myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

मजीठ या मंजिष्ठा एक औषधीय जड़ी बूटी है जिसका उपयोग विभिन्न आयुर्वेदिक दवाओं की तैयारी में किया जाता है। मंजिष्ठा का वैज्ञानिक नाम रूबिया कार्डिफोलिया (Rubia cordifolia) है। यह भारत के पहाड़ी इलाकों में पाई जाती है। इसकी कई स्थानों पर खेती भी की जाती है। आयुर्वेद में यह सबसे महत्वपूर्ण रक्त शोधक के रूप में जानी जाती है। इसका पौधा एक बेल के रूप में होता है और इसकी जड़ें औषधीय उद्देश्य के लिए उपयोग की जाती हैं। यह रक्त में मौजूद विष या अमा (Ama) की उपस्थिति हटाने में सहायक होती है। ये विषाक्त पदार्थ विभिन्न त्वचा रोगों और जोड़ो के विकारों के लिए जिम्मेदार होते हैं। शरीर में बिगड़े हुए पित्त (Pitta) को संतुलित करने में भी मंजिष्ठा सहायता करती है। इसकी तासीर गर्म होती है। मंजिष्ट में कसैले, थर्मोजेनिक और कायाकल्प जैसे गुण होते हैं।

  1. मंजिष्ठा के फायदे - Manjistha ke Fayde in Hindi
  2. मंजिष्ठा के नुकसान - Manjistha ke Nuksan in Hindi

मंजिष्ठा के फायदे हैं गठिया में उपयोगी - Manjistha ke Fayde for Arthritis in Hindi

यह रयूमेटायड गठिया जैसी जोड़ों की सूजन को कम करने में उपयोगी है। इसके अलावा यह भूख में सुधार और दस्त, पेचिश, रक्तस्राव, अल्सर, अपच, परजीवी कीड़े आदि के इलाज में उपयोगी है। (और पढ़ें - बदहजमी के घरेलू उपाय)

मंजिष्ठा का उपयोग करे प्रतिरक्षा में सुधार - Manjistha Good for Immunity in Hindi

मंजिष्ठा संक्रमण से लड़ने के लिए शरीर की प्रतिरक्षा में सुधार करती है। (और पढ़ें – प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थ)

मंजिष्ठा काढ़ा है अनियमित पीरियड्स का इलाज - Manjistha for Irregular Periods in Hindi

मंजिष्ठा से बना काढ़ा पीने से अनियमित मासिक चक्र और पीरियड्स के मिस होने जैसी समस्याओं से महिलाओं को राहत मिलती है। इसके अलावा यह स्तन के दूध को शुद्ध करने में सहायक होती है। 

(और पढ़ें - आपके मासिक धर्म यानी पीरियड्स इन स्वास्थ्य समस्याओं का करते हैं संकेत)

मंजिष्ठा पाउडर करे बुखार का इलाज - Manjistha Powder Benefits for Fever in Hindi

यह बुखार, आंतों के अल्सर और मूत्र पथ के संक्रमण (UTI) के उपचार में सहायक होता है।

(और पढ़ें - बुखार में क्या खाना चाहिए)

मंजिष्ठादी क्वाथ है लिम्फेटिक सिस्टम के लिए - Manjistha for Lymphatic System in Hindi

मंजिष्ठा लिम्फेटिक सिस्टम (lymphatic system - लसीका तंत्र) के प्राकृतिक कार्यों का समर्थन करती है, क्योंकि यह कोशिकाओं के पोषण में मदद और शरीर से अपशिष्ट पदार्थों को निकालने में सहायता करती है। यदि पुराने घावों को मंजिष्ठा के काढ़े से धोया जाता है और इसके अर्क के साथ पट्टी बाँधी जाए तो उपचार जल्दी होता है।

मंजिष्ठा के गुण करें त्वचा की देखभाल - Manjistha Benefits for Skin in Hindi

मंजिष्ठा एक बहुत अच्छी त्वचा की देखभाल करने वाली जड़ी बूटी है। इसे बाहरी और आंतरिक रूप से इस्तेमाल किया जाता है, यह त्वचा को उज्ज्वल चमक देती है और मुँहासे, झाइयां और मलिनकिरण (त्वचा की आसमान रंगत) खुजली, त्वचा एलर्जी, एक्जिमा आदि को दूर करने में मदद करती है। मंजिष्ठा पाउडर को थोड़े से शहद के साथ मिलाकर अपने चेहरे पर इस्तेमाल किया जा सकता है। 100 ग्राम सूखे और पीसे हुए संतरे के छिलके और 50 ग्राम सैंडल पाउडर, 50 ग्राम हल्दी और 50 ग्राम मंजिष्ठा के संयोजन से एक बहुत ही अच्छा फेस पैक बनता है। 

(और पढ़ें – अपनी त्वचा से उम्र के प्रभाव को दूर करने के तरीके)

मजीठ के फायदे बालों के लिए - Manjistha for Hair in Hindi

मंजिष्ठा बालों के अपने कार्यों के लिए प्रसिद्ध एक उत्कृष्ट औषधी है। मंजिष्ठा बालों को प्राकृतिक रंग देती है और प्रभावी ढंग से सफेद बालों को आने से रोकती है। मंजिष्ठा हेयर फॉलिकल (Hair folicals) में गहराई से प्रवेश करती है, बालों को पोषण देती है और बालों को टूटने से बचाती है जिससे आपको लंबे बाल मिलते हैं। 

(और पढ़ें – क्षतिग्रस्त बालों (Damaged Hair) के लिए आसान सा घरेलू उपचार)

मंजिष्ठा खुराक - Manjistha Dosage in Hindi

  • पाउडर - 1-3 ग्राम
  • काढ़ा - 20 - 50 मिलीलीटर विभाजित मात्रा में या आयुर्वेदिक डॉक्टर द्वारा निर्देशित रूप में।

इसका कोई दुष्प्रभाव नहीं है। इसका इस्तेमाल बच्चों और स्तनपान कराने वाली माताओं के द्वारा कम मात्रा में किया जा सकता है। गर्भावस्था के दौरान इसके उपयोग के लिए अपने डॉक्टर से सलाह लें

(और पढ़ें - गर्भावस्था में पेट दर्द और पुत्र प्राप्ति के उपाय से जुड़े मिथक)

और पढ़ें ...