अश्वगंधा या विथानिया सोम्निफेरा को एडाप्टोजेनिक जड़ी बूटी माना गया है. इसका उपयोग भारतीय और अफ्रीकी पारंपरिक चिकित्सा में वर्षों से किया जाता रहा है. माना जाता है कि एडाप्टोजेन्स शरीर को मानसिक से लेकर शारीरिक तक सभी प्रकार के तनाव से बाहर निकालने में मदद कर सकते हैं.

अश्वगंधा को वजन बढ़ाने के लिए उपयोगी माना जाता है. इसे किस तरह से और कब लिया जाता है, यही चीज वजन बढ़ाने के लिए जिम्मेदार होती है. कई रिसर्च ये साबित कर चुके हैं कि अश्वगंधा के सेवन से वजन बढ़ाया जा सकता है. फिलहाल, इस पर अधिक रिसर्च की जा रही हैं. वजन बढ़ाने के लिए अश्वगंधा को नाश्ते में कम से कम 20 मिनट पहले या बाद में एक कप दूध के साथ लेना चाहिए.

आज इस लेख में जानेंगे, वजन बढ़ाने के लिए अश्वगंधा का प्रयोग कैसे करें -

(और पढ़ें - वजन बढ़ाने के लिए कितनी कैलोरी चाहिए)

  1. वजन बढ़ाने के लिए अश्वगंधा का प्रयोग कैसे करें?
  2. वजन व अश्वगंधा के संबंध में रिसर्च
  3. सारांश
वजन बढ़ाने के लिए अश्वगंधा का प्रयोग और सेवन कैसे करें के डॉक्टर

अश्वगंधा का सेवन जड़, गोली व पाउडर के रूप में किया जा सकता है. वजन बढ़ाने के लिए अश्वगंधा को चूर्ण के रूप में, शहद या घी में मिलाकर लिया जाता है. आइए विस्तार से जानें, वजन बढ़ाने के लिए अश्वगंधा का प्रयोग कैसे करें-

  • अश्वगंधा की तेज गंध के कारण इसका कच्चा सेवन करना मुश्किल हो सकता है. ऐसे में इसे और अधिक टेस्टी बनाने के लिए लोग दूध, शहद या घी के साथ मिलाकर इसका सेवन करते हैं. यह अश्वगंधा के पोषण मूल्य को भी बढ़ाता है और वजन बढ़ाने में मदद करता है. 
  • अश्वगंधा पाउडर को घी में भूनकर उसमें 1 खजूर या 1 चम्मच चीनी मिलाएं और सेवन करें. इससे वजन बढ़ाने में मदद मिल सकती है.
  • अश्वगंधा को नाश्ते से कम से कम 20 मिनट पहले या बाद में दिन में एक कप दूध के साथ लेने से वजन बढ़ाने में मदद मिल सकती है. हालांकि, अश्वगंधा को सुबह, रात या दिन में किसी भी समय लिया जा सकता है. अश्वगंधा लेने का समय ज्यादातर व्यक्तिगत प्राथमिकताओं, सहनशीलता और अश्वगंधा के प्रकार पर निर्भर करता है.
  • वजन बढ़ाने के लिए अश्वगंधा के चूर्ण को घी, चीनी या शहद के साथ लिया जा सकता है. अश्वगंधा के चूर्ण को शुद्ध देसी घी में उबालकर लें. बेहतर स्वाद और अधिक पोषण मूल्य के लिए आप इसमें एक चुटकी इलायची मिला सकते हैं.
  • अश्वगंधा को दूध में उबालकर या काढ़ा बनाकर अश्वगंधा चाय तैयार की जा सकती है. इस चाय के स्वाद को बेहतर बनाने के लिए शहद मिला सकते हैं.
  • अश्वगंधा को मिठाई, नमकीन कुकीज, अश्वगंधा बॉल्स और श्रीखंड में मिलाकर भी सेवन किया जा सकता है.
  • अश्वगंधा के पत्तों को भी वजन बढ़ाने के लिए उपयोग किया जा सकता है. अश्वगंधा के पत्तों को अच्छी तरह धोकर एक ट्रे में रख दें. अगले दो दिन तक पत्तियों को धूप में सूखने दें. एक बार जब पत्ते सूख जाएं, तो इसे पीसकर बारीक पाउडर बना लें. आधा चम्मच इस चूर्ण को एक कप गर्म पानी या दूध में मिलाएं. इस मिश्रण को दिन में दो बार पी सकते हैं. लंबे समय तक वजन बढ़ाने के लिए एक महीने तक अश्वगंधा चूर्ण पानी या दूध के साथ लें.
  • आयुर्वेदिक अश्वगंधा पाउडर को वजन बढ़ाने के लिए उपयोग करें. एक चम्मच पाउडर को गर्म पानी या दूध के साथ मिलाएं. बेहतर स्वाद के लिए आप इस मिश्रण में थोड़ा-सा शहद मिला सकते हैं. मिश्रण को अच्छी तरह से हिलाएं और प्रभावी परिणाम देखने के लिए दिन में एक या दो बार इसका सेवन करें.
  • वजन बढ़ाने के लिए रोजाना 1 या 2 गोलियों का सेवन करें. इन गोलियों को पानी के साथ निगल लें.
  • वजन बढ़ाने के लिए अश्वगंधा लेह्यम का भी इस्तेमाल कर सकते हैं. ये ट्रेडिशनल फॉर्मूला जैम की तरह बनता है. इसमें अश्वगंधा मुख्य सामग्री के रूप में इस्तेमाल होता है. इसे बनाने के लिए चीनी या गुड़ और घी के साथ मिलाएं. मिश्रण को गर्म करें. आप रोजाना छह ग्राम अश्वगंधा लेह्यम दूध के साथ ले सकते हैं. इसे खाने से एक घंटा पहले या रोजाना खाने के दो घंटे बाद ले सकते हैं. 
  • वजन बढ़ाने के लिए अश्वगंधा को शतावरी के साथ लिया जा सकता है. एक रिसर्च के मुताबिक, वजन बढ़ाने के लिए अश्वगंधा के साथ शतावरी का उपयोग लाभदायक है. शतावरी पाचन में मदद करती है और भूख बढ़ाती है. यह शरीर को मांसपेशियों के निर्माण और वजन बढ़ाने के लिए पर्याप्त पोषण प्रदान करता है.

