myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

मुंह के छाले - Mouth Ulcer in Hindi

Dr Razi AhsanBDS,MDS

July 20, 2017

January 05, 2021

मुंह के छाले

मुंह के छाले क्या होते हैं?

मुंह में होने वाले छाले अधिकतर गालों के अंदर होते हैं। मुंह के छालें को चिकित्सीय भाषा में कैंकर सोर्स (Canker sores) भी कहा जाता है।

यह छाले दर्दनाक हो सकते हैं जो जीभ, होंठ, गाल या गले में पाए जातें हैं। इन्हे तीन प्रकार में वर्गीकृत किया जाता हैं:

  1. छोटे छाले
  2. बड़े छाले
  3. हेरपेटिफोर्म अलसर (herpetiform ulcers)

अगर छालों के साथ-साथ बुखार भी आता है या छाले तीन हफ्ते से ज़्यादा रहते हैं या यह खाना निगलने में दिक्कत पैदा करते है तो तुरंत डॉक्टर से परामर्श लें। 

मुंह में छाले होने के बहुत सारे कारण होते हैं, जिनमें मुंह में चोट लगना, तीखा भोजन खाना, विटामिन की कमी, हॉर्मोन्स की गतिविधियां, तनाव या "ऑटोइम्म्यून डिसऑर्डर" (Autoimmune disorders: प्रतिरक्षा प्रणाली में गड़बड़ी के कारण होने वाले रोग) शामिल हैं।

ज़्यादातार मुंह के छालों के इलाज की ज़रूरत नहीं पड़ती है, यह अपने आप ठीक हो जातें हैं। दर्द से आराम पाने के लिए और जल्दी ठीक होने के लिए आप कुछ इलाज और घरेलू नुस्खे अपना सकते हैं, जिनमें बाहर से लगाने वाली दवा, माउथवाश, और ओवर-द-काउंटर दवाइयां (बिना डॉक्टर के पर्चे के मिलने वाली दवा) शामिल हैं।

जिन लोगों को बार-बार छाले होते हैं, उन्हें डॉक्टर द्वारा टेस्ट कराने चाहिए, जिससे इस समस्या की ठीक से जांच हो सके।

मुंह के छाले के प्रकार - Types of Mouth Ulcer in Hindi

मुंह के छालों के प्रकार (कैंकर सोर्स)

मुंह के छाले संक्रामक नहीं होते हैं और इन्हें तीन प्रकार में वर्गीकृत किया जाता है :

  1.  छोटे छाले -
    इनका साइज 3 से 10 मिलीमीटर के बीच होता है और यह बहुत ही सामान्य तरह के छाले होते हैं। यह 10 से 14 दिन के अंदर ठीक हो जातें हैं और इनके कोई निशान नहीं रहते। (और पढ़ें - घाव के निशान मिटाने के उपाय)
     
  2. बड़े छाले -
    यह छाले छोटें छालों से ज़्यादा बड़े और गेहरें होते हैं, इनकी चौड़ाई 10 मिलीमीटर से ज़्यादा होता हैं। इन छालों को ठीक होने में कुछ हफ्ते से लेकर कुछ महीने तक लग जाते हैं और यह ठीक होने के बाद निशान छोड़ देते हैं।
     
  3. हेरपेटिफोर्म छाले (Herpetiform sores) -
    बहुत सारे छोटे-छोटे छालों के समूह को हेरपेटिफोर्म छाले कहते हैं। इन छालों का साइज बहुत कम होता है (2-3 मिलीमीटर), लेकिन एक समय पर ऐसे 100 छाले तक इकट्ठे भी हो सकते हैं। यह बिना निशान छोड़े ठीक हो जाते हैं। 

मुंह के छाले के लक्षण - Mouth Ulcer Symptoms in Hindi

मुंह में छाले होने के क्या लक्षण होते हैं?

मुंह के छाले अक्सर जीभ, गालों की की अंदर की सतह, मसूड़ों, होंठ के अंदर या तालु के पीछे की नर्म हिस्से पर हो जाते हैं। मुंह के छालों के कुछ लक्षण इस प्रकार हैं:

  1. छाला पनपने से 24 घंटे पहले से जलन, झुनझुनी, चुभन महसूस होना।
  2. छाला सफेद, ग्रे या पीले रंग का होता है, उसका लाल रंग का बॉर्डर होता है।
  3. ज़्यादातर छाले दर्दनाक होते हैं।
  4. बोलने और खाना चबाने व निगलने में दिक्कत होती है।

