myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

नाश्ता सभी के लिए एक महत्वपूर्ण भोजन है। और यदि आपको मधुमेह है तो यह आपके लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है कि आप सुबह के नाश्ते को न छोड़ें क्योंकि आपके रक्त शर्करा का स्तर रात भर ना खाने के बाद कम हो सकता है। इसके अलावा, सही नाश्ते से दिन की शुरुआत करना आपको बहुत आवश्यक ऊर्जा प्रदान करेगा।

एक स्वस्थ नाश्ता शरीर के वजन को बनाए रखने में मदद कर सकता है जो कि मधुमेह के प्रमुख कारकों में से एक है। जर्नल ऑफ़ न्यूट्रिशन एंड डायटैटिक्स में प्रकाशित एक 2014 के अध्ययन में बताया गया है कि नाश्ता करना विशेष रूप से जिसमें अनाज, कम वसा वाला दूध और पूरे फल आदि वजन घटाने में मदद कर सकते हैं।

इसके अलावा, नाश्ते छोड़ने से टाइप 2 मधुमेह का जोखिम बढ़ जाता है। सार्वजनिक स्वास्थ्य पोषण में प्रकाशित एक 2015 के अध्ययन के अनुसार, नियमित रूप से नाश्ता करना टाइप 2 मधुमेह को रोकने के लिए महत्वपूर्ण होता है।

मधुमेह होने का मतलब यह नहीं है कि आपको हर भोजन में नरम, उबाऊ खाद्य पदार्थ खाने की जरूरत है। आप नाश्ते में कई तरह के संतोषजनक खाद्य पदार्थ खा सकते हैं जो आपके रक्त में शर्करा को बढ़ने नहीं देते हैं। एक उच्च फाइबर और कम ग्लाइसेमिक नाश्ता आपको स्वस्थ रक्त शर्करा के स्तर को बनाए रखने में मदद करेगा।

  1. मधुमेह आहार है फल और दूध से बनी स्मुदी - Smoothies for Diabetics in Hindi
  2. डायबिटीज डाइट में शामिल करे ओटमील को - Oatmeal Breakfast for Diabetics in Hindi
  3. जौ है शुगर के लिए पौष्टिक आहार - Pearl Barley Good for Diabetic in Hindi
  4. दही खाना है मधुमेह में उपयोगी - Yogurt Reduce Diabetes in Hindi
  5. अंडे और टोस्ट है डायबिटीज आहार - Scrambled Eggs and Toast for Diabetics in Hindi
  6. पालक टमाटर आमलेट है शुगर के लिए लाभदायक - Spinach Tomato Omelet for Diabetics in Hindi
  7. शुगर डाइट में करें शामिल होल वीट ब्रेड - Whole Wheat Bread for Diabetics in Hindi
  8. मधुमेह में फल और बादाम है उपयोगी - Almonds Help Diabetes in Hindi

एक मिनट में भोजन के लिए, स्मुदी सही विकल्प है। सही सामग्री के साथ बनाई गई स्मुदी आपको अपने रक्त शर्करा के स्तर को ऊपर उठाए बिना पोषण को बढ़ावा देगी।

मधुमेह के अनुकूल स्मुदी बनाने के लिए कुछ अच्छे विकल्प में फैट फ्री दूध, सादा फैट फ्री दही, बादाम का दूध या हरी चाय भी शामिल है।

इसके अलावा एंटीऑक्सिडेंट से परिपूर्ण और कम ग्लाइसेमिक वाले फलों और सब्जियों का चयन करें जैसे स्ट्रॉबेरी, सेब, ब्लूबेरी, खीरेपालक आदि।

एक ब्लेंडर में पालक डालें। उसमें आधा कप ब्लूबेरी, रास्पबेरी, स्ट्रॉबेरी को मिलाएँ। अब इस मिश्रण में आधा कप बादाम का दूध और आधा कप दही डालें। 2 बड़े चम्मच पिसे हुए अलसी के बीज और 1 चम्मच दालचीनी पाउडर को मिलाएँ। कुछ मिनटों के लिए मिश्रण को ब्लेंड करें। इस पोषण युक्त स्मुदी का सिर्फ 1 कप आपको घंटों के लिए तृप्त कर देगा।

ओटमील सुबह के नाश्ते के लिए एक और मुख्य विकल्प है। गर्म या ठंडे ओटमील को आप सप्ताह में कई बार खाने का आनंद ले सकते हैं।

ओटमील में घुलनशील फाइबर आपके शरीर को कार्बोहाइड्रेट को कम करने और अवशोषित करने की दर को धीमा कर देते हैं, जिससे आपके रक्त शर्करा के स्तर को स्थिर रखने में मदद मिलती है। इसके अलावा ओट्स ओमेगा -3 फैटी एसिड, फोलेट और पोटेशियम में समृद्ध होते हैं।

ओटमील को तेजी और आसान से बन जाता है। आप ओटमील कम वसा वाले दूध के साथ बना सकते है और चीनी की जगह शहद का उपयोग कर सकते हैं। आप ओटमील कुछ नट्स या कटे हुए ताजे फल जैसे सेब या स्ट्रॉबेरी भी मिला सकते हैं। 

(और पढ़ें – हेल्दी और स्वादिष्ट ओट्स रेसिपी इन हिंदी)

जौ आपके रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रण में रखने में मदद करने के लिए एक और स्वस्थ नाश्ता है। इसके अलावा यह प्रोटीन में दोगुना और कैलोरी में लगभग आधी होती है, यह सबसे अच्छे नाश्ते खाद्य पदार्थों में से एक है।

