myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

कहीं आप भी अत्यधिक मीठा खाने के शौकीन तो नहीं, क्योंकि अगर ऐसा है तो आप डायबिटीज, वजन बढ़ने, मोटापे व अन्य बीमारियों की चपेट में आ सकते हैं। कई बार मीठा देखकर मुंह में पानी आ जाता है और न चाहते हुए भी उसे खाने का मन करता है। अगर आप भी अपनी डाइट में मीठे या शुगर की मात्रा को कंट्रोल करना चाहते हैं तो कुछ फूड्स इस काम में आपकी मदद कर सकते हैं। तो आइए जानते हैं ऐसे कौन-से खाद्य पदार्थ हैं जो मीठी चीजों के विकल्प के रूप में लिए जा सकते हैं। 

फल

जब ज्यादातर लोगों को मीठा खाने की तलब लगती है, तो वे चॉकलेट जैसे खाद्य पदार्थों का सेवन करते हैं जिनमें वसा और चीनी भरपूर मात्रा में होती है। ऐसी स्थिति में हमें फलों का सेवन करना चाहिए। वैसे तो फल भी प्राकृतिक रूप से मीठे होते हैं, लेकिन इनमें बहुत सारे लाभकारी यौगिक और फाइबर होते हैं। फलों की मदद से आप अपनी मीठा खाने की क्रेविंग को खत्म कर सकते हैं और यह स्वास्थ्य के लिए भी फायदेमंद है। यदि आपको बहुत अधिक मीठा खाने का मन कर रहा है तो आप आम या अंगूर जैसे अधिक मीठे फलों का सेवन कर सकते हैं। अगर आपको ज्यादा भूख लग रही है तो फल पर दही डालकर खाएं।

(और पढ़ें - मीठा खाने के नुकसान)

बैरीज़

बैरीज़ मीठा खाने की ललक को रोकने के लिए एक बेहतरीन और पौष्टिक विकल्प हैं। बैरीज़ का स्वाद मीठा जरूर होता है लेकिन इसमें फाइबर की उच्च मात्रा होती है जिसका मतलब है कि इनमें शुगर काफी कम होता है।

अगर आपको लगता है कि मीठा खाना या शुगर क्रेविंग आपकी आदत में शुमार है तो बैरीज़ का सेवन करना आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकता है। इसके अलावा, बैरीज़ महत्वपूर्ण पौधों से मिलने वाले यौगिकों, एंटीऑक्सीडेंट और सूजनरोधी गुणों से प्रचुर होती हैं। इसका मतलब है बैरीज़ हृदय रोग और डायबिटीज जैसी गंभीर बीमारियों के जोखिम कारकों को कम करने में मदद कर सकती हैं।

स्नैक बार 

सभी स्नैक बार हेल्दी नहीं होती हैं बल्कि कुछ स्नैक बार्स में फैट और चीनी की मात्रा बहुत अधिक होती है। हालांकि, यदि आपको कुछ मीठा खाने का मन कर रहा है तो आपके लिए कुछ अच्छे और हेल्दी विकल्प मौजूद हैं। शुगर क्रेविंग होने पर आप ओट्स से बनी स्नैक बार खा सकते हैं जिसमें सूखे मेवों का इस्तेमाल किया गया हो। इनमें फाइबर और पोषक तत्वों की मात्रा बहुत ज्यादा होती है।

(और पढ़ें - मीठे की लत से छुटकारा पाने के लिए सरल तरीके)

चिया के बीज

चिया के बीज कई महत्वपूर्ण पोषक तत्वों से युक्त होते हैं जैसे कि ओमेगा 3 फैटी एसिड, घुलनशील फाइबर और पौधों से मिलने वाले कुछ फायदेमंद यौगिक। वास्तव में, चिया के बीजों में लगभग 40 फीसदी हिस्सा घुलनशील फाइबर का होता है। इस तरह का फाइबर आसानी से पानी को सोख लेता है और पेट में जैली जैसा पदार्थ बनाता है, जिससे पेट देर तक भरा हुआ महसूस करता है और यह शुगर क्रेविंग को भी रोकता है।

शुगर-फ्री च्युइंग गम या मिन्ट्स

च्यूइंग गम शुगर क्रेविंग को नियंत्रित करने का बेहतरीन तरीका हो सकती हैं। गम या मिन्ट्स को आर्टिफिशियल स्वीटनर से बनाया जाता है। इनका स्वाद मीठा होता है, लेकिन इनमें कैलोरी बहुत कम होती है। हालांकि कुछ अध्ययनों में मिलेजुले परिणाम पाए गए हैं कि च्युइंग गम खाने के कुछ समय बाद भूख और क्रेविंग को नियंत्रित करने में मदद मिल सकती है। इसके अतिरिक्त यदि आप भोजन के बाद च्युइंगम चबाते हैं तो यह आपके दांतों के लिए भी अच्छा माना जाता है।

दही

दही में प्रोटीन और कैल्शियम होता है। इसके अलावा कुछ अध्ययनों में कहा गया है कि भूख और क्रेविंग को नियंत्रित करने के लिए दही बढ़िया स्नैक हो सकती है।

(और पढ़ें - 4 लक्षण जो बताते हैं कि आप जरुरत से ज्यादा मीठा खा रहे हैं)

और पढ़ें ...