myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

पांच महिलाओं में से एक को ओवुलेशन दर्द का अनुभव होता है, यह पेट की दोनों में किसी भी तरफ हर महीने होने वाली एक असुविधा है। कई महिलाएं मानती हैं कि यह दर्द ओवुलेशन होने के समय के साथ जुड़ा होता है, लेकिन आपको आश्चर्य होगा यह जानकर कि ऐसा हमेशा नहीं होता है, ओवुलेशन में दर्द ओवुलेशन प्रक्रिया के दौरान किसी भी समय पर हो सकता है।

(और पढ़े - ओवुलेशन से जुड़े मिथक और तथ्य)

ओवुलेशन में दर्द अक्सर बहुत सामान्य होता है और यह केवल मासिक धर्म से जुड़ा एक अन्य दुष्प्रभाव होता है। यह एक वास्तविक घटना है और हमारे अनुभव में ऐसा होना काफी आम है, लेकिन सभी महिलाओं को इसका अनुभव नहीं होता है, और कुछ महिलाएं इसे दूसरों की तुलना में अलग-अलग तरह से अनुभव कर सकती हैं।

इस लेख में ओवुलेशन में दर्द के लक्षण क्या है? ओवुलेशन में पेट दर्द क्यों होता है और ओव्यूलेशन पेन के उपचार के बारे में विस्तार से बताया गया है।

  1. ओव्यूलेशन पेन क्या है - What is Ovulation pain in hindi
  2. ओव्यूलेशन पेन के लक्षण - Ovulation pain symptoms in hindi
  3. ओवुलेशन पेन के कारण - Ovulation pain causes in hindi
  4. ओवुलेशन में दर्द की जांच - Ovulation pain diagnosis in hindi
  5. ओव्यूलेशन पेन के उपचार - Ovulation pain treatment in hindi

ओवुलेशन पेन को मिड-साइकिल पेन और मिट्टेलस्मेरज़ या मिट्टेलस्मेर्ज (mittelschmerz) के रूप में भी जाना जाता है। ओवुलेशन आम तौर पर दो मासिक धर्म चक्रों के बीच में होता है; इसलिए शब्द मिट्टेलस्मेरज़, जो "मिडिल" और "पेन" के लिए जर्मन शब्दों से बना है। ज्यादातर मामलों में, यह असुविधा बहुत कम समय के लिए और नुकसान न करने वाली होती है।

(और पढ़े - मासिक धर्म हाइजीन टिप्स)

ओवुलेशन महिला के मासिक धर्म चक्र का एक चरण है जिसमें किसी एक अंडाशय में से अंडे (ओवम) की रिहाई होती है। ज्यादातर महिलाओं में, ओवुलेशन उनकी रजोनिवृत्ति तक हर महीने एक बार होता है, इसके अलावा यदि वे गर्भवती या स्तनपान करा रही हैं तो इस समय ओवुलेशन नहीं होता है।

(और पढ़े - मासिक धर्म से जुड़े मिथक और तथ्य)

विभिन्न महिलाओं को ओवुलेशन में दर्द अलग-अलग तरह से अनुभव होता है। महिलाओं को महसूस होने वाले ओवुलेशन पेन का निम्नलिखित तरीकों से वर्णन कर सकते हैं:

  • दर्द आम तौर पर पेट के किसी एक तरफ होता है। एक मासिक चक्र से दूसरे चक्र के दौरान ओवुलेशन दर्द की साइड में बदलाव हो सकता है यानि आपको एक मासिक चक्र के समय दर्द एक तरफ हुआ है तो दूसरे मासिक चक्र में दर्द दूसरी तरफ हो सकता है। (और पढ़े - मासिक धर्म के समय पेट दर्द का घरेलू उपाय)
  • ओवुलेशन दर्द की साइड में परिवर्तन बेतरतीब ढंग से होता है, क्योंकि प्रत्येक चक्र में किसी भी तरफ का अंडाशय (महिला के गर्भाशय के दोनों तरफ एक-एक अंडाशय होता है) अपना अंडा छोड़ सकता है। (और पढ़े - अंडाशय की गांठ का इलाज)
  • कुछ महिलाओं को बहुत हल्का दर्द होता है जो कुछ मिनटों से लेकर कुछ घंटों तक रह सकता है।
  • कुछ अन्य महिलाओं को अचानक तेज दर्द हो सकता है और यह केवल एक पल के लिए रहता है।

ओवुलेशन में दर्द आमतौर पर हल्का होता है, लेकिन जब यह गंभीर होता है, तो इसे कभी-कभी गलती से एपेंडिसाइटिस (अपेंडिक्स) समझ लिया जाता है।

(और पढ़े - अपेंडिक्स का ऑपरेशन कैसे होता है)

