myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

इडली, दक्षिणी भारत की एक बहुत ही प्रसिद्ध डिश है जो अब पूरे भारत में शौक से खाई जाने लगी है। ये चावल, उड़द की दाल और मेथी के बीज का बैटर तैयार करके बनाई जाती है। इडली खाने में केवल स्वादिष्ट ही नहीं होती, बल्कि ये स्वास्थ्य के लिए भी बहुत अच्छी होती है और इसे बनाना भी बहुत ही आसान होता है। ये नाश्ते, लंच, डिनर या स्नैक्स के समय कभी भी खाई जा सकती है। इडली को अधिकतर सांबर और नारियल की चटनी के साथ परोसा जाता है। इस लेख में हमने आपको इडली की एक आसान सी रेसिपी बताई है।

संक्षेप में  
तैयारी करने का समय 30 मिनट
खमीर आने में लगने वाला समय 8 से 9 घंटे
बनाने का समय 20 मिनट
कितने लोगों के लिए है ये सामग्री 4 लोग
कब खाएं इडली को आप कभी भी खा सकते हैं
कहां की है ये डिश दक्षिण भारत
टाइप वेज (शाकाहारी)
कैलोरी 58Kcal (एक इडली में)

(और पढ़ें - ब्रेकफास्ट रेसिपी)

  1. इडली बनाने की सामग्री - Idli ingredients in hindi
  2. इडली बनाने का तरीका - How to make idli in hindi
  3. इडली को कैसे परोसें - How to serve idli in hindi
  4. इडली में मौजूद पोषक तत्व - Nutritional information of idli in hindi
  5. इडली बनाने के लिए कुछ टिप्स - Tips for making idli in hindi
  6. इडली को हेल्दी कैसे बनाएं? - How to make idli healthy in hindi
  7. इडली बनाने का वीडियो - Idli recipe video in hindi

इडली बनाने की सामग्री नीचे दी गई है। ये सामग्री 4 लोगों के लिए इडली बनाने के लिए पर्याप्त है, आप चाहें तो लोगों के अनुसार इसे कम-ज्यादा कर सकते हैं:

(और पढ़ें - मोमोज बनाने की विधि)

नीचे इडली बनाने की रेसिपी दी गई है, इससे आप आसानी से इडली बना सकते हैं:

बैटर बनाने के लिए

  1. सबसे पहले उड़द दाल और मेथी के बीज को 2 से 3 बार पानी से धो लें।
  2. अब इन दोनों के साथ पोहा डालकर 1 कप पानी में कुछ घंटों के लिए रख दें।
  3. एक बर्तन में उबले हुए चावल और साबुत चावल डालें और इन्हें 3 से 4 बार अच्छे से धो लें।
  4. अब चावल को कुछ घंटों के लिए पानी में भिगोकर रख दें।
  5. दाल और मेथी में से अतिरिक्त पानी निकाल लें और इन्हें एक मिक्सी में डाल दें।
  6. इसके बाद मिक्सी में आधा कप पानी डालकर मिक्सी चला दें। इसे तब तक पीसें जब तक बैटर मुलायम और गुदगुदा न हो जाए। इसमें पानी की मात्रा लगभग आधा कप होनी चाहिए।
  7. अब चावल में से भी पानी निकाल लें और उसे भी मिक्सी में डालकर वैसे ही पीस लें। इसमें पानी की मात्रा बहुत ज्यादा न रखें, आपको थोड़ा गाढ़ा बैटर बनाना है।
  8. इसके बाद चावल के घोल को दाल के घोल में मिला दें और इसमें नमक डालकर अच्छे से मिला लें।
  9. याद रहे कि मिलाने के बाद बनने वाला बैटर ज्यादा गाढ़ा या पतला नहीं होना चाहिए। अगर बैटर ज्यादा गाढ़ा हुआ, तो इडली सख्त बनेंगी और पतले बैटर के कारण इडली चपटी बन सकती हैं।
  10. अब बैटर में खमीर लाने के लिए इसे 8 से 10 घंटे तक कपडे से ढककर रख दें। खमीर आने के बाद बैटर का साइज बढ़ जाएगा।

(और पढ़ें - जलेबी बनाने की विधि)

इडली बनाने के लिए

  1. खमीर आने के बाद बैटर को साफ करछी से हिलाएं और उसमें नमक की जांच कर लें।
  2. अब स्टीमर में 1 से 2 गिलास पानी डालें और उसे गैस पर मध्यम आंच पर रख दें।
  3. इसके बाद इडली के सांचे पर हल्का सा तेल लगाएं, उसमें बैटर डालें और सांचे को स्टीमर में रख दें।
  4. स्टीमर का ढक्कन बंद कर दें और इडली को 10 मिनट तक पकने दें।
  5. इडली को चेक करने के लिए उसमें चाकू या टूथपिक डालें और देखें कि इडली पूरी तरह पकी है या नहीं। अगर चाकू पर बैटर  चिपक रहा है, तो इसे पांच मिनट के लिए और पकने दें।
  6. पकने के बाद इडली को सावधानी से निकाल लें और कुछ देर ठंडी होने दें। अब आपकी इडली खाने के लिए तैयार है।

(और पढ़ें - ढोकला बनाने की विधि)

इडली को नारियल की चटनी और सांबर के साथ परोसा जाता है और गरम-गरम खाया जाता है। इडली को लोग सांबर और नारियल की चटनी में डुबोकर खाते हैं। इडली के साथ खाने के लिए एक तरह का मसाला भी बनाया जाता है, जिसे इडली पोड़ी कहते हैं। ये मसाला दालों और कई प्रकार के मसालों को मिलाकर तैयार किया जाता है।

इसके अलावा दही में मसाले डालकर भी उसके साथ इडली को खाया जा सकता है।

(और पढ़ें - सर्दियों के लिए स्नैक्स)

इडली में मौजूद पोषक तत्वों के बारे में नीचे दिया गया है:

पोषक तत्व मात्रा
कैलोरी 58Kcal
फैट 0.4 ग्राम
कोलेस्ट्रॉल 0 मिलीग्राम
सोडियम 75 मिलीग्राम
पोटैशियम 41 मिलीग्राम
कार्बोहायड्रेट 12 ग्राम
प्रोटीन 1.6 ग्राम
नेचुरल शुगर 0.1 ग्राम

ये मात्रा एक इडली के आधार पर दी गई है।

(और पढ़ें - पाव भाजी रेसिपी)

इडली बनाने के लिए आप नीचे गई टिप्स का उपयोग कर सकते हैं:

  • चावल को पानी से 3-4 बार धोना और उसकी मिट्टी निकालना बिलकुल न भूलें, इससे इडली सफेद बनेगी।
  • इडली बनाने के लिए पुरानी की जगह नई दाल का प्रयोग करने से बैटर में अच्छा खमीर आता है। (और पढ़ें - दालों के फायदे)
  • अगर बैटर में ढंग से खमीर नहीं आया है, तो उसमें एक चुटकी बेकिंग सोडा डाल दें और सांचे में डालने से पहले अच्छे से मिला लें।
  • इडली के बैटर में बिना आयोडीन का नमक इस्तेमाल करने की कोशिश करें। इससे खमीर उठने में आसानी होगी। (और पढ़ें - आयोडीन की कमी के लक्षण)
  • इडली के सांचे में बैटर डालने से पहले उसमें तेल लगा लें और निकालने से पहले ठंडा होने दें।
  • अगर आप किसी ठंडी जगह रहते हैं, तो खमीर लाने के लिए बैटर को पहले से गरम किए हुए ओवन में रख दें।
  • इडली को सांचे से निकालने के लिए गीले चम्मच का उपयोग करें, इससे इडली निकालने में आसानी होगी।

(और पढ़ें - रसम बनाने की विधि)

इडली एक बहुत ही हेल्दी डिश है क्योंकि इसमें कैलोरी बहुत कम होती है और इसमें कोलेस्ट्रॉल व फैट की मात्रा भी न के बराबर होती है। ये हर व्यक्ति के लिए हेल्दी होती है और इसे कभी भी खाया जा सकता है। हालांकि, आप ज्यादा स्वादिष्ट व हेल्दी करने के लिए कुछ उपाय कर सकते हैं, जैसे:

  • अगर आप सादी इडली खा कर बोर हो गए हैं, तो आप इडली में सब्जियां भी मिला सकते हैं। इससे इडली का स्वाद भी बदल जाएगा और आपको अधिक पोषण भी मिलेगा। इसके लिए सब्जियां काटकर इडली के बैटर में डाल दें।(और पढ़ें - उबली सब्जी खाने के फायदे)
  • सूजी या दलिये की भी इडली बनाई जाती है, जिसे रवा इडली कहते हैं। इसमें हरी मिर्च, कड़ी पत्ता और मसाले आदि डालकर बनाया जाता है। रवा इडली जल्दी तैयार हो जाती है, क्योंकि इसमें खमीर लाने की आवश्यकता नहीं होती।
  • रागी का उपयोग करके भी इडली बनाई जाती है। ये इडली बहुत ज्यादा पौष्टिक व स्वादिष्ट होती है और इसका रंग भी भिन्न होता है। ये बहुत ही मुलायम बनती हैं और इसका स्वाद बढ़ाने के लिए आप इसमें प्याज, हरी मिर्च और बटर मिला सकते हैं।

(और पढ़ें - हरी प्याज के फायदे)

इस वीडियो को देखकर आप आसानी से इडली बना सकते हैं।

और पढ़ें ...