myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

दुनियाभर में चाय का उपयोग बड़ी मात्रा में किया जाता है। चाय पीने के शौकीन अक्सर इसके फायदों से अनजान होते हैं, यह कई स्वास्थ्य से संबंधित समस्याओं में दवा की तरह भी काम करती है। कई हर्बल चाय जी मितली, कब्ज, अपच जैसी परेशानियों को दूर करने में सहायक होती हैं।

शरीर को स्वस्थ रखने के लिए पाचन तंत्र का ठीक होना सबसे ज्यादा जरूरी होता है और आपको जानकर हैरानी होगी कि चाय की मदद से भी पाचन को ठीक किया जा सकता है। तो चलिए जानते हैं इनके बारे में।

पुदीने की चाय

पुदीना (पेपरमिंट), मेंथा पिपेरिट पौधे से निकलने वाली एक हरी जड़ी बूटी है, जो अपनी तेज खुशबू और ताजगी भरे अहसास के लिए जानी जाती है। पुदीने की चाय पेट खराब होने की समस्या से भी राहत प्रदान करती है। पशुओं और मनुष्यों पर किए गए अध्ययनों से पता चला है कि पुदीने में मौजूद मेंथोल पाचन संबंधित परेशानियों को दूर करने की क्षमता रखता है।

कभी-कभी इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम (आईबीएस) को ठीक करने के लिए पुदीने के तेल का इस्‍तेमाल किया जाता है। आईबीएस में पेट दर्द और एसिडिटी जैसे लक्षण सामने आते हैं।

4 सप्‍ताह तक चली एक स्‍टडी में आईबीएस से ग्रस्‍त 57 मरीजों को शामिल किया गया। इनमें से आधे लोगों को दिन में दो बार पुदीने के तेल के कैप्‍सूल खाने को दिए गए जबकि बाकी लोगों को प्‍लेसिबो दिया गया। पुदीने के तेल के कैप्‍सूल लेने वाले ग्रुप के लोगों को आईबीएस के लक्षणों से 75 फीसदी राहत मिली जबकि प्‍लेसिबो ग्रुप में ये प्रतिशत केवल 38 फीसदी रहा।

पुदीने की चाय भी पुदीने के तेल की तरह ही काम करती है। हालांकि, अभी इस प्रभाव को लेकर कोई अध्‍ययन या जांच नहीं की गई है।

अदरक की चाय

अदरक दर्द निवारक गुणों से युक्त होता है। एक अध्ययन के अनुसार जिस सप्लीमेंट में 1.2 ग्राम अदरक होती है, उसे लेने से पाचन संबंधी समस्या दूर हो सकती है। इस अध्ययन में 11 ऐसे रोगियों को शामिल किया गया था जो खट्टी डकार आने की समस्या से जूझ रहे थे। अदरक से युक्त सप्लीमेंट्स जो फायदे देते हैं वो अदरक की चाय से भी मिल सकते हैं।

सौंफ की चाय

सौंफ का स्वाद मुलेठी जैसे होता है और इसे कच्चा या भून कर भी खाया जा सकता है। एक अध्ययन के अनुसार, सौंफ कब्ज को दूर करने और पेट साफ करने में असरदार होती है। कब्ज से ग्रस्त 86 वयस्कों पर एक अध्ययन किया गया। इनमें से आधे लोगों को 28 दिनों तक रोज सौंफ से युक्त चाय पीने के लिए दी गई जबकि बाकी लोगों को प्लेसिबो दिया गया। सौंफ पीने वाले लोगों को कब्ज से छुटकारा मिला और उनके पाचन में सुधार आया।

(और पढ़ें - सौंफ की चाय के फायदे)

कोम्बुचा चाय

कोम्बुचा चाय एक खमीरीकृत पेय पदार्थ है जिसमें चाय की पत्ती, चीनी, बैक्टीरिया और यीस्ट शामिल होता है। इसमें विटामिन बी और कई अन्य रासायनिक यौगिक भी मौजूद होते हैं। कोम्बुचा चाय पेट साफ करने से लेकर ब्लड प्रेशर व कैंसर जैसी गंभीर बीमारियों को रोकने में मदद करती है। 

सेन्ना की चाय

सेन्ना में साइनोसाइड्स नामक रसायन होते हैं जो पेट में जाकर नरम मांसपेशियों पर असर करता है और मल त्याग की क्रिया को बढ़ाता है। इससे पेट साफ होने में मदद मिलती है। अध्ययनों में भी ये बात सामने आ चुकी है कि अलग-अलग कारणों से कब्ज से परेशान वयस्कों और बच्चों में सेन्ना सबसे असरकारी रेचक (दस्त लाने वाली) है। इसलिए सेन्ना चाय कब्ज को दूर करने का सबसे आसान और असरकारी तरीका है।

वैज्ञानिकों का भी कहना है कि चाय (ब्लैक, ग्रीन और ओलोंग) में मौजूद प्रमुख तत्व एंटीऑक्सीडेंट के बेहतरीन स्रोत होते हैं जो कि दिल के लिए फायदेमंद होते हैं और कोलेस्ट्रॉल लेवल को नियंत्रित करने में भी मदद करते हैं। इसके अलावा चाय में जड़ी बूटियों को मिलाने से ये और भी ज्यादा फायदेमंद हो जाती है।

और पढ़ें ...