myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

पान के पत्ते क्या है? बेटल लीफ (Betel Leaf) को हिंदी में 'पान का पत्ता' और तेलुगू में 'तामलपक्कू' के रूप में भी जाना जाता है। पान का पत्ता एक दिल का आकार का पत्ता है जिसमें बेमिसाल औषधीय गुण होते हैं। पान के पत्ते के औषधीय उपयोग बेहद कम आंके जाते हैं, लेकिन यह बहुत ही प्रभावशाली होता है। पान के पत्ते पर तंबाकू, सुपारी, चूना आदि लगा कर खाने से कई प्रकार स्वास्थ्य संबंधी बीमारी हो सकती है। लेकिन यदि आप केवल पान की पत्तियों का इस्तेमाल करते हैं तो यह काफी लाभकारी हो सकती है।

पान के पत्ते को पूजा और अन्य धार्मिक चीजों में तो इस्तेमाल किया जाता ही है साथ में इसके बहुत सारे स्वस्थ्य संबंधी लाभ भी हैं। इसमें प्रोटीन, विटामिन सी और बहुत सारे और लाभदायक पदार्थ भी हैं।

  1. पान के पत्ते के फायदे - Paan ke Patte ke Fayde in Hindi
  2. पान के पत्ते के नुकसान - Paan ke Patte ke Nuksan in Hindi
  1. पान के पत्ते के फायदे पाचन सुधारने के लिए - Betel Leaf for Digestion in Hindi
  2. पान के पत्ते के लाभ कब्ज से राहत पाने के लिए - Betel Leaves for Constipation in Hindi
  3. पान के पत्ते के गुण करें गैस्ट्रिक समस्याओं का समाधान - Betel Leaves for Gastritis in Hindi
  4. पान के पत्तों के औषधीय गुण बढ़ाएं भूख को - Betel Leaf for Appetite in Hindi
  5. पान का पत्ता खाने से दांतों को मिलता है लाभ - Betel Leaf for Teeth in Hindi
  6. बेटल लीफ फॉर कोल्ड एंड कफ - Betel Leaf for Cold and Cough in Hindi
  7. पान के पत्ते का उपयोग रोके वाटर रिटेंशन - Pan ke Patte ke Fayde Treats Water Retention in Hindi
  8. पान के पत्तों के बेनिफिट्स करें घाव का उपचार - Betel Leaf for Wounds in Hindi
  9. सिरदर्द को दूर करें पान के पत्तों का रस - Betel Leaves for Headache in Hindi
  10. मुंहासे का घरेलू उपचार है पान के पत्ते - Betel Leaves for Acne in Hindi
  11. पान का पत्ता करें सूजन को कम - Betel Leaf for Inflammation in Hindi
  12. पान के पत्तों के फायदे मधुमेह के इलाज के लिए - Betel Leaf Good for Diabetes in Hindi
  13. पान के पत्तों के अन्य फायदे - Other Benefits for Betel Leaves in Hindi

पान के पत्ते के फायदे पाचन सुधारने के लिए - Betel Leaf for Digestion in Hindi

पान की पत्तियों को चबाने के लिए बहुत प्रयास की जरूरत होती है और जिससे आपकी लार ग्रंथि अधिक काम करती है। यह लार को रिलीज़ करता है जो पाचन का पहला चरण है, क्योंकि इसमें एंजाइम विभिन्न खाद्य पदार्थों को तोड़ते हैं जिससे यह पचाना आसान हो जाता है। पाचन सुधारने के लिए अदरक, अंजीर, सौंफ़ आदि जैसे प्राकृतिक पदार्थ भी अच्छे होते हैं। 

(और पढ़ें - पाचन क्रिया सुधारने के आयुर्वेदिक उपाय)

पान के पत्ते के लाभ कब्ज से राहत पाने के लिए - Betel Leaves for Constipation in Hindi

पान के पत्तों में एंटीऑक्सिडेंट गुण होते हैं। एंटीऑक्सिडेंट शरीर से मुक्त कण को दूर करते हैं। यह ख़राब पेट के सामान्य PH स्तर को पुनर्स्थापित करता है। परिणामस्वरूप जिससे कब्ज कम हो जाती है। कब्ज से राहत पाने के लिए हर रोज खाली पेट पान का पता चबाएं।

