myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम (आईबीएस) एक ऐसा विकार है जिसमें बड़ी आंत प्रभावित हो जाती है जिस कारण लंबे समय तक कब्ज, दस्त और पेट में ऐंठन जैसी दिक्कत हो जाती है। यह लक्षण आते जाते हैं और तीव्रता में भिन्न हो सकते हैं।

इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम का कारण अभी तक स्पष्ट नहीं है, लेकिन यह खराब आहार, जीवन शैली, तनाव, संक्रमण और फैमिली हिस्ट्री (मरीज व उसके परिवार के सदस्यों में विकारों एवं बीमारियों का रिकॉर्ड) से जुड़ा हो सकता है। तंत्रिका तंत्र और आंतों की मांसपेशियों के बीच असामान्य संचार भी इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम का कारण हो सकता है।

ज्यादातर मामलों में इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम का इलाज जीवन शैली और आहार में बदलाव के माध्यम से किया जाता है। उचित मात्रा में फाइबर का सेवन करने से इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम के लक्षणों को प्रबंधित करने में मदद मिल सकती है। कुछ मामलों में 'लो फर्मेंटिंग कार्बोहाइड्रेट डाइट' लेने की भी सलाह दी जाती है।

इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम के इलाज में होम्योपैथिक दवाइयां जैसे कि अर्जेंटम नाइट्रिकम, कोलोसिन्थिस, लाइकोपोडियम, पोडोफाइलम और सल्फर प्रभावशाली साबित हुई हैं।

होम्योपैथी के दो मूल सिद्धांत हैं :

  • लाइक क्योर लाइक : इसका मतलब है कि किसी स्वस्थ व्यक्ति में लक्षण पैदा करने वाले पदार्थ का उपयोग करके समान लक्षणों वाले बीमार व्यक्ति के इलाज का प्रयास किया जा सकता है, बशर्ते इन दवाओं की खुराक उचित मात्रा में ली जाए।
  • लीस्ट अमाउंट रिक्वायर्ड : यह सिद्धांत बताता है कि होम्योपैथिक दवाएं गुणकारी और अत्यधिक घुलनशील रूप में तैयार की जाती है और बहुत ही कम खुराक की जरूरत होती है।

आमतौर पर होम्योपैथिक दवाओं के दुष्प्रभाव या तो नहीं होते हैं या न्यूनतम होते हैं।

  1. इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम (आईबीएस) के लिए होम्योपैथिक दवाएं - Irritable bowel syndrome ki homeopathic medicines
  2. होम्योपैथी के अनुसार इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम के लिए आहार और जीवन शैली में बदलाव - Irritable bowel syndrome ke liye khanpan aur jeevan shaili me badlav
  3. इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम के लिए होम्योपैथिक दवाएं और उपचार कितने प्रभावी हैं - Irritable bowel syndrome ki homeopathic medicine kitni effective hai
  4. इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम के लिए होम्योपैथिक दवा के नुकसान और जोखिम - Irritable bowel syndrome ki homeopathic medicine ke nuksan
  5. इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम के होम्योपैथिक उपचार से संबंधित टिप्स - Irritable bowel syndrome ki homeopathic treatment se jude tips

एलो
सामान्य नाम :
एलो सोकोट्रिन
लक्षण : एलो को अक्सर मल त्याग में सुधार के लिए इस्तेमाल किया जाता है। यह निम्नलिखित लक्षणों को सुधारने में भी मदद करता है :

  • मल पास करने की तुरंत जरूरत
  • पेट फूलना और पेट भरा महसूस होना
  • मल त्याग करने से पहले और बाद में पेट में ऐंठन
  • खाने या पीने के बाद मल को पारित करने की तेज इच्छा
  • सुबह चमकदार पीले रंग के दस्त

यह लक्षण सुबह के समय खराब हो जाते हैं।

एंटीमोनियम क्रूडम
सामान्य नाम :
ब्लैक सल्फाइड ऑफ एंटीमोनी
लक्षण : एंटीमोनियम क्रूडम कब्ज और आंतों के विकारों के लिए एक प्रसिद्ध दवा है। यह निम्नलिखित लक्षणों को दूर करने में मदद करती है :

  • मल में बलगम
  • पानी जैसे दस्त
  • बारी-बारी से दस्त और कब्ज की शिकायत होना, विशेष रूप से बुजुर्गों में
  • मल को पारित करने की तेज इच्छा
  • खट्टा पेय या सिरका जैसे अम्लीय भोजन करने पर ढीला मल

शराब या अम्लीय उत्पादों के सेवन से व्यक्ति की हालत बिगड़ जाती है। खुली हवा में रहने से लक्षणों में सुधार होता है।

