myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

प्लेटलेट-रिच प्लाज्मा यानी पीआरपी को हिंदी में प्लेटलेट से समृद्ध प्लाज्मा कहा जा सकता है। पीआरपी चिकित्सा मांसपेशियों, टेंडन (मांसपेशी को हड्डी से जोड़ने वाले टिश्यू) और लिगमेंट (दो हड्डियों को आपस में जोड़ने वाले जोड़ों के टिश्यू) में चोटों के इलाज के लिए स्पोर्ट्स मेडिसिन और ऑर्थोपेडिक प्रैक्टिस में तेजी से लोकप्रिय हुई है।

पीआरपी थेरेपी ने पश्चिमी मिडिया जगत में बहुत सुर्खिया बटोरी हैं क्योंकि इस थेरेपी को गोल्फ, टेनिस और बास्केटबॉल जैसे खेलों के बड़े-बड़े खिलाडियों द्वारा अपनी चोट को ठीक करने में मदद करने के लिए उपयोग किया गया है।

कुछ डॉक्टर अब मुलायम टिश्यू के उपचार को बढ़ावा देने से लेकर बालों के विकास को प्रोत्साहित करने तक कई कारणों से प्लेटलेट समृद्ध प्लाज्मा थेरेपी या पीआरपी इंजेक्शन का उपयोग कर रहे हैं।

प्लेटलेट एक्टिवेशन, घाव और मुलायम ऊतक या टिश्यू के उपचार की प्रक्रिया में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। पीआरपी का उपयोग, जो रोगी के अपने खून का हिस्सा होता है जिसमें प्लेटलेट की सामान्य से अधिक मात्रा होती है।

इंजेक्शन के माध्यम से रोगियों को पीआरपी दिया जाता है और अल्ट्रासाउंड से मार्गदर्शन पीआरपी को सटीक तरीके से देने में सहायता कर सकता है।

इस लेख में विस्तार से बताया गया है कि पीआरपी चिकित्सा क्या है, यह चिकित्सा कैसे होती है और पीआरपी इंजेक्शन की कीमत क्या है। लेख में यह भी बताया गया है कि पीआरपी थेरेपी के फायदे और नुकसान क्या हो सकते हैं।

  1. पीआरपी क्या है - PRP therapy kya hai in hindi
  2. पीआरपी चिकित्सा प्रक्रिया - PRP therapy process in hindi
  3. पीआरपी के फायदे - PRP therapy benefits in hindi
  4. पीआरपी उपचार दुष्प्रभाव - PRP therapy ke nuksan in hindi
  5. पीआरपी ट्रीटमेंट कॉस्ट - PRP therapy cost in hindi

पीआरपी को उसी व्यक्ति के अपने खून से निकाला जाता है। यह एक ही प्रकार की कोशिका का संकेंद्रण होता है, जिसे प्लेटलेट के नाम से जाना जाता है, जो रक्त के माध्यम से पूरे शरीर में फैलती है और रक्त के थक्के जमने के लिए महत्वपूर्ण होती है।

प्लेटलेट्स ऐसी रक्त कोशिकाएं हैं जिनकी शरीर के सही से काम करने लिए कई भूमिकाएं होती हैं। जैसे कि रक्त के थक्के जमने को बढ़ावा देना, ताकि चोट लगने या कट जाने पर व्यक्ति के शरीर से अधिक खून न बहे। प्लेटलेट रक्त में प्रोटीन को शामिल करती है और यह प्रोटीन चोट को ठीक करने में मदद करता है।

(और पढ़े - चोट की सूजन का घरेलू उपाय)

प्लेटलेट्स और रक्त के तरल प्लाज्मा में कई ऐसे कारक होते हैं जो कोशिका के बनने, गुणन और विकास के लिए आवश्यक होते हैं और ये चीजें चोट के उपचार के लिए आवश्यक होती है।