पान के पत्ते के गुण करें गैस्ट्रिक समस्याओं का समाधान - Betel Leaves for Gastritis in Hindi

जीईआरडी (GERD) में सुधार करने के लिए पान का पत्ता बहुत ही उपयोगी है। यह पाचनांत्र को हानिकारक मुक्त कण और विषाक्त पदार्थों से मुक्त रखता है। यह पेट के असंतुलित PH स्तर के कारण अम्लता को कम करता है। अच्छा पीएच स्तर यह सुनिश्चित करता है कि सूजन को ठीक करता है। 

(और पढ़ें - पेट मे गैस के उपाय है नींबू पानी)

पान के पत्तों के औषधीय गुण बढ़ाएं भूख को - Betel Leaf for Appetite in Hindi

क्या आप जानते हैं भूख कम होने पर भी पेट खराब हो जाता है। सामान्य पीएच स्तर भूख हार्मोन को ट्रिगर करने के लिए इष्टतम मात्रा में स्रावित होते हैं। पान के पत्ते सभी जहरीले पदार्थों को निकालकर पेट के सामान्य पीएच स्तर को बहाल करने में काफी सक्षम है। इसलिए यह भूख को बढ़ाता है और स्वास्थ्य को बढ़ावा देती है। 

पान का पत्ता खाने से दांतों को मिलता है लाभ - Betel Leaf for Teeth in Hindi

पान के पत्ते श्वास को ताज़ा करने में मदद करते हैं। और मुंह में रोगाणुओं, बैक्टीरिया और अन्य मौखिक रोगजनकों से बचाते हैं। जब आप एक पान का पत्ता चबाते हैं तो यह मुंह साफ करता है। यह दाँत क्षय को रोकता है और मसूड़ों को मजबूत करने और दांतों को मजबूत करने में मदद करता है। यह मौखिक रक्तस्राव को रोकता है। आप पानी में कुछ पान के पत्ते को उबाल सकते हैं और इसे कुल्ला और गरारे करने के रूप में इस्तेमाल कर सकते हैं। यह ख़राब गले का इलाज करने में भी मदद करता है। 

(और पढ़ें - बच्चों के लिए दांतों में कैविटी से बचने के उपाय)

बेटल लीफ फॉर कोल्ड एंड कफ - Betel Leaf for Cold and Cough in Hindi

श्वसन समस्याओं का इलाज करने के लिए पान के पत्ते बहुत अच्छे होते हैं। यह खांसी और ठंड का इलाज करने में मदद करता है। इससे बंद छाती और फेफड़ों और अस्थमा से ग्रस्त लोगों को बहुत राहत मिलती है। यह साँस लेने की समस्याओं का इलाज करने में भी मदद करता है। आप पान के पत्ते पर सरसों के तेल को लगा कर इसे गर्म करें और छाती पर रखें। वैकल्पिक रूप से, दो कप पानी में इलायची, लौंग, क्यूबब और दालचीनी के साथ कुछ पत्ते उबालें। इसे 1½ कप पानी रह जाने तक उबालें। तत्काल राहत पाने के लिए दिन में तीन बार इस मिश्रण का सेवन करें। इसके एंटीबायोटिक गुण कफ को कम करते हैं और लगातार खांसी के कारण हो रही सूजन को भी कम कर देते हैं। 

(और पढ़ें - सर्दी जुकाम के घरेलू उपाय)

पान के पत्ते का उपयोग रोके वाटर रिटेंशन - Pan ke Patte ke Fayde Treats Water Retention in Hindi

पान का पत्ता एक अच्छा मूत्रवर्धक है। एक पान की पत्ती को पीसकर और उसका रस निकाल लें और इसे उसमें थोड़ा पतला दूध मिलाकर, उसका सेवन करें। यह शरीर में पानी की अवधारण (water retention) का इलाज करने में मदद करता है। यह कम या बाधित पेशाब से पीड़ित लोगों के लिए भी मददगार है। 

