myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

नमिता को अपने अत्यधिक वजन की वजह से लोगों से बातें सुननी पड़ती थी और जब वो बाहर निकलती थी तो लोग उन्हें घूरते थे जिसकी वजह से उनका आत्म-विश्वास कम हो जाता था। लेकिन यह वही समय था जब नमिता ने वजन घटाने का फैसला लिया। मोटापे के कारण उन्हें कई स्वास्थ्य समस्याएं भी होने लगी थी और ऐसे वक़्त में उन्हें ये भी लगता था कि बीमार रहने की वजह से कहीं उनकी मौत न हो जाए।

(और पढ़ें - वजन कम करने के तरीके)

आइए आपको आगे नमिता की वेट लॉस यात्रा के बारें में बताते हैं:

आपने वजन घटाने का फैसला कब लिया?

2013 में मुझे सांस लेने में दिक्कत होने लगी थी, टखनों में सूजन आने लगती थी और नींद भी अच्छे से नहीं आती थी, इन सभी चीजों को देखकर मैं अंदर से टूटती जा रही थी। अगर आपका वजन बहुत ज्यादा है तो समाज आपके साथ अच्छे से पेश नहीं आएगा। बल्कि लोग आपको बेकार समझने लगते हैं। मैं तनाव में रहने लगी थी और इस वजह से मुझे कोई भी रास्त नहीं दिख रहा था। आखिर में मैंने वजन घटाने का फैसला लिया।

(और पढ़ें - पेट कम करने के लिए डाइट चार्ट)

आप क्या खाती थी?

  • मेरा नाश्ता: मैं नाश्ते में दो अंडे या ऑमलेट के साथ-साथ कई मिक्स सब्जियां खाती थी और एक कप चाय भी पिया करती थी। मेरे मूड पर निर्भर करते हुए, मैं कभी-कभी डोसा, इडली और सांबर भी खा लिया करती थी। नाश्ते के कुछ घंटे बाद मैं एक कप ग्रीन टी के साथ दो कूकीज खाती थी।
  • मेरा दोपहर का खाना: एक रोटी, एक कटोरी चावल, एक कटोरी दाल या चिकन और हरी सब्जियां। साथ के साथ मैं गुलाब जामुन भी खाया करती थी।
  • मेरा रात का खाना: मैं आठ बजे तक अपना डिनर कर लिया करती थी। एक रोटी के साथ खूब सारी दाल या एक कटोरी सब्जी। साथ ही मैं डिनर के बाद एक कप ग्रीन टी भी पीती थी।
  • चीट डेस के समय: शनिवार के दिन मेरा चीट डे होता था। मेरा जो मन होता था उस दिन मैं वो ही खाती थी। लेकिन उस दिन मैं ग्रीन टी भी पीती थी।
  • कम कैलोरी वाला आहार: मैं नमक और काली मिर्च मिलाकर उबला बिना जर्दी का सफेद अंडा खाती थी।

(और पढ़ें - हाथ की चर्बी कम करने के उपाय)

क्या आप वर्कआउट करती थीं?

अपनी तीन साल की बेटी के आगे-पीछे घूमना मेरे लिए बहुत बड़ी चुनौती होती थी और वो एक तरह से मेरा वर्कआउट ही होता था। 

(और पढ़ें - कमर पतली करने के योगासन)

आप इस दौरान कैसे प्रेरित रहीं?

मेरी सबसे बड़ी प्रेरणा थी मेरे कपड़े जिनके साथ मुझे मेहनत नहीं करनी पड़ती थी। वजन घटाने के बाद मेरे कपड़े आसानी से मुझे आने लगे थे। साथ ही वेट लॉस के बाद मुझे लोगों से तारीफें भी सुनने को मिलती थी जो कि मेरे लिए ये एक बहुत बड़ा प्रेरणा का स्रोत बन गया था। 

(और पढ़ें - कमर पतली करने की एक्सरसाइज)

आपने ये कैसे सुनिश्चित किया कि आप कभी अपने लक्ष्य से भटकेंगी नहीं?

मैं अपनी पुरानी तस्वीरों को देखती थी, इस तरह मैं अपने लक्ष्य के साथ डटी रहती थी। मुझे अब यकीन है कि मेरा वजन अब फिर से बढ़ने वाला नहीं है।

(और पढ़ें - वजन कम करने के लिए कितना पानी पीएं)

अधिक वजन की वजह से आपके लिए कौन सा हिस्सा सबसे मुश्किल भरा था?

अधिक वजन की वजह से सबसे मुश्किल भरा हिस्सा तब था जब मेरा आत्म-विश्वास और आत्म-सम्मान खोने लगा था।

(और पढ़ें - रात में सोते हुए कैसें वजन कम करें)

आप खुद को कुछ सालों में किस आकार में देखना चाहती हैं?

अब तो मैं अपना वजन इससे अधिक नहीं जाने देना चाहती हूं, वजन और कम करके हमेशा स्लिम व फिट रहना चाहती हूं।

(और पढ़ें - वजन घटाने के लिए कितना पैदल चलना चाहिए)

जीवनशैली में बदलाव लाने के लिए आपने क्या क्या किया?

जब मेरा वजन अधिक था तब मैं खुद की बॉडी को एक कूड़ादान समझती थी, लेकिन एक समय आया जब मुझे लगा कि अब मुझे अपने शरीर के बारें में सोचना चाहिए। इसलिए मैं हर घंटे पानी पीती थी। ज्यादा से ज्यादा पानी पीने से मुझे वजन घटाने में मदद मिली। मैं इस चीज पर भी ध्यान रखती थी की मैं कब क्या खा रही हूं और कब क्या खाना चाहिए। हालांकि वेट लॉस के दौरान स्वाद पर लगाम लगा पाना बेहद मुश्किल होता है।

(और पढ़ें - वजन घटाने के लिए जड़ी बूटियां)

वजन घटाने के बाद आपने क्या सीखा?

जब से मैंने वजन घटाया है तब से मेरा जीवन हर तरीके से बदल गया है। मैं अब स्वस्थ, खुश और आत्म-विश्वास से भरी हुई हूं।

(और पढ़ें - मोटापा कम करने के लिए डाइट चार्ट)

.........................

आशा करते हैं कि आपको नमिता के बारे में पढ़ कर प्रेरणा मिली होगी और अब आप अपना वजन घटाने का सफर ज़रूर शुरू करेंगे।

अगर आपके पास भी अपनी या अपने किसी मित्र, परिवार के सदस्य या परिचित की कोई ऐसी ही प्रेरणा देने वाली कहानी है, तो हमसे ज़रूर शेयर करें। आप अपनी कहानी हमें [email protected] पर ईमेल कर सकते हैं।

और पढ़ें ...