myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

हालांकि भारत रागी या नचनी का सर्वोच्च उत्पादक है और इसके वैश्विक उत्पादन का लगभग 58% योगदान देता है, बहुत कम भारतीय इसके स्वास्थ्य लाभ और पोषण संबंधी मूल्य के बारे में जानते हैं। यदि आप उन लोगों में से हैं जो अपने आहार में रागी को शामिल करने के लाभों से अनजान हैं, तो हम आपको बताते हैं कि आपको क्यों ऐसा करना चाहिए।

  1. रागी के फायदे - Ragi ke fayde in Hindi
  2. रागी के नुकसान - Ragi side effects in Hindi

रागी के फायदे हड्डी के विकास में - Ragi good for bones in Hindi

अगर कैल्शियम सामग्री की बात आती है तो कोई अन्य अनाज रागी के करीब नहीं आता है। ऑस्टियोपोरोसिस को रोकने और हड्डी के विकास के मामले में कैल्शियम एक महत्वपूर्ण कारक है। कैल्शियम की गोलियों की बजाय बढ़ते बच्चों के आहार में रागी कांजी या दलिया शामिल करना इसके लाभ उठाने का एक अच्छा तरीका है।

(और पढ़ें - हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए जूस रेसिपी)

रागी खाने के फायदे वजन कम करने में - Ragi for weight loss in Hindi

रागी में जो प्राकृतिक वसा सामग्री है, वह अन्य सभी अनाजों से कम है। इसके अलावा, यह वसा अपने असंतृप्त रूप में है। इसलिए गेहूं और चावल के बदले रागी लेना वजन कम करने की कोशिश कर रहे लोगों के लिए एक अच्छा विकल्प है। इसमें ट्रिप्टोफन नामक एमिनो एसिड भी होता है जो भूख को कम कर देता है। इसके गुणों का लाभ उठाने के लिए इसे सुबह लेना सबसे अच्छा है ताकि आपका पेट पूरा दिन भरा रहे।

(और पढ़ें - वेट कम करने के लिए क्या खाना चाहिए)

रागी अनाज है फाइबर में उच्च - Ragi is high in fiber in Hindi

सफेद चावल की तुलना में, रागी में उच्च मात्रा में आहार फाइबर होता है। इसके कारण रागी पाचन में सहायता करता है, ज़्यादा खाने से बचाता है और आपको काफी समय तक पूर्ण महसूस कराता है। एमिनो एसिड लेसिथिन (lecithin) और मेथियोनीन (methionine) लिवर में से अतिरिक्त वसा (फैट) से छुटकारा दिलाकर आपके शरीर के कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में मदद करते हैं। दूसरी ओर, थ्रेओनिन लिवर में वसा के गठन को बाधित करता है और शरीर के कुल कोलेस्ट्रॉल को कम करता है।

(और पढ़ें - कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए क्या खाएं)

रागी के लाभ मधुमेह में - Finger millet good for diabetes in Hindi

उच्च पॉलीफेनोल और फाइबर सामग्री का एक अन्य फायदा है। मधुमेह के रोगी रागी पर विश्वास कर सकते हैं ताकि ग्लूकोज स्तर में बढ़ोतरी तेज़ी से न हो। नियमित रूप से जिन आहार में रागी शामिल होता है, वह कम ग्लाइसेमिक प्रतिक्रिया के लिए जाने जाते हैं। इसे आपके सुबह के भोजन में शामिल करने या दोपहर के भोजन में लेना सबसे अच्छा है ताकि पूरे दिन आपके सिस्टम को ट्रैक पर रखा जा सके।

(और पढ़ें - मधुमेह रोगियों के लिए रागी से बनें व्यंजन)

