myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

किशमिश अपने कई लाभकारी गुणों के लिए जानी जाती है। किशमिश सूखे अंगूर से प्राप्त होती है या अंगूरों को सूरज के धूप में सुखाकर, जब तक कि अंगूर का रंग सुनहरा, हरा या काला नहीं हो जाता है। यह टेस्टी ड्राई फ्रूट हर किसी का पसंदीदा होता है, खासकर बच्चों का। यह व्यापक रूप से दुनिया भर में खाना पकाने (विशेष रूप से डेसर्ट में) में उपयोग किया जाता है। 

(और पढ़ें - अंगूर के फायदे)

  1. किशमिश के लाभ - Kishmish ke labh in Hindi
  2. किशमिश के नुकसान - Kishmish ke Nuksan in Hindi

किशमिश से होने वाले स्वास्थ्य लाभों में कब्ज, एनीमिया, बुखार और यौन रोग का उपचार शामिल है। किशमिश स्वस्थ वज़न को बनाए रखने में सहायता के लिए और साथ ही साथ आंख, दंत और हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए भी बहुत ही लाभकारी होती है। तो आइये जानते हैं इससे होने वाले लाभों के बारे में - 

  1. किशमिश के फायदे हैं कब्ज में लाभकारी - Kishmish for Constipation in Hindi
  2. किशमिश के गुण करें वजन बढ़ाने में मदद - Kishmish for Weight Gain in Hindi
  3. किशमिश के औषधीय गुण बचाएं कैंसर से - Kishmish Prevent Cancer in Hindi
  4. किशमिश के लाभ त्वचा के लिए - Kishmish Benefits for Skin in Hindi
  5. किशमिश खाने के लाभ हैं बालों के लिए उपयोगी - Kishmish Benefits for Hair in Hindi
  6. किशमिश का सेवन करें हाइपरटेंशन को दूर - Kishmish for Hypertension in Hindi
  7. किशमिश खाने के फायदे हैं डायबिटीज में उपयोगी - Kishmish for Diabetes in Hindi
  8. किशमिश का उपयोग करे एनीमिया को दूर - Kishmish Good for Anemia in Hindi
  9. किशमिश का प्रयोग रखे पाचन को स्वस्थ - Kishmish for Digestion in Hindi
  10. बुखार में लाभकारी होती है किशमिश - Kishmish Good for Fever in Hindi
  11. किशमिश हैं आँखों के लिए लाभकारी - Kishmish Benefits for Eyes in Hindi
  12. स्तंभन दोष से बचाएं किशमिश - Kishmish for Erectile Dysfunction in Hindi
  13. किशमिश रखें हड्डियों को मजबूत - Kishmish for Bone Health in Hindi
  14. किशमिश का सेवन मौखिक स्वास्थ्य के लिए - Kishmish for Oral Health in Hindi

किशमिश के फायदे हैं कब्ज में लाभकारी - Kishmish for Constipation in Hindi

किशमिश के सेवन से पाचन तंत्र में सुधार होता है। इसमें पाए जाने वाला फाइबर जठरांत्र (Gastrointestinal) मार्ग से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है। 10 से 12 किशमिश को दूध में अच्छे से उबाल लें और रात में सोने से पहले इसका सेवन करें। इसका एक हफ्ते तक सेवन करने से आपको जल्द ही कब्ज के इलाज में मदद मिलेगी।

(और पढ़ें - कब्ज के घरेलू उपाय)

किशमिश के गुण करें वजन बढ़ाने में मदद - Kishmish for Weight Gain in Hindi

किशमिश, सभी ड्राई फ्रूट्स की तरह, स्वस्थ तरीके से वजन बढ़ाने के लिए आहार है, क्योंकि ये फ्रुक्टोस और ग्लूकोज से भरे हुए होते हैं और इसमें बहुत अधिक मात्रा में ऊर्जा भी पाई जाती है। ये खिलाड़ियों या बॉडीबिल्डर्स के लिए एक बहुत ही आदर्श आहार है, जिन्हें अधिक ऊर्जा की आवश्यकता होती है। किशमिश खराब कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को जमा किए बिना वजन बढ़ाने में आपकी सहायता करती है। विटामिन, एमिनो एसिड और सेलेनियम और फास्फोरस जैसी खनिजों की वजह से यह आपके शरीर के लिए बहुत ही लाभकारी होती है। इसके अलावा किशमिश अन्य प्रोटीन, विटामिन और भोजन से प्राप्त पोषक तत्वों के अवशोषण को उत्तेजित करती है, जिससे आपकी समग्र ऊर्जा और प्रतिरक्षा प्रणाली की शक्ति में सुधार होता है। 

