myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

दारुहरिद्रा को भारतीय बारबेरी, ट्री हल्दी आदि के नाम से भी जाना जाता है। यह एक रसीली बेरी होती है जो कि अक्सर ताज़ा फल के रूप में खाई जाती है, और इसकी ज्यादातर खाद्य फलों के लिए खेती की जाती है।

यह एक झाड़ीदार पेड़ होता है। दारुहरिद्रा की झाड़ी चिकनी और सदाबहार होती है जो कि 2 और 3 मीटर ऊंची होती है। इसके पत्ते 4.9 सेमी लंबे और 1.8 सेमी चौड़े होते हैं। इसको भारत और नेपाल में सबसे अधिक उगाया जाता है। इसके अधिकतर पौधे हिमालय, भूटान, श्री लंका और नेपाल के पहाड़ी इलाकों में पाए जाते हैं। यह हिमालय क्षेत्र में 2000 से 3000 मीटर की ऊंचाई पर उगता है। 

  1. दारुहरिद्रा के फायदे - Daru Haridra ke Fayde in Hindi
  2. दारुहरिद्रा के नुकसान - Daru Haridra ke Nuksan in Hindi

लंबे समय से, भारतीय बैरबेरी या दारुहरिद्रा का उपयोग आयुर्वेदिक चिकित्सा में किया जा रहा है। इसमें एंटिफंगल, जीवाणुरोधी, सूजन को कम करने वाले, एंटीऑक्सिडेंट और हेपेटोप्रोटेक्टिव गुण होते हैं। भारतीय बैरबरी का उपयोग बुखार, अल्सर, सूजन, संक्रमण, त्वचा की समस्याएं, आंखों की बीमारियों, घावों, दस्त के लिए किया जाता है। यह हृदय की विफलता, मलेरिया, लिवर रोग और पीलिया जैसे स्वास्थ्य की समस्याओं में मदद करता है। यह आंतरिक और बाहरी दोनों उपयोग के लिए प्रयोग किया जाता है। तो आइए जानते हैं इसके लाभों के बारे में -

  1. दारुहरिद्रा के फायदे सूजन को कम करने के लिए - Indian Barberry Benefits for Inflammation in Hindi
  2. रसौत का उपयोग करे दस्त के इलाज के लिए - Berberis Aristata for Diarrhea in Hindi
  3. दारुहरिद्रा फॉर डायबिटीज - Daruharidra for Diabetes in Hindi
  4. दारुहरिद्रा के गुण करें कैंसर से बचाव में मदद - Indian Barberry helps prevent Cancer in Hindi
  5. दारू हल्दी के फायदे पाइल्स के लिए - Berberis Aristata for Piles in Hindi
  6. रसौत का उपयोग है बुखार में लाभकारी - Berberis Aristata Benefits for Fever in Hindi
  7. आँखों के लिए उपयोगी है दारुहरिद्रा - Daruharidra ke Fayde for Eyes in Hindi
  8. मासिक धर्म दर्द से छुटकारा दिलाएं दारुहरिद्रा - Daruharidra Benefits for Periods in Hindi
  9. दारुहरिद्रा बेनिफिट्स फॉर स्किन - Daruharidra Benefits for Skin in Hindi

दारुहरिद्रा के फायदे सूजन को कम करने के लिए - Indian Barberry Benefits for Inflammation in Hindi

निष्कर्ष बताते हैं कि दारुहरिद्रा में एंटी-ग्रेन्युलोमा और एंटी-इन्फ्लैमेटरी गुण होते हैं जो सूजन को रोकने में मदद करते हैं। निष्कर्ष बताते हैं कि दारुहरिद्रा सूजन संबंधी बीमारियों का इलाज करने में मदद करती है। यह रहूमटॉइड आर्थराइटिस में दर्द और सूजन को दूर करने के लिए, इससे बने पेस्ट को बाहरी रूप से उपयोग किया जाता है। इसका फ़िल्टर्ड काढ़ा दर्द, सूजन को दूर करने और आँखें धोने के लिए उपयोग किया जाता है। 

(और पढ़ें - गठिया का आयुर्वेदिक इलाज)

रसौत का उपयोग करे दस्त के इलाज के लिए - Berberis Aristata for Diarrhea in Hindi

अध्ययन से पता चलता है कि दारुहरिद्रा में हेपेटो-प्रोटेक्टिव, कार्डियोवास्कुलर, एंटीकैंसर और एंटीमिक्रोबियल गुण होते हैं। इसमें एंटीस्पास्मोडिक, एंटीडिअरायल और एंटीमैरलियल जैसी गतिविधियों का भी पता लगाया गया है जो हर्बल योगों में प्रभावी है। इसलिए दस्त के समय इसका उपयोग किया जाता है। दारुहरिद्रा को पीसकर शहद के साथ मिलाएं। पेट में संक्रमण या दस्त के इलाज के लिए बच्चे को सेवन कराना चाहिए। 

(और पढ़ें - दस्त रोकने के घरेलू उपाय)

