myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

खट्टी डकार क्या है?

डकार आना, आम तौर पर नुकसानदेह नहीं होता है। इससे बस इतना पता चलता है कि पेट में हवा, ज्यादा हो गयी है। खट्टी, कड़वी डकार की समस्या बहुत ज्यादा खाना खाने से या फिर बहुत जल्दबाजी में खाना खाने से होती है। डकार, अपच के कारण आती है। अपच अक्सर तैलीय भोजन, धूम्रपान, तनाव, ज्यादा कोल्ड ड्रिंक तथा शराब पीने और कुछ दवाओं के कारण होता है। डकार के साथ अक्सर पेट फूलने, पेट में दर्द, गले तथा पेट में जलन और उल्टी आदि की शिकायत रहती है। 

यदि डकार किसी और बड़ी समस्या के कारण न आ रही हो तो परीक्षण की जरूरत नहीं होती है। जितनी भूख हो उतना ही खाएं, ज्यादा तैलीय भोजन न खाएं और कैफीन तथा शराब से दूर रहें। सक्रिय रहें और अपना वजन घटाने की सोचें। ज्यादा डकार आने की वजह का पता लगाने के लिए कंट्रास्ट एक्स रे और एंडोस्कोपी की जा सकती है। इलाज के तौर पर दवा और जीवनशैली में परिवर्तन का सुझाव दिया जाता है। 

  1. खट्टी डकार के लक्षण - Sour Burp Symptoms in Hindi
  2. खट्टी डकार के कारण और जोखिम - Sour Burp Causes & Risk Factors in Hindi
  3. खट्टी डकार से बचाव - Prevention of Sour Burp in Hindi
  4. खट्टी डकार के लिए टेस्ट और परीक्षण - Diagnosis of Sour Burp in Hindi
  5. खट्टी डकार का इलाज - Sour Burp Treatment in Hindi
  6. खट्टी डकार से होने वाली समस्याएँ - Sour Burp Complications in Hindi
  7. बार-बार डकार आना किसी बीमारी का कारण तो नहीं
  8. खट्टी डकार की दवा - Medicines for Sour Burp in Hindi
  9. खट्टी डकार के डॉक्टर

खट्टी डकार के लक्षण - Sour Burp Symptoms in Hindi

खट्टी डकार के लक्षण क्या हैं?

खट्टी डकार अपने-आप में ही अपच और पेट से जुड़ी अन्य बीमारियों का लक्षण है। 

खट्टी डकार के सबसे सामान्य लक्षण ऊपरी पाचन तंत्र में दिखते हैं जो इस प्रकार हैं:

  • पेट में दर्द -
    पेट में दर्द बहुत सी वजहों से हो सकता है। बहुत ज्यादा खा लेने और जल्दी-जल्दी खाने या अल्सर या कोलाइटिस जैसी बीमारियों से भी पेट दर्द हो सकता है। 
  • पेट में गुड़गुड़ाहट -
    पेट में ज्यादा गैस बनने से पेट से गुड़-गुड़ सी आवाज आती हैं। जब गैस, पच रहे ठोस खाने में मिल जाती है तो  संभव है कि आँतों में खाना पचने के दौरान संकुचन के कारण आवाज आये। 
  • पेट का अल्सर -
    जब वाह्य तत्वों से पेट को सुरक्षा प्रदान करने वाली म्यूकस की परत क्षीण हो जाती है और एसिड पेट की उत्तकों को नष्ट कर देता है तो पेट में घाव हो जाता है। इसे पेट का अल्सर कहते हैं। 
  • कब्ज -
    खाने में  रेशेदार तत्वों  (फाइबर) की कमी से पाचन क्रिया धीमी हो जाती है।वसायुक्त-तैलीय भोजन और मांस (रेड मीट) से भी पाचन क्रिया धीमी पड़ जाती है जिससे कब्ज की समस्या होती है। 
  • मिचली-
    जब पाचन क्रिया धीमी हो जाती है और खाना सही दिशा में नहीं जाता तो मिचली सी आती है।
  • पेट फूलना-
    जब आप अधिक खाना खा लेते हैं और पेट में गैस बन जाती है तो पेट भरा हुआ लगता है और बेचैनी होती है। आपका पेट कुछ समय के लिए फूल जाता है। 
  • सीने में जलन-
    जब पेट से अतिरिक्त एसिड, भोजन नली में आ जाता है तो आपके सीने में जलन होती है। 
  • "रीगर्गिटेशन" (Regurgitation)-
    आपको ऐसा लगता है कि आपके पेट में बनने वाला एसिड आपके मुंह या गले में आ गया है। इससे आपके मुंह में खट्टा स्वाद आ जाता है। 

खट्टी डकार सिर्फ खाने के कारण नहीं आती। तनाव, व्यायाम ना करना और पेट के अन्य पुराने विकारों से भी यह समस्या हो सकती है। (और पढ़ें - व्यायाम के फायदे)

डॉक्टर को कब दिखाएं?

