• हिं

त्वचा का इलाज करने के लिए चंदन एक प्राकृतिक औषधि है। यह हमें कई स्वास्थ्य लाभ देता है और आयुर्वेद में सदियों से उपयोग किया जा रहा है। चंदन त्वचा के चकत्ते, दाग धब्बों, मुँहासे और कई अन्य त्वचा समस्याओं का इलाज कर सकता है।

  1. चंदन के फायदे - Chandan ke Fayde in Hindi
  2. चंदन के फायदे त्वचा के लिए - Chandan for Skin in Hindi
  3. चंदन के नुकसान - Chandan ke Nuksan in Hindi

चंदन के फायदे आंखों के लिए - Sandalwood for Eyes in Hindi

चंदन को अन्य औषधीय जड़ी-बूटियों के अर्क के साथ मिलाया जाता है जैसे नीम, भृंगराज, निरुगुंडी, सोभानजना, पुनर्नवा, सतपत्री और मधु आदि एक मिश्रण का उत्पादन करते हैं, जो अक्सर आयुर्वेद में इस्तेमाल होता है। जो अपवर्तक त्रुटि (refractive error) और मोतियाबिंद जैसी बीमारियों के इलाज में मददगार होता है।

चंदन पाउडर का उपयोग करे अल्सर को ठीक - Chandan for Ulcer in Hindi

एक अध्ययन के अनुसार, चंदन से प्रभावी रूप से अल्सर को ठीक किया जा सकता है। अध्ययन में किये गए प्रयोगों में यह दर्शाया गया है कि चंदन के अर्क का उपयोग अल्सर को रोकने के लिए भी महत्वपूर्ण होता है।

चंदन के गुण हैं तनाव कम करने का उपाय - Sandalwood for Stress in Hindi

चंदन से निकाला गया तेल हाई ब्लड प्रेशर से निपटने और तनाव कम करने के लिए अरोमाथेरेपी में इस्तेमाल किया जा सकता है। तेल में मौजूद सामग्री सेरोटोनिन बनाने के लिए मस्तिष्क की सहायता कर सकती है जो व्यक्ति में सकारात्मकता को सुधारता है और जो खुशी और संतोष की भावना को ट्रिगर करती है।

मांसपेशियों में दर्द का इलाज है चंद - Sandalwood for Muscle Pain in Hindi

चंदन एक एंटीस्पास्मोडिक एजेंट के रूप में काम करता है जो तंत्रिकाओं, मांसपेशियों और रक्त वाहिकाओं को आराम करने में मदद करता है। जब भी चंदन नियमित रूप से इस्तेमाल किया जाता है तो चंदन का तेल मांसपेशियों की संकुचन और ऐंठन से बचाता है। 

(और पढ़ें – मांसपेशियों में दर्द का कारण)

सैंडलवुड बेनिफिट्स फॉर टीथ - Sandalwood Benefits for Teeth in Hindi

चंदन के तेल में कसैले गुण होते हैं जो मसूड़ों को मजबूत करने के लिए बहुत उपयोगी होते हैं। इसके अतिरिक्त, यह प्राकृतिक दांतों की हानि को रोकने में मदद करता है।

शरीर की गंध को दूर करें चंदन से - Sandalwood for Body Odor in Hindi

चंदन को कॉस्मेटिक उद्योग में एक महत्वपूर्ण घटक के रूप में उपयोग किया जाता है। चंदन के द्वारा बनाये गए डेओडोरैंट्स और इत्र शरीर की गंध से लड़ने में आपकी सहायता कर सकते हैं और आपको घंटों तक ताजा रख सकते हैं।

खुजली कम करने का उपाय है चंदन का पेस्ट - Sandalwood for Itching in Hindi

चंदन के पेस्ट को त्वचा पर खुजली कम करने के लिए उपयोग किया जा सकता है। यह कीट के काटने के लिए एक बहुत ही अच्छा घरेलू इलाज और इसके अलावा चंदन का पेस्ट सनबर्न से निपटने में मदद कर सकता है। बाजार में उपलब्ध रासायनिक संसाधित डि-टैन पैकों के उपयोग के बजाय, आपको चंदन का पेस्ट इस्तेमाल करना चाहिए। 

(और पढ़ें - खुजली दूर करने के घरेलू उपाय)