रागी के व्यंजन एनीमिया के लिए हैं उत्कृष्ट - Ragi for anemia in Hindi

रागी प्राकृतिक लोहे का उत्कृष्ट स्रोत है। एनीमिया और निम्न हीमोग्लोबिन स्तर से पीड़ित रोगी अपने आहार में रागी को शामिल करना शुरू कर सकते हैं। यह एक घरेलु उपचार की तरह ही साबित होगा। विटामिन सी लोहे के अवशोषण में मदद करने के लिए जाना जाता है। एक बार रागी अंकुरित हो जाए, तो विटामिन सी का स्तर बढ़ जाता है और खून में लोहे का और अधिक अवशोषण होता है। लोहे के इष्टतम अवशोषण के लिए, आप रागी डोसा या रागी बॉल्स को आहार में शामिल कर सकते हैं जिसमें बहुत सारी सब्ज़ियां (नीम्बू निचोड़कर) हों या साथ में थोड़ी टेंगी सांबर हो।

(और पढ़ें - खून की कमी का कारण)

रागी का आटा बेनिफिट्स मस्तिष्क के लिए - Ragi good for brain in Hindi

रागी में अमीनो एसिड और एंटीऑक्सीडेंट की पर्याप्त मात्रा शरीर को स्वाभाविक रूप से आराम देने  में मदद करती है। सामान्य बीमारियां जैसे चिंताअनिद्रासिरदर्द और अवसाद का हल रागी से किया जा सकता है। ट्रिप्टोफैन नामक एमिनो एसिड रागी के आरामदायक प्रभाव के लिए एक प्रमुख योगदानकर्ता है।

(और पढ़ें - सिर दर्द के घरेलु उपाय)

नाचनी के फायदे उच्च रक्तचाप को रोकने में - Ragi for high blood pressure in Hindi

विकास के अपने प्रारंभिक दौर में, जब रागी हरा होता है, यह उच्च रक्तचाप को रोकने में मदद कर सकता है। रक्त में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को भी विनियमित किया जा सकता है जिससे कम पट्टिका का गठन होता है और रक्त वाहिकाओं में रुकावट को भी काम किया जा सकता है। परिणामस्वरूप उच्च रक्तचाप और स्ट्रोक का खतरा काफी नीचे चला जाता है।

नाचनी का आटा होता है लस-मुक्त - Nachni flour is gluten free in Hindi

सीलिएक रोग वाले लोग या लस-मुक्त आहार लेने वाले लोग रागी को अपनी दैनिक खपत में शामिल कर सकते हैं क्योंकि यह लस से पूरी तरह मुक्त है। ज़्यादातर अनाजों के साथ ऐसा नहीं है क्योंकि लस सभी अनाजों में एक प्रमुख पोषक तत्व है।

रागी दलिया शिशुओं के लिए है उपयोगी - Benefits of ragi porridge for babies in Hindi

दक्षिणी भारत में, जहां रागी का व्यापक रूप से उपयोग होता है, 28 दिनों के जन्मे बच्चों को उनके नामकरण में रागी दलिया खिलाया जाता है। ऐसा माना जाता है कि रागी बेहतर पाचन को बढ़ावा देता है। इसमें मौजूद उच्च कैल्शियम और लौह सामग्री हड्डी विकास और शिशु के समग्र विकास के लिए उपयोगी है। शिशुओं को माँ का दूध छुड़ाकर कुछ खिलाने की प्रक्रिया के दौरान विशेष रूप से संसाधित रागी पाउडर व्यापक रूप से उपलब्ध कराए जाते हैं।

(और पढ़ें - नवजात शिशु के सम्पूर्ण विकास के लिए दूध पिलाने वाली मां को खाना चाहिए ये आहार)

फिंगर मिलेट स्तनपान कराने वाली माताओं के लिए है फायदेमंद - Ragi for nursing mothers in Hindi

स्तनपान कराने वाली माताओं को रागी को आहार में शामिल करना चाहिए, विशेषकर तब जब यह हरा होता है क्योंकि यह माँ के दूध को बढ़ाता है और दूध को आवश्यक एमिनो एसिड, लोहा और कैल्शियम प्रदान करता है जो मां और बच्चे दोनों के पोषण के लिए आवश्यक है।