(और पढ़ें - मोटा होने के उपाय)

किशमिश के औषधीय गुण बचाएं कैंसर से - Kishmish Prevent Cancer in Hindi

किशमिश में 'कटेचिंस' का उच्च स्तर पाया जाता है, जो रक्त में मौजूद एक पोलीफोनोलिक एंटीऑक्सिडेंट हैं। एंटीऑक्सिडेंट शरीर में से मुक्त कणों को दूर करते हैं और अंग प्रणालियों और कोशिकाओं की रक्षा करते हैं। मुक्त कण प्राथमिक कैंसर वाले कारकों में से एक हैं, जो कैंसर कोशिकाओं की वृद्धि करते हैं। इसलिए, अपने आहार में किशमिश को शामिल करके आप अपने सिस्टम में इन शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट्स के स्तर में वृद्धि कर सकते हैं, जिससे कैंसर को रोकने में मदद मिल सकती है। 

(और पढ़ें - कैंसर से लड़ने वाले दस बेहतरीन आहार)

किशमिश के लाभ त्वचा के लिए - Kishmish Benefits for Skin in Hindi

किशमिश पौष्टिक होने के साथ ही साथ त्वचा को स्वस्थ और सुंदर बनाये रखने में भी मददगार है। किशमिश किसी भी क्षति से कोशिकाओं की रक्षा करती है। इसमें मौजूद 'फिनोल' नामक एंटीऑक्सिडेंट त्वचा कोशिकाओं (कोलेजन और इलास्टिन) को हानिकारक मुक्त कणों के प्रभाव से दूर रखते हैं, जिससे झुर्रियाँ और फाइन लाइन्स जैसे बढ़ती उम्र के लक्षण ठीक होते हैं। इससे शरीर को साफ और चमकदार त्वचा पाने के लिए विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में भी मदद मिलती है। 

(और पढ़ें - चमकदार त्वचा के उपाय)

किशमिश खाने के लाभ हैं बालों के लिए उपयोगी - Kishmish Benefits for Hair in Hindi

किशमिश में बालों की स्थिति में सुधार करने के लिए आवश्यक विटामिन बी, लोहा, पोटेशियम और एंटीऑक्सीडेंट जैसे पोषक तत्व होते हैं। किशमिश में मौजूद लोहा जैसा पोषक तत्व बालों को स्वस्थ्य बनाए रखने के लिए आवश्यक होता है। शरीर में लोहे की कमी रूखे और बेजान बाल और बालों के झड़ने का कारण बन सकती है। आयरन शरीर में रक्त परिसंचरण में सुधार करता है और हेयर फॉलिकल्स की कोशिकाओं को उत्तेजित करता है। यह बालों के प्राकृतिक रंग को बनाए रखने में भी मदद करता है। 

(और पढ़ें - बाल झड़ने से रोकने के घरेलू उपाय)

किशमिश का सेवन करें हाइपरटेंशन को दूर - Kishmish for Hypertension in Hindi

कुछ लोगों का मानना है कि किशमिश में हाई ब्लड प्रेशर को कम करने और ह्रदय के स्वास्थ्य की रक्षा करने की शक्ति होती है, लेकिन हाल ही में विशेषज्ञों ने इन दावों पर गहन अध्ययन शुरू किया। निष्कर्षतः, हालांकि अभी भी निश्चित नहीं है कि किस प्रकार किशमिश रक्तचाप को कम करती है। इसमें मौजूद कई पोषक तत्व फायदेमंद होते हैं, लेकिन विशेषज्ञों का मानना है कि इसमें मौजूद उच्च स्तर का पोटेशियम बहुत ही मददगार होता है। पोटेशियम रक्त वाहिकाओं के तनाव को कम करने और रक्तचाप को कम करने का एक तरीका है। किशमिश में आहार फाइबर भी रक्त वाहिकाओं के जैव रसायन को प्रभावित करने और उनकी कठोरता को कम करता है, जिससे बदले में उच्च रक्तचाप कम होता है। 

