myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

कोक्सिजेक्टोमी एक सर्जिकल प्रक्रिया है, जिसकी मदद से गुदा की हड्डी (गुदास्थि/कोसिक्स) को निकाला जाता है। गुदा की हड्डी को टेलबोन (रीढ़ की हड्डी का निचला सिरा) भी कहा जाता है और कोक्सिजेक्टोमी की मदद से इसके एक हिस्से या पूरी टेलबोन को निकाल दिया जाता है। इस सर्जिकल प्रक्रिया का इस्तेमाल सिर्फ तब ही किया जाता है, जब आपको काक्सीडीनिया होता है।

काक्सीडीनिया (कॉक्सिडीनिया) को गुदास्थि पीड़ा भी कहा जाता है, जिसमें गुदा की हड्डी में दर्द होता है और छूने पर यह दर्द बदतर हो जाता है। काक्सीडीनिया में होने वाला यह दर्द कई बार अत्यधिक तीव्र होता है, जो लंबे समय तक खड़े या बैठे रहने पर बदतर हो जाता है और सोते समय भी काफी दिक्कतें पैदा करता है।

काक्सीडीनिया में बार-बार चुभन की तरह महसूस होने वाला तीव्र दर्द महसूस होता है। सर्जरी से पहले कुछ प्रकार के इमेजिंग स्कैन व अन्य टेस्ट करेंगे ताकि दर्द के कारण का पता लग पाए। डॉक्टर आपको सर्जरी से पहले कुछ भी खाने या पीने से मना कर सकते हैं। सर्जरी शुरू करने से पहले मरीज को सामान्य एनेस्थीसिया दवा दी जाती है। कोक्सिजेक्टोमी के बाद जब आप आसानी से हिल-ढुल पा रहे हों, तो आपको अस्पताल से छुट्टी दे दी जाती है। सर्जरी के छ: से आठ हफ्तों तक आपको डॉक्टर के पास दिखाने आना पड़ सकता है।

(और पढ़ें - हड्डियों में दर्द का इलाज)

  1. कोक्सिजेक्टोमी क्या है - What is coccygectomy in Hindi
  2. टेलबोन हटाने की सर्जरी क्यों की जाती है - Why is coccygectomy recommended in Hindi
  3. कोक्सिजेक्टोमी से पहले - What preparations are needed before a coccygectomy in Hindi
  4. कोक्सिजेक्टोमी के दौरान - How is a coccygectomy done in Hindi
  5. टेलबोन हटाने की सर्जरी के बाद - How to care for yourself after a coccygectomy in Hindi

कोक्सिजेक्टोमी एक सर्जिकल प्रक्रिया है, जिसका उपयोग पूरी गुदा की हड्डी या उसके कुछ हिस्से को निकालने के लिए किया जाता है। हिन्दी भाषा में इसे टेलबोन हटाने की सर्जरी भी कहा जाता है। गुदा की हड्डी होती है, जिसे गुदास्थि, टेलबोन, कोसिक्स आदि नामों से भी जाना जाता है। यह रीढ़ की हड्डी के नीचे मौजूद होती है और दो या तीन हड्डियों से मिलकर बनी होती है। सैक्रल हड्डी गुदा की हड्डी को लंबर स्पाइन (रीढ़ की हड्डी का निचला हिस्सा) से जोड़ती है।

यदि आपकी टेलबोन में दर्द हो रहा है, तो डॉक्टर कोक्सिजेक्टोमी सर्जरी करने पर विचार कर सकते हैं। डॉक्टर गुदा की हड्डी के दर्द को ठीक करने के लिए शुरुआत में निम्न तरीके अपनाने की सलाह देते हैं -

  • लंबे समय तक एक जगह पर न बैठे रहें
  • बैठने के लिए विशेष तकिए का इस्तेमाल करें जो गुदा कि हड्डी को आराम देने के लिए डिजाइन किया गया होता है (Coccygeal cushion)
  • दर्द वाले स्थान की ठंडी व गर्म सिकाई करें
  • स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज, फिजियोथेरेपी और मालिश करें
  • दर्द को कम करने के लिए डॉक्टर द्वारा दी गई दवाएं लें जैसे आइबुप्रोफेन