(और पढ़ें - ब्रेस्ट मिल्क बढ़ाने के लिए क्या खाएं)

रागी के गुण त्वचा को रखते हैं युवा - Health benefits of ragi for skin in Hindi

युवा त्वचा को बनाए रखने के लिए रागी अद्धभुत है। इसमें मेथियोनीन और लाइसिन जैसे महत्वपूर्ण एमिनो एसिड होने के कारण इसे लेने से त्वचा के ऊतकों में कम झुर्रियों की संभावना होती है। रागी विटामिन डी के कुछ बहुत ही प्राकृतिक स्रोतों में से एक है जो ज्यादातर सूर्य के प्रकाश से प्राप्त होता है। विटामिन डी कैल्शियम के लिए एक वाहक अणु है, जो जीवन शक्ति के लिए ज़रूरी है।

(और पढ़ें - आयुर्वेद की मदद से एंटी एजिंग के लक्षणों को कम करके रहें हमेशा युवा)

हालांकि, रागी की उच्च खपत से बचा जाना चाहिए क्योंकि यह शरीर में ऑक्सेलिक एसिड की मात्रा में वृद्धि कर सकता है। इसलिए गुर्दे की पथरी और यूरिनरी कैलकुली वाले रोगियों को  इसे लेने की सलाह नहीं दी जाती है।

और पढ़ें ...

References

  1. Swati Puranik et al. Harnessing Finger Millet to Combat Calcium Deficiency in Humans: Challenges and Prospects . Front Plant Sci. 2017; 8: 1311. PMID: 28798761
  2. Vasant RA et al. Physiological Role of a Multigrain Diet in Metabolic Regulations of Lipid and Antioxidant Profiles in Hypercholesteremic Rats: Multigrain diet in hyperlipemia. J Pharmacopuncture. 2014 Jun;17(2):34-40. PMID: 25780697
  3. Anoma Chandrasekara, Fereidoon Shahidi. Antioxidant Phenolics of Millet Control Lipid Peroxidation in Human LDL Cholesterol and Food Systems. Journal of the American Oil Chemist's Society, 20 August 2011
  4. Khodr B, Khalil Z. Modulation of inflammation by reactive oxygen species: implications for aging and tissue repair. Free Radic Biol Med. 2001 Jan 1;30(1):1-8. PMID: 11134890
  5. Rajasekaran NS et al. The effect of finger millet feeding on the early responses during the process of wound healing in diabetic rats. Biochim Biophys Acta. 2004 Aug 4;1689(3):190-201. PMID: 15276645
  6. Hegde PS, Anitha B, Chandra TS. In vivo effect of whole grain flour of finger millet (Eleusine coracana) and kodo millet (Paspalum scrobiculatum) on rat dermal wound healing. Indian J Exp Biol. 2005 Mar;43(3):254-8. PMID: 15816412
  7. Anamika M Rasik, Arti Shukla. Antioxidant status in delayed healing type of wounds . Int J Exp Pathol. 2000 Aug; 81(4): 257–263. PMID: 10971747
  8. Hegde P1, Chandrakasan G, Chandra T. Inhibition of collagen glycation and crosslinking in vitro by methanolic extracts of Finger millet (Eleusine coracana) and Kodo millet (Paspalum scrobiculatum). J Nutr Biochem. 2002 Sep;13(9):517. PMID: 12231421
  9. Jess G. Snedeker, Alfonso Gautieri. The role of collagen crosslinks in ageing and diabetes - the good, the bad, and the ugly . Muscles Ligaments Tendons J. 2014 Jul-Sep; 4(3): 303–308. PMID: 25489547
  10. Karkada S et al. Beneficial Effects of ragi (Finger Millet) on Hematological Parameters, Body Mass Index, and Scholastic Performance among Anemic Adolescent High-School Girls (AHSG). Compr Child Adolesc Nurs. 2019 Jun;42(2):141-150. PMID: 29595341