ज्यादातर मामलों में, ओवुलेशन पेन का मतलब यह नहीं होता है कि कुछ भी गलत है। हालांकि, गंभीर दर्द होने पर यह कभी-कभी एंडोमेट्रिओसिस सहित स्त्री रोग संबंधी अन्य स्थितियों का लक्षण हो सकता है।

(और पढ़े - एंडोमेट्रिओसिस की दवा)

यदि आपका ओवुलेशन दर्द तीन दिनों से अधिक समय तक चलता है या भारी रक्तस्राव जैसे अन्य असामान्य मासिक धर्म के लक्षण दिखते हैं तो अपने डॉक्टर से बात करें।

(और पढ़े - योनि से रक्तस्राव के कारण)

ओवुलेशन पेन मासिक धर्म में होने वाली ऐंठन से अलग होता है, जो किसी महिला के पीरियड से पहले या उसके दौरान होती है। ओवुलेशन पेन को पहचानना आसान है क्योंकि इसमें कई लक्षण हैं जो मासिक धर्म की ऐंठन से अलग हैं।

(और पढ़े - पीरियड्स लेट करने के उपाय)

ओवुलेशन पेन के लक्षण निम्नलिखित हैं:

  • यह दर्द एक तरफ होता है।
  • यह अचानक और चेतावनी के बिना शुरू हो जाता है।
  • यह एक तेज दर्द, टीस या एक हल्के दर्द के बजाय ऐंठन जैसा हो महसूस हो सकता है।
  • यह अक्सर केवल कुछ मिनट तक रहता है, लेकिन कुछ घंटे या यहां तक ​​कि 24 घंटे तक चल सकता है।
  • हर महीने दर्द की साइड बदल सकती है।
  • यह दर्द पीरियड शुरू होने से लगभग दो सप्ताह पहले होता है।

हल्का रक्तस्राव (स्पॉटिंग) या योनि डिस्चार्ज इस समय के दौरान हो सकता है। कुछ महिलाओं को मतली का अनुभव भी हो सकता है, खासकर यदि क्रैम्पिंग (ऐंठन) गंभीर है।

मिड-साइकिल पेन किशोर लड़कियों और महिलाओं की आयु के 20 वें दशक में सबसे आम होता है, लेकिन यह 45 साल तक की महिलाओं को हो सकता है।

(और पढ़े - मासिक धर्म के दौरान सेक्स)

यदि आप को पेट दर्द के साथ एक ही समय में किसी अन्य लक्षण का अनुभव हो रहा हैं तो अपने डॉक्टर से सलाह लें।

(और पढ़े - पेट दर्द के घरेलू उपाय)

ओवुलेशन पेन के कारण के लिए कई अलग-अलग परिकल्पनाएं उपलब्ध हैं, जिनमें कुछ निम्नलिखित हैं -

  • ओवुलेशन से पहले डिम्बग्रंथि के रोम (ओवेरियन फॉलिकल्स) की सूजन
    आपके मासिक चक्र में शुरुआत में, कई फॉलिकल्स परिपक्व होने लगते हैं, उनमें से एक अंततः प्रभावी बन जाता है। क्योंकि सबसे डोमिनेंट फॉलिकल के चयन से पहले अंडाशय के दोनों किनारों पर फॉलिकल्स परिपक्व हो जाते हैं, इससे यह समझा सकता है कि पेट के दोनों किनारों पर कभी-कभी क्यों ओवुलेशन पेन का अनुभव होता है। (और पढ़े - ओवेरियन कैंसर क्या होता है)
     
  • डिम्बग्रंथि की दीवार (ओवरियन वाल) टूटना
    ओवुलेशन के समय अंडा अंडाशय की दीवारों को तोड़ कर बाहर जाता है । इससे कुछ महिलाओं को इस समय दर्द महसूस हो सकता है।
     
  • फैलोपियन ट्यूब की गतिविधि
    ओवुलेशन के बाद, फैलोपियन ट्यूब गर्भाशय की ओर अंडे को पहुंचाने में मदद करने के लिए संकुचन करती हैं। यह संकुचन भी ऐंठन का कारण बन सकता है। (और पढ़ें - पीरियड कम आने का कारण)
     
  • मांसपेशी संकुचन
    ओवुलेशन के समय, अंडाशय में चिकनी मांसपेशियां और इनके आसपास के लिगामेंट्स प्रोस्टाग्लैंडिन के बढ़ते स्तर के जवाब में संकुचन से गुजर रहे होते हैं, प्रोस्टाग्लैंडिन लिपिड-यौगिक हैं जो पीरियड की ऐंठन के लिए भी जिम्मेदार होते हैं।

