myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

ब्लड इन यूरिन (हेमाट्यूरिया) टेस्ट क्या है?

पेशाब में खून आने की स्थिति को मेडिकल भाषा में हेमाट्यूरिया कहा जाता है। यह कोई रोग नहीं है, बल्कि स्वास्थ्य संबंधी समस्या से होने वाला एक लक्षण है। हेमाट्यूरिया के आमतौर पर दो प्रकार होते हैं:

  • ग्रोस हेमाट्यूरिया:
    इस स्थिति के दौरान पेशाब में खून दिखने लग जाता है क्योंकि पेशाब का रंग बदल कर लाल या भूरा हो जाता है। कई बार इस स्थिति में पेशाब में खून के थक्के भी देखे जा सकते हैं।
  • माइक्रोस्कोपिक हेमाट्यूरिया:
    जब सामान्य रूप से पेशाब में खून दिखाई ना दे, लेकिन माइक्रोस्कोप की मदद से देखा जा सके, तो इस स्थिति को माइक्रोस्कोपिक हेमाट्यूरिया कहा जाता है। 

हेमाट्यूरिया के कई कारण हो सकते हैं। इनमें निम्न शामिल हैं:

आमतौर पर, हेमाट्यूरिया किसी गंभीर स्थिति का संकेत नहीं देता है। हालांकि, डॉक्टर किसी समस्या या कारण का पता लगा सकते हैं जिस पर चिकित्सीय रूप से ध्यान दिया जाना चाहिए। हेमाट्यूरिया की गंभीरता और इसके पीछे के कारण का पता लगाने के लिए यूरिन टेस्ट किया जाता है। इसके परिणाम आने के बाद सही परीक्षण का पता लगाने के लिए डॉक्टर अन्य ब्लड टेस्ट या इमेजिंग स्टडी करने के लिए कह सकते हैं।

  1. हेमाट्यूरिया टेस्ट क्यों किया जाता है - Blood in Urine (Haematuria) Test Kyu Kiya Jata Hai
  2. ब्लड इन यूरिन टेस्ट से पहले - Blood in Urine (Haematuria) Test Se Pahle
  3. ब्लड इन यूरिन टेस्ट के दौरान - Haematuria Test Ke Dauran
  4. ब्लड इन यूरिन (हेमाट्यूरिया) टेस्ट के परिणाम का क्या मतलब है - Blood in Urine Test Ke Parinam Ka Kya Matlab Hai

ब्लड इन यूरिन (हेमाट्यूरिया) टेस्ट किसलिए किया जाता है?

ऐसा हो सकता है कि पेशाब में खून आने के अलावा आपको कोई और लक्षण दिखाई न दें। हालांकि, अगर कोई स्थिति है जो हेमाट्यूरिया का कारण बन रही है, तो कुछ और लक्षण भी दिखाई दे सकते हैं। निम्न लक्षणों के दिखने पर डॉक्टर यूरिन टेस्ट करवाने की सलाह दे सकते हैं:

ब्लड इन यूरिन (हेमाट्यूरिया) टेस्ट की तैयारी कैसे करें?

इस टेस्ट के लिए किसी विशेष तैयारी की जरूरत नहीं होती। हालांकि, डॉक्टर हेमाट्यूरिया के सही कारण को जानने के लिए आपसे आपकी और आपके परिवार की पिछली मेडिकल स्थितियों के बारे में पूछ सकते हैं। यदि आप कोई दवा, सप्लीमेंट, हर्बल मेडिसिन या डॉक्टर की सलाह पर कोई भी दवा ले रहे हैं तो इसके बारे में डॉक्टर को बताएं।

ब्लड इन यूरिन (हेमाट्यूरिया) टेस्ट कैसे किया जाता है?

