myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

जब बात मुंह की सफाई की आती है तो ज्यादातर लोग यही मानते हैं कि अपने दांत ब्रश कर लेने भर से ही उन्हें मौखिक स्वच्छता से जुड़े सभी मुद्दों से छुटकारा मिल जाएगा। लेकिन वे लोग इस तथ्य से अवगत नहीं हैं कि सिर्फ ब्रश करना, आपके मौखिक स्वास्थ्य के लिए ऑल-इन-वन समाधान नहीं है। टूथपेस्ट और ब्रश के अलावा भी कई चीजें हैं जिनके इस्तेमाल के बारे में आपको विचार करना चाहिए और इन्हीं में से एक सबसे महत्वपूर्ण है माउथवॉश। ऐसे में आपने अपने मन से माउथवॉश का इस्तेमाल शुरू किया हो या फिर डॉक्टर ने आपको इसका इस्तेमाल करनी की सलाह दी हो, हम आपको बता रहे हैं कि आखिर माउथवॉश क्या है, इसका उपयोग कैसे किया जाता है और इसके फायदे, नुकसान क्या हो सकते हैं।

(और पढ़ें - मुंह की सफाई कैसे करें)

  1. माउथवॉश क्या है? - Mouthwash kya hai?
  2. माउथवॉश इस्तेमाल करने का सही तरीका - Mouthwash use karne ka sahi tarika
  3. माउथवॉश का उपयोग - Mouthwash ka upyog
  4. माउथवॉश के फायदे - Mouthwash ke fayde
  5. माउथवॉश के नुकसान - Mouthwash ke nuksan
  6. माउथवॉश के फायदे, नुकसान और करने का तरीका के डॉक्टर

माउथवॉश, एक तरल उत्पाद है जिसका उपयोग दांतों, मसूड़ों और मुंह को कुल्ला करके साफ रखने के लिए किया जाता है। इसमें आमतौर पर हानिकारक बैक्टीरिया को मारने के लिए एक एंटीसेप्टिक होता है जो आपके दांतों के बीच और आपकी जीभ पर बना रह सकता है। कुछ लोग सांस की बदबू की समस्या से लड़ने के लिए माउथवॉश का उपयोग करते हैं, जबकि अन्य इसका उपयोग दांतों की सड़न को रोकने के लिए करते हैं।

जब बात मौखिक स्वच्छता की आती है तो माउथवॉश दांतों को ब्रश करके साफ करने या फ्लॉसिंग जैसी अहम प्रक्रियाओं को प्रतिस्थापित नहीं कर सकता (रिप्लेस नहीं कर सकता), बल्कि एक अतिरिक्त टूल की तरह काम करता है जो आपके मुंह को पूरी तरह से साफ और कीटाणुमुक्त बनाने में आपकी मदद कर सकता है। साथ ही माउथवॉश सिर्फ तभी प्रभावी हो सकता है जब उसे सही तरीके से उपयोग किया जाए। यहां पर यह समझना भी महत्वपूर्ण है कि अलग-अलग ब्रैंड के माउथवॉश में उत्पाद का फॉर्मुला अलग-अलग होता है और सामग्रियां भी अलग-अलग होती हैं, और सभी माउथवॉश आपके दांतों को मजबूत नहीं बना सकते।

(और पढ़ें - ब्रश करने का सही तरीका और फायदे)

माउथवॉश का इस्तेमाल कर अपनी सांसों को ताजा करने का अभ्यास तो रोमन्स के जमाने से चला आ रहा है लेकिन पिछले 100 वर्षों के भीतर माउथवॉश ने सांसों को ताजा करने पर कम ध्यान केंद्रित किया है और बैक्टीरिया को मारने पर अधिक ध्यान केंद्रित किया है। ज्यादातर लोकप्रिय माउथवॉश के पीछे की अवधारणा गंध या बदबू को खत्म करने की बजाय बैक्टीरिया को मारना होता है। वैसे तो माउथवॉश, सांसों की बदबू से छुटकारा पाने के लिए एक प्रभावी टूल की तरह काम करता है, लेकिन नए अध्ययनों में माउथवॉश के बार-बार उपयोग करने की सुरक्षा पर सवाल भी उठाए गए हैं।

वैसे तो अलग-अलग ब्रैंड्स के इस्तेमाल का तरीका अलग-अलग हो सकता है इसलिए माउथवॉश को इस्तेमाल करने से पहले पैकेट पर लिखे निर्देशों को सही तरीके से पढ़ें। बावजूद इसके कुछ बुनियादी या मूलभूत जानकारियां और दिशा निर्देश हैं जिनका पालन आपको माउथवॉश का उपयोग करते वक्त जरूर करना चाहिए:

1. सबसे पहले ब्रश करके दांतों को साफ करें
माउथवॉश का इस्तेमाल करने से पहले ब्रश और टूथपेस्ट और फ्लॉसिंग की मदद से दांतों को अच्छी तरह से साफ करना जरूरी है। अगर आप ब्रश करने के लिए फ्लोराइड युक्त टूथपेस्ट का इस्तेमाल कर रहे हैं तो ब्रश करने के तुरंत बाद माउथवॉश यूज न करें बल्कि कुछ देर का गैप रखें। ऐसा इसलिए क्योंकि माउथवॉश टूथपेस्ट में मौजूद संघनित फ्लोराइड को मुंह के बाहर निकाल सकता है।

(और पढ़ें - टूथपेस्ट के हैरान कर देने वाले 5 फायदे)

2. माउथवॉश की कितनी मात्रा लेनी है
अपने माउथवॉश या ओरल कुल्ला वाले लिक्विड को प्रॉडक्ट के साथ जो मेजरिंग कप प्रदान किया गया है उसमें या फिर प्लास्टिक के कप में निकाल लें। केवल उतने ही माउथवॉश लिक्विड का उपयोग करें जितना उत्पाद आपको उपयोग करने का निर्देश देता है। यह आमतौर पर 3 और 5 चम्मच के बीच होता है। 

3. अब ऐसे करें कुल्ला
कप में आपने माउथवॉश का जो लिक्विड निकाला है उसे सीधे मुंह में डालें और पूरे मुंह में चारों तरफ इधर-उधर घूमाएं लेकिन माउथवॉश को घोंटना नहीं है। माउथवॉश शरीर के अंदर निगलने के लिए नहीं बना है इसलिए इसे गलती से भी न पिएं। जब आप माउथवॉश की मदद से मुंह में कुल्ला कर रहे हों तो करीब 30 सेकंड तक माउथवॉश की मदद से गरारे भी करें। 

(और पढ़ें - ऑयल पुल्लिंग के फायदे नुकसान)

4. अब थूक दें
माउथवॉश को पूरे मुंह में अच्छी तरह से घुमाकर कुल्ला करने और गरारे करने के बाद मुंह से बाहर सिंक में थूक दें, उसे गलती से भी न निगलें।

वैसे तो कुछ लोग माउथवॉश का उपयोग दांतों की सफाई की अपनी दैनिक दिनचर्या के रूप में करते हैं। लेकिन अगर आप चाहें तो जब भी सांसों की बदबू महसूस हो रही हो उसे दूर करने के लिए माउथवॉश का इस्तेमाल कर सकते हैं। सांसों की बदबू दूर के लिए माउथवॉश का उपयोग करने के लिए वास्तव में कोई जरूरी दिशा निर्देश नहीं बनाया गया है। लेकिन यह दांतों के इनैमल को मजबूत करने या मसूड़ों की बीमारी से लड़ने में तब तक आपकी मदद नहीं कर सकता जब तक आप ब्रश करने और फ्लॉस करने के बाद इसका सही तरीके से इस्तेमाल न करें।

(और पढ़ें - अगर ये खाएंगे तो दांत प्राकृतिक रूप से सफेद हो जाएंगे)

माउथवॉश के बेहतर परिणाम पाने के लिए जरूरी है कि आप माउथवॉश का उपयोग करने से पहले दांतों को अच्छी तरह से साफ करें। जिस तरह से रोजाना दिन में 2 बार ब्रश करना जरूरी है, ठीक उसी तरह अधिकांश माउथवॉश उत्पाद भी यही सलाह देते हैं कि ब्रश और फ्लॉसिंग के बाद प्रतिदिन 2 बार माउथवॉश का उपयोग करना चाहिए। 

माउथवॉश के फायदे सांसों को ताजा करने के लिए - Mouthwash ke fayde taza sans ke liye

माउथवॉश का सबसे अच्छा और कॉमन फायदा ये है कि माउथवॉश आपको एक अच्छी और ताजा सांस देने में मदद करता है जो अच्छे से अच्छा टूथपेस्ट भी आपको नहीं दे सकता है। हालांकि, माउथवॉश का फायदा मुंह में बहुत लंबे समय तक नहीं रहता है। यह उन सभी जीवाणुओं को मार देता है जो सांसों की बदबू से जुड़े होते हैं और इसे इस्तेमाल करने के बाद मुंह में एक मीठी और ठंडी सांस छोड़ते हैं। माउथवॉश के बारे में सबसे अच्छी बात ये है कि यह अलग-अलग फ्लेवर्स में मार्केट में मिलता है और आप अपने पंसदीदा फ्लेवर का इस्तेमाल कर सकते हैं।

(और पढ़ें - पीले दांतों को सफेद करने के उपाय)

माउथवॉश के फायदे मुंह के कणों से छुटकारा पाने के लिए - Mouthwash ke fayde particles door karne ke liye