यदि उपरोक्त से दर्द की गंभीरता में कोई आराम नहीं दिख रहा है, तो डॉक्टर आपको कोर्टिकोस्टेरॉयड इंजेक्शन लगा सकते हैं। यदि इंजेक्शन भी काम न कर पाए और दर्द लगातार बढ़ रहा हो, तो डॉक्टर कोक्सिजेक्टोमी करने पर विचार करते हैं। आपकी स्वास्थ्य स्थिति और समस्या की गंभीरता के अनुसार डॉक्टर यह तय करते हैं कि टेलबोन के किसी एक हिस्से के हटाना है या पूरी टेलबोन को ही हटाना है। उदाहरण के लिए यदि चोट आदि लगने के कारण गुदा की हड्डी का कोई हिस्सा सैक्रल बोन से अलग हो गया है या फिर थोड़ा ढीला हो गया है, तो सिर्फ उसे ही सर्जरी के साथ हटाया जाता है।

(और पढ़ें - रीढ़ की हड्डी में दर्द का कारण)

यदि आपको गुदा की हड्डी में चोट लगने के कारण दर्द या अन्य तकलीफ हो रही है और दवाओं से आराम नहीं हो रहा है, तो डॉक्टर टेलबोन हटाने की सर्जरी करने का संकेत दे सकते हैं। टेलबोन में होने वाला दर्द निम्न प्रकार से होता है - 

  • टेलबोन में तकलीफ महसूस होना और अचानक से दर्द बढ़ जाना
  • लंबे समय तक बैठने या खड़े रहने पर दर्द बढ़ जाना
  • रोजाना की सामान्य गतिविधियां न कर पाना
  • यौन संबंध बनाने के दौरान स्थिति बदतर हो जाना
  • ठीक से नींद न आना

निम्न कुछ स्थितियां हैं, जो काक्सीडीनिया का कारण बन सकती हैं और परिणामस्वरूप टेलबोन हटाने की सर्जरी करनी पड़ सकती है -

  • सड़क या अन्य दुर्घटना में टेलबोन पर चोट लगना
  • शरीर की मुद्रा सही न होना
  • मोटापा या शरीर का वजन अचानक से कम हो जाना
  • बच्चे की डिलीवरी में काफी मुश्किल होना
  • उम्र के साथ-साथ टेलबोन कमजोर पड़ जाना
  • पेल्विक फ्लोर मांसपेशियां कमजोर पड़ना ये मांसपेशियां मूत्राशय, आंत और पेल्विक के अन्य अंगों को सहारा प्रदान करती हैं
  • गुदा की हड्डी के आसपास के लिगामेंट पर लंबे समय तक या बार-बार दबाव व खिंचाव पड़ना

निम्न लोगों में टेलबोन हटाने की सर्जरी काफी अच्छे परिणाम देती हैं -

  • गुदा की हड्डी को पहले कभी चोट लगी होना
  • कुछ दर्द निवारक दवाओं से आराम मिलना जैसे कोर्टिकोस्टेरॉयड इंजेक्शन

सर्जरी से पहले आमतौर पर निम्न तैयारियां करने की आवश्यकता पड़ती है -

  • मेडिकल परीक्षण -
    सर्जरी करने से पहले डॉक्टर आपका शारीरिक परीक्षण करेंगे और आपके स्वास्थ्य संबंधी पिछली स्थितियों के बारे में पता लगाएंगे। साथ ही स्थिति का परीक्षण करने के लिए कुछ इमेजिंग स्कैन भी किए जा सकते हैं, जैसे एक्स रे
     
  • दवाएं -
    यदि आप किसी भी प्रकार की दवा, सप्लीमेंट या विटामिन आदि ले रहे हैं, तो पहले ही डॉक्टर को उनके बारे में बता दें। डॉक्टर आपको बता देंगे कि आपको ये दवाएं कब बंद व लेना शुरू करनी हैं। डॉक्टर आपको खून पतला करने वाली या फिर दर्द निवारक दवाएं कब लेनी व बंद करनी है आदि के बारे में भी सलाह दे सकते हैं।
     
  • समस्याएं -
    यदि आपको किसी भी प्रकार की स्वास्थ्य संबंधी कोई समस्या है, तो डॉक्टर को इस बारे में बता दें। ऐसा इसलिए क्योंकि कुछ विशेष बीमारियों से ग्रस्त लोगों की कोक्सिजेक्टोमी करने से पहले रोग की गंभीरता की जांच की जाती है।
     
  • फास्टिंग -
    डॉक्टर आपको सर्जरी से पहले उस दिन कुछ भी खाने से मना कर सकते हैं। सर्जिकल प्रक्रिया पूरी होने के बाद डॉक्टर आपको कुछ विशेष आहार खाने की सलाह दे सकते हैं।
     
  • धूम्रपान -
    डॉक्टर आपको सर्जरी से पहले धूम्रपान छोड़ने की सलाह दे सकते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि धूम्रपान करने से सर्जरी के घाव ठीक होने की प्रक्रिया धीमी हो जाती है और संक्रमण होने का खतरा बढ़ जाता है।
     