उपरलिखित लक्षण के अलावा मुंह में छालों के कुछ ऐसे लक्षण भी होते हैं जो कम देखने को मिलते हैं, लेकिन इनका होना किसी गंभीर समयस्या की ओर इशारा करता है। यह लक्षण इस प्रकार हैं -

  1. बुखार (और पढ़ें - बुखार भगाने के उपाय)
  2. सूजी हुई लसिका ग्रंथि, जिसे अंग्रेजी में लिम्फ नोड्स (lymph nodes) कहते हैं
  3. सुस्त होना
  4. वजन कम होना (और पढ़ें - vajan badhane ke liye kya kare)
  5. मुंह या गले में फंगल इन्फेक्शन होना (और पढ़ें - फंगल इन्फेक्शन के घरेलू नुस्खे)

डॉक्टर को कब दिखाएं?

निम्नलिखित स्थितियों में तुरंत अपने डॉक्टर या डेंटिस्ट से संपर्क करें। अगर:

  1. छाले पहले से ज़्यादा बड़े हो गए हों
  2. छाले फैल रहे हों
  3. छाले तीन हफ़्तों से ज़्यादा समय से हों
  4. पेन किलर (दर्द निवारक दवा) लेने के बाद भी छालों में दर्द हो रहा हो
  5. छालों की वजह से पानी पीने में दिक्कत हो रही हो
  6. छाले होने के साथ बुखार भी हो गया हो।

(और पढ़ें - मुंह की बदबू का इलाज)

मुंह के छाले के कारण - Mouth Ulcer Causes in Hindi

मुंह में छाले क्यों होते हैं​?

मुंह के छाले होने का कारण आज तक पता नहीं चल सका है, हालांकि शोधकर्ता यह मानते हैं कि बहुत सारे कारक मिलाकर छाले होने का कारण बनते हैं। मुंह में छाले संभवत: इन वजह से हो सकते हैं -

  1. दन्त कार्य के दौरान छोटी सी खरोंच लगना, ज़्यादा ब्रश करना, खेल के दौरान चोट लगना, गलती से गाल काटना। 
  2. सोडियम लॉरयल सल्फेट (Sodium lauryl sulfate) युक्त टूथपेस्ट या माउथवाश इस्तेमाल करना। 
  3.  खाद्य संवेदनशीलताएं (प्रभाव), विशेष रूप से चॉकलेट, कॉफ़ी, स्ट्रॉबेरी, अंडा, नट्स, चीज़ और तीखे भोजन के प्रति। 
  4. विटामिन बी12, जिंक, फोलिक एसिड या आयरन रहित खाना।
  5. मुंह में पाएं जाने वाले बैक्टीरिया की एलर्जिक प्रतिक्रिया।
  6. हेलिकोबैक्टर पाइलोरी (Helicobacter pylori) बैक्टीरिया, जिसकी वजह से पेट में अल्सर भी होते हैं।
  7. मासिक धर्म के दौरान हॉर्मोन्स में बदलाव आना।
  8. भावनात्मक तनाव

अधिकतर मुंह में छाले होना बस एक आम समस्या होती है, लेकिन बहुत कम मामलों में यह कुछ बीमारियों की वजह से भी हो सकते हैं, जैसे कि -

  1. सीलिएक रोग (Celiac disease), एक गंभीर आत्र विकार, जो ग्लूटेन (Gluten: कई सारे अनाज में पाएं जाना वाला प्रोटीन) के प्रति संवेंदनशीलता से होता है।
  2. आंत्र में जलन रोग जैसे की क्रोन रोग (Crohn's disease) और अल्सरेटिव कोलाइटिस (Ulcerative colitis)
  3. बेहसेत डिजीज (Behcet's disease), एक दुर्लभ विकार जो मुँह के साथ पूरे शरीर में जलन करता है।
  4. दोषपूर्ण प्रतिरक्षा क्षमता जो मुंह के स्वस्थ्य सेल पर हमला करता हैं  बजाये वायरस या बैक्टीरिया के।
  5. एचआईवी/ एड्स, जो इम्यून सिस्टम की प्रणाली को दबाता हैं।  (और पढ़ें - प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थ)

 मुंह के छाले हर्पीस वायरस इन्फेक्शन से नहीं होते हैं। यह एक गलत धारणा है।

मुंह के छालों से बचाव - Prevention of Mouth Ulcer in Hindi

क्या मुंह में छाले होने से कैसे रोकें?

