myUpchar प्लस+ के साथ पुरे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

एक महिला के जीवन में गर्भावस्था एक मैजिकल टाइम होता है। एक माँ अपने बच्चे को हर संभव खतरे से बचाना चाहती है। तो आप उसी समय से अपने बच्चे की देखभाल शुरू कर सकती हैं जब आपका बच्चा आपके गर्भ में होता है। अच्छी खबर आने के तुरंत बाद, आपके परिवार में हर कोई आप को स्वस्थ गर्भावस्था के लिए क्या करना चाहिए और क्या नहीं, के बारे में बताना शुरू कर देता है। लेकिन आप चिंता मत कीजिये और एक गहरी लम्बी सांस लें क्योंकि आयुर्वेद के पास आपकी इस चिंता का हल है।

आइए हम आयुर्वेदिक तरीके से आपकी मदद करें जो आपको इस चिंता को पूरी तरह से मुक्त करने में मदद करेंगे। जिस प्रकार एक स्वस्थ पौधे के लिए एक अच्छी गुणवता वाले बीज और उचित देखभाल की ज़रूरत पड़ती है, वैसे ही बच्चे के समुचित पोषण और विकास के लिए, आयुर्वेद स्वस्थ गर्भाशय पर बहुत जोर देता है जहा पर एक भ्रूण पनपता है। एक भ्रूण या गर्भ का गठन पुरुष और महिला के मिलन के साथ होता है। एक बार ऐसा हो जाने पर, आयुर्वेद नयी माता के आहार, जीवन शैली और विचार पर जोर देता है ताकि एक गर्भवती महिला अपने बच्चे की अच्छी तरह से देखभाल कर सके -

  1. गर्भावस्था के दौरान पौष्टिक भोजन है जरूरी - Eat Healthy Food During Pregnancy in Hindi
  2. मॉर्निंग सिकनेस का उपाय इन प्रेगनेंसी - Remedies for Morning Sickness in Early Pregnancy in Hindi
  3. गर्भावस्था के दौरान व्यायाम है ज़रूरी - Do Exercise During Pregnancy in Hindi
  4. गर्भावस्था के समय आराम करना है ज़रूरी - Rest During Pregnancy is Important in Hindi
  5. गर्भावस्था में छोड़ें बुरी आदतों को - Ditch Bad Habits During Pregnancy in Hindi
  6. गर्भावस्था के समय अपनाएं अच्छी आदतें - Healthy Pregnancy Tips for Pregnant Women in Hindi
  7. गर्भावस्था के दौरान ज़रूरत है खुश रहने की - Happy Pregnancy Happy Baby in Hindi
  8. गर्भावस्था के समय मालिश है लाभदायक - Massage During Pregnancy in Hindi
  9. आयुर्वेद के अनुसार बच्चे के जन्म से पूर्व होने वाली माताओं को करना चाहिए इन बातों का पालन के डॉक्टर

आप क्या खाते हैं, आपका बच्चा भी वही खाता है! भ्रूण की देखभाल में गर्भावस्था आहार की सर्वोच्च प्राथमिकता होनी चाहिए। आपका बच्चा एक नालिका के माध्यम से आपके साथ जुड़ा हुआ होता है और आपके शरीर से नाभि के माध्यम से पोषण प्राप्त करता है। आपके खाने के बारे में अतिरिक्त देखभाल करें क्योंकि इससे केवल आप ही नहीं बल्कि आपका बच्चा भी प्रभावित होगा। आयुर्वेद का सुझाव है कि गर्भवती महिलाओं को स्वस्थ और पके हुए भोजन का सेवन करना चाहिए जो आसानी से पचता हो और गैस का कारण नहीं बनें। आपको ताजा फल और सब्जियों का एक खास हिस्सा लेना चाहिए, खासकर हरी पत्तेदार सब्जियां, दूध, घी और साबुत अनाज। सुनिश्चित करें कि आपने पका हुआ ताजा और घर पर तैयार किया गया हो। अधिक तैलिये, फ्राइड और मसालेदार भोजन के सेवन से बचें। गर्भावस्था के दौरान पपीता और अनानास जैसे फलों से बचें, क्योंकि ये फल इस स्तर पर अच्छे नहीं होते हैं। नियमित अंतराल पर छोटे छोटे भोजन खाने की कोशिश करें। अपने आहार में गाजर और आलू शामिल करें। हाइड्रेटेड रहने के लिए पर्याप्त मात्रा में पानी पीते रहें। आप जानते हैं कि रात के बीच में आपको बस्कीन रॉबिंस आइसक्रीम की तालाब लग सकती है और आप केवल वो ही स्वाद खाना चाहती है जो आपको चाहिए नहीं तो आपके लिए दुनिया खत्म हो जाएगी? चूंकि आप एक माँ होने जा रहे हैं, इसलिए किसी भी एक विशेष खाने को लेकर इच्छा होना स्वभाविक है। यह उन खाद्य पदार्थों को खाने के लिए स्वस्थ है जिन्हें आप खाना चाहते हैं, लेकिन सुनिश्चित करें कि वे स्वास्थ्य के लिए अच्छे हैं। 