  • मदद -
    सर्जरी वाले दिन अपने साथ परिवार के किसी सदस्य या मित्र को लेकर जाएं, ताकि सर्जरी के बाद घर जाने में वे आपकी मदद कर सकें।
     
  • सहमति -
    सारी तैयारियां होने के बाद डॉक्टर आपको एक विशेष सहमति पत्र देंगे जिस पर हस्ताक्षर करके आप डॉक्टर को सर्जरी करने की अनुमति देंगे। हस्ताक्षर करने से पहले पत्र को ध्यानपूर्वक अवश्य पढ़ लें।

निम्न समस्याओं से ग्रस्त लोगों की टेलबोन हटाने की सर्जरी नहीं की जाती है -

  • लंबे समय से दर्द संबंधी समस्याएं रहना
  • गुदा के पास संक्रमण हो जाना (पेरिरेक्टल एब्सेस)
  • रीढ़ की हड्डी से संबंधी गंभीर विकार

(और पढ़ें - हड्डी में संक्रमण के लक्षण)

सर्जरी शुरू करने से पहले सर्जन व मेडिकल टीम निम्न कार्य करती हैं -

  • सबसे पहले आपको एक विशेष मेडिकल ड्रैस (गाउन) पहनने को दी जाएगी।
  • बांह या हाथ की नस में सुई लगाकर एक इंट्रावेनस लाइन शुरू की जाती है। आईवी लाइन की मदद से सर्जरी के दौरान विशेष दवाएं व आवश्यक द्रव दिए जाते हैं।
  • उसके बाद आपको सामान्य एनेस्थीसिया का इंजेक्शन लगाया जाएगा, जिससे आपको सर्जरी के दौरान गहरी नींद आ जाएगी और आपको दर्द नही होगा।
  • जहां से सर्जरी शुरू करनी है उस जगह को एंटीसेप्टिक दवा से साफ किया जाएगा, ताकि संक्रमण न हो पाए।

ये सभी तैयारियां होने के बाद सर्जन कोक्सिजेक्टोमी प्रक्रिया शुरू करते हैं, जो कुछ इस प्रकार है -

  • सर्जन नितंबों की शिकन से ठीक ऊपर एक चीरा लगाएंगे और टेलबोन को ढूंढने के लिए त्वचा व ऊतकों को एक तरफ करेंगे।
  • जब सर्जन टेलबोन के पास पहुंच जाते हैं, तो विशेष उपकरणों की मदद से उसे सैक्रल बोन से अलग करके निकाल दिया जाता है। उसके बाद सैक्रल बोन के बाहर की तरफ निकले हुऐ हिस्से को उपकरणों की मदद से चिकना बना दिया जाएगा।
  • इसके बाद त्वचा और ऊतकों को वापस अपनी जगह पर लाकर छिद्र को टांकों की मदद से बंद कर दिया जाता है और उसके बाद घाव पर पट्टी कर दी जाती है।
  • सर्जरी के तुरंत बाद ही आपको रिकवरी रूम में शिफ्ट कर दिया जाता है। आपको इस दौरान मास्क की मदद से ऑक्सीजन दी जाएगी और नसों की मदद से आवश्यक द्रव दिए जाएंगे। यह तब तक दिए जाएंगे जब तक आपको होश नहीं आ जाता और आप खुद से खाना-पीना शुरू न कर दें। सर्जरी के बाद कुछ समय तक आपको बैठने पर दर्द भी महसूस हो सकता है। मल को नरम करने के लिए आपको लैक्सेटिव दवाएं दी जाएंगी, ताकि आपको मलत्याग करते समय अधिक जोर न लगाना पड़े।
  • जब आपको किसी प्रकार की तकलीफ नहीं रहेगी और आप आराम से चल-फिर सकेंगे तो आपको अस्पताल से छुट्टी दे दी जाएगी।

(और पढ़ें - हड्डी टूटने का इलाज)

टेलबोन हटाने की सर्जरी के बाद जब आपको अस्पताल से छुट्टी मिल जाएगी, तो आपको निम्न बातों का ध्यान रखने की सलाह जाएगी -