स्वीडन में लुंड विश्वविद्यालय के एक 2016 के अध्ययन से पता चलता है कि जौ रक्त शर्करा के स्तर को कम करके मधुमेह वाले लोगों के स्वास्थ्य में तेजी से सुधार कर सकती है। जौ में पाए जाने वाले आहार फाइबर के मिश्रण के कारण है यह हृदय की बीमारी जोखिम को कम करने में भी मदद कर सकता है।

जौ नाश्ता बनाने के लिए:

  1. रात भर एक कप पानी में जौ को भिगो कर रखें।
  2. अगली सुबह, जौ को छान लें और इसे एक सॉस पैन में 3 कप पानी मिलाएँ।
  3. इसके बाद इसे उबालें, फिर ढक्कन के साथ कवर करें और 20 मिनट तक कम आँच पर पकने दें।
  4. पके हुए जौ में थोड़ा सा शहद और सूखे मेवे डालें और गर्मागर्म खाएँ। (और पढ़ें – जौ के पानी के फायदे, नुकसान और बनाने की विधि)

एक कटोरा कम वसा वाली दही का मधुमेह से संबंधी आहार योजना का एक और बहुत अच्छा आइटम है। कम वसा वाले दही को खाने के बाद आपके इंसुलिन के स्तर में वृद्धि नहीं होती है। दही में प्रोटीन, कैल्शियम और कई अन्य आवश्यक पोषक तत्व मौजूद होते हैं।

मधुमेह के अध्ययन के लिए यूरोपीय एसोसिएशन के जर्नल डायबूटोग्लिया में प्रकाशित 2014 के एक अध्ययन में पाया गया कि दही की अधिक खपत से टाइप 2 मधुमेह होने का ख़तरा बढ़ता है।

आप सादे फ़ैट फ्री दही का एक कटोरा खा सकते हैं या आप कुछ बादाम और कटे हुए फलो को मिलकर (ताजा नाशपाती, सेब, स्ट्रॉबेरी या ब्लूबेरी) ओर अधिक स्वस्थ और स्वादिष्ट बना सकते हैं।

अंडे एक बहुमुखी भोजन हैं और मधुमेह वाले लोगों के लिए उत्कृष्ट होते हैं। वास्तव में फेंटे हुए अंडे और टोस्ट के साथ दिन को शुरू करने का सर्वोत्तम तरीका है।

अंडे में प्रोटीन, विटामिन डी और वसा आपके ऊर्जा स्तर को बनाए रखने में मदद करते हैं और दोपहर के खाने के समय तक आपको संतुष्ट रखते हैं।

आप नॉनस्टिक पैन में 1 या 2 अंडे को थोड़े से ऑलिव ऑयल के साथ पका सकते हैं। और गेहूं के टोस्ट के साथ तले हुए अंडों का आनंद लें।

आप अनाज टोस्ट के साथ 1 या 2 उबले अंडे भी खा सकते हैं।

आप संतोषजनक और भरपूर नाश्ते के लिए सिर्फ अंडे का सफेद और बहुत सारे पालक और टमाटर के साथ एक आमलेट बना सकते हैं।

यह आपको एक स्वस्थ प्रोटीन देगा जो एंटीऑक्सिडेंट को बढ़ावा देता है। अंडे के सफेद में मौजूद प्रोटीन आपके रक्त शर्करा को प्रभावित किए बिना आपको भरपूर नाश्ते का आनद देगा। यह ग्लूकोज अवशोषण भी धीमा कर देता है।

नॉनस्टिक पैन में एक मुट्ठी पालक और टमाटर को 1 बड़े स्पून जैतून के तेल के साथ पकाएँ

2 अंडों के सफेद भाग और 1 चम्मच दूध को मिलाएँ।

ब्रेड एक प्रमुख नाश्ता आइटम है, लेकिन अगर आपको मधुमेह है तो सावधानी बरतनी चाहिए। सफेद ब्रेड अत्यधिक प्रसंस्कृत सफेद आटे और चीनी के साथ बनाया जाता है, इस प्रकार यह आपके रक्त शर्करा के स्तर के लिए खराब हो सकता है।

इसका मतलब यह नहीं है कि आप ब्रेड नहीं खा सकते हैं। बेहतर पोषक तत्व संपन्न विकल्प के लिए होल-वीट ब्रेड को चुनें। इसमें मौजूद फाइबर पाचन को धीमा कर देती है जिससे खून में शर्करा का स्तर धीमा हो जाता है।

मूंगफली के मक्खन और पतले सेब के स्लाइस के साथ होल-वीट ब्रेड आपके लिए एक बहुत ही अच्छा नाश्ता है।

आप अपनी पसंद के आधार पर, आप अपने सैंडविच में कुछ ककड़ी, सलाद, टमाटर, पालक या पनीर का उपयोग भी कर सकते हैं।

जब आप जल्दी में होते हैं और यहां तक कि आपके पास आमलेट या सैंडविच बनाने का समय भी नहीं होता है तो बादाम और फलों को अपना अच्छा नाश्ता बनाएँ।

बादाम खाने से लोगों में ग्लाइसेमिक नियंत्रण और लिपिड प्रोफाइल में सुधार होता है। मेटाबोलिज्म में प्रकाशित 2011 के एक अध्ययन ने बताया कि 50 ग्राम बादाम का उपयोग अधिक इंसुलिन और अधिक ग्लूकोज के निचले स्तर के साथ जुड़ा हुया है।

फलो के साथ बादाम जोड़कर कम ग्लाइसेमिक सूचकांक एंटीऑक्सिडेंट और अन्य महत्वपूर्ण पोषक तत्वों की शक्ति मिलती है। कुछ कम ग्लाइसेमिक वाले फल जिनका आप नाश्ते के लिए आनंद ले सकते हैं जैसे जामुन, आड़ू, सेब या नारंगी आदि।

और पढ़ें ...