(और पढ़ें - वजन बढ़ाने के लिए खाएं ये सब्जी)

अश्वगंधा लेने की सिफारिश अक्सर उन लोगों के लिए की जाती है, जो वजन बढ़ाने के लिए आयुर्वेदिक दवा की तलाश में हैं. आइए जानें, वजन बढ़ाने के लिए अश्वगंधा के बारे में -

  • एक रिसर्च के मुताबिक, प्रतिदिन 600 मिलीग्राम अश्वगंधा का सेवन करने से न सिर्फ मांसपेशियों की ताकत बढ़ती है, बल्कि‍ उनके आकार को बढ़ाने में भी मदद मिलती है. साथ ही ये भी पाया गया कि इसके रोजाना सेवन से कोई प्रतिकूल प्रभाव नहीं पड़ता. कई शोधों से ये बात भी सामने आई है कि अश्वगंधा का प्रभाव तत्काल नहीं होता है, इसलिए इसके प्रभावों को नोटिस करने से पहले इसे कई महीनों तक लेना पड़ सकता है.
  • एक अन्य रिसर्च के मुताबिक, अश्वगंधा वजन बढ़ाने पर कोई सीधा प्रभाव नहीं डालता. हालांकि, यह उस मूल कारण को दूर करने में मदद करता है, जो आपको वजन बढ़ने से रोकता है. कई बार वजन बढ़ने में कठिनाई होने का कारण तनाव, पाचन-तंत्र खराब होना, प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर होना और आंतों का स्वास्थ्य ठीक न होना है. एंटी-ऑक्सीडेंट, एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी-माइक्रोबियल गुणों से भरपूर अश्वगंधा मेटाबॉलिज्म को बढ़ावा देता है, पाचन में सुधार करता है और तनाव का प्रबंधन करता है और साथ ही शरीर की ताकत बढ़ाता है.

(और पढ़ें - वजन बढ़ाने के लिए खाएं ये फल)

अश्वगंधा बेशक एक प्राकृतिक आयुर्वेदिक जड़ी-बूटी है. ये न सिर्फ कई स्वास्थ्य लाभ देती है, बल्कि इसका रोजाना सेवन दूध, पानी, घी या शहद के साथ सेवन करने से आसानी से वजन बढ़ाया जा सकता है. बेशक, अश्वगंधा का बहुत कम या कोई साइड इफेक्ट नहीं है, लेकिन गलत खुराक या अत्यधिक सेवन से उल्टि‍यां होना, दस्त लगना या लिवर की समस्या हो सकती हैं. इसके अलावा, गर्भवती महिलाएं अश्वगंधा का किसी भी रूप में इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें.

(और पढ़ें - वजन बढ़ाने के लिए खाएं किशमिश)

Dr. Gourav Vashishth

Dr. Gourav Vashishth

आयुर्वेद
5 वर्षों का अनुभव

Dr. Anil Sharma

Dr. Anil Sharma

आयुर्वेद
8 वर्षों का अनुभव

Dr. Prerna Choudhary

Dr. Prerna Choudhary

आयुर्वेद
6 वर्षों का अनुभव

Dr. Satpal

Dr. Satpal

आयुर्वेद
24 वर्षों का अनुभव

ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