हालाँकि, मुंह के छालों का कोई इलाज नहीं हैं और यह फिर से हो जातें हैं, लेकिन इनके होने को कम किया जा सकता है। निम्न तरीके प्रमुख है -

  1. ऐसे खाने से परहेज करें, जो आपके मुंह को नुकसान पहुंचता है जैसे की मसालेदार खाना
  2. च्युइंग गम न चबाएं क्योंकि इससे भी मुंह के छाले होने की सम्भावना बढ़ जाती है।
  3. रोज़ाना नर्म बालों वाले ब्रश से दांत साफ करें और खाने के बाद दाँत साफ करने के धागे (floss) से दांतों के बीच फंसा खाना निकालें। इससे छाले होने की सम्भावना कम होगी। (और पढ़ें - दांत में कीड़ा लगने की दवा)
  4. अपने मुंह का ध्यान रखें, और कोशिश करें किसी भी तरह की चोट या खरोंच न लगे।

(और पढ़ें - गलतियां जो करती हैं दांतों को खराब)

मुंह के छाले का निदान - Diagnosis of Mouth Ulcer in Hindi

मुंह के छाले का निदान कैसे होता है?

मुंह के छालों के लिए किसी विशेष जाँच की ज़रूरत नहीं होती, आपका डॉक्टर या डेंटिस्ट मुंह के निरीक्षण के समय ही उन्हें पहचान लेंगे।

कुछ मामलो में दूसरे स्वास्थ्य सम्बन्धी परेशानियों को पता करने के लिए जाँच की ज़रूरत पड़ सकती हैं, खासतौर पर तब जब छाले ज़्यादा हों या बार-बार हो रहे हों। ऐसे में ब्लड टेस्ट या मुंह की बायोप्सी करने की जरूरत पड़ सकती है या फिर तब जब डॉक्टर को लगता है कि आपको निम्नलिखित समस्या में से कोई हो सकती है -

  • वायरल इन्फेक्शन
  • विटामिन या मिनरल की कमी 
  • हार्मोनल डिसऑर्डर (हॉर्मोन सम्बन्धी गड़बड़ी)
  • इम्यून सिस्टम में कोई गड़बड़ी 
  • छालों का गंभीर रूप से फैलना

कैंसर का घाव भी मुंह के छाले जैसा दिखता है, लेकिन यह बिना इलाज के ठीक नहीं होता। ओरल कैंसर के कुछ लक्षण मुंह के छालों के लक्षण जैसे ही होते हैं, जैसे की दर्दनाक छाले और गले में सूजन। लेकिन, ओरल कैंसर की पहचान इसके विशेष लक्षणों से होती है, जैसे - 

  1. मुंह या मसूड़ों से खून आना
  2. दांतों का ढ़ीला होना
  3. खाना निगलने में परेशानी होना 
  4. कान में दर्द होना (और पढ़ें - कान में दर्द के घरेलू उपाय)

अगर आपको मुंह के छालों के साथ यह सब लक्षण भी दिखाई देतें हैं, तो आप जल्द से जल्द अपने डॉक्टर से संपर्क करें, जिससे की ओरल कैंसर (मुंह का कैंसर) होने की संभावना को खारिज किया जा सके।  

मुंह के छाले का उपचार - Mouth Ulcer Treatment in Hindi

मुंह के छालों का इलाज

मुंह के छाले छोटे हों तो ज़्यादातर इलाज की ज़रूरत नहीं पड़ती, यह हफ्ते या दो हफ्ते में अपने आप ठीक हो जातें हैं। लेकिन बड़े और बार-बार होने वाले दर्दनाक छालों को चिकित्सा देखभाल की ज़रूरत पड़ती है। कई सारे इलाज के विकल्प मौजूद हैं, जिनमें में से प्रमुख इस प्रकार हैं -

  1. दवा-युक्त माउथ वाश -
    अगर आपकी स्थिति गंभीर है तो डॉक्टर आपको एक दवा-युक्त माउथ वाश से दिन में कई बार कुल्ला करने को बोलेंगे। इस दवा से दर्द और जलन कम होती है।
     
  2. मुँह के छाले की क्रम और अन्य दवा -
    ऐसी कई पेस्ट, क्रीम, जेल या लिक्विड मौजूद हैं जो जल्द आराम पाने में और छाले ठीक होने में सहायता कर सकती हैं। इनका असर सबसे ज़्यादा तब होता है जब इन्हे छाला होने के तुरंत बाद लगाया जाए। आपके लिए सही दवा कौन सी है, यह जानने के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श लें।
     