सांसों की बदबू दूर करने में मदद करता है माउथवॉश यह तो हम सभी जानते हैं लेकिन कुछ ऐसा है जिसके बारे में शायद आपको जानकारी न हो और वो ये है कि जब आप सुबह सोकर उठते हैं तो आपके मुंह में बनने वाले सभी ढीले कणों को भी साफ करने में मदद करता है माउथवॉश। वैसे तो माउथवॉश को ब्रश करने के बाद ही इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती है लेकिन कभी-कभार आप चाहें तो ब्रश करने से पहले भी माउथवॉश का उपयोग कर सकते हैं। ऐसा करने से आपका ब्रशिंग और फ्लॉसिंग का अनुभव बेहतर होगा।

(और पढ़ें - दांतों और मसूड़ों को मजबूत बनाने के लिए खाएं ये 4 चीजें)

माउथवॉश के फायदे प्लाक हटाने के लिए - Mouthwash ke fayde plaque hatane ke liye

मार्केट में विभिन्न माउथवॉश हैं जो आपके मसूड़ों और दांतों में जमने वाले प्लाक को बनने से रोकने में मदद कर सकता है। वैसे तो माउथवॉश, निश्चित रूप से प्लाक को मुंह में बनने से रोक सकता है लेकिन पहले से अगर मुंह में कोई प्लाक मौजूद हो तो उसे समाप्त नहीं कर सकता। इसलिए सुनिश्चित करें कि आप अपने दांतों को नियमित रूप से ब्रश करते हैं क्योंकि ब्रशिंग और माउथवॉश दोनों एक साथ मिलकर कई मौखिक समस्याओं का समाधान कर सकते हैं।

(और पढ़ें - दांत दर्द के घरेलू उपाय)

माउथवॉश के फायदे कैविटीज को रोकने के लिए - Mouthwash ke fayde cavities rokne ke liye

माउथवॉश दांतों में होने वाली कैविटीज को समस्या से भी बढ़ने से रोक सकता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि माउथवॉश में भी फ्लोराइड के प्रॉपर्टीज होती हैं जो दांतों में कैविटीज होने से रोकता है और दांतों के इनैमल को मजबूत बनाता है।

(और पढ़ें - बच्चों के दांतों में कैविटी से बचने के उपाय)

माउथवॉश के फायदे छाले की समस्या दूर करने के लिए - Mouthwash ke fayde ulcer door karne ke liye

कैंकर सोर्स या नासूर मुंह में होने वाले एक तरह के छाले हैं। अगर आप नियमित रूप से माउथवॉश का इस्तेमाल अपने ओरल रूटीन में करें तो कुछ ही दिनों के अंदर आपको मुंह में मौजूद छालों से छुटकारा मिल सकता है।

(और पढ़ें- मुंह के छाले दूर करने के घरेलू उपाय)

माउथवॉश के मामूली और क्षणिक दुष्प्रभाव बेहद कॉमन हैं, जैसे-

  • स्वाद में गड़बड़ी
  • दांतों में धब्बे आ जाना
  • मुंह में सूखेपन का अनुभव होना
  • अगर किसी व्यक्ति को माउथवॉश की सामग्रियों से ऐलर्जी हो तो इसकी वजह से मुंह में अल्सर और लालिमा की समस्या भी हो सकती है

अगर पानी में मिलाकर माउथवॉश को पतला करके उसका इस्तेमाल किया जाए तो इस तरह के साइड इफेक्ट्स या दुष्प्रभावों को कम या समाप्त किया जा सकता है।

हाल ही में हुए एक अध्ययन में, शोधकर्ताओं ने डायबिटीज विकसित होने और माउथवॉश का उपयोग करने के बीच लिंक होने की जांच की। इस दौरान शोधकर्ताओं ने पाया कि जो लोग नियमित रूप से माउथवॉश का उपयोग करते हैं (एक दिन में दो बार या इससे अधिक) उनमें डायबिटीज विकसित होने का जोखिम 55 प्रतिशत अधिक था या फिर 3 साल के अंदर उनके शरीर में ब्लड शुगर में खतरनाक स्तर पर बढ़ोतरी देखने को मिली।

(और पढ़ें- मुंह की बदबू का आयुर्वेदिक इलाज)

Dr. Siddharth Rawat

Dr. Siddharth Rawat

सामान्य चिकित्सा
8 वर्षों का अनुभव

Dr. Syed Mukhtar Mohiuddin

Dr. Syed Mukhtar Mohiuddin

सामान्य चिकित्सा
7 वर्षों का अनुभव

Dr. Gopikanth K.P.

Dr. Gopikanth K.P.

सामान्य चिकित्सा
2 वर्षों का अनुभव

Dr. Vachanaram Choudhary

Dr. Vachanaram Choudhary

सामान्य चिकित्सा
1 वर्षों का अनुभव

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें