myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

कई प्रकार के जड़ी बूटियों के गुण सब तरह की बीमारियों का इलाज करने में मदद करते हैं। ये जड़ी बूटियां न ही हमारे स्वास्थ्य के लिए बेहतर होती हैं बल्कि रोज़ के आहार को भी स्वादिष्ट बनाती हैं। एक शोध से पता चला है कि जड़ी बूटियां हमारे मेटाबोलिज्म को बेहतर बनती हैं और हमारे वज़न को भी नियंत्रित रखती हैं। इन जड़ी बूटियों के रोज़ाना इस्तेमाल से आपको अपना वज़न कम होता नज़र आएगा, पेट से जुडी समस्याएं नहीं रहेंगी और शरीर चुस्त रहेगा।

तो आइये आपको बताते हैं वज़न घटाने के लिए कुछ ज़रूरी जड़ी बूटियां –

(और पढ़ें - वजन घटाने के उपाय)

  1. वजन घटाने का उपाय है ग्रीन टी - Green tea for weight loss in Hindi
  2. वजन घटाने के लिए दालचीनी का करें प्रयोग - Cinnamon good for weight loss in Hindi
  3. वजन घटाने का तरीका है इलाइची - Cardamom benefits for weight loss in Hindi
  4. वजन घटाने में लहसुन करता है मदद - Benefits of garlic for weight loss in Hindi
  5. वजन घटाने के लिए लाल मिर्च है लाभदायक - Cayenne Pepper treatment for weight loss in Hindi
  6. काली मिर्च के फायदे से वज़न को घटाएं - Black Pepper reduces weight loss in Hindi
  7. वजन घटाने का नुस्ख़ा है जीरा - Cumin helps to get rid of weight loss in Hindi
  8. वज़न घटाने में सिंहपर्णी है उपयोगी - Dandelions for weight loss in Hindi
  9. वज़न घटाना है तो नीम का करें उपयोग - Neem treats weight loss in Hindi
  10. सौंफ के बीज वज़न घटाने में है लाभदायक - Fennel seeds benefits weight loss in Hindi
  11. आपकी रसोई के वो मसाले, जो वजन कम करने में होंगे मददगार

इसमें कोई शक नहीं है कि ग्रीन टी वज़न कम करने के लिए सबसे बेहतरीन हर्बल टी है। ये एंटीऑक्सीडेंट से समृद्ध होती है जिसे कैटेचिन्स कहते हैं। कैटेचिन्स में से एक जिसे एपिगालोकैटेचिन्स गॉलट (Epigallocatechin gallate) कहते हैं वो एक मेटाबोलिज्म बूस्टर है। इसके साथ ही ग्रीन टी में कॉफी के मुकाबले बहुत कम मात्रा में कैफीन होता है। कैफीन फैट बर्निंग को उत्तेजित करता है और मांसपेशियों को सुधारता है। ग्रीन टी भूख को दबा देता है और कम खाने की आदत डालता है अगर आप इसे खाना खाने से आधा घंटा पहले लेते हैं तो।

कहाँ से खरीदे ग्रीन टी –

आप ग्रीन टी को बाजार या फिर ऑनलाइन खरीद सकते हैं।

वज़न घटाने के लिए ग्रीन टी का इस्तेमाल कैसे करें –

अच्छा होगा कि आप ग्रीन टी बनाने के लिए ग्रीन टी की पत्तियों को लें। आप पूरे दिन में चार ग्रीन टी के कप पी सकते हैं। सबसे अच्छा होगा अगर आप खाना खाने से 20 या 30 मिनट पहले ग्रीन टी पियें।

ग्रीन टी रेसिपी -

सामग्री –

  1. दो चम्मच ग्रीन टी की पत्तियां।
  2. एक कप पानी।
  3. एक चौथाई दालचीनी।

विधि –

  1. सबसे पहले एक कप पानी को गर्म कर लें।
  2. अब उसमे दालचीनी पाउडर मिलाएं और दो मिनट के लिए उसे उबलते रहने दें।
  3. अब गैस बंद कर दें और फिर उसमे ग्रीन टी की पत्तियों को डाल दें।
  4. 5 से 7 मिनट के लिए उसे उबलते रहने दें।
  5. फिर मिश्रण को छान लें और अच्छे से चलाकर मिश्रण को पी जाएँ। 

ग्रीन टी के फायदे –

वज़न कम करने के लिए ग्रीन टी और दालचीनी बहुत ही ज़्यादा लाभदायक हैं। ग्रीन टी मेटाबोलिज्म को बूस्ट करता है और वसा को पिघलने में मदद करता है। दालचीनी ब्लड शुगर के स्तर, इन्सुलिन स्तर, कोलेस्ट्रॉल को कम करता है और भूख को दबाता है इससे वज़न को घटाने में मदद मिलती है।

सावधानियां –

ज़्यादा ग्रीन टी पीने की कोशिश न करें इससे आपको अनिंद्रा, डायरिया, उल्टी, हार्ट बर्न और चक्कर जैसे लक्षण पैदा हो सकते हैं।   

(और पढ़ें - ग्रीन टी के फायदे और नुकसान, बनाने की विधि और पीने का सही समय)

दालचीनी एक लोकप्रिय भारतीय मसाला है जिसमे मीठा स्वाद और बहुत ही तेज़ सुगंध आती है। दालचीनी आपके मेटाबोलिज्म को सही रखने में मदद करता है। दालचीनी ब्लड शुगर को नियंत्रित करने में मदद करता है। ये ब्लड शुगर को दूर करने में, एलडीएल कोलेस्ट्रॉल और ट्रिग्लीसिराइड्स (triglycerides) में बहुत ही एहम भूमिका निभाता है। ये शुगर से पीड़ित लोगों के लिए भी फायदेमंद है। दालचीनी आपके गुलकोस मेटाबोलिज्म को भी बूस्ट करता है जिसकी मदद से ब्लड शुगर परिसंचरण सुधरता है।

कहाँ से खरीदे दालचीनी –

आपको दालचीनी बाजार या ऑनलाइन कहि भी उपलब्ध हो जाएगी।

वज़न घटाने के लिए दालचीनी का इस्तेमाल कैसे करें –

आप क या दो चम्मच दालचीनी पाउडर या एक दालचीनी की छाल को पानी में रातभर के लिए भिगोकर रख सकते हैं। रोज़ाना चार हफ्ते के लिए सुबह सुबह दालचीनी से मिश्रित पानी पियें।

दालचीनी रेसिपी –

सामग्री –

  1. एक चम्मच दालचीनी पाउडर।
  2. एक कप पानी।

विधि –

  1. एक कप पानी को सबसे पहले उबलने को रख दें।
  2. अब इसमें दालचीनी पाउडर मिलाएं और दो से तीन मिनट के लिए या उससे ज़्यादा पानी को उबलने दें।
  3. अब इस मिश्रण को छानकर पी लें।

दालचीनी के फायदे –

दालचीनी भूख को दबाने में मदद करती है, बेकार कोलेस्ट्रॉल को कम करती है और मेटाबोलिक रेट को बढ़ाती है। गर्म पानी शरीर से सभी विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालता है और पेट फूलने की समस्या को दूर रखता है।

(और पढ़ें - गर्म पानी पीने के फायदे)

सावधानियां –

वज़न घटाने के लिए कैसिया दालचीनी (Cassia cinnamon) का सेवन न करें। हमेशा सीलोन दालचीनी (Ceylon cinnamon) का इस्तेमाल करें।   

(और पढ़ें - दालचीनी के फायदे)

एक अनोखी सुगंध के साथ ये एक और भारतीय मसाला है। इलाइची को थर्मोजेनिक कहा जाता है जिसका मतलब है कि ये शरीर से फैट को बर्न करता है। इलाइची मेटाबोलिज्म को भी बूस्ट करती है और इससे शरीर का अधिक फैट बर्न होने लगता है। ये पेट में बनने वाली गैस को भी बनने से रोकती है। इलाइची का इस्तेमाल कई समय से किया जा रहा है। अपने खाने में इलाइची का इस्तेमाल ज़रूर करें इससे आपके शरीर का मेटाबोलिज्म रेट बढ़ता है।

कहाँ से खरीदे इलाइची –

आप इलाइची को बज़ार, ऑनलाइन या किसी भी दूकान से खरीद सकते हैं।

वज़न घटाने के लिए इलाइची का इस्तेमाल कैसे करें –

आप एक चम्मच इलाइची पाउडर को पूरे दिन में एक बार ज़रूर लें।

इलाइची रेसिपी -

सामग्री –

  1. एक चम्मच इलाइची पाउडर।
  2. एक कप पानी।
  3. एक चम्मच ग्रीन टी की पत्तियां।

विधि –

  1. सबसे पहले एक कप पानी को उबालने के लिए रख दें।
  2. अब उसमे इलाइची पाउडर को मिलाएं और फिर दो मिनट या उससे ज़्यादा उबालने को रख दें।
  3. गैस को बंद कर दें और फिर उसमे ग्रीन टी की पत्तियां मिला दें।
  4. पांच मिनट के लिए पानी को उबालने को रख दें।
  5. अब चाय को छान लें और फिर पीने से पहले इस मिश्रण को अच्छे से चला लें।

इलाइची के फायदे –

ग्रीन टी एक मेटाबोलिज्म बूस्टर है और ये विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है। इलाइची शरीर के अंदर के तापमान को बढ़ाता है जिससे अधिक फैट पिघलने लगता है।

सावधानियां –

ज़्यादा इलाइची का इस्तेमाल न करें इससे आपको डायरिया और उल्टी हो सकती हैं।  

(और पढ़ें - इलायची के फायदे)

इस जड़ी बूटी में इलाज करने के गुण मौजूद हैं जिसकी मदद से कार्डियोवैस्कुलर की स्थिति का भी इलाज होता है, प्रतिरोधक क्षमता सुधरती है और जुकाम का भी इलाज होता है। एक रिसर्च के अनुसार ये जड़ी बूटी कमर की वसा को पिघलाने में मदद करती है। लहसुन में एलिसिन होता है जो भूख को दबा देता है और मेटाबोलिज्म को बूस्ट करता है। 

(और पढ़ें - वजन घटाने के लिए लहसुन)

कहाँ से खरीदे लहसुन –

आप लहसुन को सब्ज़ियों की मार्किट से खरीद सकते हैं।

वज़न घटाने के लिए लहसुन का इस्तेमाल कैसे करें –

अच्छा परिणाम पाने के लिए आपको रोज़ाना सिर्फ एक ही लहसुन की फांक की ज़रूरत पड़ेगी। आप अपने आहर में भी लहसुन का इस्तेमाल कर सकते हैं जिससे स्वाद बदल सके और वज़न भी कम हो। 

लहसुन रेसिपी -

सामग्री –

  1. एक लहसुन की फांक।
  2. एक कप पानी।
  3. आधा चम्मच नींबू का जूस।

विधि –

  1. लहसुन की फांक को मैश करने के लिए मूसली या ओखली का इस्तेमाल करें।
  2. अब इसमें एक कप पानी डालें।
  3. फिर नींबू का जूस मिला दें।
  4. अच्छे से पूरे मिश्रण को चला लें और फिर एक ही बार में पी जाएँ।

लहसुन के फायदे –

नींबू का जूस लहसुन की तेज़ गंध और स्वाद को बदल देता है। नींबू विटामिन सी से समृद्ध होता है जो मेटाबोलिज्म को बूस्ट करने में मदद करता है। लहसुन कोलेस्ट्रॉल को कम करता है, ह्रदय के स्वास्थ में सुधार करता है, इसमें एंटी कैंसर के भी गुण होते हैं और इससे आपकी भूख कम होती है जिससे वज़न घटाने में मदद मिलती है। 

सावधानियां –

ज़्यादा लहसुन का इस्तेमाल न करें क्योंकि इसकी गंध बहुत तेज़ होती है और ये आसानी से नहीं जाती। इससे आपका शरीर गर्म हो सकता है और आपको मतली और डायरिया की समस्या हो सकती है।

(और पढ़ें - लहसुन के फायदे)

लाल मिर्च कैप्साइसिन से समृद्ध होती है। कैप्साइसिन शरीर को उत्तेजित करता है जिससे फैट को बर्न करने में मदद मिलती है। ये वसा वाले उत्तकों को गला देता है और अधिक कैलोरी को कम करता है। लाल मिर्च खून में मौजूद फैट के स्तर को भी कम करने में मदद करती है।

कहाँ से खरीदे लाल मिर्च –

आप लाल मिर्च को किसी भी बाजार से खरीद सकते हैं।

वज़न घटाने के लिए लाल मिर्च का इस्तेमाल कैसे करें –

आप आधी चम्मच लाल मिर्च को पूरे दिन में दो बार जूस में डालकर पी सकते हैं।

लाल मिर्च रेसिपी -

सामग्री –

  1. एक चौथाई लाल मिर्च।
  2. एक कप पानी।
  3. एक नींबू।

विधि –

  1. सबसे पहले एक ग्लास में एक नींबू को निचोड़ लें।
  2. अब उसमे एक कप पानी और एक चौथाई चम्मच लाल मिर्च डालें।
  3. अब इस मिश्रण को अच्छे से मिलाकर पी जाएँ।

लाल मिर्च के फायदे –

लाल मिर्च का तीखापन नींबू के एसिडिक कंपाउंड से संतुलित हो जाता है। दोनों ही सामग्रियां मेटाबोलिज्म को बूस्ट करके और शरीर की वसा को बर्न करके वज़न घटाने में मदद करती है।

सावधानियां –

वज़न को तेज़ी से कम करने के लिए लाल मिर्च का ज़्यादा इस्तेमाल न करें। इससे आपका पेट खराब हो सकता है, चक्कर और उल्टी जैसी समस्याएं हो सकती हैं।   

(और पढ़ें - लाल मिर्च के फायदे)

काली मिर्च पिपरिन (piperine) से समृद्ध होती है। पिपरिन वसा की कोशिकाओं को बनने से रोकता है जिससे वज़न को दूर करने में मदद मिलती है। आप काली और लाल मिर्च को एक साथ मिला सकते हैं जिससे वसा को बर्न करने में तेज़ी से मदद मिले।

कहाँ से खरीदे काली मिर्च –

आपको काली मिर्च किसी भी मार्किट से मिल जाएगी।

वज़न घटाने के लिए काली मिर्च का इस्तेमाल कैसे करें –

आप पूरे दिन में पांच पेपर कॉर्न्स चबा सकते हैं या इसे अपने जूस या आहार में मिला सकते हैं।

काली मिर्च रेसिपी -

सामग्री –

  1. एक चौथाई चम्मच काली मिर्च लें।
  2. एक चौथाई शहद
  3. एक कप गर्म पानी।

विधि –

  1. सबसे पहले एक चम्मच शहद और एक चौथाई काली मिर्च को एक कप गर्म पानी में मिला दें।
  2. फिर इस मिश्रण को अच्छे से मिलाने के बाद पी लें।

काली मिर्च के फायदे –

काली मीर्च वसा वाली कोशिकाओं को फैलने से रोकती है और शहद प्रतिरोधक क्षमता को बूस्ट करता है और पेट को स्वस्थ बनाये रखता है। ये मिश्रण शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है और आपको साफ़ त्वचा देता है। इससे रोज़ाना पीने से शरीर भी टोंड होता है।

सावधानियां –

काली मिर्च का ज़्यादा सेवन करने से एडिमा, पेट खराब और श्वसन समस्यायें हो सकती हैं।

(और पढ़ें - काली मिर्च के फायदे)

जीरा एक अन्य जड़ी बूटी है जो वज़न को कम करने में इस्तेमाल की जाती है। ये शरीर को ऊर्जा देता है और पाचन क्रिया को भी ठीक रखता है। इसके पाचन सम्बन्धित गुण वज़न कम करने लिए बेहद प्रभावी हैं।