  3. टेबलेट या गोली व अन्य मौखिक दवा -
    मौखिक दवा की तब ज़रूरत पड़ती है, जब मुंह के छाले बहुत गंभीर हो जाते हैं और क्रीम आदि का उन पर कोई असर नहीं होता है। इनमें से कुछ निम्न है -
    1. कुछ ऐसी दवाएं जो स्पष्ट रूप से मुंह के छालों के इलाज के लिए नहीं बनी हैं, जैसे कि पेट के अलसर की दवा या गाउट की दवा। 
    2. जब मुंह के छले इतने गंभीर हो जाते हैं कि वह अन्य दवाओं से ठीक नहीं होते, तब स्टेरॉयड दवा का इस्तेमाल किया जाता है। स्टेरॉयड दवाओं के गंभीर साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं, इस लिए इन्हे सबसे अंत में इस्तेमाल किया जाता है जब कोई और विकल्प न बचा हो।
       
  4. पोषक तत्व पूरक (न्यूट्रिशनल सप्लीमेंट्स) -
    अगर आप कम मात्रा में आवश्यक पोसाहक तत्व लेते हैं तो आपके डॉक्टर आपको न्यूट्रिशनल सप्लीमेंट्स लेने को कहेंगे, जैसे कि फोलेट (फोलिक एसिड या विटामिन बी9), विटामिन बी 6, विटामिन बी12 या जिंक।

मुंह के छाले में परहेज - What to avoid during Mouth Ulcer in Hindi?

क्या खाने से बचें?

  1. तीखा या नमकीन खाना, खट्टे या टमाटर युक्त खाद्य पदार्थ न खाएं। इनको खाने से खुले हुए छालों में तेज चीस मच सकती है।
  2. खुरदरे आहार जैसे कि सूखा टोस्ट से दूर रहें। यह मुंह के छालों की वजह से होने वाली परेशानी को और बढ़ा सकते हैं।
  3. कुछ भी तीखा न खाएं। तीखा आहार लेने से छालों में जलन बढ़ सकती है।

मुंह के छाले में क्या खाना चाहिए? - What to eat during Mouth Ulcer in Hindi?

मुंह में छाले या गले में छाले होने पर क्या खाया जाएँ?

  1. नर्म और क्रीम युक्त खाना खाएं -
    नर्म और क्रीम युक्त खाना खाएं जिसमें ज़्यादा मात्रा में कैलोरी और प्रोटीन हों, जैसे कि क्रीम युक्त सूप, चीज़, दही, आइस क्रीम आदि। अगर आप दर्द की वजह से थोड़ा ही खा पा रहे हैं, तो आपको ज़्यादा कैलोरी युक्त भोजन खाना चाहिए, जो आपके शरीर को पर्याप्त ऊर्जा देगा। 
     
  2. अपने खाने को भिगोएं -
    अगर आप नाश्ते में "ब्रेकफास्ट सीरियल" (जैसे कॉर्न फलेक्स) लेते हैं तो उन्हें खाने से पहले अच्छे से ठंडे दूध में भिगोएं। अगर आप चावल खा रहे हैं तो उसमें अच्छे से दाल मिलाएं ताकि चावल नर्म हो जाएं।
     
  3. अपने खाने को छोटे हिस्सों में काटें -
    मीट और मछली को छोटे हिस्सों में कांटें और उसे मिक्सी में डाल के पतला बना (पेस्ट की तरह) के खायें। आप इसमें सॉस या कम वसा वाली ग्रेवी भी मिक्स कर सकतें हैं।
     
  4. पकी हुई सब्ज़ियां  खाएं -
    कच्ची सब्ज़ियां खाने से मुँह के छालों का दर्द बढ़ सकता है।
     
  5. ठंडे आहार लें -
    आइस क्रीम और ठंडा शरबत जैसी ठंडी चीज़ें खाएं। इनका ठंडापन आपके मुंह के छालों को ठंडक पहुंचाएगा।


संदर्भ

  1. Better health channel. Department of Health and Human Services [internet]. State government of Victoria; Mouth ulcers
  2. National Health Portal [Internet] India; Mouth Ulcers (Stomatitis)
  3. Nidirect [Internet]. Government of Northern Ireland; Mouth ulcers
  4. Oral Health Foundation, Smile House, 2 East Union Street, Rugby, Warwickshire, CV22 6AJ, UK [Internet] Mouth ulcers
  5. Dental Health Foundation, Dublin, Ireland [Internet] Mouth Ulcers
  6. National Health Service [Internet]. UK; Mouth ulcers.
  7. MedlinePlus Medical Encyclopedia: US National Library of Medicine; Mouth ulcers