(और पढ़ें – सौंफ की चाय है पानी प्रतिधारण से राहत दिलाने में लाभकारी)

पान के पत्तों के बेनिफिट्स करें घाव का उपचार - Betel Leaf for Wounds in Hindi

पान के पत्तों के औषधीय गुणों में घावों और संक्रमण का उपचार करने के गुण होते हैं। कुछ पत्तियों को क्रश करें, रस निकालें और इसे घाव या संक्रमण पर लगाएं। फिर इसके ऊपर एक पान के पत्ते को लगाकर किसी कपडे से बांध लें। घाव दो दिनों के भीतर ठीक हो जायेगा क्योंकि यह विनाशकारी रोगाणुओं के विकास को रोकता है। 

(और पढ़ें – घाव के लिए हिना के गुण)

सिरदर्द को दूर करें पान के पत्तों का रस - Betel Leaves for Headache in Hindi

सिरदर्द से पीड़ित लोगों के लिए, पान का पत्ता एक अच्छा इलाज है। इसमें एनाल्जेसिक और कूलिंग गुण होते हैं। सिर दर्द को कम करने के लिए आप अपने माथे पर पान के पत्ते लगा सकते हैं। आप इसी के लिए पान के पत्तों का तेल भी इस्तेमाल कर सकते हैं। 

(और पढ़ें - सिर दर्द के लिए घरेलू उपचार)

मुंहासे का घरेलू उपचार है पान के पत्ते - Betel Leaves for Acne in Hindi

पान के पत्ते मुँहासे, ब्लैक स्पॉट आदि के लिए एक अच्छा उपाय है। इसके रोगाणुरोधी गुण त्वचा के घाव, एलर्जी, खुजली और शरीर की गंध का इलाज करने में मदद करते हैं। कुछ पान की पत्तियों को क्रश करें और रस निकाल कर इसमें थोड़ी से हल्दी मिलाएं और मुँहासे और एलर्जी पर अच्छे से लगाएं। त्वचा की समस्याओं के उपचार और रोकथाम के लिए चेहरे और त्वचा को धोने के लिए पानी में उबले हुए पत्तों का इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके शक्तिशाली रोगाणुरोधी और एंटीसेप्टिक गुण त्वचा के संक्रमण का इलाज करने में मदद करते हैं। 

(और पढ़ें - खुजली दूर करने के घरेलू उपाय)

पान का पत्ता करें सूजन को कम - Betel Leaf for Inflammation in Hindi

पान की पत्ती के तेल में फिनोल होता है जिसे मिथाइल कहा जाता है, जिसमें एंटीसेप्टिक गुण होते हैं। गठिया और ऑर्काइटिस जैसे गंभीर स्थितियों में सूजन का इलाज करने के लिए इसका उपयोग किया जाता है।

पान के पत्तों के फायदे मधुमेह के इलाज के लिए - Betel Leaf Good for Diabetes in Hindi

पान की पत्तियों का अर्क रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने के लिए जाना जाता है और इसमें प्रभावी एंटी डायबिटिक गुण होते हैं।

पान के पत्तों के अन्य फायदे - Other Benefits for Betel Leaves in Hindi

पान के पत्तों के अन्य फायदे इस प्रकार हैं -

  1. कान का दर्द परेशान और दर्दनाक हो सकता है। इस समस्या के लिए पान के पत्तों का रस या तेल अच्छा उपाय है। पान के पत्तों का रस या तेल और नारियल के तेल को मिलाएं और कान में दो बूँदें डालें। आपको तुरंत राहत मिल जायेगी।
  2. योनि खुजली और योनि स्राव से पीड़ित महिलाओं के लिए, पान के पत्ते एक अच्छा घरेलु उपाय है। पान के पत्ते उबालें और जननांग धोने के रूप में उपयोग करें। कुछ देशों में, इसे बच्चों को जन्म देने के बाद महिलाओं के द्वारा व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है क्योंकि यह जननांग संकोचन (shrinkage) का कारण बनता है।
  3. पान के पत्ते शरीर की गंध को रोकने में मदद करते हैं। पूरे दिन ताजा रहने के लिए आप अपने स्नान के पानी में पान के पत्ते का रस या तेल मिला सकते हैं। यह पसीना और मासिक धर्म के अप्रिय गंध को रोकता है।
  4. पान के पत्ते नोजब्लड (नकसीर) के लिए एक अच्छा उपाय है। कई युवा बच्चों इससे तब पीड़ित होते हैं जब वे गर्म धूप में बाहर खेलते हैं। पान का पत्ता रक्त के प्रवाह को रोकने में मदद करता है। एक ताजा पत्ती लीजिए और इसे नोजेब्लेड में डालें। रक्त के प्रवाह को रोकने के लिए लगभग 30 मिनट लगते हैं।
  5. यदि आप सुस्त महसूस कर रहे हैं या तंत्रिका थकावट से पीड़ित हैं, तो सजगता को सुधारने के लिए पान का एक अच्छा उपाय है। शहद के साथ पान के पत्तों का रस का एक टॉनिक के रूप में कार्य करता है। इसे दिन में दो बार लिया जा सकता है। यह मानसिक कार्य को सुधारता है और मानसिक दुर्बलता का इलाज करता है। यह लोगों को उत्साहित करता है और प्रेरित करता है, जिससे उनकी सुस्ती का इलाज होता है।
  6. पान के पत्ते में भी अद्धभुत एंटी फंगल गुण होते हैं । फंगल संक्रमण आमतौर पर नम शरीर के अंगों पर होते हैं।
  7. पीठ के निचले हिस्से में दर्द या लूम्बागो से पीड़ित लोगों के लिए पान का पत्ता एक अच्छा उपाय है। पान के पत्तों के रस को नारियल के तेल के साथ पकाकर पीठ के निचले हिस्से की मालिश करने से दर्द कम करने में मदद मिलती है। यह मांसपेशी में दर्द, लालिमा और सूजन से राहत भी प्रदान करता है।

पान के पत्ते के नुकसान इस प्रकार हैं - 

  1. अकेले पान के पत्तों के अर्क को महत्वपूर्ण साइड इफेक्ट्स पैदा करने के लिए नहीं दिखाया गया है, लेकिन पान की तंबाकू के उपयोग से संबंधित कई दुष्परिणाम हैं।
  2. सुपारी हालांकि मुंह का कैंसर पैदा करने के लिए जाना जाता है और चबाया नहीं जाना चाहिए। (और पढ़ें – कैंसर के कारण)
  3. सुपारी के इस्तेमाल से जुड़े कई स्वास्थ्य जोखिमों में हृदय की दर, दिल की धड़कना, संभव हृदय रोग, मुंह का ट्यूमर और मौखिक और मस्तिष्क के कैंसर शामिल हैं। किसी भी दवा या डाइटरी सप्लीमेंट  के साथ, इसका उपयोग करने से पहले एक चिकित्सक से परामर्श करें।
और पढ़ें ...