  • घाव की देखभाल -
    सर्जरी के बाद डॉक्टर त्वचा में ही अवशोषित हो जाने वाले या बाद में निकाले जाने वाले टांके लगाते हैं। यदि टांके अवशोषित होने वाले नहीं हैं, तो डॉक्टर आपको कुछ समय बाद फिर से बुलाते हैं और टांके निकाल देते हैं।
    सर्जरी के दो दिन बाद आपको शॉवर लेने या बाल्टी से नहाने की सलाह दी जाएगी। सर्जरी के एक या दो हफ्तों बाद ही आपको बाथटब में नहाने की सलाह दी जाती है। घाव की पट्टी को अधिक गीला होने से बचने की सलाह दी जाती है, यदि पट्टी गीली भी हो गई है तो उसे बदल देना चाहिए।
  • दर्द निवारण -
    कोक्सिजेक्टोमी के बाद आपको कुछ विशेष दवाएं दी जाएंगी, जिनकी मदद से आप सर्जरी के बाद होने वाले दर्द को नियंत्रित कर सकेंगे।
    सर्जरी वाले स्थान से जब सूजन कम हो जाएगी, तो दर्द को कम करने के लिए आप गर्म सिकाई का इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • सूजन कम करना -
    सूजन को कम करने के लिए डॉक्टर कुछ विशेष दवाएं दे सकते हैं। इसके अलावा डॉक्टर आपको दिन में एक या दो बार लगातार 10 मिनट तक बर्फ की सिकाई करने का सुझाव देते हैं। इसमें बर्फ को हमेशा किसी मोटे कपड़े जैसे तौलिया आदि में लपेटकर इस्तेमाल करना चाहिए और 10 मिनट से अधिक समय तक इसकी सिकाई नहीं करनी चाहिए।
  • शारीरिक मुद्रा -
    सर्जरी के बाद कुछ हफ्तों तक आपको बैठने पर तकलीफ व दर्द महसूस होगा। इस दर्द को कम करने के लिए डॉक्टर आपको एक विशेष तकिया इस्तेमाल करने की सलाह देंगे। यह तकिया जेल से भरा होता है, जो सपाट सतह पर भी बैठने में आपको दर्द से छुटकारा दिलाता है।
    डॉक्टर आपको एक करवट पर सोने की सलाह देंगे क्योंकि पीठ के बल सोने से दर्द बढ़ सकता है।
  • ड्राइविंग -
    कोक्सिजेक्टोमी के बाद डॉक्टर आपको कम से कम 4 हफ्तों तक ड्राइविंग न करने की सलाह देते हैं, क्योंकि ऐसा करने से स्थिति गंभीर हो सकती है।
  • उचित कपड़े पहनना -
    अधिक टाइट कपड़े न पहनें जैसे जीन्स या कोई टाइट अंडरगार्मेंट, क्योंकि ऐसे में सर्जरी के टांगे प्रभावित हो संकेत हैं। जब तक डॉक्टर कहें ढीले-ढाले कपड़े ही पहनें।
  • शारीरिक गतिविधि -
    जब आपको बैठने पर कोई तकलीफ नहीं होती है, तो डॉक्टर आपको अपनी शारीरिक गतिविधियां फिर से शुरू करने की सलाह दे सकते हैं। डॉक्टर आपको रोजाना थोड़ा बहुत चलने की सलाह देते हैं, जिसे धीरे-धीरे करके बढ़ाया जाता है।कुछ समय बाद डॉक्टर आपको अन्य शारीरिक गतिविधियां फिर से शुरू करने की सलाह भी दे सकते हैं, जैसे बाइक या साइकिल चलाना, स्विमिंग करना, दौड़ना आदि। हालांकि, आपको छ: हफ्ते या उससे अधिक समय तक हवाई जहाज से यात्रा करने की सलाह नहीं दी जाती है।

डॉक्टर को कब दिखाएं?

यदि आपको निम्न में से कुछ भी महसूस हो रहा है, तो जल्द से जल्द डॉक्टर को दिखाएं -

(और पढ़ें - सिरदर्द से छुटकारा पाने उपाय)

और पढ़ें ...

संदर्भ

  1. British Association of Spine Surgeons [Internet]. UK; Coccydynia: Surgical Coccygectomy
  2. Kwon HD, Schrot RJ, Kerr EE, Kim KD. Coccygodynia and coccygectomy. Korean J Spine. 2012;9(4):326-333
  3. Veterans Health Library [Internet]. US Department of Veterans Affairs; Anesthesia: Before You Receive Anesthesia
  4. UC Health [Internet]. University of Colorado. US; Preparing for Spine Surgery
  5. Royal Berkshire Hospital [Internet]. NHS Foundation Trust. National Health Service. UK; Information Following a Coccygectomy
  6. Antoniadis Alexander, Ulrich Nils Harry-Bert, Senyurt Hueseyin . Coccygectomy as a Surgical Option in the Treatment of Chronic Traumatic Coccygodynia: A Single-Center Experience and Literature Review. Asian Spine J. 2014 Dec; 8(6): 705–710. PMID: 25558311.
ऐप पर पढ़ें
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