मुंह के छाले के वीडियो

मुंह के छाले के डॉक्टर

Dr. Abhay Singh Dr. Abhay Singh गैस्ट्रोएंटरोलॉजी
1 वर्षों का अनुभव
Dr. Suraj Bhagat Dr. Suraj Bhagat गैस्ट्रोएंटरोलॉजी
23 वर्षों का अनुभव
Dr. Smruti Ranjan Mishra Dr. Smruti Ranjan Mishra गैस्ट्रोएंटरोलॉजी
23 वर्षों का अनुभव
Dr. Sankar Narayanan Dr. Sankar Narayanan गैस्ट्रोएंटरोलॉजी
10 वर्षों का अनुभव
डॉक्टर से सलाह लें

मुंह के छाले की दवा - Medicines for Mouth Ulcer in Hindi

मुंह के छाले के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

दवा का नाम

कीमत

₹72.8

20% छूट + 5% कैशबैक


₹44.04

20% छूट + 5% कैशबैक


₹104.3

20% छूट + 5% कैशबैक


₹30.74

20% छूट + 5% कैशबैक


₹7.37

20% छूट + 5% कैशबैक


₹94.5

20% छूट + 5% कैशबैक


₹75.6

20% छूट + 5% कैशबैक


₹175.0

20% छूट + 5% कैशबैक


₹36.75

20% छूट + 5% कैशबैक


Showing 1 to 10 of 429 entries

मुंह के छाले की ओटीसी दवा - OTC Medicines for Mouth Ulcer in Hindi

मुंह के छाले के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

मुंह के छाले की जांच का लैब टेस्ट करवाएं

मुंह के छाले के लिए बहुत लैब टेस्ट उपलब्ध हैं। नीचे यहाँ सारे लैब टेस्ट दिए गए हैं:

मुंह के छाले पर आम सवालों के जवाब

सवाल एक साल के ऊपर पहले

मुझे हर महीने मुंह में छाला हो जाता है, इसे ठीक करने के लिए कोई जैल बताइए क्योंकि मुझे इसमें दर्द भी होता है?

Dr. Haleema Yezdani MBBS , सामान्य चिकित्सा

आप मुंह के छाले के लिए Tablet Limcee 500 एमजी की एक गोली रोजाना 15 दिन तक लें और Tablet Supradyn की एक गोली रोजाना एक महीने तक लें। Zytee माउथ पेंट जैल का इस्तेमाल करें, इससे आपको आराम मिलेगा।

सवाल एक साल के ऊपर पहले

मुझे एक हफ्ते से मुहं में छाला हो रहा है। मैं रोजाना बी काम्प्लेक्स टैबलेट लेती हूं और जैल भी लगाती हूं लेकिन अभी तक यह प्रॉब्लम ठीक नहीं हुई है। मैं जानना चाहती हूं कि इसके लिए मुझे किस स्पेशलिस्ट से मिलना चाहिए?

Dr. Manju Shekhawat MBBS , सामान्य चिकित्सा

इसके लिए आप डेंटिस्ट (दांतो का डॉक्टर) को दिखाएं, वह मुंह के छाले की पूरी तरह से जांच करके आपको दवा प्रिस्कराइब करेंगें।

सवाल एक साल के ऊपर पहले

मेरे बेटे को पिछले 2 महीने से मुंह में छाले हो रहे हैं, मैंने कई डॉक्टर से उसका इलाज करवाया लेकिन उसके छाले अभी तक हैं। अब हमें किस स्पेशलिस्ट को दिखाना चाहिए?

Dr. Tarun kumar MBBS , अन्य

आपके बेटे को मुंह में छाले हैं तो आप उसे डेंटिस्ट को दिखाएं।

सवाल एक साल के ऊपर पहले

मेरे मुंह में हमेशा छाले हो जाते हैं, जीभ और मुंह के अंदर दोनों जगह छाले होते हैं। ऐसा क्यों होता है?

Dr. Braj Bhushan Ojha BAMS , गैस्ट्रोएंटरोलॉजी, डर्माटोलॉजी, मनोचिकित्सा, आयुर्वेदा, सेक्सोलोजी, मधुमेह चिकित्सक

तनाव, बार-बार पेट खराब होने, नुकीले दांतों, नींद पूरी न होने या हीमोग्लोबिन के कम होने की वजह से आपको बार-बार छाले हो सकते हैं। डॉक्टर की सलाह से मल्टीविटामिन टैबलेट लें और प्रभावित हिस्से पर दर्द से आराम पाने के लिए Orasep जैल लगाएं।