दारुहरिद्रा फॉर डायबिटीज - Daruharidra for Diabetes in Hindi

इस फल में एचबीए1सी (Hemoglobin A1c) को कम करने की क्षमता होती है जो कि रक्त ग्लूकोज के स्तर को नियंत्रित करने के लिए महत्वपूर्ण होता है। इसके अतिरिक्त, यह फल रक्त ग्लूकोज को नियंत्रित करने में मदद करता है जो कार्बोहाइड्रेट के चयापचय एंजाइमों के सक्रियण के कारण हो सकता है। इसलिए यदि आप शुगर से पीड़ित हैं तो आपको दारुहरिद्रा का सेवन करना चाहिए। 

(और पढ़ें - शुगर का आयुर्वेदिक इलाज)

दारुहरिद्रा के गुण करें कैंसर से बचाव में मदद - Indian Barberry helps prevent Cancer in Hindi

बेरबेरीन और करक्यूमिन के संयोजन में दारुहरिद्रा का सेवन करने से एमसीएफ -7, ए 5 9 4, जर्कट, हेप-जी 2 और के 562 कोशिकाओं में एंटीकैंसर प्रभाव होते हैं। इनमें अधिक मात्रा में एंटी ट्यूमर गुण होते हैं। इसका संयोजन कैंसर के लिए संभावित उपचार होता है। 

(और पढ़ें - कैंसर से लड़ने वाले दस बेहतरीन आहार)

दारू हल्दी के फायदे पाइल्स के लिए - Berberis Aristata for Piles in Hindi

दारुहरिद्रा ब्लीडिंग पाइल्स के इलाज के लिए एक बहुमूल्य उपाय होता है। यह मक्खन के साथ 33 से 100 सेंटीग्राम की खुराक के साथ दिया जाता है। बवासीर के इलाज के लिए एक पतले घोल भी बाह्य रूप से इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके अलावा दारुहरिद्रा की जड़ की छाल में बेरबेरिन होता है जिसमें एंटिफंगल, जीवाणुरोधी, एंटीऑक्सिडेंट और एंटीवायरल गतिविधियां होती हैं। 

(और पढ़ें - बवासीर के घरेलू उपचार)

रसौत का उपयोग है बुखार में लाभकारी - Berberis Aristata Benefits for Fever in Hindi

यह मलेरिया बुखार में कुनेन की दवा के रूप में प्रभावी होता है। यह विशेष रूप से पायरैक्सिया (शरीर के तापमान में वृद्धि) से राहत पाने में उपयोगी है। इसकी छाल और जड़ की छाल को एक काढ़े के रूप में दिया जाता है। काढ़े को 25 से 75 ग्राम की खुराक में दो बार या एक दिन में तीन बार दिया जाता है। 

(और पढ़ें - बुखार कम करने के घरेलू उपाय)

आँखों के लिए उपयोगी है दारुहरिद्रा - Daruharidra ke Fayde for Eyes in Hindi

दारुहरिद्रा आँखों के रोगों के इलाज में अच्छे परिणाम के लिए प्रयोग किया जाता है। यह मक्खन और फिटकिरी या अफीम या चूने के रस के साथ मिलाया जाता है और आंखों और अन्य नेत्र रोगों का इलाज करने के लिए पलकें पर बाह्य रूप से लगाया जाता है। दूध के साथ मिक्स करने पर यह नेत्रश्लेष्मलाशोथ या कंजंक्टिवाइटिस (आँख आना) में लोशन के रूप में प्रभावी रूप से इस्तेमाल किया जा सकता है। 

(और पढ़ें - आँख आने के घरेलू उपाय)

मासिक धर्म दर्द से छुटकारा दिलाएं दारुहरिद्रा - Daruharidra Benefits for Periods in Hindi

भारतीय बैरबेरी मासिक धर्म के दौरान अत्यधिक रक्तचाप को कम करने में मदद कर सकती है। इसलिए मासिक धर्म के समय दर्द और ऐठन से छुटकारे के लिए 13 से 25 ग्राम की खुराक में उपयोग किया जाता है। 

(और पढ़ें - पीरियड्स में पेट दर्द कम करने के घरेलू उपाय)

दारुहरिद्रा बेनिफिट्स फॉर स्किन - Daruharidra Benefits for Skin in Hindi

त्वचा रोगों में, यह आमतौर पर 13 से 25 ग्राम की खुराक में दी जाती है। इसकी छाल का काढ़ा और जड़ की छाल मुहांसे, अल्सर और घावों के लिए एक शुद्धिकारक के रूप में प्रभावी होती है, क्योंकि यह घावों को जल्दी भरने में मदद करता है। 

(और पढ़ें - मुँहासे हटाने के घरेलू उपाय)

  1. क्योंकि यह रक्त में शर्करा के स्तर को कम कर सकता है, इसलिए मधुमेह वाले लोग इसका उपयोग अपने डॉक्टर की सलाह के अनुसार कर सकते हैं।
  2. इसका उपयोग बच्चों में और स्तनपान के दौरान किया जा सकता है लेकिन एक सीमित मात्रा में।
  3. गर्भावस्था के दौरान उपयोग करने के लिए चिकित्सा सलाह लें।

(और पढ़ें - प्रेगनेंसी में पेट दर्द हो तो क्या करे और गर्भ में लड़का कैसे हो से जुड़े मिथक)

और पढ़ें ...