myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

साल्विया हिस्‍पैलिका (चिया) के पौधे के बीज सेहत के लिए बहुत फायदेमंद माने जाते हैं। इसके बीज अंडाकार होते हैं और इन्‍हें चिया के बीज के नाम से जाना जाता है। छोटे से दिखने वाले ये चिया के बीज एनर्जी से भरपूर होते हैं। यहां तक कि इसका नाम ही प्राचीन मायन के उस शब्‍द से लिया गया है जिसका अर्थ मजबूती एवं ताकत है।  

(और पढ़ें - एनर्जी बढ़ाने के उपाय)

इतिहासकारों के अनुसार सबसे पहले मैक्‍सिको और ग्वाटेमाला में चिया के बीजों की खेती एज़्टेक जनजाति द्वारा की गई थी। इन अमेरिकी भारतीय जनजातियों में चिया के बीजों के एनर्जी प्रदान करने वाले गुणों के कारण पवित्र माना जाता था और एज़्टेक पंडितों को इन्‍हें दक्षिणा के रूप में दिया जाता था।

वर्तमान समय में दक्षिण अमेरिका, मध्‍य अमेरिका और ऑस्‍ट्रेलिया में चिया के बीजों की खेती की जाती है। चिया के बीजों का उपयोग एवं खेती लंबे समय से की जा रही है और इसके सेहत को कई तरह के फायदे भी मिलते हैं।

इन बीजों में ओमेगा-3 फैटी एसिड और फाइबर प्रचुर मात्रा में होता है। इसके अलावा ये एंटीऑक्‍सीडेंट्स, विटामिंस और मिनरल्‍स से भी युक्‍त होते हैं। इसलिए चिया के बीज न केवल शरीर को पोषण प्रदान करते हैं बल्कि कई तरह के रोगों जैसे कि पाचन संबंधित विकरों, कार्डियोवस्‍कुलर रोग और हाइपरटेंशन से लड़ने में भी मदद करते हैं।

चिया के बीजों के बारे में तथ्‍य:

  • वानस्‍पतिक नाम: साल्विया हिस्‍पैलिका
  • कुल: लेबिएटी
  • अन्‍य नाम: मैक्सिकन चिया या साल्‍बा चिया
  • भौगोलिक विवरण: चिया के पौधे का मूल स्‍थान मैक्सिको और ग्वाटेमाला है। व्यावसायिक रूप से इसकी खेती अर्जेंटीना, ऑस्‍ट्रेलिया, बोल्विया, इक्‍वाडोर, निकारागुआ, पेरु और संयुक्‍त राज्‍य में भी की जाती है।   
  1. चिया बीज खाने का सही तरीका - Right way to eat Chia seeds in Hindi
  2. चिया बीज खाने का सही समय - Right time to eat chia seeds in Hindi
  3. चिया सीड्स के फायदे - Chia Seeds ke Fayde in Hindi
  4. चिया सीड्स के नुकसान - Chia Seeds ke Nuksan in Hindi

चिया के बीज कैसे खाना चाहिए

  • रात भर चिया के बीजों को पानी में भिगोकर रखें, यह शरीर के लिए काफी लाभदायक होता है। भिगने पर चिया के बीज जेल की तरह बन जाते हैं, जिसका आप किसी भी पेय में मिलाकर सेवन कर सकते हैं। यह आपके पाचन में भी सहायता करता है। (और पढ़ें - पाचन शक्ति बढ़ाने के उपाय)
  • आप चिया बीज को पीसकर, इसको पाउडर के रूप में भी उपयोग कर सकते हैं। पीसने के बाद, आप इसे अपने किसी भी पसंदीदा पकवान के साथ मिलाकर खाएं। 
  • चिया के बीजों को आप दही में मिलाकर नाश्ते के रूप में इनका सेवन कर सकते हैं।

(और पढ़ें - रात को दही खाना चाहिए या नहीं)

आप दिन के दौरान किसी भी समय चिया के बीज का सेवन कर सकते हैं। इसका सेवन करने का सही समय इस बार पर भी निर्भर करता है की आप इन्हे अपने आहार में क्यों शामिल करना चाहते हैं?

