myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

अल्ट्रासाउंड आजकल गर्भावस्था के दौरान कराना बहुत ज़रूरी बन गया है और बच्चे के जन्मपूर्व देखभाल का एक हिस्सा बन गया है। गर्भावस्था की शुरुआत में, अल्ट्रासाउंड का उपयोग भ्रूण के दिल की धड़कन और गर्भाशय अर्थात गर्भावस्था, एक्टोपिक प्रेग्नेंसी है या ट्यूब्युलर (Ectopic or tubular) इसकी पुष्टि करने के लिए किया जाता है।

(और पढ़ें - अल्ट्रासाउंड)

बाद की प्रेग्नेंसी में, भ्रूण के विकास, प्लेसेंटा की स्थिति और गर्भनाल (Umbilical cord) के साथ ही साथ बच्चे के सामान्य स्वास्थ्य और शारीरिक संरचना के लिए अल्ट्रासाउंड टेस्ट किया जाता है। अल्ट्रासाउंड का उपयोग गर्भाशय ग्रीवा (Cervix) की लंबाई की जांच के लिए भी हो सकता है। अगर इस बात का कोई संदेह होता है कि आपको समय से पहले प्रसव हो सकता है तो उस स्थिति में गर्भाशय ग्रीवा की लंबाई की जांच की जाती है।

(और पढ़ें - गर्भावस्था के दौरान डॉक्टर से चेकअप)

  1. गर्भावस्था में अल्ट्रासाउंड कराने की समयसीमा - Pregnancy ultrasound timeline in Hindi
  2. गर्भावस्था में अल्ट्रासाउंड कैसे किया जाता है - How is ultrasound been done during pregnancy in Hindi

गर्भावस्था की पहली तिमाही में अल्ट्रासाउंड - Ultrasound in first trimester of pregnancy in hindi

गर्भावस्था की पहली तिमाही में, सबसे पहला अल्ट्रासाउंड 6 से 9वें हफ्ते के दौरान कराना, प्रसवपूर्व देखभाल का एक नियमित हिस्सा होता है। अमेरिकी कांग्रेस के ऑब्स्टेट्रिशियन और गायनोलॉजिस्ट के अनुसार पहली तिमाही में अल्ट्रासाउंड के निम्नलिखित उपयोग हैं:

(और पढ़ें - अल्ट्रासाउंड टेस्ट)

  1. भ्रूण को मापकर अनुमानित तारीख की पुष्टि करना (पहली तिमाही के बाद, अल्ट्रासाउंड द्वारा तारीख निर्धारण कम सटीक होता)।
  2. भ्रूण की धड़कन जांचना।
  3. यह सुनिश्चित करना कि गर्भाशय में प्रेग्नेंसी सही जगह पर है या नहीं अर्थात कहीं ट्यूब्युलर या एक्टोपिक गर्भावस्था में तो नहीं बन रही है। (और पढ़ें - गर्भावस्था के दौरान पेट दर्द)
  4. भ्रूण की संख्या जांचना।

अधिकांश चिकित्सक प्रेग्नेंसी में पहले अल्ट्रासाउंड के लिए कम से कम 6 हफ़्तों तक का इंतजार करते हैं। क्योंकि गर्भावधि सैक (Gestational sac) जल्द से जल्द, आपकी आखिरी माहवारी के 4.5 हफ़्तों के बाद ही देखा जा सकता है। दिल की धड़कन को जल्द से जल्द 5 हफ़्तों की गर्भावस्था से 6 हफ़्तों की गर्भावस्था में ही सुना जा सकता है (हालांकि सभी मामलों ऐसा नहीं होता है)।

(और पढ़ें - मासिक धर्म में गर्भधारण हो सकता है क्या?

गर्भावस्था की दूसरी तिमाही में अल्ट्रासाउंड - Ultrasound in second trimester of pregnancy in hindi

आपकी गर्भावस्था के बीच के समय में, आमतौर पर गर्भावस्था के 18वें सप्ताह और प्रेग्नेंसी के 22वें सप्ताह के बीच, दूसरा अल्ट्रासाउंड किया जाता है। यह अस्पताल या डॉक्टर के क्लिनिक में सोनोग्राफर द्वारा किया जाता है, जहां उपकरण अधिक नए होते हैं। दूसरी तिमाही का अल्ट्रासाउंड कोई खेल नहीं होता है। यह आपके बच्चे के पूरे स्वास्थ्य और आपकी गर्भावस्था का स्पष्ट चित्र दिखाता है। इसमें आप:

  1. देख सकती हैं कि बच्चा किस तरह से विकसित हो रहा है और अपने बच्चे के आकार को मापकर और सभी प्रमुख अंगों की जाँच करके ये तसल्ली कर सकती हैं कि सब कुछ ठीक है।
  2. आपके बच्चे का लिंग पता लग जाता है लेकिन ये जानने की कोशिश नहीं करनी चाहिए क्योंकि भारत में यह प्रतिबंधित है।

(और पढ़ें - लड़का होने के लिए उपाय और गोरा बच्चा पैदा करना से जुड़े मिथक)

आप सोनोग्राफर से अपने बच्चे के हाथ, पैर, चेहरे और पेट और किडनी जैसे छोटे अंगों को इंगित करने के लिए कह सकती हैं। रूटीन दूसरी तिमाही के अल्ट्रासाउंड आमतौर पर 2डी (2D) में किये जाते हैं, अधिकांश डॉक्टर 3डी (3D) और 4डी (4D) अल्ट्रासाउंड केवल तभी करते हैं जब अल्ट्रासाउंड की सुरक्षा की बात हो या फिर जब भ्रूण की अधिक बारीकी से जांच करनी हो।

(और पढ़ें - गर्भ में बच्चे का विकास वीडियो के साथ)

गर्भावस्था के दौरान अतिरिक्त अल्ट्रासाउंड - Other ultrasounds during pregnancy in hindi

कभी कभी गर्भवती होने पर अतिरिक्त अल्ट्रासाउंड भी कराने पड़ते हैं यदि उसकी प्रेग्नेंसी उच्च जोखिम पर है तो। यदि आपको गर्भावस्था के दौरान स्पॉटिंग होती है, तो भी डॉक्टर आमतौर पर यह सुनिश्चित करने के लिए अल्ट्रासाउंड करेंगे कि गर्भ में सब अच्छी तरह से है। यदि आप एक से अधिक बच्चों को जन्म देने वाली हैं, तो भी आपको उनके विकास की जानकारी के लिए जल्दी जल्दी अल्ट्रासाउंड कराने होंगे। इसके अतिरिक्त, अल्ट्रासाउंड कई अन्य परीक्षणों जैसे, कोरिओनिक विलस सैंपलिंग (CVS- Chorionic villus sampling), एम्निओसेंटिस (Amniocentesis) के लिए भी किया जाता है।

(और पढ़ें - गर्भावस्था में रक्तस्राव)

अल्ट्रासाउंड परीक्षा अक्सर पेट पर एक ट्रांन्सड्यूसर का उपयोग करके किया जाता है। इसके दौरान थोड़ा जैल आपके पेट पर रगड़ा जाता है और फिर ट्रांसड्यूसर, जो ध्वनि तरंगें (Sound waves) निकालता है, उस जगह पर रगड़ा जाता है। अल्ट्रासाउंड स्कैन, गर्भाशय में पेट द्वारा हाई फ्रीक्वेंसी की ध्वनि तरंगों को भेजता है। ये बच्चे पर पड़ती हैं और कंप्यूटर पर बदले में बच्चे की आकृति एक छवि के रूप में दिखाई देती है। इस चित्र में शिशु की स्थिति और गतिविधियां दिखाई देती हैं। हड्डी जैसे कठोर ऊतकों (Hard tissues) को चित्र में सफेद और नरम ऊतकों (Soft tissues) को भूरे और धब्बेदार हिस्सों के रूप में देखा जा सकता है। तरल पदार्थ (जैसे एम्नियोटिक तरल पदार्थ जिसमें बच्चा रहता है) किसी रूप में प्रतिबिंबित (Reflect) नहीं होता है, इसलिए काला दिखाई देता है। इस प्रकार अल्ट्रासाउंड में बच्चे की छवि दिखाई देती है।

(और पढ़ें - प्रेग्नेंसी के हफ्ते)

और पढ़ें ...

References

  1. National Institute for Health and Care Excellence. Multiple pregnancy: twin and triplet pregnancies. [Internet]
  2. A. Khalil et al. ISUOG Practice Guidelines: role of ultrasound in twin pregnancy. Ultrasound in Obstetrics & Gynecology
  3. American Pregnancy Association. [Internet]; Ultrasound: Sonogram.
  4. Better health channel. Department of Health and Human Services [internet]. State government of Victoria; Pregnancy tests - ultrasound
  5. U. S Food and Drug Association. [Internet]. Ultrasound Imaging
  6. MedlinePlus Medical Encyclopedia: US National Library of Medicine; Ultrasound pregnancy
  7. Office on Women's Health [Internet] U.S. Department of Health and Human Services; Prenatal care and tests.