अर्जेन्टम नाइट्रिकम
सामान्य नाम :
नाइट्रेट ऑफ सिल्वर
लक्षण : अर्जेन्टम नाइट्रिकम उन व्यक्तियों के लिए निर्धारित किया जाता है जो मार्मिक और सहज होते हैं। इसके अलावा जो व्यक्ति गर्मी बर्दाश्त नहीं कर पाते, उनके लिए भी यह दवा असरदार है। यह निम्नलिखित लक्षणों का प्रबंधन भी कर सकता है :

  • पेट फूलना
  • कुछ खाने या पीने के बाद तुरंत मल पास करने की इच्छा
  • पानी जैसा मल
  • मिठाइयों के सेवन के बाद दस्त बढ़ जाना
  • बलगम के साथ हरे रंग का मल

यह लक्षण रात में, गर्म वातावरण में और मीठा खाने के बाद खराब हो जाते हैं, जबकि खुली हवा में समय बिताने पर अस्थायी राहत मिलती है।

आर्सेनिकम एल्बम
सामान्य नाम :
आर्सेनिक एसिड
लक्षण : आर्सेनिकम एल्बम से निम्नलिखित लक्षणों को ठीक किया जा सकता है :

  • मल को पारित करते समय अत्यधिक तनाव
  • कम व गहरे रंग में मल
  • खाने या पीने के बाद मल त्याग करने की तेज इच्छा
  • मल में खून के साथ पेचिश बनना

यह लक्षण गीले और ठंडे मौसम में, कोल्ड ड्रिंक या कुछ खाने से बिगड़ जाते हैं, जबकि हीट अप्लाई (जैसे गर्म सिकाई) से राहत मिलती है। हालांकि, यह स्थिति मध्यरात्रि के बाद खराब हो जाती है।

एसा फोटिडा
सामान्य नाम :
गम ऑफ दि स्टिंकसंड 
लक्षण : पेट में गैस की तकलीफ के साथ पेट में कभी-कभी व अनियमित रूप से संकुचन को एसा फोटिडा के जरिए ठीक किया जा सकता है। इससे जिन अन्य सामान्य लक्षणों को ठीक किया जा सकता है उनमें शामिल हैं :

  • अत्यधिक मल (पानीदार और मोटी) त्याग करना
  • पेट में दर्द
  • दस्त
  • मल से बहुत दुर्गंध आना
  • पेरिनेम (गुदा और जननांगों के बीच का हिस्सा) में दर्दनाक सनसनी

यह लक्षण गर्म मौसम और रात में खराब हो जाते हैं जबकि खुली हवा में इनमें सुधार होता है।

कोलोसिंथिस
सामान्य नाम :
बिटर एप्पल
लक्षण : झुकने, मुड़ने या किसी भी तरह की गति करने से पेट में अत्यधिक दर्द होना। यह अन्य लक्षणों को दूर करने में भी मदद करता है जैसे :

  • हरा-पीला, बहुत बदबूदार मल
  • पेट में पथरी होने पर ऐसा महसूस होना जैसे कब्ज
  • मल पास करते समय दर्द
  • चिकना या चिपचिपा दस्त

यह लक्षण रोगी के क्रोधित होने या असंतोष होने पर बदतर हो जाते हैं और गर्म वातावरण में ठीक हो जाते हैं।

इग्नेटिया अमारा
सामान्य नाम :
सेंट इग्नेटियस बीन
लक्षण : इग्नेटिया अमारा उन व्यक्तियों के लिए निर्धारित की जाती है जिन्हें मल त्याग करने में दिक्कत आती है। ऐसे व्यक्तियों द्वारा दिखाए गए अन्य लक्षणों में शामिल हैं :

  • मल पारित करने के लिए तेज इच्छा
  • ठंडा भोजन या पेय लेने के बाद कब्ज की शिकायत
  • ऊपरी पेट में दर्द के साथ पेट में गड़गड़ाहट की आवाज आना
  • मल सख्त होना, जिसे त्याग करने में कठिनाई होना और परिणामस्वरूप तेज थकावट होना
  • बलगम के साथ पानीदार दस्त

यह लक्षण सुबह के समय, हार्ड ड्रिंक्स और धूम्रपान करने के बाद बिगड़ जाते हैं जबकि भोजन के बाद सभी शिकायतें ठीक हो जाती हैं।

लिलियम टिग्रीनम
सामान्य नाम :
टाइगर लिली
लक्षण : इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम के रोगियों में निम्नलिखित लक्षणों को दूर करने में मदद करता है :