यदि आप लंबे समय तक हाइड्रेटेड रहना चाहते हैं, तो चिया बीज को कसरत करने से पहले खाएं। आप इसे किसी पेय में मिलाकर भी पी सकते हैं। वजन कम करने के लिए और भूख (appetite) में सुधार करने के लिए इन बीजों को सुबह या भोजन से पहले खाएं।

(और पढ़ें - भूख बढ़ाने की दवा)

चिया बीज वजन कम करने में करें मदद - Chia Seeds Help to Lose Weight in Hindi

बहुत सारे लोग अपना वजन कम करना चाहते हैं। अगर आप भी अपना वजन कम करना चाहते हैं, तो चिया बीज आपके लिए बहुत अच्छे विकल्पों में से एक हो सकता है। एक गिलास पानी में दो चम्मच कच्चे या साबुत चिया बीज मिलाएं। अब इस मिश्रण को अच्छी तरह से हिलाएं। पानी के अवशोषण के कारण इन बीजों को फूलने से पहले उन्हें जल्दी ही पिएं। चिया बीज में मौजूद फाइबर आपको लंबे समय तक भूख नहीं लगने देता है। यह तृप्ति को बढ़ाता है जिससे धीरे धीरे वजन कम होने लगता है।

(और पढ़ें - मोटापा कम करने के लिए व्यायाम और वजन कम करने के लिए योग)

चिया बीज खाने के फायदे कब्ज के लिए - Chia Seeds for Constipation in Hindi

चिया बीज फाइबर से भरे होते हैं, विशेष रूप से अघुलनशील फाइबर। जब चिया बीज पानी के संपर्क में आते हैं तो यह एक जैल में बदल जाते हैं। यह आपके मल में बल्क जोड़ता है और मल त्यागने में सहायता करता है, जिससे कब्ज से राहत मिलती है। हालांकि आईबीएस (IBS) के मरीजों का कहना है कि चिया के बीजों का उनकी कब्ज की समस्या पर बेहद सकारात्मक प्रभाव पड़ा है। रिसर्च द्वारा यह पाया गया है कि कब्ज के लिए चिया बीज का सेवन करना शरीर पर कोई नकारात्मक प्रभाव नहीं डालता है।

(और पढ़ें- कब्ज दूर करने के घरेलू उपाए)

चिया बीज के लाभ रखें शुगर (मधुमेह) को नियंत्रित - Chia Seeds for Diabetes in Hindi

संयुक्त राज्य अमेरिका के कृषि विभाग (United States Department of Agriculture)  के अनुसार, चिया बीज उन खाद्य पदार्थों में से एक है जो डायबिटीज के उपचार में उपयोगी माना जाता है। मधुमेह में रक्तचाप के स्तर में सुधार लाने के लिए इन बीजों का उपयोग किया जाता है। चिया में पाचन को धीमा करने की क्षमता मधुमेह की रोकथाम में मदद कर सकती है।

ओमेगा-3 फैटी एसिड की उपस्थिति के कारण चिया बीज मधुमेह रोगियों के लिए अच्छा साबित हो सकता है जो इस रोग के इलाज में पौष्टिक रूप से महत्वपूर्ण माना जाता है।

(और पढ़ें- शुगर कम करने के घरेलू उपाए)

कैंसर उपचार के लिए चिया सीड्स है लाभकारी - Chia Seeds for Cancer Treatment in Hindi

यूसीएसएफ मेडिकल सेंटर द्वारा प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार, चिया बीज अल्फा-लिनोलिक एसिड का एक अच्छा स्रोत है, जो स्तन कैंसर को रोकने में मदद कर सकता है। चिया बीज अल्फा लिपोइक एसिड (alpha lipoic acid) में समृद्ध होते हैं, जो की एक ओमेगा -3 फैटी एसिड होता है। 2013 में हुई एक और रिसर्च द्वारा यह पता चला है कि चिया बीज सामान्य स्वस्थ कोशिकाओं को बिना नुकसान पहुंचाए कैंसर कोशिकाओं को खत्म करने में मदद करता है। यह आम प्रकार के कैंसर से जूझ रहीं महिलाओं के लिए एक बड़ी खोज है।

चिया बीज के तेल में भी कैंसर को ख़त्म करने वाले गुण पाए जाते हैं। यह ट्यूमर के विकास को कम करने और कैंसर कोशिकाओं की प्रतिकृति को रोकने में मदद करते हैं।

(और पढ़ें- स्तन कैंसर की सर्जरी)

चिया बीज का उपयोग करता है कोलेस्ट्रॉल को कम - Chia Seeds Lower Cholesterol in Hindi