यह बहुत ही सामान्य टेस्ट है इसमें किसी प्रकार की कोई तकलीफ या जोखिम नहीं होता। इस टेस्ट के लिए केवल एक यूरिन सैंपल की ही जरूरत होती है। टेस्ट के सैंपल या तो घर पर या हॉस्पिटल लैब में लिए जाएंगे।

सैंपल लेने के लिए आपको एक कंटेनर दिया जाएगा। यदि 24 घंटे के यूरिन सैंपल लेने हैं, तो एक से ज्यादा कंटेनर दिए जाएंगे।

24 घंटे के यूरिन सैंपल को सुबह से लेना शुरू किया जाता है। सुबह के सबसे पहले यूरिन को नहीं लेना होगा। इसके बाद 24 घंटे के सारे यूरिन को इकट्ठा किया जाना होगा। 

यूरिन के कंटेनर को किसी ठंडी जगह में रखना होगा या इसे फ्रिज में भी रखा जा सकता है। कंटेनर पर सैंपल लेने का समय, नाम और तारीख लिखना न भूलें।

सैंपल लेने के बाद सैंपल को जल्द से जल्द परीक्षण के लिए लैब में ले जाया जाना चाहिए।

यदि टेस्ट किसी नवजात शिशु का किया जा रहा है, तो बच्चे के मूत्रमार्ग के बाहरी हिस्से को ठीक से साफ किया जाना चाहिए और सैंपल लेने के लिए उपयोग किए जा रहे बैग को अच्छे से लगाना चाहिए, ताकि यूरिन बाहर न निकले। लिए गए सैंपल को टेस्ट के लिए जल्द से जल्द लैब में भेज देना चाहिए।

ब्लड इन यूरिन (हेमाट्यूरिया) टेस्ट के परिणाम क्या बताते हैं?

सामान्य परिणाम:
आपके लक्षणों और टेस्ट के परिणाम के आधार पर डॉक्टर यह बताएंगे कि हेमाट्यूरिया के लिए आपको चिंतित होना चाहिए या नहीं। अमेरिकन यूरोलॉजिकल एसोसिएशन के अनुसार, यूरिन के माइक्रोस्कोपिक परीक्षण (हाई पावर्ड फिल्ड) में 0-3 लाल रक्त कोशिकाएं दिखाई देना सामान्य स्थिति होती है।

असामान्य परिणाम:
यदि परिणाम असामान्य आए हैं तो किडनी और ब्लैडर की कार्य प्रक्रिया की जांच के लिए डॉक्टर अन्य टेस्ट करवाने की सलाह भी दे सकते हैं। प्रति हाई पावर्ड यूरिन में तीन से ज्यादा लाल रक्त कोशिकाएं हेमाट्यूरिया की तरफ संकेत करते हैं:

हेमाट्यूरिया के निम्न कारण हो सकते हैं:

  • किडनी में संक्रमण 
  • यूटीआई 
  • ऐसे शारीरिक व्यायायम जिनमें शरीर पर अधिक तनाव पड़ता हो
  • विषाक्त पदार्थों के संपर्क में आना
  • ब्लैडर में किसी प्रकार की चोट या क्षति होना
  • किडनी या ब्लैडर में पथरी
और पढ़ें ...

References

  1. American College of Radiology (ACR), the Society of Interventional Radiology (SIR), and the Society for Pediatric Radiology; Hematuria or blood in urine
  2. National Institute of Diabetes and Digestive and Kidney Diseases [internet]: US Department of Health and Human Services; Hematuria (Blood in urine)
  3. Urology Care Foundation. American Urological Association [internet]. Maryland. U.S. Repeat Urine Testing
  4. Meng MV, Stoller ML, Walsh TJ. Chapter 23. Urologic Disorders. In: Papadakis MA, McPhee SJ, Rabow MW, Eds. Current Medical Diagnosis & Treatment 2013. New York: McGraw – Hill; 2013.
  5. Shah AP. Merck Manual Professional Version [Internet]. Kenilworth (NJ): Merck & Co. Inc.; c2019. Isolated hematuria.
  6. Davis R, et al. Diagnosis, evaluation and follow up of AMH in adults. AUA guidelines. J Urol. 2012 Dec;188(6 Suppl):2473-81. PMID: 23098784.