त्वचा संबंधी समस्याएं जैसे मुहांसे, दाग-धब्बे, टैनिंग और डार्क सर्कल इन दिनों काफी आम हैं, जो व्यस्त जीवन और लगातार बढ़ते प्रदूषण का नतीजा है। इन समस्याओं को दूर रखने के मूल नियम में शामिल हैं 8 से 9 घंटे की अच्छी नींद, भरपूर पानी पीना और अपने दैनिक आहार में स्वस्थ खाद्य पदार्थों का सेवन। हालांकि, ये ही पर्याप्त नहीं हैं और कभी-कभी कुछ बाहरी समाधानों का सहारा लेना पड़ सकता है। इन सभी सौंदर्य समस्याओं से छुटकारा पाने में एक सरल और प्राकृतिक घटक मदद कर सकता है। चंदन या सैंडलवुड आयुर्वेद में एक उत्कृष्ट सौंदर्य सामग्री के रूप में पहचाना जाता है, जो प्राकृतिक, विश्वसनीय और प्रभावी है। यह आमतौर पर एक भूरी-बेज दिखने वाले चिकने पाउडर के रूप में उपलब्ध होता है, जो कि जीनस सैंटलम के पेड़ की सुगंधित लकड़ी से प्राप्त होता है। सैंडलवुड एसेंशियल ऑयल विभिन्न त्वचा रोगों के इलाज के लिए भी अच्छा है। चंदन में औषधीय गुणों की एक विस्तृत श्रृंखला होती है, इसलिए आयुर्वेद में सदियों से इसका इस्तेमाल किया जा रहा है।

चंदन का पेस्ट है फायदेमंद पिंपल्स के लिए - Chandan Paste for Acne in Hindi

जब त्वचा अधिक मात्रा में सीबम और तेल का उत्पादन करती है, तो अशुद्धता, गंदगी और कीटाणुओं से त्वचा के रोम छिद्र बंद हो जातें हैं जिसकी वजह से मुहांसे उत्पन्न होते है। 1 चम्मच चंदन पाउडर, 1 चम्मच दूध और एक चुटकी हल्दी पाउडर को एक साथ मिलाकर पेस्ट बनाएं और इस पेस्ट को अपने चेहरे पर लगाएं। आधे घंटे के बाद ठंडे पानी से धो लें।

1 चम्मच चंदन एसेंशियल ऑयल और एक चुटकी हल्दी व कपूर मिलाएं। इस फेस पैक को लगाएं और मुंहासों, दाग-धब्बों व ब्लैकहेड्स से छुटकारा पाने के लिए इसे रातभर लगा रहने दें। 1 चम्मच चंदन पाउडर, 1 चम्मच नारियल तेल और कुछ नींबू के रस का पेस्ट भी बना सकते हैं। इसे अपने चेहरे पर लगाएं और आधे घंटे के लिए छोड़ दें। बाद में गुनगुने पानी से धो लें।

चंदन का उपयोग करे सनटैन का इलाज - Sandalwood Paste for Sunburn in Hindi

चंदन में मौजूद प्राकृतिक तेल सन टैन का इलाज करने में मदद करते हैं। यह सन बर्न को शांत करने में भी मदद करता है और इसका ठंडक वाला प्रभाव होता है, जो सन बर्न के कारण होने वाली लालिमा को कम करता है। आप 1 चम्मच चंदन का पाउडर और 1 चम्मच शहद को मिलाकर एक पेस्ट बनाएं और पेस्ट को त्वचा पर लगाएं। 30 मिनट के बाद ठंडे पानी के साथ धो लें। सप्ताह में तीन बार इस उपाय का उपयोग करना सनटैन त्वचा को ठीक करता है।

चंदन पाउडर फेस पैक है झुर्रियाँ रोकने के लिए - Sandalwood for Wrinkles in Hindi

झुर्रियाँ, फाइन लाइन्स उम्र के साथ साथ बढ़ती जाती हैं। चंदन त्वचा को मजबूत और कोमल बनाता है। यह त्वचा बनावट को बेहतर करता है और समय से पहले त्वचा की उम्र को बढ़ने से रोकता है। इसलिए इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए, चंदन के पेस्ट को 10 मिनट के लिए चेहरे पर लगाएँ और ठंडे पानी से धो लें।

(और पढ़ें – अगर झुर्रियों से छुटकारा पाना है और युवा लगना है तो ज़रूर करें इसका इस्तेमाल)

चंदन के लाभ ड्राई स्‍किन के लिए - Chandan Powder for Dry Skin in Hindi

सूखी, परतदार, खुजली वाली त्वचा बेहद कष्टप्रद और भद्दी भी हो सकती है। चंदन त्वचा की इन समस्याओं का इलाज करने में आपकी मदद कर सकता है और आपकी त्वचा को नरम बना सकता है। चन्दन में पाए जाने वाला तेल इन कंडीशन्स का इलाज कर सकता है। 30 मिनट के लिए चंदन का पेस्ट सप्ताह में दो बार लगाएँ और ठंडे पानी से धो लें। धीरे-धीरे त्वचा को सूखा करें, जिससे लाभकारी तेलों को दूर न करें। 