कहाँ से खरीदे जीरा –

आप जीरा किसी भी स्टोर या बज़ार से खरीद सकते हैं।

वज़न घटाने के लिए जीरा का इस्तेमाल कैसे करें –

दो चम्मच जीरे के बीज को पानी में सोक लें या एक चम्मच जीरे के बीज के पाउडर को जूस या आहार में मिलाकर इस्तेमाल करें।

जीरा रेसिपी -

सामग्री –

  1. दो चम्मच जीरे का बीज।
  2. एक कप पानी।
  3. आधा चम्मच शहद का पाउडर।

विधि –

  1. रातभर के पानी में जीरे के बीज को डुबोकर रख दें।
  2. फिर सुबह को पानी को गर्म कर लें।
  3. फिर पानी को छाल लें और अब इसमें शहद को मिला दें।
  4. पीने से पहले इस मिश्रण को अच्छे से चलाकर पियें।

जीरा के फायदे –

जीरे के बीज पेट के स्वास्थ के लिए बेहद फायदेमंद होते हैं। ये सोने में भी मदद करते हैं, श्वसन सम्बन्धी समस्याओं के जोखिम को भी दूर करते हैं, एनीमिया, जुकाम और त्वचा संबंधी समस्याएं भी इससे खत्म होती हैं। शहद एक एंटीबैक्टीरियल एजेंट हैं और ये शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालता है। इस मिश्रण को रोज़ाना पियें।    

सावधानियां –

ज़्यादा जीरे के बीज का सेवन करने से पेट फूलने, डायरिया और गैस की समस्याएं होती हैं।

(और पढ़ें - जीरे के फायदे और नुकसान)

सिंहपर्णी न ही देखने में सुंदर होती है बल्कि खाने योग्य भी होती है। बल्कि ये पोषण से भरपूर होती है। सिंहपर्णी पाचन क्रिया को कम कर देती है जिससे आपको भूख लम्बे समय तक नहीं लगती। सिंहपर्णी फाइबर, एंटीऑक्सीडेंट, खनिज और विटामिन K1 से समृद्ध होती है। इसमें बीटा केरोटीन होता है जो फ्री रेडिकल को मारता है और लीवर को सुरक्षित रखता है। 

कहाँ से खरीदे सिंहपर्णी –

सिंहपर्णी को ऑनलाइन या आयुर्वेदिक स्टोर से खरीद सकते हैं।

वज़न घटाने के लिए सिंहपर्णी का इस्तेमाल कैसे करें –

आप एक या दो चम्मच सिंहपर्णी या एक दो सिंहपर्णी की गोली को एक ग्लास पानी के साथ ले सकते हैं।

सिंहपर्णी रेसिपी -

सामग्री –

  1. एक चम्मच सिंहपर्णी।
  2. एक कप पानी।

विधि –

  1. सबसे पहले एक कप पानी को उबाल लें।
  2. अब इसमें सिंहपर्णी डालें और दो से तीन मिनट के लिए उबालने को रख दें।
  3. फिर इस मिश्रण को छान लें और कुछ मिनट के लिए ठंड होने को रख दें।

सिंहपर्णी के फायदे –

सिंहपर्णी फाइबर से समृद्ध होता है और वसा वाले मॉलिक्यूल्स को अवशोषित होने से रोकता है। इसके एंटीऑक्सीडेंट हानिकारक ऑक्सीजन के रेडिकल्स को साफ़ करने में मदद करते हैं और विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालते हैं।

सावधानियां –

इसको इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर से बात ज़रूर करें। गर्भावस्था के दौरान इसका सेवन न करें।

(और पढ़ें - सिंहपर्णी के फायदे और गर्भावस्था के दौरान पेट दर्द)

नीम एक औषधीय पेड़ है। ये शुरू से ही भारत, बांग्लादेश, पाकिस्तान और श्री लंका में पाया जाता रहा है। इसकी पत्तियां, शाखाएं और फलों में औषधीय गुण होते हैं और स्वास्थ्य स्थिति के इलाज के लिए इसका उपयोग कई युगों से किया जा रहा है।