(और पढ़ें - गर्भवती महिला क्या खाए और गर्भावस्था में पेट में दर्द)

आयुर्वेद मॉर्निंग सिकनेस को गर्भिणी चर्दी के रूप में वर्णित करता है। गर्भिणी का मतलब है गर्भवती महिला और चर्दी का मतलब है उल्टी। गर्भावस्था के पहले 3 महीनों में मॉर्निंग सिकनेस काफी आम है, जहां गर्भवती महिलाएं खाने के समय के दौरान सुबह के दौरान मुख्य रूप से मितली और उल्टी को महसूस करती हैं। रंग, गंध या विभिन्न प्रकार के भोजन का स्वाद इस अनुभूति का कारण हो सकता है। मॉर्निंग सिकनेस से मुकाबला करने के लिए, ध्यान रखें कि खाली पेट रहना ज्यादा मदद नहीं करेगा। इसके लिए आप बहुत सारे स्वादों वाले खाद्य पदार्थों से बचें, टोस्ट की तरह हल्का नाश्ते करें और जो भी आपको सबसे अधिक पसंद करते हैं और जो आपके और आपके बच्चे के लिए स्वस्थ है। कैफीन से बचने के लिए सलाह दी गई है। आपको कॉफी और चाय के कप में कटौती करनी चाहिए। इसके बजाय कुछ शहदपुदीने के पत्ते और इलायची की चुटकी के साथ नींबू पानी पीने की कोशिश करें। यदि आप गर्भावस्था के लिए एक आयुर्वेदिक दवा की तलाश कर रहे हैं, तो आप दिन में तीन बार पानी या दूध के साथ 1 tsp गर्भक्षक्षक (Garbharakshaka) लेने की कोशिश कर सकते हैं। यह मॉर्निंग सिकनेस से छुटकारा पाने के लिए सबसे अच्छी पूर्व प्रसव आयुर्वेदिक दवाओं में से एक है। किसी भी प्रकार के संक्रमण के खिलाफ शरीर की प्रतिरक्षा में सुधार और किसी भी गर्भावस्था संबंधी जटिलता से बचने के लिए यह दवा भोत ही सहायक है। हालांकि, इस दवा लेने से पहले आपको डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए। 

(और पढ़ें – गर्भावस्था में उल्टी रोकने के उपाय)

