मस्तिष्क में सूजन - Cerebral edema in Hindi

Dr. Nabi Darya Vali (AIIMS)MBBS

March 12, 2021

March 12, 2021

कई बार आवाज़ आने में कुछ क्षण का विलम्ब हो सकता है!
मस्तिष्क में सूजन
कई बार आवाज़ आने में कुछ क्षण का विलम्ब हो सकता है!

सेरेब्रल एडिमा तब होती है, जब मस्तिष्क के चारों ओर द्रव या तरल बन जाता है और इस कारण दिमाग पर दबाव पड़ने लगता है। इसे 'इंट्राक्रैनियल प्रेशर' के रूप में जाना जाता है।

एडिमा एक मेडिकल टर्म है, इसे आम भाषा में सूजन कहते हैं। जब शरीर में किसी तरह की चोट लगती है तो ऐसे में स्वाभाविक प्रतिक्रिया के रूप में सूजन (स्वेलिंग या इंफ्लेमेशन) हो जाती है।

(और पढ़ें - सूजन कम करने के उपाय)

आमतौर पर सिर्फ मस्तिष्क में ही द्रव इकट्ठा होने की दिक्कत नहीं होती है, यह शरीर में कहीं भी हो सकता है, लेकिन यदि ऐसा मस्तिष्क में होता है, तो इसकी वजह से गंभीर समस्याएं हो सकती हैं।

दिमाग में पानी भर जाने पर मस्तिष्क तक खून की आपूर्ति में बाधा आ सकती है। खून मस्तिष्क को ऑक्सीजन पहुंचाता है, जिससे वह अपने कार्य को सही से कर पाता है। मस्तिष्क में ऑक्सीजन की कमी की वजह से मस्तिष्क की कोशिकाओं को नुकसान हो सकता है या कुछ मामलों में मृत्यु भी हो सकती है।

(और पढ़ें - सूजन का आयुर्वेदिक इलाज)

मस्तिष्क की सूजन के लक्षण - Cerebral edema symptoms in Hindi

मस्तिष्क की सूजन (सेरेब्रल एडिमा) के लक्षणों में निम्नलिखित शामिल हो सकते हैं :

यह लक्षण सूजन की गंभीरता और अंतर्निहित कारणों के आधार पर अलग-अलग हो सकते हैं।

मस्तिष्क में सूजन के कारण - cerebral edema causes in Hindi

मस्तिष्क में सूजन (सेरेब्रल एडिमा) के कारणों में निम्नलिखित शामिल हो सकते हैं :

  • ट्रॉमेटिक ब्रेन इंजरी (टीबीआई) : टीबीआई मस्तिष्क को नुकसान पहुंचाता है। किसी चीज से टकराने व गिरने से मस्तिष्क में सूजन हो सकती है। अधिक गंभीर मामलों में, टीबीआई खोपड़ी में क्रैक (दरार) का कारण बन सकती है, इसकी वजह से खोपड़ी के सूक्ष्म टुकड़े हो सकते हैं, जो मस्तिष्क में रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचा सकते हैं और सूजन पैदा कर सकते हैं। (और पढ़ें - सूजन की होम्योपैथिक दवा)
  • स्ट्रोक : स्ट्रोक विशेष रूप से इस्केमिक स्ट्रोक के कुछ मामलों में मस्तिष्क में सूजन आ सकती है। इस्केमिक स्ट्रोक तब होता है, जब मस्तिष्क के पास खून का थक्का बनने लगता है। इस स्थिति में मस्तिष्क तक खून और ऑक्सीजन की आपूर्ति रुक सकती है। ऐसे में मस्तिष्क की कोशिकाएं मर सकती हैं और चोट की प्रतिक्रिया के रूप में मस्तिष्क में सूजन आ सकती है। (और पढ़ें - ब्रेन स्ट्रोक होने पर क्या करें)
  • संक्रमण : कुछ बैक्टीरिया की वजह से बीमारियां और विकार हो सकते हैं, जिसकी वजह से मस्तिष्क की सूजन (खासकर यदि स्थिति का इलाज नहीं किया गया) हो सकती है।
  • ट्यूमर : ब्रेन ट्यूमर मस्तिष्क पर दबाव बढ़ा सकते हैं, जिससे मस्तिष्क के आस-पास सूजन आ जाती है। (और पढ़ें - ब्रेन ट्यूमर में क्या खाना चाहिए)