इसमें मौजूद ओमेगा -3 फैटी एसिड रक्त कोलेस्ट्रॉल को कम करने में भी की मदद करते हैं जिससे इस प्रक्रिया के दौरान कोरोनरी हृदय रोग को रोकने में भी मदद मिलती है। चिया बीजों में मौजूद मोनोअनस्यूटेटेड वसा भी कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम करने में मदद करता है। पोषण और आहार विज्ञान अकादमी (Academy of Nutrition and Dietetics) ने यह बताया है कि अपने आहार में चिया बीज जोड़ने से आपका कोलेस्ट्रॉल का स्तर नियंत्रित रह सकता है। क्योंकि अधिक मात्रा में फाइबर का सेवन करना रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल दोनों के स्तर को कम कर सकता है।

(और पढ़ें – कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए क्या खाएं)

हृदय के लिए करें चिया बीज का सेवन - Chia Seeds for Heart in Hindi

चिया के बीज में लिनोलेइक एसिड मौजूद होते हैं, यह एक प्रकार के फैटी एसिड हैं जो शरीर के वसा में घुलने वाले विटामिन ए, विटामिन डी, विटामिन ई और विटामिन के को अवशोषित करने में मदद करता है। ओमेगा -3 रक्तचाप, खराब कोलेस्ट्रॉल और सूजन को कम करके दिल की रक्षा करने में भी मदद करता है। क्योंकि सूजन रक्त वाहिकाओं पर तनाव डाल सकती है जिससे ह्रदय रोग का खतरा बढ़ सकता है। वेस्ट वर्जीनिया विश्वविद्यालय द्वारा प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक, चिया बीज में मौजूद ओमेगा -3 फैटी एसिड हृदय के स्वास्थ्य को अच्छा करता है और हृदय से संबंधित बीमारियों को रोकने मदद करता है।

ओमेगा -3 भी ट्राइग्लिसराइड्स को कम करते हैं (यह रक्त में वसा का एक प्रकार है) इसके अलावा, ये अनियमित धड़कन, कम रक्तचाप के जोखिम को कम करता है और धमनी पट्टिका के संचय को धीमा कर देता है। चिया बीज खाने से, आप अनेक हृदय को बीमारियों से बच सकते हैं।

(और पढ़ें – हृदय को स्वस्थ रखने के लिए आहार)

चिया बीज होते हैं हड्डियों के लिए अच्छा - Chia Seeds Good for Bones in Hindi

एक अध्ययन से पता चला है कि चिया बीज में मौजूद कैल्शियम युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन हड्डियों के स्वास्थ्य में सुधार कर सकता है। चिया बीज के सेवन से आपके शरीर में कैल्शियम की मात्रा में सुधार आ सकता है।

कैल्शियम के अलावा, चिया बीज मैंगनीज में भी समृद्ध हैं - जिसमें हड्डियों और दांतों को मजबूत बनाए रखने के महत्वपूर्ण गुण होते हैं। 

(और पढ़ें - हड्डियों को मजबूत बनाने के उपाय)

चिया बीज फास्फोरस में समृद्ध है, फास्फोरस एक प्रकार का खनिज है जो हड्डियों के स्वास्थ्य को बढ़ाता है। चिया बीज में एंटीऑक्सीडेंट भी पाया जाता है जो आपके दांतों की रक्षा करता है।

चिया के बीज के फायदे त्वचा के लिए - Chia Seeds for Skin in Hindi

चिया बीजों में मौजूद ओमेगा -3 फैटी एसिड ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाता है और त्वचा के सूखेपन को  कम करता है। यह त्वचा की सूजन को भी कम करने में मदद करता है। मैनचेस्टर अध्ययन के अनुसार, ओमेगा -3 एस यूवी विकिरण से त्वचा की रक्षा करने में मदद करते हैं। चिया बीजों में सूजन को कम करने वाले गुण होते हैं जो झुर्रियों को रोकने में मदद कर सकते हैं। ये बीज त्वचा की थकावट को भी कम करने में भी मदद करते हैं। 

  • अपने चेहरे पर चिया फेस मास्क नियमित रूप से उपयोग करने पर, यह चेहरे पर हुए मुहांसों को ठीक करने में मदद करता है।
  • त्वचा के सूखे हिस्सों पर, जैसे कोहनी और घुटनों पर चिया के बीज का तेल उपयोग करने से यह आपकी त्वचा को नरम बनाता है।
  • चिया बीज जिंक का एक काफी अच्छा स्रोत है, और आपकी त्वचा के लिए एंटी-ऑक्सीडेंट के रूप में काम करता है। यह डेड स्किन सेल्स के उपचार और मरम्मत में भी मदद करता है।
  • बढ़ती उम्र के संकेतों को रोकने के लिए चिया बीज का सेवन करना बहुत अच्छा माना जाता है।