कहाँ से खरीदे नीम –

आप नीम किसी भी आयुर्वेदिक स्टोर, फार्मेसी या ऑनलाइन खरीद सकते हैं। आप किसी नीम के पेड़ से ताज़ी पत्तियां भी तोड़ सकते हैं।

वज़न घटाने के लिए नीम का इस्तेमाल कैसे करें –

पूरे दिन में चार से पांच नरम नीम की पत्तियां लें या एक चम्मच नीम का जूस ज़रूर पियें।

नीम रेसिपी -

सामग्री –

  1. 4-5 नीम की पत्तियां।
  2. एक कप पानी।

विधि –

  1. नीम की पत्तियों को मैश करने के लिए मूसली या ओखली का इस्तेमाल करें।
  2. अब इसमें एक कप पानी मिलाएं।
  3. अच्छे से मिलाने के बाद इस मिश्रण को पी जाएँ।

नीम के फायदे –

नीम की पत्तियों में एंटीमाइक्रोबियल, सूजनरोधी और एंटीऑक्सीडेंट के गुण होते हैं। ये परिसंचरण सुधरता है और शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकाल फेकता है। ये पेट को भी स्वस्थ रखता है। नीम की पत्तियां सूजन और मेटाबोलिज्म को बूस्ट करके वज़न को घटाने का इलाज करती हैं।  

सावधानियां –

नीम का सेवन ज़्यादा करने से पेट खराब हो सकता है, हार्ट बर्न, उल्टी और सिर दर्द भी हो सकता है।  

(और पढ़ें - नीम के फायदे और नुकसान)

सौफ के बीज को सौफ के पेड़ से काटा जाता है। सौफ गाजर के परिवार से सम्बन्ध रखता है। इसका ज़्यादातर इस्तेमाल किचन और औषधीय गुणों के लिए किया जाता है। इसका बहुत ही मीठा स्वाद होता है और पाचन क्रिया को ठीक रखने में मदद करता है। ये एंटीऑक्सीडेंट, फाइबर, विटामिन्स और खनिज से समृद्ध होता है।   

कहाँ से खरीदे सौंफ –

सौफ के बीज को आप किराने की दूकान से ले सकते हैं।

वज़न घटाने के लिए सौंफ का इस्तेमाल कैसे करें –

पूरे दिन में दो चम्मच सौफ के बीज या एक चम्मच सौफ के बीज के पाउडर को ज़रूर लें।

सौंफ रेसिपी –

सामग्री –

  1. दो चम्मच सौफ के बीज।
  2. एक कप पानी।

विधि –

  1. सबसे पहले सौफ के बीज को पानी में रातभर के लिए भिगोकर रख दें।
  2. अब इस मिश्रण को सुबह छान लें और फिर इसे पी लें।

सौंफ के फायदे –

सौफ के बीज फाइबर से समृद्ध होते हैं और इसलिए ये वसा वाले मॉलिक्यूल्स से बंध जाते हैं और वसा के अवशोषण को रोकते हैं। ये एंटी ऑक्सीडेंट से समृद्ध होता है और शरीर से विषाक्त पदार्थ को बाहर निकालता है साथ ही पेट फूलने की समस्या को भी रोकता है। ये पानी को अवशोषित करके कब्ज़ की परेशानी से राहत दिलाते है।

सावधानियां –

ज़्यादा सौफ का सेवन करने से आपको मतली और डायरिया हो सकता है।

(और पढ़ें - सौंफ के फायदे और नुकसान)

ये लाभकारी जड़ी बूटियां अपने रोज़ाना के वर्कआउट और स्वस्थ आहार के साथ ज़रूर लें। आप ज़रूर इस तरह वज़न घटा पाएंगे। बल्कि आपकी जीवनशैली बदलेगी और आप और ज़्यादा ऊर्जा से भरपूर रहेंगे।

और पढ़ें ...