• हिं
  • हिं

अनहेल्दी खानपान, काम का बोझ, तनाव और खराब लाइफस्टाइल के कारण लोग बढ़ते वजन का शिकार हो जाते हैं. शरीर पर अत्यधिक फैट का स्तर बीएमआई (BMI) के जरिए मापा जाता है, अगर यह फैट 30 प्रतिशत से अधिक हो तो इसे मोटापा कहा जाता है. हालांकि मोटापा ना सिर्फ आपकी पर्सनैलिटी को प्रभावित करता है बल्कि कई तरह की गंभीर और जानलेवा बीमारियों का कारण भी बनता है. आज हम इस लेख में बढ़ते वजन के कारण होने वाले नुकसान और बीमारियों पर चर्चा करेंगे.

(और पढ़ें - वजन कम करने के उपाय)

वजन बढ़ने के कारण होने वाले नुकसान और बीमारियां

सांस लेने में तकलीफ

अधिक मोटापे के कारण लोगों को सांस लेने में काफी तकलीफ होती है. शरीर पर जमा अत्यधिक फैट फेफड़ों को पूरी तरह फैलने से रोकता है, जिसके कारण मांसपेशियां सही तरीके से अपना काम नहीं कर पातीं और सांस लेने में परेशानी होती है. अधिक मोटापे के कारण ना सिर्फ सांस लेने में दिक्कत होती है बल्कि दैनिक कार्यों को करने में भी सांस फूल जाता है. बढ़े हुए वजन के कारण अस्थमा औरक्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज (सीओपीडी) के लक्षण भी गंभीर होने लगते हैं.

(और पढ़ें - वजन कम करने के लिए एक्सरसाइज)

फैटी लिवर

मोटापे के कारण होने वाली समस्याओं में से फैटी लिवर भी एक है. जब लिवर पर अतिरिक्त फैट इकट्ठा हो जाता है तो इस स्थिति को फैटी लिवर कहा जाता है. फैटी लिवर न सिर्फ स्वास्थ्य को बुरी तरह से प्रभावित करता है बल्कि इसके कारण लिवर सिरोसिस और कैंसर का खतरा भी बढ़ जाता है. एक्सपर्ट्स भी कहते हैं कि मोटापे से ग्रस्त लोगों को फैटी लिवर होने की अधिक संभावना होती है.

(और पढ़ें - वजन कम करने के लिए क्या खाएं)

पीठ में दर्द

मोटापे से ग्रस्त ज्यादातर लोग पीठ में गंभीर दर्द की परेशानी से जूझते हैं. अधिक फैट के कारण कमर पर अधिक दबाव पड़ता है, जिसके कारण पीठ दर्द की समस्या होती है.

(और पढ़ें - वजन घटाने की दवा के नाम)

ऑस्टियोअर्थराइटिस

जो लोग मोटापे का शिकार होते हैं, उनमें ऑस्टियोआर्थराइटिस यानी गठिया की बीमारी होने का खतरा भी बढ़ जाता है. शरीर पर जमा अधिक फैट जोड़ों और हड्डियों की रक्षा करने वाले कार्टिलेज पर अधिक दबाव डालते हैं, जिससे जोड़ों में दर्द और अकड़न की समस्या हो सकती है.

(और पढ़ें - मोटापा घटाने के घरेलू उपाय)

टाइप 2 डायबिटीज

अधिक वजन के कारण टाइप 2 डायबिटीज होने का खतरा भी बढ़ जाता है. एक शोध के मुताबिक मोटापे से ग्रस्त 10 में से करीब 8 लोग टाइप 2 डायबिटीज का शिकार हो जाते हैं. ऐसे में वजन कम करने से टाइप 2 डायबिटीज की लक्षणों को कम करने में मदद मिल सकती है.

(और पढ़ें - वजन कम करने के लिए डाइट टिप्स)

हाई ब्लड प्रेशर

मोटापे की समस्या से जूझ रहे लोगों को हाई ब्लड प्रेशर की समस्या भी हो सकती है. क्योंकि बढ़े हुए वजन के कारण हृदय खून को तेजी से पंप करता है, जिसके कारण धमनियों पर खून का दबाव बढ़ जाता है और यही हाई बीपी का कारण बनता है.

(और पढ़ें - वजन कम करने के लिए डाइट चार्ट)

दिल से जुड़ी बीमारियां

अत्यधिक फैट हृदय, फेफड़े और शरीर के अन्य अंगों पर दबाव डालता है, जिसके कारण दिल का दौरा पड़ने या स्ट्रोक की संभावना बढ़ जाती है.

मोटापे के कारण केवल यही बीमारियां नहीं बल्कि जोड़ों का दर्द, गुर्दे संबंधित समस्याएं, नींद ना आने की समस्या और गर्भधारण के दौरान होने वाली समस्याओं से जूझने जैसी परेशानियां भी हो सकती हैं. मोटापे से निजात पाने और आपको फिट रहने के लिए नियमित एक्सरसाइज करनी चाहिए, साथ ही हेल्दी डाइट का सेवन करना चाहिए.

(और पढ़ें - वजन कम करने के आयुर्वेदिक उपाय)

वजन ज्यादा बढ़ने से होने वाले नुकसान और बीमारियां के डॉक्टर
Dr.Nikhil Patil

Dr.Nikhil Patil

सामान्य चिकित्सा
4 वर्षों का अनुभव

Dr Ashwani Kumar

Dr Ashwani Kumar

सामान्य चिकित्सा
20 वर्षों का अनुभव

Dr. Abhishek Ranga

Dr. Abhishek Ranga

सामान्य चिकित्सा
1 वर्षों का अनुभव

Dr. Syed Niyamatullah Quadri

Dr. Syed Niyamatullah Quadri

सामान्य चिकित्सा
1 वर्षों का अनुभव

ऐप पर पढ़ें