References

  1. K. Ghosh and T. K. Bhattacharya . Chemical Constituents of Piper betle Linn. (Piperaceae) roots. 2005 Jul; 10(7): 798–802. PMID: 18007349
  2. Prabhu MS, Platel K, Saraswathi G, Srinivasan K. Effect of orally administered betel leaf (Piper betle Linn.) on digestive enzymes of pancreas and intestinal mucosa and on bile production in rats. 1995 Oct;33(10):752-6. PMID: 8575807
  3. L. D. A. M. Arawwawala, L. S. R. Arambewela, and W. D. Ratnasooriya. Gastroprotective effect of Piper betle Linn. leaves grown in Sri Lanka. 2014 Jan-Mar; 5(1): 38–42. PMID: 24812474
  4. Bhide SV, Zariwala MB, Amonkar AJ, Azuine MA. Chemopreventive efficacy of a betel leaf extract against benzo[a]pyrene-induced forestomach tumors in mice. 1991 Sep;34(2-3):207-13. PMID: 1795525
  5. International Journal of Pharmacy and Pharmaceutical Sciences. Antimicrobial Activity of standardized piper betel extract and its mouthwash preparation. Innovare Academic Sciences; Bhopal, Madhya Pradesh
  6. Md. Farid Hossain, Mustafa Anwar , Shaheen Akhtar , Sharker Md. Numan. Uses Impact of Betel Leaf (Piper betle L.) on Public Health . 2017; 5(6): 408-410. ISSN: 2328-7942 (Print); ISSN: 2328-7950
  7. Wirotesangthong M, Inagaki N, Tanaka H, Thanakijcharoenpath W, Nagai H. Inhibitory effects of Piper betle on production of allergic mediators by bone marrow-derived mast cells and lung epithelial cells. 2008 Mar;8(3):453-7. PMID: 18279799
  8. Arambewela LS, Arawwawala LD, Ratnasooriya WD. Antidiabetic activities of aqueous and ethanolic extracts of Piper betle leaves in rats. 2005 Nov 14;102(2):239-45. PMID: 16055288
  9. Santhakumari P, Prakasam A, Pugalendi KV. Antihyperglycemic activity of Piper betle leaf on streptozotocin-induced diabetic rats. 2006 Spring;9(1):108-12. PMID: 16579737
  10. Arya DS, Arora S, Malik S, Nepal S, Kumari S, Ojha S. Effect of Piper betle on cardiac function, marker enzymes, and oxidative stress in isoproterenol-induced cardiotoxicity in rats. 2010 Nov;20(9):564-71. PMID: 20846025
  11. Venkadeswaran K, Muralidharan AR, Annadurai T, Ruban VV, Sundararajan M, Anandhi R, Thomas PA, Geraldine P. Antihypercholesterolemic and Antioxidative Potential of an Extract of the Plant, Piper betle, and Its Active Constituent, Eugenol, in Triton WR-1339-Induced Hypercholesterolemia in Experimental Rats. 2014;2014:478973. PMID: 24523820
  12. Kanjwani DG, Marathe TP, Chiplunkar SV, Sathaye SS. Evaluation of immunomodulatory activity of methanolic extract of Piper betel. 2008 Jun;67(6):589-93. PMID: 18476879
  13. Akter KN, Karmakar P, Das A, Anonna SN, Shoma SA, Sattar MM. Evaluation of antibacterial and anthelmintic activities with total phenolic contents of Piper betel leaves. 2014 Sep-Oct;4(5):320-9. PMID: 25386394
  14. Ali I, Khan FG, Suri KA, Gupta BD, Satti NK, Dutt P, Afrin F, Qazi GN, Khan IA. In vitro antifungal activity of hydroxychavicol isolated from Piper betle L. 2010 Feb 3;9:7. PMID: 20128889
  15. Arif Budiman1, Datu Wage Rusnawan , Anna Yuliana. Antibacterial activity of Piper betle L. extract in cream dosage forms against Staphylococcus aureus and Propionibacterium acne. Arif Budiman et al /J. Pharm. Sci. & Res. Vol. 10(3), 2018, 493-496
  16. Al-Adhroey AH, Nor ZM, Al-Mekhlafi HM, Amran AA, Mahmud R. Antimalarial activity of methanolic leaf extract of Piper betle L. 2010 Dec 28;16(1):107-18. PMID: 21189459
  17. Abdul Ghani ZD, Husin JM, Rashid AH, Shaari K, Chik Z. Biochemical studies of Piper betle L leaf extract on obese treated animal using 1H-NMR-based metabolomic approach of blood serum samples. 2016 Dec 24;194:690-697. PMID: 27725236
  18. American Journal of Ethnomedicine. A Review on Piper betle :Promising Medicinal Reservoir. Insight medical publishing. [internet].
  19. Ratnasooriya WD, Jayawardena KG, Premakumara GA.Investigations on Piper betle grown in Sri Lanka. 1990;18:53–60.
  20. D Hoppy , A Noerdin , B Irawan and A Soufyan. Effect of betel leaf extract gel on color change in the dental enamel. Series 1073 (2018) 032028, doi :10.1088/1742-6596/1073/3/032028