्रकार की समस्याओं को जन्म दे सकते हैं। नियमित रूप से इस का सेवन करने से आप इस समस्या से बच सकते हैं। ( और पढ़ें – पथरी में क्या खाना चाहिए)

खसखस का थोड़ा भी सेवन करने से यदि आप यूरिन ड्रग टेस्ट के लिए जाते हैं तो इसका सकारात्मक परिणाम निकल सकता है यानी आपने किसी ड्रग का उपयोग किया है। उदाहरण के लिए खसखस सीड बेगल्स पर किए गए एक अध्ययन में खसखस के सेवन के एक दिन बाद तक दवा परीक्षण के सकारात्मक परिणाम दिखाई दिए। ( और पढ़ें – )

द फ़ेडरल इंस्टिट्यूट फॉर रिस्क असेसमेंट के डॉक्टर एंड्रेअस हेंसल के अनुसार खसखस का अधिक मात्रा में सेवन करने से श्वसन और कार्डियोवास्कुलर सिस्टम में परेशानी हो सकती है, साथ ही चेतना  बिगड़ सकती है और चक्कर भी आ सकता हैं।  भौगोलिक और कटाई को प्रभावित करने वाली चीज़ों के आधार पर खसखस में मॉर्फिन की मात्रा काफी भिन्न हो सकती है जिससे खसखस के ये दोष प्रभाव काम या तीव्र हो सकते हैं।

खसखस की चाय में हल्के और घातक दोनों प्रकार के साइड इफेक्ट होते हैं। इसके चाय की थोड़ी मात्रा से बेहोशी, चक्कर, मतली, त्वचा की खुजली, कब्ज या मूत्र प्रतिधारण जैसी समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैँ। इसका अधिक सेवन करने से श्वास लेने में  समस्या और हृदय की गति कम हो सकती है। अगर आप शराब पीते हैं और खसखस की चाय का सेवन भी कर रहे हैं, तो यह आपके लिए काफी घातक सिद्ध हो सकता है।

Medicine NamePack SizePrice (Rs.)
Baidyanath Kamini Vidravan RasBaidyanath Kamini Vidrawan Ras10 Gm Pack Of 10500.0
Baidyanath Jatiphaladi Bati (Stambhak)Baidyanath Jatiphaladi Bati (Stambhak)378.0
और पढ़ें ...

References

  1. United States Department of Agriculture Agricultural Research Service. Basic Report: 02033, Spices, poppy seed. National Nutrient Database for Standard Reference Legacy Release [Internet]
  2. The University of Adelaide Adelaide, South Australia. 100-YEAR-OLD FERTILITY TECHNIQUE REDUCES NEED FOR IVF.
  3. Armstrong, W.P. The Opium Poppy (Papaver somniferum). [Internet]
  4. Kahla Redman, Ted Ruffman, Penelope Fitzgerald, Sheila Skeaff. Iodine Deficiency and the Brain: Effects and Mechanisms. Journal Critical Reviews in Food Science and Nutrition Volume 56, 2016 - Issue 16
  5. Aruna K, Sivaramakrishnan VM. Plant products as protective agents against cancer. Indian J Exp Biol. 1990 Nov;28(11):1008-11. PMID: 2283166
  6. Purdue University, ndiana, U.S. [Internet]. Papaver somniferum L.
  7. Herman Friedman, Catherine Newton, Thomas W. Klein. Microbial Infections, Immunomodulation, and Drugs of Abuse . Clin Microbiol Rev. 2003 Apr; 16(2): 209–219. PMID: 12692094
  8. Vel Gök et al. Effect of Replacing Beef Fat with Poppy Seed Oil on Quality of Turkish Sucuk . Korean J Food Sci Anim Resour. 2015; 35(2): 240–247. PMID: 26761834
  9. National Eye Institute. Antioxidant Vitamins and Zinc Reduce Risk of Vision Loss from Age-Related Macular Degeneration. National Institutes of Health
  10. Schuppener LM, Corliss RF. [linjk] J Forensic Sci. 2018 Mar;63(2):614-618. J Forensic Sci. 2018 Mar;63(2):614-618.
  11. Kwiecień-Obara E et al. [Morphine (obtained from poppy seeds) and dextrometorfan poisoning– a case report]. Przegl Lek. 2016;73(8):596-8. PMID: 29677437
ऐप पर पढ़ें