पीआरपी के निर्माण के लिए रोगी से रक्त लिया जाता है और एक अपकेंद्रित्र मशीन में रखा जाता है जो लाल रक्त कोशिकाओं को प्लेटलेट से अलग करने की प्रक्रिया है। इस प्रक्रिया से प्राप्त प्लेटलेट से समृद्ध प्लाज्मा या पीआरपी को एक इंजेक्शन में भरकर प्रभावित टेंडन में फिर से इंजेक्ट कर दिया जाता है। इसका उद्देश्य टेंडन में कोशिकाओं के विकास के लिए उपयोगी कारकों की आपूर्ति करना है जो उपचार प्रक्रिया शुरू करने में मदद करते हैं और दर्द और सूजन को कम करते हैं।

(और पढ़े - नसों में दर्द के घरेलू उपाय)

शोधकर्ता कई प्रयोगों में पीआरपी इंजेक्शन की उपयोगिता को जाँचने की कोशिश कर रहे हैं। इनमें से कुछ उदाहरण निम्नलिखित हैं -

बालों के झड़ने का इलाज
बालों के विकास को बढ़ावा देने और बालों का झड़ना रोकने के लिए डॉक्टर सिर की त्वचा में पीआरपी इंजेक्शन देते हैं। 2014 के एक अनुसंधान के मुताबिक, पीआरपी इंजेक्शन एंड्रोजेनिक एलोपेसिया के इलाज में प्रभावी होते हैं, जिसे पुरुष में होने वाला या पुरुषों की तरह का गंजापन भी कहा जाता है।

(और पढ़े - बाल झड़ने से रोकने के घरेलू उपाय)

टेंडन की चोटें
टेंडन ऊतक के मजबूत, मोटे बैंड होते हैं, जो मांसपेशियों को हड्डी से जोड़ते हैं। चोट लगने के बाद वे आमतौर पर धीरे-धीरे ठीक होते हैं। डॉक्टरों ने पुरानी टेंडन की समस्याओं का इलाज करने के लिए पीआरपी इंजेक्शन का उपयोग किया है, जैसे कि टेनिस एल्बो, टखने पर एचिलीस टेंडोनिटिस (एड़ी में दर्द की स्थिति) और जंपर्स नी (घुटने के टेंडन में छोटी चोट या सूजन जैसी दर्द वाली स्थिति) या घुटने में नी केप के टेंडन में दर्द।

(और पढ़े - घुटनों में दर्द का घरेलू उपाय)

गंभीर चोटें
डॉक्टर खेलते हुए लगने वाली गंभीर चोटों के इलाज के लिए पीआरपी इंजेक्शन का उपयोग किया है, जैसे कि हैमस्ट्रिंग मांसपेशियों में खिंचाव या घुटने में मोच इत्यादि।

(और पढ़े - हैमस्ट्रिंग के लिए योग)

ऑस्टियोआर्थराइटिस
डॉक्टरों ने ऑस्टियोआर्थराइटिस की परेशानी वाले लोगों के घुटनों में पीआरपी इंजेक्शन दिया है। 2015 के एक अध्ययन में पाया गया कि ऑस्टियोआर्थराइटिस के इलाज के लिए पीआरपी इंजेक्शन, हाइलूरोनिक एसिड इंजेक्शन (पारंपरिक चिकित्सा) से अधिक प्रभावी थे। हालांकि, यह परीक्षण 160 लोगों के एक छोटे समूह पर किया गया था इसलिए इसको निर्णायक नहीं माना जा सकता है, इसको साबित करने के लिए अधिक बड़े परीक्षणों की आवश्यकता है।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि पीआरपी का इनमें से कोई भी उपयोग निश्चित रूप से परिणाम प्रदान करेगा ऐसा अभी तक साबित नहीं हुआ है, इसलिए हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेकर ही उपचार करवाएं।

यदि आप खून को पतला करने के लिए कोई भी दवा ले रहे हैं, तो तुरंत अपने डॉक्टर को सूचित करें। इसमें एस्पिरिन, वारफरिन, क्लोपिडोग्रेल और अन्य रक्त को पतला करने वाली दवाएं भी शामिल है। अगर आप एंटीबायोटिक्स ले रहे हैं तो भी अपने डॉक्टर को सूचित करें।

(और पढ़े - खून का पतला होना क्या है)

आपको वर्तमान में किसी भी तरह के दर्द और दैनिक जीवन में आपके द्वारा रखे जाने वाले परहेज से संबंधित प्रश्नावली भरने के लिए कहा जाएगा। पूरी प्रक्रिया होने के बाद भी आपको एक प्रश्नावली भरने के लिए कहा जा सकता है।