(और पढ़ें - हाई ब्लड प्रेशर का आयुर्वेदिक इलाज)

किशमिश खाने के फायदे हैं डायबिटीज में उपयोगी - Kishmish for Diabetes in Hindi

कई अध्ययनों में पाया गया है कि किशमिश पोस्ट-प्रेन्डियल इंसुलिन प्रतिक्रिया को कम कर सकती है, जिसका अर्थ है कि खाने के बाद इनका सेवन इन्सुलिन के स्तर का बढ़ना या कम होना रोककर इन्सुलिन को नियंत्रित रखता है। शुगर वाले मरीजों के लिए ये लाभकारी हो सकता है।

(और पढ़ें - डायबिटीज में परहेज और डायबिटीज में क्या खाएं)

किशमिश लेप्टिन और घ्रिलिन (वो हार्मोन्स जो बताते हैं कि आपको भूख लगी है या आपका पेट भरा हुआ है) की प्रक्रिया को नियमित करने में भी मदद करते हैं। इससे डायबिटीज के मरीज अपने खाने की मात्रा नियंत्रित रख सकते हैं और ज़रुरत से ज़्यादा खाने से बच सकते हैं। 

इसलिए अगर सीमित में मात्रा में खाना खाने के बाद किशमिश का सेवन किया जाता है तो यह डायबिटीज में भी लाभकारी हो सकता है। 

(और पढ़ें - डायबिटीज कम करने के घरेलू उपाय)

किशमिश का उपयोग करे एनीमिया को दूर - Kishmish Good for Anemia in Hindi

किशमिश में लोहे की काफी मात्रा पाई जाती है जो एनीमिया (खून की कमी) के उपचार में मदद करती है। इसमें विटामिन बी कॉम्प्लेक्स के कई अन्य तत्व भी शामिल होते हैं जो नए रक्त के गठन के लिए आवश्यक होते हैं। किशमिश में मौजूद तांबा की उच्च मात्रा लाल रक्त कोशिकाओं के गठन में भी मदद करती है। 

(और पढ़ें - एनीमिया के घरेलू इलाज)

किशमिश का प्रयोग रखे पाचन को स्वस्थ - Kishmish for Digestion in Hindi

रोजाना कुछ किशमिश का सेवन करना आपके पेट के लिए अच्छा होता है। अगर किशमिश को भिगो कर रोज सुबह खाया जाए तो यह पाचन के लिए भी लाभकारी होता है। किशमिश पेट को साफ रखने में प्रभावी है और कब्ज से राहत में मदद करती है। इसके अलावा, किशमिश का दैनिक रूप से सेवन आँतों को नियमित एवं साफ रखता है और फाइबर सिस्टम से विषाक्त पदार्थों और अपशिष्ट उत्पादों को बाहर रखने में मदद करता है। 

(और पढ़ें - पाचन क्रिया सुधारने के उपाय)

बुखार में लाभकारी होती है किशमिश - Kishmish Good for Fever in Hindi

प्रोनोलिक फाइटोन्यूट्रीएंट्स (शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले तत्त्व) जो कि अपने जीवाणुनाशक, एंटीबायोटिक और एंटीऑक्सीडेंट गुणों के लिए जाने जाते हैं। यह तत्व किशमिश में प्रचुर मात्रा में पाया जाता है और वायरल और जीवाणु संक्रमण से हुए बुखार के इलाज में सहायक है। 

(और पढ़ें - बुखार कम करने के घरेलू तरीके)

किशमिश हैं आँखों के लिए लाभकारी - Kishmish Benefits for Eyes in Hindi

किशमिश में पॉलीफेनॉलिक फाइटोन्यूट्रीएंट्स होते हैं, जिनमें एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं। ये फाइटोन्यूट्रीएंट्स ऑकुलर हेल्थ (नेत्र स्वास्थ्य) के लिए बहुत अच्छे होते हैं, क्योंकि ये आँखों को मुक्त कण (ऑक्सीडेंट्स) के कारण, मैक्युलर डीजेनेरेशन, दृष्टि से संबंधित कमजोरी और मोतियाबिंद से आंखों की रक्षा करते हैं। अपने एंटीऑक्सिडेंट गुणों के अतिरिक्त, किशमिश में पर्याप्त मात्रा में विटामिन ए, बीटा कैरोटीन और ए कैरोटीनोइड होते हैं, जो सभी अच्छे ऑकुलर स्वास्थ्य के लिए आवश्यक होते हैं।