(और पढ़ें - खूबसूरत त्वचा के लिए आहार)

चिया सीड्स फॉर स्लीप - Chia Seeds for Sleep in Hindi

सेरोटोनिन और मेलेटोनिन, यह दो हार्मोन नींद के लिए आवश्यक हैं। ये दोनों हार्मोन ट्रिप्टोफैन द्वारा नर्मित होते हैं। ट्रिप्टोफैन शरीर में एक एमिनो एसिड होता है। चुकी चिया बीज में  ट्रिप्टोफैन अच्छी मात्रा में पाया जाता है जिसके कारण यह अच्छी नींद और आराम दिलाने में सहायता करते हैं। एक अमेरिकी अध्ययन के मुताबिक, ट्रीप्टॉफ़ान का उपयोग कई स्लीपिंग डिसऑर्डर के इलाज में भी किया जाता है।

(और पढ़ें- अच्छी गहरी नींद आने के घरेलू उपाए)

चिया सीड्स करें मूड में सुधार - Chia Seeds Improve Mood in Hindi

चिया जैसे सुपरफूड का नियमित सेवन आपके मूड को अच्छा रखने में मदद कर सकते हैं। पिट्सबर्ग अध्ययन के अनुसार, ओमेगा -3 फैटी एसिड मूड में सुधार और व्यवहार के साथ जुड़ा हुआ है। चिया बीजों का उपभोग करने से आपको अवसाद का सामना करने में मदद मिल सकती है। इन बीजों को 10 मिनट के लिए पानी में भिगोएं और इसका दलिया बना के खाएं, आप अपने हिसाब से इसमें कोई फल, बादाम का दूध आदि मिलाकर भी खा सकते हैं और अपने मूड को अच्छाकर सकते हैं।

(और पढ़ें- मूड को अच्छा बनाने के लिए खाएं ये सुपरफूड)

 

चिया बीज के अन्य फायदे - Other Benefits of Chia Seeds in Hindi

चिया बीज के अन्य फायदे - 

  1. चिया के बीज विटामिन बी, जस्ता, आयरन और मैग्नीशियम से भरे हुए हैं - ये सभी ऊर्जा को बढ़ाने में सहायता करते हैं। (और पढ़ें - एनर्जी बढ़ाने के उपाय)
  2. कसरत से कुछ घंटे पहले चिया बीज का सेवन करना शरीर को ऊर्जा प्रदान कर सकता है। चिया बीज का सेवन वर्कआउट करने के बाद शरीर को प्रोटीन प्रदान करता है जो ऊतकों की रिपेयर में मदद करता है।  (और पढ़ें - वर्कआउट से पहले क्या खाएं)
  3. चिया बीज प्रोटीन का एक बड़ा स्रोत हैं। चिया के बीज में 19% प्रोटीन होता है। और क्लिनिकल पोषण के अमेरिकन जर्नल के अनुसार, एक उच्च प्रोटीन आहार भूख को कम कर सकता है और तृप्ति को प्रोत्साहित कर सकता है। (और पढ़ें - प्रोटीन की कमी के लक्षण)
  4. हम सभी जानते हैं कि एंटीऑक्सीडेंट हमारे लिए कितने महत्वपूर्ण हैं। ये एंटीऑक्सीडेंट चिया बीजों में प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं। एंटीऑक्सीडेंट न केवल कोशिकाओं के लिए बल्कि त्वचा के लिए भी अच्छे होते हैं क्योंकि ये वृद्धावस्था के संकेतों को धीमा करते हैं।
  1. चिया बीजों का अधिक मात्रा में सेवन करने पर एलर्जी हो सकती है। इस एलर्जी में शरीर पर निशान, सांस लेने में दिक्कतखुजली, दस्त, उल्टी, सूजन आदि समस्याएं हो सकती है। (और पढ़ें - खुजली दूर करने के घरेलू उपाय)
  2. यदि आप प्रोस्टेट कैंसर से पीड़ित हैं तो चिया सीड्स का सेवन न करें।
  3. चिया बीज में अधिक फाइबर होने की वजह से कुछ लोगों को इसका अधिक सेवन करने के बाद पेट में समस्या का अनुभव हो सकता है। इसलिए इन्हें कम मात्रा में खाएं और पानी अधिक मात्रा में पिएं।
  4. चिया बीज में बहुत अधिक मात्रा में फाइबर होता है। अधिक फाइबर युक्त आहार सभी इन्सान के शरीर एक ही तरह से कम नहीं करता है। जिससे कुछ लोगों को एक ही बार में बहुत अधिक फाइबर के सेवन से कब्ज और दस्त की समस्या हो सकती है। (और पढ़ें –  दस्त का घरेलू उपचार)
  5. चिया बीज में अधिक मात्रा में ओमेगा -3 फैटी एसिड होता है जो एक नेचुरल ब्लड थिनर के रूप में भी कार्य कर सकता है, यह आपके रक्त को जमने से रोकते हैं। यदि आप पहले से ही वाटरफिरिन जैसी खून को पतला करने वाली दवा ले रहे हैं, तो चिया बीज के सेवन से बचें।
  6. अत्यधिक रक्तस्राव से बचने के लिए सर्जरी के बाद चिया बीजों के सेवन से बचें।

