भारत में डायबिटीज के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. बच्चे, बड़े, बुजुर्ग सभी उम्र के लोग इससे परेशान हैं. डायबिटीज में रोगी का ब्लड शुगर लेवल बढ़ जाता है, जो कई गंभीर परेशानियों का कारण बनता है. डायबिटीज वाले लोगों को शुगर लेवल कंट्रोल में रखने के लिए डाइट का खास ध्यान रखने की सलाह दी जाती है. ऐसे में फल अच्छी डाइट का हिस्सा होते हैं, लेकिन इनमें शुगर अधिक मात्रा में होती है. ऐसे में कुछ फल ब्लड शुगर लेवल को बढ़ा सकते हैं. इसलिए इनसे परहेज करना जरूरी है. अब सवाल यह उठता है कि डायबिटीज के मरीज को किस प्रकार के फल नहीं खाने चाहिए?

आज के इस लेख में हम यही जानने का प्रयास करेंगे कि डायबिटीज वाले लोगों को किन फलों से परहेज करना चाहिए -

(और पढ़ें - डायबिटीज में क्या खाना चाहिए)

  1. डायबिटीज में कौन सा फल नहीं खाना चाहिए?
  2. सारांश
डायबिटीज में कौन से फल नहीं खाने चाहिए के डॉक्टर

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डायबिटीज एंड डाइजेस्टिव एंड किडनी डिजीज सलाह देते हैं कि डायबिटीज वाले लोगों को अपनी डाइट में फलों को जरूर शामिल करना चाहिए. फल खाने से व्यक्ति को हृदय रोग और कैंसर होने का जोखिम कम हो सकता है. फल विटामिनमिनरल और फाइबर के अच्छे सोर्स होते हैं, लेकिन कुछ फलों में प्राकृतिक रूप से शुगर की मात्रा अधिक होती है. इसलिए, डायबिटीज से ग्रस्त मरीजों को सोच-समझकर फलों को अपनी डाइट में शामिल करना चाहिए. आइए, जानते हैं कि डायबिटीज के रोगियों को कौन से फल नहीं खाने चाहिए -

शुगर युक्त फल

अगर किसी फल का ग्लाइसेमिक इंडेक्स 70 से 100 के बीच है, तो उसमें चीनी की मात्रा अधिक होती है. तरबूज व पके केले में शुगर की मात्रा अधिक पाई जाती है. डायबिटीज रोगियों को कोशिश करनी चाहिए कि वो इन फलों का सेवन न करें और अगर करना भी चाहते हैं, तो कम से कम मात्रा में खाएं. डायबिटीज रोगियों के लिए कम जीआई वाले फलों का सेवन करना ही उपयुक्त होता है, क्योंकि इनमें शुगर की मात्रा कम होती है. कम जीआई वाले फलों में चेरी व ग्रेपफ्रूट आदि शामिल हैं.

(और पढ़ें - डायबिटीज में खाई जाने वाली सब्जियां)

कार्बोहाइड्रेट से भरपूर फल

डायबिटीज रोगियों को कम और हेल्दी कार्ब्स वाले फूड्स खाने की सलाह दी जाती है. हम जो कार्ब्स लेते हैं, उसका असर ब्लड शुगर लेवल पर सबसे अधिक पड़ता है. इसलिए, शुगर लेवल को कंट्रोल में रखने के लिए हेल्दी कार्बोहाइड्रेट लेने चाहिए. साथ ही हाई कार्बोहाइड्रेट से परहेज करना चाहिए. केला, आमसेब और अनानास में कार्ब्स अधिक होते हैं, इसलिए डायबिटीज रोगियों को इन फलों का सेवन सीमित मात्रा में ही करना चाहिए. एक सेब में करीब 20 ग्राम कार्ब्स होते हैं, जबकि केले में 30 ग्राम तक कार्ब्स हो सकते हैं. कम कार्ब्स वाले फलों में बेरीज, एवोकाडो व आड़ू आदि शामिल हैं.

(और पढ़ें - डायबिटीज डाइट चार्ट)

फलों का जूस

सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) के अनुसार फलों का जूस पीने से डायबिटीज रोगी का ब्लड शुगर लेवल तेजी से बढ़ सकता है. ताजे फलों का सेवन रक्त में शर्करा के अवशोषण को धीमा कर देता है. अध्ययन बताते हैं कि जो लोग फलों का रस पीते हैं, उनमें डायबिटीज विकसित होने की आशंका अधिक होती है. इसके मुकाबले ताजे फल खाने वाले लोगों में टाइप 2 डायबिटीज होने का जोखिम कम होता है. साथ ही जो डायबिटीज रोगी ताजे फल खाते हैं, उनमें हृदय रोग विकसित होने का जोखिम भी कम होता है.

(और पढ़ें - डायबिटीज में फायदेमंद फल)

फल सभी की डाइट का जरूरी हिस्सा होता है. हालांकि फलों में अधिक मात्रा में शुगर होती है, जो डायबिटीज रोगियों के ब्लड शुगर लेवल को प्रभावित कर सकती है. इसलिए, डायबिटीज के रोगी को फलों का सेवन भी समझदारी से करना चाहिए. उन्हें हमेशा, कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स व कम कार्ब्स वाले फलों का सेवन करना चाहिए. अब किसके लिए कौन-सा फल सही है, इस बारे में मरीज अपने डॉक्टर से पूछ सकता है.

(और पढ़ें - डायबिटीज में परहेज)

Dt. Sonal jain

Dt. Sonal jain

आहार विशेषज्ञ
5 वर्षों का अनुभव

Dt. Rajni Sharma

Dt. Rajni Sharma

आहार विशेषज्ञ
7 वर्षों का अनुभव

Dt. Neha Suryawanshi

Dt. Neha Suryawanshi

आहार विशेषज्ञ
10 वर्षों का अनुभव

Dt. Ayushi Shah

Dt. Ayushi Shah

आहार विशेषज्ञ
2 वर्षों का अनुभव

ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