  • मल ढीला व गहरे रंग का होना
  • मल पास करने की लगातार इच्छा के साथ गुदा के आसपास दबाव महसूस करना
  • मल के पारित होने के बाद दर्द होना
  • सुबह के समय दस्त होना
  • मल पास करने के लिए तेज इच्छा होना, जिसे नियंत्रित नहीं किया जा सकता है

सभी शिकायतें सुबह के समय और खाने के बाद खराब हो जाती हैं।

लाइकोपोडियम क्लैवेटम
सामान्य नाम :
क्लब मॉस
लक्षण : यह उपाय कब्ज और मल त्याग से संबंधित कुछ स्थितियों के लिए निर्धारित है। निम्नलिखित ऐसे लक्षण बताए गए हैं, जिन्हें लाइकोपोडियम क्लैवेटम के जरिये ठीक किया जा सकता है :

  • कम और सख्त मल
  • मल पारित करने के लिए अप्रभावी इच्छा
  • नरम मल पास करते समय भी ब्लीडिंग

यह लक्षण गर्म जलवायु के परिणामस्वरूप बढ़ जाते हैं, जबकि तापमान में गिरावट या मामूली गतिविधि दर्द को कम करती है।

नैट्रियम कार्बोनिकम
सामान्य नाम :
कार्बोनेट ऑफ सोडियम
लक्षण : मेटाबोलिक कार्यों को प्रोत्साहित करने के लिए नैट्रियम कार्बोनिकम का इस्तेमाल किया जाता है। इसके अलावा यह निम्नलिखित लक्षणों को भी ठीक करता है :

  • दूध पसंद न करना और दूध पीने के बाद दस्त होना
  • कमजोर पाचन, जिसके चलते दस्त की समस्या होती है
  • मल में पीला डिस्चार्ज होना
  • मल को पारित करने की तेज इच्छा

मानसिक थकान के साथ गर्मी और सूरज के संपर्क में आने से स्थिति और बिगड़ जाती है, लेकिन रोगी गतिविध करने पर बेहतर महसूस करता है।

(और पढ़ें - इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम की आयुर्वेदिक दवा और इलाज

आंतों के कार्य में परिवर्तन होना एक आम शिकायत है जो अक्सर किसी न किसी को प्रभावित करती है। इस स्थिति में उनके दिन-प्रतिदिन के कामकाज में बहुत असुविधा होती है। हालांकि, इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम का कोई स्पष्ट कारण नहीं है, लेकिन ऐसा माना जाता है कि खराब जीवन शैली और खराब आहार इससे जुड़ा हो सकता है।

इसलिए, होम्योपैथिक चिकित्सक आमतौर पर बहुत अधिक फाइबर वाले भोजन और स्वस्थ खाद्य पदार्थों को आहार में लेने की सलाह देते हैं। अधिकांश होम्योपैथिक डॉक्टर अपने रोगियों को ध्यान में रखने के लिए निम्नलिखित सलाह देते हैं :

क्या करना चाहिए

  • खुद को व अपने आसपास के वातावरण को साफ सुथरा रखें।
  • प्रभावित व्यक्ति की पसंद के अनुसार कमरे में तापमान को एडजस्ट करें।
  • व्यक्तिगत स्वच्छता प्राथमिकता होनी चाहिए।

क्या नहीं करना चाहिए

  • ट्रीटमेंट के दौरान शराब और तम्बाकू के सेवन से बचना चाहिए। यहां तक कि तेज कैफीन युक्त पेय का सेवन भी नहीं करना चाहिए, क्योंकि वे होम्योपैथिक दवाओं के असर को प्रभावित कर सकते हैं।
  • खट्टे और मसालेदार खाद्य पदार्थों का सेवन न करें क्योंकि वे होम्योपैथिक उपचार के काम में एक बड़ी बाधा बन सकते हैं और इसके परिणामस्वरूप रोगी की स्थिति बिगड़ सकती है।
  • जोरदार कार्यों और अभ्यास से बचें।
  • ऐसे खाद्य उत्पादों से बचें, जिन्हें सेवन के बाद तुरंत मल त्याग करने की जरूरत पड़ सकती है।

(और पढ़ें - इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम के लिए व्यायाम)

इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम दुनिया भर में बड़ी संख्या में लोगों को प्रभावित करने वाली एक आम स्थिति है, जिसमें महिलाएं पुरुषों की तुलना में दोगुना प्रभावित होती हैं। वैसे तो इस स्थिति के लिए कोई विशिष्ट उपचार उपलब्ध नहीं है, लोग राहत पाने के लिए चिकित्सा की वैकल्पिक प्रणाली की तलाश करते हैं लेकिन होम्योपैथी में ऐसा उपचार है, जो इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम के लक्षणों से निपटने में प्रभावी है।