चिया बीज के बारे में और अधिक जानकारी के लिए देखें ये वीडियो - 

और पढ़ें ...

References

  1. United States Department of Agriculture Agricultural Research Service. Basic Report: 12006, Seeds, chia seeds, dried. National Nutrient Database for Standard Reference Legacy Release [Internet]
  2. Ho H et al. Effect of whole and ground Salba seeds (Salvia Hispanica L.) on postprandial glycemia in healthy volunteers: a randomized controlled, dose-response trial. Eur J Clin Nutr. 2013 Jul;67(7):786-8. PMID: 23778782
  3. Toscano LT et al. Chia flour supplementation reduces blood pressure in hypertensive subjects. Plant Foods Hum Nutr. 2014 Dec;69(4):392-8. PMID: 25403867
  4. Vuksan V et al. Supplementation of conventional therapy with the novel grain Salba (Salvia hispanica L.) improves major and emerging cardiovascular risk factors in type 2 diabetes: results of a randomized controlled trial. Diabetes Care. 2007 Nov;30(11):2804-10. Epub 2007 Aug 8. PMID: 17686832
  5. Valenzuela R et al. Modification of Docosahexaenoic Acid Composition of Milk from Nursing Women Who Received Alpha Linolenic Acid from Chia Oil during Gestation and Nursing. Nutrients. 2015 Aug 4;7(8):6405-24. doi: 10.3390/nu7085289. PMID: 26247968
  6. Hacer Levent. Effect of partial substitution of gluten-free flour mixtures with chia (Salvia hispanica L.) flour on quality of gluten-free noodles . J Food Sci Technol. 2017 Jun; 54(7): 1971–1978. PMID: 28720954
  7. Rahman Ullah et. Nutritional and therapeutic perspectives of Chia (Salvia hispanica L.): a review. J Food Sci Technol. 2016 Apr; 53(4): 1750–1758. PMID: 27413203
  8. Jing Yang, Hai-Peng Wang, Li Zhou, Chun-Fang Xu. Effect of dietary fiber on constipation: A meta analysis. World J Gastroenterol. 2012 Dec 28; 18(48): 7378–7383. PMID: 23326148
  9. Aylin Ayaz et al. Chia seed (Salvia Hispanica L.) added yogurt reduces short-term food intake and increases satiety: randomised controlled trial. Nutr Res Pract. 2017 Oct; 11(5): 412–418. PMID: 28989578
  10. Yuan-Qing Fu, Ju-Sheng Zheng, Bo Yang, Duo Li. Effect of Individual Omega-3 Fatty Acids on the Risk of Prostate Cancer: A Systematic Review and Dose-Response Meta-Analysis of Prospective Cohort Studies. J Epidemiol. 2015; 25(4): 261–274. PMID: 25787237
  11. National Research Council (US) Committee on Diet and Health. Diet and Health: Implications for Reducing Chronic Disease Risk. Washington (DC): National Academies Press (US); 1989. 10, Dietary Fiber.
ऐप पर पढ़ें
कोरोना मामले - भारतx

कोरोना मामले - भारत

CoronaVirus
1834 भारत
1मणिपुर
3हिमाचल प्रदेश
1मिजोरम
13लद्दाख
7उत्तराखंड
5गोवा
162अंडमान निकोबार
83आंध्र प्रदेश
1असम
23बिहार
16चंडीगढ़
9छत्तीसगढ़
82गुजरात
43हरियाणा
62जम्मू-कश्मीर
1झारखंड
101कर्नाटक
241केरल
66मध्य प्रदेश
302महाराष्ट्र
4ओडिशा
3पुडुचेरी
42पंजाब
93राजस्थान
234तमिलनाडु
96तेलंगाना
103उत्तर प्रदेश
37पश्चिम बंगाल

मैप देखें