खट्टी डकार अधिक आये तो डॉक्टरी सलाह आवश्यक हो सकती है। डॉक्टर आपको खाने के सम्बन्ध में कुछ सलाह दे सकते हैं या फिर जांच करवाने के लिए कह सकते हैं। डॉक्टर एंटासिड जैसी सामान्य दवाएं भी दे सकते हैं ताकि गैस से राहत मिले। 

आहार में बदलाव के बाद भी अगर खट्टी डकार आ रही है या फिर डकार के साथ अन्य लक्षण दिख रहे हैं तो डॉक्टर से मिलें। डॉक्टर पता लगा सकते हैं कि खट्टी डकार खत्म न होने की वजह क्या है।

खट्टी डकार के कारण और जोखिम - Sour Burp Causes & Risk Factors in Hindi

खट्टी डकार के कारण और इसके जोखिम क्या हैं ?

खट्टी डकार आम तौर पर निम्न कारणों से आती है:

  • कुछ खाने की वजह से-
    बैक्टीरिया जब मुंह या पाचन क्षेत्र में खाना पचा रहा रहा होता है तो गैस बनती है। इससे बदबूदार डकार आ सकती है या पेट फूल सकता है। ज्यादा प्रोटीन वाले आहार और शराब पीने से खट्टी डकार आ सकती है।
  • पाचन सम्बन्धी विकार-
    खट्टी डकार का मुख्य कारण है, पाचन से जुड़ी दिक्कतें। पेट के विकार जैसे इरिटेबल बाउल सिंड्रोम और गर्ड के कारण डकार आती है और एसिड रिफ्लक्स (पेट के एसिड का भोजन नली में आ जाना) होता है। 

खाने की आदतें :
भूख से ज्यादा भोजन करने और जल्दबाजी में भोजन करने से आम तौर पर खट्टी डकार आती है। शराब, कैफीन युक्त भोजन या पेय और कार्बोनेटेड पेय से भी खट्टी डकार की समस्या होती है। बंद नाक की वजह से जो लोग मुंह से सांस लेते हैं या फिर खाना खाते समय बहुत ज्यादा बात करते हैं उन्हें खट्टी डकार और एसिड रिफ्लक्स (पेट के एसिड का भोजन नली में आना) दोनों की समस्या हो सकती है। 

शराब, कैफीन और कार्बोनेटेड पेय पदार्थ :

शराब और कैफीन के पेय पदार्थों से भोजन नली का निचला हिस्सा प्रभावित होता है जिससे एसिड रिफ्लक्स (पेट का एसिड भोजन नली में आ जाना) होता है। ज्यादा डकार आने की एक आम वजह है कार्बोनेटेड पेय पदार्थ। अगर किसी कार्बोनेटेड पेय पदार्थ में शराब और कैफीन भी हो जैसे स्पार्कलिंग वाइन, बियर, कोल्ड ड्रिंक  आदि तो ज्यादा डकार आ सकती है। 

मोटापा-

मोटे लोगों को कई कारणों से यह समस्या अक्सर होती है। शरीर का आकार बड़ा होने के कारण पेट पर ज्यादा जोर  पड़ता है जिसके कारण पेट का एसिड भोजन नली में आ जाता है। ज्यादा खाने से भी ये समस्या हो सकती है। मोटे लोगों की शिथिल जीवनशैली और इस वजह से आम तौर पर डायबिटीज पीड़ित होने के कारण भी यह शिकायत हो सकती है। 

(और पढ़ें - मोटापा कम करने के उपाय)

गर्भावस्था :
गर्भावस्था के दौरान डकार आना और एसिड रिफ्लक्स आम बात है। गर्भाशय का आकर बढ़ने से पेट पर जोर पड़ता है और इस दौरान बनने वाले हॉर्मोन के भोजन नली के निचले हिस्से पर असर होता है जिससे ज्यादातर गर्भवती महिलाएं पीड़ित रही हैं। गर्भावस्था से जुड़े एनीमिया के कारण सांस फूलने और अत्यधिक थकान होने के कारण उन्हें मुंह से सांस लेना पड़ता है जिससे हवा मुंह के जरिये पेट में जाती है। गर्भवती महिलाओं को कम अंतराल पर बार-बार खाना होता है जिससे यह परेशानी और बढती है। 

(और पढ़ें - गर्भावस्था में एसिडिटी)