अगर आप यह सोचते हैं कि पूरा दिन बिस्तर पर लेट कर पूरा दिन टीवी देखना आपके बच्चे की देखभाल के लिए आदर्श है तो आप गलत हैं। गर्भावस्था के दौरान व्यायाम आपके और आपके बच्चे के लिए अच्छा होता है। बस सुनिश्चित करें कि आप हल्के व्यायाम करें और भार प्रशिक्षण और लिफ्टिंग जैसे व्यायाम से बचें। यदि आप अधिक भारी व्यायाम करते हैं, तो आपका वातदोष असंतुलित होगा, जिससे आपके शरीर में ऊर्जा कम हो जाएगी। यदि आप गर्भावस्था से पहले वाली पुरानी दिनचर्या में आने के लिए खुद को पुश करते हैं, तो इससे आपका पित्त असंतुलित होगा और अगर आप कोई भी गतिविधि नहीं करते हैं तो तो आपका कफ संतुलन में नहीं रहेगा। तो अपनी एक्सरसाइज बेसिक वॉक के साथ शुरू करें और वॉल स्क्वेट्स को अपने पेट और पैर की मांसपेशियों को मजबूत करने के लिए करें। ये एक्सरसाइज अच्छी नींद, पाचन, शरीर में रक्त परिसंचरण को बढ़ावा देती है और शरीर में दर्द, पैरो में ऐंठन और चक्कर जो गर्भावस्था के साथ आते हैं उनमें मदद करती है। अपने चिकित्सक से परामर्श करें कि यदि आपको एक्सरसाइज करते समय कोई परेशानी महसूस होती है। क्योंकि कुछ मामलों में, बहुत अधिक आराम करने और कम शारीरिक गतिविधि करने की सलाह दी जाती है। गर्भावस्था योग एक अच्छा विकल्प है जो अच्छे शारीरिक स्वास्थ्य को बढ़ावा देते हैं। आप कुछ बुनियादी योग आसान जैसे कि तितली मुद्रा, सीटेड ट्विस्ट आदि की कोशिश कर सकते हैं। गर्भावस्था के दौरान प्राणायाम से बचें क्योंकि आपको सामान्य रूप से साँस लेने में मुश्किल होगी। 

(और पढ़ें - ladka paida karne ka tarika और bacha gora hone ke liye kya kare)

जिस तरह वर्कआउट महत्वपूर्ण है, उसी तरह गर्भावस्था के दौरान आराम भी जरूरी है। सुबह जल्दी उठिए और जल्दी ही बिस्तर पर चले जाएँ। इससे आपके शरीर में ऊर्जा के स्तर को बढ़ावा मिलेगा और आप पूरे दिन अधिक सक्रिय महसूस कर सकेंगे। गर्भावस्था के दौरान स्लीपिंग पोजीशन भी महत्वपूर्ण है। अपनी साइड सोइएं क्योंकि बाएं ओर सोने से दिल का रक्त परिसंचरण बढ़ता है। अपने पैरों और घुटनों को और अधिक आरामदायक महसूस करने के लिए मोड़ें। अपने पेट के नीचे या अपने पैरों के बीच रखने के लिए एक तकिये का उपयोग करें। अपनी पीठ पर ना सोएं क्योंकि यह आपकी पीठ की मांसपेशियों और रक्त वाहिकाओं पर दबाव डालेगा और आपके शरीर में खून के समग्र संचलन को प्रभावित करेगा। दिन के दौरान सोने से बचें। 

(और पढ़ें - आयुर्वेद के अनुसार स्वास्थ्य को रखने के लिए बेहतर अपनाएँ ये टिप्स)

अपनी बुरी आदतों को ख़त्म करें यदि आप एक स्वस्थ बच्चा चाहते हैं। शराब का सेवन भ्रूण के स्वास्थ्य को सीधे प्रभावित करने के लिए जाना जाता है। यह देखा जाता है कि शराब के सेवन से बच्चे के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को नुकसान पहुँचता है। यदि आपने गर्भावस्था के दौरान बहुत अधिक शराब का सेवन किया है तो आपके बच्चे के विकास और विकास के संबंध में समस्याएं हो सकती हैं। बच्चा धीमा और मानसिक रूप से अविकसित हो सकता है। बच्चे के स्वास्थ्य के लिए धूम्रपान भी हानिकारक है क्योंकि इससे भ्रूण के स्वास्थ्य में कमी हो सकती है। गर्भावस्था में अत्यधिक धूम्रपान बाद में बच्चे में श्वसन समस्याओं के लिए एक ट्रिगर के रूप में कार्य कर सकता है। गर्भावस्था के दौरान दवाएं बहुत खतरनाक हो सकती हैं। यह संभव हो सकता है कि यदि आपको कोई नशे की लत है तो बच्चा किसी भी प्रकार की असामान्यता के साथ पैदा हो सकता है। इससे बच्चे पर गंभीर स्वास्थ्य प्रभाव पड़ सकता है। अपने बच्चे की उचित स्वास्थ्य देखभाल के लिए इन प्रथाओं से बचें। 

(और पढ़ें - धूम्रपान छोड़ने के फायदे हैं प्रजनन क्षमता के लिए)