(और पढ़ें – सर्दियों में रूखी त्वचा का इलाज)

चंदन का लेप बनाए त्वचा को गोरा - Chandan Face Pack for Fairness in Hind

चंदन त्वचा के गोरेपन के लिए फायदेमंद है। गोरेपन की क्रीम का उपयोग करना जिनमें हानिकारक रसायन होते है जो त्वचा के कैंसर का कारण बन सकते हैं। इसके लिए आप एक चुटकी हल्दी, 1 चम्मच दूध और 1 चम्मच बड़ी चंदन का पेस्ट को मिक्स करें और इसे अपने चेहरे और गर्दन पर लगाएँ। 30 मिनट के बाद, इसे उज्ज्वल त्वचा पाने के लिए ठंडे पानी से धो लें। 

(और पढ़ें – संतरे के छिलके के फायदे करें त्वचा टोन में सुधार)

चंदन फेस पैक हटाए चेहरे के दाग धब्बे - Sandalwood Face Pack for Blemishes in Hindi

चेहरे पर दाग धब्बों का कारण पिंपल्स, रेशस, खुजली या चोट होते हैं जो कि आपकी सुंदरता को खराब कर सकते हैं। चेहरे के इन दाग धब्बों से छुटकारा पाने के लिए हल्दी और चंदन पाउडर की बराबर मात्रा, एक छोटी गोली कपूर और 1 चम्मच दूध को मिलाकर एक पेस्ट तैयार करें। धीरे से चेहरे पर मालिश करें और इसे रात भर के लिए लगाकर छोड़ दें। नियमित रूप से इसका उपयोग दाग धब्बों को दूर करने और आपकी त्वचा को आराम देने में मदद करता है। 

इसके अलावा 1 चम्मच चंदन पाउडर और नारियल तेल को मिलाएं और अपने चेहरे पर मालिश करें। इसे रात भर छोड़ दें। नियमित उपयोग के साथ दाग-धब्बे गायब हो जाएंगे।

(और पढ़ें – चेहरे के काले दाग धब्बे हटाने का उपाय)

चंदन के औषधीय गुण हैं डेड स्किन को निकालने के लिए - Chandan ke Fayde for Exfoliation in Hindi

स्वस्थ त्वचा के लिए, त्वचा से मृत कोशिकाएं हटाना महत्वपूर्ण है और इसके लिए प्राकृतिक उत्पादों का उपयोग करना चाहिए। चंदन स्किन एक्सफोलिएशन के लिए सर्वोत्तम सामग्री में से एक है। 1 चम्मच चंदन पाउडर, 1 चम्मच काले चने का पाउडर और गुलाब जल या दूध को मिलाकर एक पेस्ट तैयार करें। धीरे-धीरे इस पेस्ट की अपने चेहरे पर एक ही तरफ को समान गति से मालिश करें। आधे घंटे के बाद इस पैक को ठंडे पानी से धो लें। 

(और पढ़ें – आइस फेशियल के लाभ निकालें मृत कोशिकाओं को बाहर)

चंदन पाउडर के गुण रोकें उम्र को बढ़ने से - Sandalwood Powder for Anti Aging in Hindi

सूरज का एक्सपोजर, धूल और प्रदूषण के कारण त्वचा समय से पहले बूढ़ी हो सकती है। गंदगी और जमी हुई मल को हटाने के लिए फेसवॉश भी मददगर नहीं होते हैं। इसके कारण झुर्रियाँ, लटकी हुई त्वचा, शुष्क त्वचा और अन्य त्वचा समस्याओं से त्वचा बूढ़ी लगने लगती है। चंदन उम्र को बढ़ने से रोकने के लिए एक प्रभावी तरीका है। 1 बड़ा चम्मच शहद, 2 चम्मच चंदन पाउडर और 1 अंडे की जर्दी को मिलाकर एक पेस्ट बनाएँ और इसे अपने चेहरे पर लगाएँ। एक घंटे बाद इसे ठंडे पानी से धो लें। इस तकनीक का नियमित रूप से प्रयोग त्वचा की लोच को सुधारता है और त्वचा को लटकाने से रोकता है।

(और पढ़ें – अपनी त्वचा से उम्र के प्रभाव को दूर करने के तरीके)