जोखिम

खट्टी डकार अन्य कारणों की वजह से भी आ सकती है-

  • कुछ दवाएं 
  • तनाव में रहना 
  • अत्यधिक चिंतित रहना (और पढ़ें - चिंता का इलाज)
  • भूखे रहना
  • व्यायाम न करना 
  • भूख से ज्यादा खाना 
  • जल्दी-जल्दी खाना 
  • असमय भोजन करना
  • खाने के बाद अत्यधिक शारीरिक सक्रियता
  • भोजन के बाद तुरंत लेटना विशेष तौर पर पेट के बल लेटना
  • मुंह के जरिये पेट में हवा जाना
  • तला भोजन खाना
  • मिर्च-मसालेदार भोजन 
  • फूड पोइज़निंग (विषाक्त भोजन से होने वाली तकलीफ)
  • शराब पीना
  • कॉफी पीना

खट्टी डकार से बचाव - Prevention of Sour Burp in Hindi

खट्टी डकार से कैसे बचें?

इन चीजों से बचें:

  • धूम्रपान 
  • जल्दी-जल्दी खाने या पीने की आदत
  • सोने से घंटों पहले खाना या अल्पाहार
  • कार्बोनेटेड पेय (जैसे सोडा, कोल्ड ड्रिंक और बियर)
  • डकार से पहले मुंह से हवा पेट में जाना
  • अनुपयुक्त नकली दांत लगाना
  • च्युइंग गम
  • सख्त टॉफ़ी
  • पेय के लिए पाइप का इस्तेमाल

निम्न का पालन करें:

  • ज़्यादा नमक या तेल वाला खाना न खाएं
  • बहुत सारा पानी पिएं 
  • सक्रिय रहें  
  • खाना खाने के बाद कम से कम दो घंटे तक नहीं लेटें
  • सोने से 3-4 घंटे पहले तक कुछ न खाएं
  • पेट के विकारों से संबंधित समस्या के लिए पेट के डॉक्टर से संपर्क करें ताकि गर्ड या अल्सर जैसी बीमारी की आशंका का निवारण हो सके।

खट्टी डकार के लिए टेस्ट और परीक्षण - Diagnosis of Sour Burp in Hindi

खट्टी डकार का निदान कैसे होता है?

खट्टी डकार के लिए आम तौर पर, डॉक्टर के पास जाने की ज़रुरत नहीं पड़ती। लेकिन दिक्कत दूर न हो रही हो और ज्यादा हो तो डॉक्टर के पास जाना चाहिए। वे खट्टी डकार की वजह का निदान करेंगे। 

निदान की प्रक्रिया आपकी पिछली बीमारियों के बारे में पूछताछ और शारीरिक जांच से शुरू होती है। बहुत सारे मामलों में पूर्ण जानकारी मिलने के बाद डॉक्टर इलाज शुरू करते हैं। कुछ मामलों में अतिरिक्त जांच की जरुरत पड़ सकती है। अमूमन ये टेस्ट कराये जाते हैं-

  • एंडोस्कोपी-
    इस टेस्ट में पेट के डॉक्टर एक मुलायम नली और "फायबरऑप्टिक कैमरे" (fiberoptic camera) से भोजन नली और पेट को जांचते हैं। इससे सूजन और घाव का पता चलता है। बायोप्सी और उत्तकों (टिशू) के छोटे टुकड़े लिए जा सकते हैं ताकि कैंसर और कैंसर पूर्व विकसित होने वाली कोशिकाओं का पता लगाया जा सके। 
     
  • एक्स रे-
    रोगी को बेरियम या गैस्ट्रोग्राफीन (2 प्रकार के कॉन्ट्रास्टिंग एजेंट हैं) निगलने के लिए कहा जाता है। रेडिओलॉजिस्ट, एक्स रे या फ्लोरोस्कोपी मशीन की मदद से इन कॉन्ट्रास्ट एजेंट को भोजन नली में नीचे जाते हुए देखते हैं जब तक वो पेट में नहीं चले जाते। इस टेस्ट से भोजन नली में विषमता और सूजन का पता चलता है। इस टेस्ट से यह भी देखा जा सकता है कि भोजन नली की मांसपेशियां कॉन्ट्रास्ट एजेंट को पेट में भेजने का काम सही तरीके से कर रही हैं या नहीं। 
     
  • मैनोमीटरी और पीएच की जांच-
    जब प्रचलित पद्धति से निदान नहीं हो पाता या कुछ विचित्र लक्षण दीखते हों तो भोजन नली में एसिड की मात्रा  या दबाव नाप कर निदान किया जा सकता है।   

 

खट्टी डकार का इलाज - Sour Burp Treatment in Hindi

खट्टी डकार का इलाज क्या है?