एक हेल्थकेयर पेशेवर आपके खून का नमूना तैयार करेगा। नमूने की मात्रा इस बात पर निर्भर करती है कि पीआरपी का इंजेक्शन कहाँ दिया जाएगा। उदाहरण के लिए, एक अध्ययन के लिए खोपड़ी में इंजेक्शन के लिए ली गई रक्त की मात्रा 20 मिलीलीटर थी। यह मात्रा एक चम्मच से थोड़ी अधिक थी।

रक्त के नमूने को एक अपकेंद्रित्र मशीन में रखा जाता है। यह एक ऐसी मशीन है जो बहुत तेजी से घूमती है, जिससे रक्त के घटकों को अलग किया जा सकता है। इस प्रक्रिया में लगभग 15 मिनट लगते हैं।

एक टेक्नोलॉजिस्ट अलग किये हुए प्लाज्मा को लेता है और प्रभावित क्षेत्र में इंजेक्शन के लिए इसे तैयार करता है। इंजेक्शन के लिए विशिष्ट क्षेत्रों को ध्यान में रखने के लिए डॉक्टर अक्सर अल्ट्रासाउंड जैसी इमेजिंग तकनीक का उपयोग करते हैं और पीआरपी को प्रभावित क्षेत्र में इंजेक्ट करते हैं।

पीआरपी इंजेक्शन की प्रक्रिया में लोकल एनेस्थेटिक का उपयोग किया जाता है, इसलिए आप इलाज की प्रक्रिया पूरी होने के बाद वाहन को चलाने में असमर्थ होंगे इसलिए घर जाने के लिए किसी परिजन की मदद लें।

यदि आप ड्राइव करने के लिए अपने आप को पर्याप्त फिट महसूस करते हैं तो भी आप इस प्रक्रिया के बाद ड्राइव न करें क्योंकि कार बीमा किसी भी लोकल एनेस्थेटिक के उपयोग के बाद ड्राइव करने पर मान्य नहीं रहता है।

पशुओं पर किये गए कई बुनियादी विज्ञान अध्ययनों से पता चलता है कि पीआरपी उपचार मुलायम ऊतक और हड्डी के इलाज में मदद कर सकता है। उदाहरण के लिए, एड़ी के टेंडन की चोटों में कोशिकाओं की संख्या बढ़ी हैं और टेंडन की मजबूती में भी सुधार देखा गया है तथा गैस्ट्रोकनेमियस (पिंडली) मांसपेशियों की चोटों में मांसपेशियों के पुनर्निर्माण में सुधार हुआ है।

(और पढ़े - मांसपेशियों में दर्द के घरेलू उपाय)

कुल मिलाकर, अब तक प्रकाशित ​​अध्ययनों में पीआरपी उपचार को सीमित समर्थन मिला है। हालांकि, पीआरपी रोगी के अपने खून से बनाया जाता है, इसलिए यह अपेक्षाकृत कम जोखिम वाला उपचार माना जाता है जिसमें इलाज में लाभ की संभावना देखी गयी है।

2015 में स्टेम सेल ट्रांसपेन्शनल मेडिसिन नामक पत्रिका में प्रकाशित हुए अध्ययन में पाया गया कि पीआरपी उपचार प्राप्त करने वाले पुरुषों के सिर में अन्य पुरुषों की तुलना में बाल की संख्या और घनत्व दोनों ही अधिक बढ़े। हालांकि, उपचार केवल 20 व्यक्तियों का किया गया था, इसलिए यह एक छोटे पैमाने पर किया गया अध्ययन था।

अमेरिकन जर्नल ऑफ स्पोर्ट्स मेडिसिन में 2013 में प्रकाशित एक अन्य अध्ययन में पाया गया कि पीआरपी इंजेक्शन से सलाइन इंजेक्शन की तुलना में घुटने के ऑस्टियोआर्थराइटिस दर्द को कम करने में अधिक मदद की। इस अध्ययन में भी 78 प्रतिभागियों के एक छोटे समूह को शामिल किया गया था।

(और पढ़े - आर्थराइटिस के घरेलू उपाय)