मस्तिष्क की सूजन के अन्य कारणों में शामिल हैं :

  • दवाओं का अस्वास्थ्यकर उपयोग
  • वायरल इंफेक्शन
  • कार्बन मोनोऑक्साइड विषाक्तता
  • जहरीले जानवरों, सरीसृप और समुद्री जीवों के काटने पर

(और पढ़ें - वायरल बुखार के लक्षण)

मस्तिष्क में सूजन का निदान - cerebral edema diagnosis in Hindi

मस्तिष्क में सूजन का निदान करना डॉक्टरों के लिए चुनौतीभरा हो सकता है और इसके लिए प्रॉपर टेस्टिंग की जरूरत होती है। मस्तिष्क में सूजन का निदान लक्षणों और अंतर्निहित कारणों पर निर्भर करता है :

  • सिर और गर्दन की जांच
  • न्यूरोलॉजिकल एग्जाम
  • सूजन का सटीक स्थान पता करने के लिए सिर का सीटी स्कैन
  • एमआरआई
  • सूजन के कारणों की जांच के लिए ब्लड टेस्ट
  • लंबर पंक्चर (मेडिकल टेस्ट)

(और पढ़ें - ब्लड टेस्ट के प्रकार)

मस्तिष्क में सूजन का इलाज - cerebral edema treatment in Hindi

मस्तिष्क में सूजन के इलाज में निम्नलिखित तरीकों को अपनाया जा सकता है :

मस्तिष्क की सूजन जानलेवा हो सकती है। इसका तुरंत इलाज किया जाना जरूरी होता है। सेरेब्रल एडिमा के उपचार का उद्देश्य मस्तिष्क में खून के प्रवाह और ऑक्सीजन को बहाल करना है -

  • दवा : डॉक्टर सूजन या खून के थक्के को कम करने के लिए दवाओं का उपयोग कर सकते हैं। इसके लिए वे वारफेरिन लेने का सुझाव दे सकते हैं, जो खून को पतला करता है और खून के थक्कों के जोखिम को कम करता है। कुछ मामलों में, डॉक्टर एस्पिरिन का सुझाव देते हैं, लेकिन वर्तमान दिशा-निर्देशों के अनुसार, इसकी सही डोज न होने की वजह से ब्लीडिंग की समस्या हो सकती है, ऐसे में डॉक्टर से परामर्श करना न भूलें।
  • सर्जरी : गंभीर मामलों में, सर्जरी की आवश्यक हो सकती है। इसमें खोपड़ी के एक हिस्से को हटाने के अलावा उस हिस्से को ठीक किया जाता है, जिसे मस्तिष्क में सूजन की वजह से नुकसान पहुंचता है, जैसे कि किसी रक्त वाहिका को नुकसान पहुंचना। वेंट्रिकुलोस्टॉमी (एक सर्जरी) एक और संभावित प्रक्रिया है। इसमें अतिरिक्त तरल पदार्थ को निकालने के लिए खोपड़ी में एक प्लास्टिक ट्यूब डाली जाती है।
  • हाइपोथर्मिया : इस थेरेपी में शरीर के तापमान को कम किया जाता है, जिससे मस्तिष्क में सूजन को कम करने में मदद मिलती है। (और पढ़ें - हाइपोथर्मिया के लक्षण)
  • ओस्मोथेरेपी : ओस्मोथेरेपी में मस्तिष्क में खून के प्रवाह को बढ़ाने के लिए मस्तिष्क से तरल पदार्थ को निकाला जाता है।


मस्तिष्क में सूजन के डॉक्टर

Dr. Hemanth Kumar Dr. Hemanth Kumar न्यूरोलॉजी
3 वर्षों का अनुभव
Dr. Deepak Chandra Prakash Dr. Deepak Chandra Prakash न्यूरोलॉजी
10 वर्षों का अनुभव
Dr. Virender K Sheorain Dr. Virender K Sheorain न्यूरोलॉजी
19 वर्षों का अनुभव
Dr. Vipul Rastogi Dr. Vipul Rastogi न्यूरोलॉजी
17 वर्षों का अनुभव
डॉक्टर से सलाह लें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