आपके मासिक चक्र के दौरान आपको दर्द होने के कई अन्य कारण भी हो सकते हैं। आप कहां और कब असुविधा महसूस करते हैं, कितने समय तक दर्द रहता है और सभी अन्य संबंधित लक्षणों का एक रिकॉर्ड रखने का प्रयास करें। रिकॉर्ड रखने से आप और आपके डॉक्टर को अंतर्निहित कारण का आसानी से पता चल सकता है।

(और पढ़े - पीरियड जल्दी लाने के उपाय)

ओवुलेशन पेन की जांच या पहचान के लिए कोई विशिष्ट परीक्षण निर्धारित नहीं किया जा सकता है। यह एक प्रकार की एलिमिनेशन प्रक्रिया है - जिसका अर्थ यह है कि डॉक्टर यह सुनिश्चित करने के लिए परीक्षण करते हैं कि कोई अन्य चिकित्सीय समस्याएं मौजूद तो नहीं हैं।

ओवुलेशन पेन के होने की पुष्टि तब की जाती है जब परीक्षण के परिणाम सामान्य होते हैं और दर्द मिड-साइकिल पेन से ही जुड़ा होता है।

क्या आपको बिना कोई नुकसान करने वाला ओवुलेशन दर्द हो रहा है या यह किसी संक्रमण या बीमारी के कारण हो रहा है इसका परिक्षण करने के लिए निम्नलिखित टेस्ट किये जा सकते हैं:

यदि दर्द गंभीर है या आप चिंतित हैं, तो अपने डॉक्टर को दिखाए। आप एक डायरी में अपने दर्द के होने के समय का विवरण रख सकती हैं इससे आप जब डॉक्टर के पास जाती है तो आपके द्वारा रखे गए विवरण से दर्द की पहचान में आसानी होती है।

ओवुलेशन पेन आमतौर पर लगभग 24 घंटे के भीतर चला जाता है, इसलिए विशिष्ट उपचार की आवश्यकता नहीं होती है। कुछ महिलाओं को केवल तेज दर्द का विस्फोट महसूस होता है। इससे पीड़ा होती है, लेकिन फिर यह तुरंत चला जाता है। हालांकि, कुछ महिलाओं को लंबे समय तक चलने वाली परेशानी का अनुभव भी हो सकता है।

इलाज के लिए सबसे पहला तरीका वही है जो कि ज्यादातर लोग दर्द के समय उपयोग करने के बारे में सोचते हैं, दर्द निवारक या पेन किलर लेना जैसे - इबप्रोफेन या एसिटामिनोफेन जैसी ओवर-द-काउंटर दवाएं। यह ओवुलेशन में दर्द के इलाज का एक विकल्प है।

यह सुनिश्चित करने के लिए कि आपका ओवुलेशन पेन किसी भी अन्य मौजदा चिकित्सा समस्या के कारण नहीं है, अपने डॉक्टर से परामर्श लें।

हल्का ओवुलेशन पेन होने पर निम्नलिखित उपायों से आप राहत महसूस कर सकती हैं -

  • यदि दर्द से आप परेशान है तो  जब भी मौका मिले आप बिस्तर में आराम करने का प्रयास करें।
  • आप दर्द से राहत के लिए पेन किलर दवा का प्रयोग भी कर सकती हैं।
  • यदि आप गर्भधारण करने की कोशिश कर रही हैं और इस समय किसी भी दर्द निवारक दवा को लेने से बचना चाहती हैं, तो मासिक धर्म में ऐंठन के लिए आप जो सामान्य उपचार करती हैं वे भी ओवुलेशन पेन को कम करने में आपकी मदद कर सकते हैं। जैसे कि अपने निचले पेट में गर्म सिकाई करें। गर्म पैक, गर्म पानी की बोतल या गर्म स्नान का प्रयोग कर सकती हैं। (और पढ़े - गर्भधारण का सही समय)
  • आप आपने डॉक्टर से बात करके उनके द्वारा बताई गयी एंटी-इंफ्लेमेटरी दवा भी ले सकती हैं, इससे भी आपको दर्द से राहत मिल सकती है।
  • हार्मोनल गर्भनिरोधक गोली और गर्भनिरोधक के अन्य रूप भी ओवुलेशन पेन को रोक सकते हैं क्योंकि वे ओवुलेशन प्रक्रिया को रोकते हैं। अपने डॉक्टर के साथ इस विकल्प पर पहले बात कर लें। (और पढ़े - अनचाहा गर्भ रोकने के उपाय)

यदि आपको ओवुलेशन पेन का अनुभव होता है जो तीन दिनों से भी अधिक समय तक रहता है या यदि आपको भारी रक्तस्राव या डिस्चार्ज जैसे अन्य लक्षण हैं तो अपने डॉक्टर से बात करें।

और पढ़ें ...