आयुर्वेद के अनुसार, साफ सफाई बनाए रखना महत्वपूर्ण है, न केवल निजी तौर पर बल्कि आसपास के क्षेत्र में भी। अच्छी साफ सफाई किसी भी तरह के संक्रमण को रोकने में सहायक होती क्योंकि आयुर्वेद इलाज के मुकाबले संक्रमण को रोकने के लिए अधिक जोर देता है। इस अवधि के दौरान तंग फिटिंग कपड़े पहनने के बजाय आरामदायक मातृत्व वाले या साधारण कपड़े पहनने की कोशिश करें। बहुत सारे सौंदर्य उत्पादों के उपयोग से बचें। उँची नीच या गड्ढों से बाहरी सड़कों पर यात्रा करने से बचें। सुखदायक संगीत सुनें, बेवक़ूफ़ टेलीविजन सीरियल देखने की बजाय सकारात्मक और आध्यात्मिक पुस्तकों को पढ़िए क्योंकि इससे आप मानसिक रूप से सतर्क और आत्म जागरूक होते हैं, इस प्रकार आपको अपने बच्चे से भावनात्मक और सकारात्मक रूप से जुड़ने में मदद मिलती है। शांतिपूर्ण क्रियाकलापों और ध्यान में शामिल होने से आपको गर्भावस्था के दौरान शांत रहने में मदद मिलेगी और आपके बच्चे के मानसिक विकास पर भी सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। इससे उसे अच्छी आदतें और नैतिकता पैदा करने में मदद मिलेगी।

(और पढ़ें - एक स्वस्थ, सुखी और बुद्धिमान बच्चे के लिए गर्भ संस्कार की ये प्रथाएँ ज़रूर अपनाएं)

एक स्वस्थ और सुखी बच्चे को जन्म देने के लिए आपको गर्भावस्था के महीनों के दौरान खुश रहने की ज़रूरत है। आपका परिवार आपको तनाव से मुक्त और खुश रहने में एक महान भूमिका निभा सकता है। बस उन्हें ऑर्डर करें (शक्ति का दुरुपयोग न करें) और लाइट हार्टटेड गतिविधियों में शामिल हों जो आपके मूड को अच्छा रखेंगी। उचित नींद लें ताकि आप थके हुए और निराश महसूस न करें बल्कि ताजा और स्वस्थ हो जाएँ। याद रखें, सकारात्मक भावनाओं से बच्चे के स्वास्थ्य को पनपने में मदद मिलेगी, लेकिन नकारात्मक भावनाओं का एक विपरीत प्रभाव होगा।

आयुर्वेद तेल मालिश के लिए विशेष महत्व देता है जिसके माँ और उसके अंदर बढ़ते बच्चे के लिए फ़ायदेमंद होती है। आयुर्वेदिक तेलों के साथ मालिश करना तनाव और शरीर में दर्द को कम करने के लिए बहुत उपयोगी साबित हो सकता है। हर दिन एक पूरे शरीर की मालिश (पेट पर विशेष ध्यान देने के साथ) गर्भवती महिलाओं को करने की सलाह दी जाती है। आप तिल के तेल का उपयोग हर दिन अपने शरीर पर मालिश करने के लिए कर सकते हैं। बेहतर मालिश के लिए थोड़ा सा तेल गर्म करें यह न केवल सिरदर्द, पीठ और पैर के दर्द, मांसपेशियों में तनाव और ऐंठन में ही मदद करेगा, बल्कि चिंता को दूर करने में भी मदद मिलेगी। महानारायण तेल विशेष रूप से दर्द में मदद करने के लिए जाना जाता है। स्तन की मालिश भी स्ट्रेच के निशान से बचने में मदद करेगी जो कि गर्भावस्था के दौरान महिलाओं की एक आम समस्या है। हालांकि, जटिलताओं की जांच करने के लिए कुछ नया चुनने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श करना सुनिश्चित करें। 

(और पढ़ें - अपने बच्चे की तेल मालिश करते समय ज़रूर रखें इन दस बातों का ध्यान)

Dr. Gujjala Krishnamurthy

Dr. Gujjala Krishnamurthy

सामान्य चिकित्सा

Dr. Aniket Pawar

Dr. Aniket Pawar

सामान्य चिकित्सा

Dr. Suhas Bhargav

Dr. Suhas Bhargav

सामान्य चिकित्सा

और पढ़ें ...