जर्नल ऑफ अल्टर्नेटिव एंड कॉम्लीमेंटरी मेडिसिन में प्रलेखित एक केस स्टडी के अनुसार, होम्योपैथिक उपचार कब्ज और दस्त जैसी आंत की समस्याओं के प्रबंधन में प्रभावी हैं। अध्ययन के लिए, दस्त और कब्ज की शिकायत वाले 28 रोगियों को चुना गया था। इन रोगियों को उनकी स्थिति के अनुसार अलग-अलग होम्योपैथिक दवाइयां दी गईं। उपचार के एक महीने बाद परिणामों का मूल्यांकन किया गया और यह पाया गया कि 26 प्रतिशत रोगियों में बड़ा सुधार हुआ और लगभग 70 प्रतिशत लक्षण ठीक हुए।

ब्रिटिश होम्योपैथिक एसोसिएशन में प्रकाशित एक अन्य अध्ययन से जानकारी मिली है कि रोगी के लक्षणों की समग्रता के आधार पर, इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम के इलाज के लिए सल्फर, कोलोसिंथ, आर्सेनिकम एल्बम और लाइकोपोडियम जैसे होम्योपैथिक उपचार का सफलतापूर्वक उपयोग किया गया है।

एक अन्य पायलट स्टडी (छोटे पैमाने पर किया गया एक शुरुआती अध्ययन, जिसमें मुख्य अध्ययन के महत्वपूर्ण घटकों की जांच की जाती है) में पाया गया कि होम्योपैथिक दवाओं का चिकित्सीय प्रभाव होता है। अध्ययन के लिए, इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम वाले 100 रोगियों को या तो होम्योपैथिक उपचार दिया गया या पारंपरिक चिकित्सा के साथ-साथ 'सपोर्टिव लिसनिंग थेरेपी' दी गई थी। दोनों समूह में से होम्योपैथिक दवाएं प्राप्त करने वाले समूह के लक्षणों में अधिक सुधार देखने को मिला। इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम से ग्रस्त लोगों को लक्षणों के आधार पर व्यक्तिगत होम्योपैथिक उपचार दिए गए थे। इस दौरान किसी भी प्रतिभागियों द्वारा कोई प्रतिकूल प्रभाव की जानकारी नहीं मिली।

होम्योपैथिक डॉक्टर व्यक्ति के वर्तमान और पिछले मेडिकल रिकॉर्ड की व्यापक जांच के बाद सावधानीपूर्वक उपाय का चयन करते हैं। उपचार रोगी के शारीरिक और मानसिक दोनों लक्षणों के साथ-साथ बीमारी के विशिष्ट लक्षणों को भी ठीक करते हैं। इसलिए इनका कोई दुष्प्रभाव नहीं होता है।
इसके अतिरिक्त, होम्योपैथिक उपचारों को अत्यधिक पतले खुराक में प्रशासित किया जाता है, जिस कारण एलर्जी जैसी प्रतिक्रिया का जोखिम भी नहीं रहता है।

इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम एक सामान्य स्थिति है जो पेट संबंधित परेशानी का कारण बन सकती है। पारंपरिक उपचार में जीवनशैली और आहार परिवर्तन के साथ लक्षणों का प्रबंधन शामिल है। होम्योपैथिक उपचार न सिर्फ लक्षणों को ठीक करने पर फोकस करती है, बल्कि समग्र स्वास्थ्य में भी सुधार करती है।

कई अध्ययनों और उपचारों से पता चला है कि होम्योपैथी न सिर्फ इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम के मामले में असरदार है बल्कि इसका कोई साइड इफेक्ट भी नहीं है। इसे हर आयु वर्ग के लोग प्रयोग में ला सकते हैं। 

और पढ़ें ...

References

  1. National Institute of Diabetes and Digestive and Kidney Diseases [internet]: US Department of Health and Human Services; Irritable Bowel Syndrome (IBS)
  2. Better health channel. Department of Health and Human Services [internet]. State government of Victoria; Irritable bowel syndrome (IBS)
  3. American Society of Colon and Rectal Surgeons [Internet] Columbus, Ohio; Irritable Bowel Syndrome.
  4. Michigan Medicine: University of Michigan [internet]; Irritable Bowel Syndrome (IBS)
  5. British Homeopathic Association. Irritable Bowel Syndrome (IBS). London; [Internet]
  6. William Boericke. Homoeopathic Materia Medica. Kessinger Publishing: Médi-T 1999, Volume 1
ऐप पर पढ़ें
अभी 195 डॉक्टर ऑनलाइन हैं ।