(और पढ़ें - आंखों के लिए क्या खाना चाहिए)

स्तंभन दोष से बचाएं किशमिश - Kishmish for Erectile Dysfunction in Hindi

किशमिश लंबे समय तक कामेच्छा को प्रोत्साहित करने और उत्तेजना पैदा करने के लिए जाना जाता है, (मुख्य रूप से आर्गिनिन नामक एमिनो एसिड की उपस्थिति के कारण) जो स्तंभन दोष का इलाज करने में फायदेमंद होता है। 'आर्गिनिन' भी शुक्राणु गतिशीलता के स्तर को बढ़ाता है, जो संभोग में संलग्न होने पर गर्भधारण की संभावना को बढ़ा सकता है। 

(और पढ़ें - स्तंभन दोष के घरेलू उपाय)

किशमिश रखें हड्डियों को मजबूत - Kishmish for Bone Health in Hindi

हमारी हड्डियों के लिए कैल्शियम बहुत ही जरूरी होता है जो कि किशमिश में पाया जाता है। इसके अलावा यह ड्राई फ्रूट बोरान (एक सूक्ष्म पोषक तत्व) का भी सबसे अच्छा स्रोत होता है। बोरान तत्व बहुत ही कम मात्रा में शरीर के लिए आवश्यक होता है, जो अन्य पोषक तत्वों की तुलना में महत्वपूर्ण पोषक तत्व है, जिसका दैनिक रूप से सेवन करना चाहिए। बोरान हड्डी गठन और कैल्शियम के कुशल अवशोषण के लिए महत्वपूर्ण होता है। यह महिलाओं में रजोनिवृत्ति से होने वाले ऑस्टियोपोरोसिस के खतरे को रोकने में विशेष रूप से उपयोगी है और यह हड्डियों और जोड़ों के लिए बहुत फायदेमंद है। पोटेशियम एक और आवश्यक पोषक तत्व है जो कि किशमिश में उच्च स्तर में पाया जाता है, जो हड्डियों को मजबूत करने और हड्डियों के विकास को बढ़ावा देने में सहायता करता है, जिससे ऑस्टियोपोरोसिस की संभावना कम हो सकती है। 

(और पढ़ें - हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए जूस रेसिपी)

किशमिश का सेवन मौखिक स्वास्थ्य के लिए - Kishmish for Oral Health in Hindi

ओलियोनोलिक एसिड, किशमिश में मौजूद फाइटोकेमिकल्स में से एक है, जो दांतों को दाँत क्षय, कैविटीज़ और दांतों की भंगुरता के खिलाफ रक्षा करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह स्ट्रेप्टोकोकस म्यूटान और पोर्फोरायोनोस जीन्निवलिस (दो जीवाणु प्रजातियां जो कैविटीज़ और अन्य दंत समस्याओं के लिए ज़्यादा जिम्मेदार होती हैं) के विकास को प्रभावी ढंग से रोकता है। इसके अलावा, यह कैल्शियम में परिपूर्ण होती है, जो दंत स्वास्थ्य को मजबूत करने के लिए अच्छा होता है।

(और पढ़ें - दांतों का पीलापन दूर करने के उपाय)

जिस तरह किशमिश का सेवन हमारे लिए लाभकारी होता है, उसी तरह किशमिश का अधिक सेवन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक भी हो सकता है:

  1. किशमिश के अधिक सेवन से कैलोरी की मात्रा शरीर में अधिक बढ़ जाती है, जिससे आपका वजन भी बढ़ सकता है। शरीर का अधिक वजन कई समस्याओं का कारण बन सकता है। (और पढ़ें - वजन बढ़ाने के तरीके)
  2. किशमिश में फल-पोषक तत्वों की उच्च सामग्री होने के कारण ट्राइग्लिसराइड्स का भी उच्च स्तर पाया जाता है, जिससे मधुमेह, हृदय रोग और फैटी लिवर कैंसर के विकास की संभावना बढ़ सकती है।
और पढ़ें ...