कई बार घरेलू उपाय काफी नहीं होते लेकिन आस-पास की दवा की दुकानों में गैस की कई किस्म की दवाएं उपलब्ध होती हैं:

  • लैक्टेज एंजाइम से उन्हें मदद मिलती है जिन्हें दुग्ध-उत्पाद पचाने में दिक्कत होती है।
  • प्रोबायोटिक में अच्छे बैक्टीरिया होते हैं जिनसे से पाचन शक्ति बढ़ती है। ये अच्छे बैक्टीरिया उन बदबूदार गैस बनाने वाले बैक्टीरिया की जगह ले लेते हैं। 
  • सायमेथिकोन (Simethicone) आधारित दवाएं भी गैस के बुलबुलों को रोकने में मदद करती हैं ताकि समय पर डकार आये जबकि जरूरत हो।
  • बिस्मथ सबसैलिसायलेट (Bismuth Subsalicylate) आधारित दवाएं खट्टी डकार कम करने सबसे अधिक मददगार हो सकती हैं।
  • बियेनो (Beano) में पाचक एंजाइम होता है जो कार्बोहायड्रेट, सब्जियों और फलियों में पाई जाने वाली विशेष किस्म की शर्करा को तोड़ने में मदद करता है।

खट्टी डकार से होने वाली समस्याएँ - Sour Burp Complications in Hindi

खट्टी डकार से क्या दिक्कतें हो सकती हैं?

खट्टी डकार ठीक न हो और इसका निदान न हो तो ये परेशानियां हो सकती हैं:

  • भोजन नली में "स्कार टिशू"(जब कोई घाव लगने के बाद नई त्वचा आती है) होना। 
  • भोजन नली में लालिमा और जलन जिसे एसोफेगाइटिस (Esophagitis) कहते हैं। 
  • भोजन नली में रक्तस्त्राव होना। 
  • गले और आवाज में कोई परेशानी होना। 
  • दांतों का सड़ना और टूटना। 
  • सांस की तकलीफ - अगर खाना श्वसन तंत्र, फेफड़ों या नाक में घुस जाए तो सांस लेने की समस्या हो सकती है। 
Dr. Suraj Bhagat

Dr. Suraj Bhagat

गैस्ट्रोएंटरोलॉजी

Dr. Smruti Ranjan Mishra

Dr. Smruti Ranjan Mishra

गैस्ट्रोएंटरोलॉजी

Dr. Sankar Narayanan

Dr. Sankar Narayanan

गैस्ट्रोएंटरोलॉजी

खट्टी डकार की दवा - Medicines for Sour Burp in Hindi

खट्टी डकार के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

Medicine NamePack SizePrice (Rs.)
OcidOCID 20MG CAPSULE 20S43
RantacRantac 150 Mg Tablet18
ZinetacZinetac 150 Mg Tablet17
AcilocAciloc 150 Tablet17
Omez DOMEZ D CAPSULE 15S0
OmezOmez 10 Mg Capsule27
Reden OReden O 2 Mg/150 Mg Tablet33
BoniprazBonipraz 20 Mg Capsule36
R T DomR T Dom 10 Mg/150 Mg/20 Mg Tablet7
BromezBromez 20 Mg Capsule12
CapcidCapcid 20 Mg Tablet1280
CapocidCapocid 20 Mg Capsule0
CoprazCopraz 20 Mg Capsule24
Corcid (Corona)Corcid Capsule30
Aciloc DAciloc D 10 Mg/150 Mg Tablet0
Corcid (Jagsonpal)Corcid Capsule30
AcispasAcispas 10 Mg/150 Mg Tablet12
ConrinConrin 10 Mg/10 Mg/20 Mg Tablet0
CucidCucid Oral Gel40
RadicRadic 10 Mg/150 Mg Tablet14
Pepdac DPepdac D 10 Mg/10 Mg/20 Mg Tablet4
DemoDemo 20 Mg Capsule11
CycloranCycloran 10 Mg/150 Mg Tablet16

क्या आप या आपके परिवार में किसी को यह बीमारी है? सर्वेक्षण करें और दूसरों की सहायता करें

References

  1. Tack J et al. Functional gastroduodenal disorders. Gastroenterology. 2006 Apr;130(5):1466-79. PMID: 16678560
  2. Bredenoord AJ, Weusten BL, Timmer R, Akkermans LM, Smout AJ. Relationships between air swallowing, intragastric air, belching and gastro-oesophageal reflux. Neurogastroenterol Motil. 2005;17:341–347. PMID: 15916621
  3. Bredenoord AJ. Management of Belching, Hiccups, and Aerophagia. Clin Gastroenterol Hepatol. 2013;11:6–12. PMID: 22982101
  4. Scheid R, Teich N, Schroeter ML. Aerophagia and belching after herpes simplex encephalitis. Cogn Behav Neurol. 2008;21:52–54. PMID: 18327025
  5. HealthLink BC [Internet] British Columbia; Dyspepsia
  6. MedlinePlus Medical Encyclopedia: US National Library of Medicine; Gas
और पढ़ें ...