  1. जब भोजन की मात्रा में सफेद चंदन मुंह के द्वारा लिया जाता है तो यह सुरक्षित है। लेकिन 6 हफ्ते से अधिक समय तक दवा के रूप में मुंह से लेने पर यह असुरक्षित है। इसके लंबे समय उपयोग के साथ गुर्दे को नुकसान हो सकता है।
  2. जब यह मुंह के द्वारा लिया जाता है तो इसके कारण खुजली, मितली, पेट में परेशान हो सकती है और मूत्र में रक्त आ सकता है।
  3. सफेद चंदन के साथ संपर्क में आने पर कुछ लोगों में एलर्जी की प्रतिक्रिया हो सकती है।
  4. यदि आप गर्भवती हो तो सफेद चंदन को मुंह के द्वारा लेना आपके लिए खतरनाक हो सकता है।
  5. यदि आपको गुर्दा की समस्याएं हैं तो सफेद चंदन का उपयोग न करें। यह किडनी की बीमारी को बदतर बना सकता है।

उत्पाद या दवाइयाँ जिनमें चंदन है

और पढ़ें ...

संदर्भ

  1. A. N. Arunkumar, Geeta Joshi, Hassan Ram. Sandalwood: History, uses, present status and the future.103(12):1408-1416· December 2012
  2. Ronald L. Moy and Corey Levenson. Sandalwood Album Oil as a Botanical Therapeutic in Dermatology. 2017 Oct; 10(10): 34–39 .PMID: 29344319
  3. Saradamma Bulle, Hymavathi Reddyvari, Varadacharyulu Nallanchakravarthula, and Damodara Reddy Vaddi. Therapeutic Potential of Pterocarpus santalinus L.: An Update. 2016 Jan-Jun; 10(19): 43–49. PMID: 27041873
  4. Biswas TK, Maity LN, Mukherjee B. Wound healing potential of Pterocarpus santalinus linn: a pharmacological evaluation.. 2004 Sep;3(3):143-50.PMID: 15866805
  5. Dr. M Ashalatha, Dr. B.R Lalitha ,Dr. Ashvini S M. Medicinal plants used in acne vulgaris. ISSN 2456-0170
  6. Sharma K, Joshi N, Goyal C. Critical review of Ayurvedic Varṇya herbs and their tyrosinase inhibition effect. 2015 Jul-Sep;35(1):18-25. PMID: 26600663
  7. Chéret J, Bertolini M, Ponce L, Lehmann J, Tsai T, Alam M, Hatt H, Paus R. Olfactory receptor OR2AT4 regulates human hair growth.. 2018 Sep 18;9(1):3624. PMID: 30228264
  8. Misra BB, Dey S. Evaluation of in vivo anti-hyperglycemic and antioxidant potentials of α-santalol and sandalwood oil.. 2013 Mar 15;20(5):409-16. PMID: 23369343
  9. Kulkarni CR, Joglekar MM, Patil SB, Arvindekar AU. Antihyperglycemic and antihyperlipidemic effect of Santalum album in streptozotocin induced diabetic rats. 2012 Mar;50(3):360-5. PMID: 22129314
  10. Kitture R, Chordiya K, Gaware S, Ghosh S, More PA, Kulkarni P, Chopade BA, Kale SN. ZnO Nanoparticles-Red Sandalwood Conjugate: A Promising Anti-Diabetic Agent. 2015 Jun;15(6):4046-51.PMID: 26369011
  11. Burdock GA, Carabin IG.Safety assessment of sandalwood oil . 2008 Feb;46(2):421-32. PMID: 17980948
  12. Obstetrics and gynaecology. Herbal medicinal products during pregnancy: are they safe?. Wiley Online Library; John Wiley & Sons.
  13. Biswapriya B. Misra, Satyahari Dey. Biological Activities of East Indian Sandalwood Tree, Santalum album. 12 Nov 2013, doi: 10.7287/peerj.preprints.96v1
  14. Heuberger E, Hongratanaworakit T, Buchbauer G. East Indian Sandalwood and alpha-santalol odor increase physiological and self-rated arousal in humans. 2006 Jul;72(9):792-800. PMID: 16783696
  15. Okugawa H, Ueda R, Matsumoto K, Kawanishi K, Kato A. Effect of α-santalol and β-santalol from sandalwood on the central nervous system in mice.. 1995 Oct;2(2):119-26. PMID: 23196153
  16. Dwivedi C, Abu-Ghazaleh A. Chemopreventive effects of sandalwood oil on skin papillomas in mice. 1997 Aug;6(4):399-401. PMID: 9370104
  17. Seo Yeon Choi and Kyungsook Park. Effect of Inhalation of Aromatherapy Oil on Patients with Perennial Allergic Rhinitis: A Randomized Controlled Trial. 2016; 2016: 7896081. PMID: 27034695
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