2014 में फिर से अमेरिकन जर्नल ऑफ स्पोर्ट्स मेडिसिन में प्रकाशित एक अध्ययन में पाया गया कि पीआरपी इंजेक्शन के 3 राउंड देने से घुटने की चोट की पुरानी पटेलर टेंडिनोपैथी वाले लोगों में लक्षण कम करने में मदद मिली है। शोधकर्ताओं ने इस अध्ययन में 28 एथलीटों का इस्तेमाल किया।

डॉक्टर टूटी हुई हड्डियों को ठीक करने के लिए भी पीआरपी का उपयोग करने की भी कोशिश कर रहे हैं, लेकिन इस क्षेत्र में कोई शोध अभी तक इसकी प्रभावशीलता साबित नहीं कर पाया है। पीआरपी उपचार की प्रभावशीलता साबित करने और उपचार की तैयारी को मानकीकृत करने के लिए अभी अधिक अध्ययन की आवश्यकता है।

पीआरपी इंजेक्शन के उपयोग में किसी व्यक्ति के स्वयं के प्लेटलेट का उपयोग किया जाता है इसलिए उस व्यक्ति को आमतौर पर इंजेक्शन के बाद प्रतिकूल प्रतिक्रियाओं का अनुभव नहीं होता है।

हालांकि, किसी व्यक्ति को इंजेक्शन से निम्नलिखित जोखिम हो सकते हैं -

  • संक्रमण हो सकता है।
  • तंत्रिका में चोट लग सकती है।
  • इंजेक्शन जिस जगह पर दिया गया है वहाँ पर दर्द महसूस हो सकता है।
  • व्यक्ति के ऊतक को क्षति पहुँच सकती है।

आपको अपने डॉक्टर के साथ इन संभावित जोखिमों पर चर्चा करनी चाहिए, साथ ही साथ आपके डॉक्टर इन जोखिमों को कम करने के लिए आपकी मदद करेंगे।

ज्यादातर लोग पीआरपी इंजेक्शन लगाने के तुरंत बाद अपनी सामान्य गतिविधियों को फिर से शुरू कर सकते हैं। शरीर से खून का नमूना लेने से इंजेक्शन देने तक की पूरी प्रक्रिया का औसत समय लगभग आधे घंटे का होता है।

बहुत कम बीमा कंपनिया अपनी पॉलिसी में पीआरपी इंजेक्शन से इलाज के लिए कोई भुगतान प्रदान करेंगी। जितना भी खर्चा होगा अधिकांश आपकी अपनी जैब से ही देना होगा इसलिए इलाज की पूरी लागत के बारे में एक अनुमान लगा लेना अच्छा रहेगा।

इलाज की लागत स्थान से स्थान और इंजेक्शन के उपयोग के तरीके के आधार पर भिन्न हो सकती है। निम्नलिखित चीजें पीआरपी की लागत को प्रभावित करती हैं:

  • उपचार के लिए किस विधि का उपयोग किया जा रहा है।
  • इलाज के लिए उपयोग की जाने वाली तकनीक कौन सी है।
  • इलाज करने वाले डॉक्टर की विशेषज्ञता और अनुभव कितना है।

भारत में प्लेटलेट-रिच प्लाज़्मा (पीआरपी) इंजेक्शन की कीमत 13,751 रुपये से शुरू होती है। विशेषज्ञ जब तक आपके मामले की समीक्षा नहीं कर लेते तब तक इस प्रक्रिया के लिए उपचार की अनुमानित लागत बताना काफी मुश्किल होता है। भारत में पीआरपी का उपयोग बालों के झड़ने को रोकने के इलाज के रूप में काफी किया जा रहा है और इस उपचार की लागत लगभग 7,000 रुपये प्रति सत्र से शुरू होती है और यह 10,000 रुपये तक जा सकती है।

(और पढ़े - बालों को झड़ने से रोकने के शैम्पू)

नोट - ये लेख केवल जानकारी के लिए है। myUpchar किसी भी सूरत में किसी भी तरह की चिकित्सा की सलाह नहीं दे रहा है। आपके लिए कौन सी चिकित्सा सही है, इसके बारे में अपने डॉक्टर से बात करके ही निर्णय लें।

और पढ़ें ...