क्या आप उम्र बढ़ने के शुरुआती लक्षणों से परेशान हैं? तो अब आपको इन लक्षणों से परेशान होने की ज़रूरत नहीं है क्योंकि आयुर्वेद बताता है ऐसे तरीके जो उम्र बढ़ने के सभी शुरुआती लक्षणों को कम कर सकते हैं। एंटी एजिंग के लक्षणों में सफेद बाल, ड्राइ और झुर्रियों वाली त्वचा, आंखों के नीचे काले घेरे आदि शामिल हैं। हमारा भोजन और आधुनिक जीवन शैली आदि एंटी एजिंग के मुख्य कारण हैं

आयुर्वेद के एंटी एजिंग टिप्स आहार, व्यायाम और सामान्य नींद पर जोर देते हैं जो आपके जीवन में कई वर्ष जोड़ देते हैं। तो आइए जानते हैं कुछ ऐसे ही आयुर्वेदिक टिप्स के बारे में।

(और पढ़ें - एंटी एजिंग फूड)

  1. आयुर्वेदिक आहार एंटी एजिंग के लिए - Ayurvedic Diet for Anti Aging in Hindi
  2. एजिंग के लक्षण कम करने के लिए आयुर्वेदिक उपाय - Anti aging ayurvedic remedies in Hindi
  3. एंटी एजिंग के लिए आयुर्वेद लाइफस्टाइल - Ayurvedic lifestyle tips for anti aging in Hindi
एजिंग के लक्षण कम करने के आयुर्वेदिक टिप्स के डॉक्टर

दैनिक भोजन ताजा पका हुआ होना चाहिए। यह भोजन स्वादिष्ट और आसानी से पचने योग्य होना चाहिए। मसालेदार, तला हुए भोजन, ठंडे पेय, कैफीन समृद्ध पदार्थ और पेय और शराब का सेवन कम किया जाना चाहिए।

अपने दैनिक आहार में इन सभी (मिठाई, नमकीन, खट्टे, तीखे, कड़वा और कसैले) छह स्वादों को आज़माएं और शामिल करें। 

(और पढ़ें - स्वस्थ भोजन के लिए आयुर्वेदिक टिप्स)

आयुर्वेदिक प्राकृतिक कायाकल्प थेरेपी

आयुर्वेद एंटी एजिंग के लिए रसायन ऐज ओल्ड रिहैबिलिटेशन थेरेपी प्रदान करता है जो कि प्राकृतिक कायाकल्प प्रबंधन (natural rejuvenation management) करती है। इस थेरेपी चिकित्सा का आयुर्वेद में एक प्रमुख स्थान है और यह मस्तिष्क के कार्यों सहित शरीर के कार्यों को बनाए रखने और सुधारने के लिए काम करती है। रसायन का समय पर उपयोग, रोगों के खिलाफ प्रतिरोध क्षमता बढ़ाने, आपके स्वास्थ्य और उत्साह को बढ़ाने और बुढ़ापे की दुर्बलता में देरी करने में मदद कर सकता है। च्यवनप्राश भी रसायन की एक ऐसी ही हर्बल तैयारी है जो युवाओं की बुद्धिमत्ता को बहाल करती है, साथ ही बुढ़ापे को रोकने में मदद करती है।

इस चिकित्सा के आंतरिक उपयोग के अलावा, बाह्य वातावरण भी सहायता के रूप में काम करता है। व्यापक प्राकृतिक वातावरण में रहना एक उपयुक्त सहायक चिकित्सा है। इसके साथ ही, जीवित और प्राकृतिक मौसम के सामान्य नियमों का पालन किया जाना चाहिए। यह चिकित्सा नेचुरोपैथी के विज्ञान के अनुसार काम करती है।

(और पढ़ें – त्वचा से उम्र के प्रभाव को दूर करने के तरीके)

एलोवेरा

एलोवेरा का ताजा रस या इसका अर्क आपकी त्वचा के लिए एक वरदान साबित हो सकता है। इसमें मौजूद ब्लड प्यूरीफिकेशन गुण, मुँहासे, एलर्जी के दाने, सूजन और दाग जैसे कई त्वचा रोगों का इलाज करने में भी लाभकारी होता है। एलोवेरा की प्रकृति ठंडी है। यह स्वाद में कड़वा होती है। इस प्रकार, एलोवेरा को शरीर में बढ़ती गर्मी को कम करने में मदद करने के लिए माना जाता है और साथ ही यह त्वचा में नमी को बनाए रखने में मदद करती है। त्वचा को नरम और कोमल रखने के लिए इसके 10 से 20 मिलीलीटर ताजा रस को एक पूरक के रूप में लिया जा सकता है। इसकी लुगदी या रस को भी आप मुँहासे, एलर्जी के दाने, सूजन आदि पर इस्तेमाल कर सकते हैं।

(और पढ़ें - घर पर बनी एंटी-एजिंग क्रीम)

नीम

आयुर्वेद के अनुसार, नीम प्रकृति में हल्का है और कार्रवाई (action) में ठंडा होता है। इसका स्वाद तीखा और कसैला होता है, जबकि खाने के बाद में कड़वा होता है। इसलिए, नीम शरीर प्रणाली में बढ़ती गर्मी को कम करने में फायदेमंद साबित होता है। यह एक प्राकृतिक एंटीसेप्टिक और एक प्राकृतिक त्वचा रोगी माना जाता है।

(और पढ़ें - बेस्ट एंटी एजिंग क्रीम)

हल्दी

हल्दी एक और आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है जो हमेशा एंटी एजिंग गुणों के साथ जुड़ी हुई है। यह एक बहुत ही अच्छी सौंदर्य चिकित्सा के साथ-साथ कुशल कॉस्मेटिक उपयोग के रूप में कार्य करती है। हल्दी में आटा (बेसन) और चंदन के चूर्ण को मिलाकर त्वचा पर लगाया जाता है जिससे त्वचा नरम और चमकदार हो जाती है जिससे दागों को दूर करने में मदद मिलती है। इसे थोड़े से तेल या मक्खन के साथ खाया जा सकता है।

(और पढ़ें - एंटी एजिंग फेस मास्क)

सैंडलवुड

माना जाता है कि सैंडलवुड में एंटी टॉक्सिक और फिर से युवा करने वाले गुण पाए जाते हैं। यह जड़ीबूटी ऊष्मा से संबंधित त्वचा की समस्याओं जैसे खुजली, कलापन, एलर्जी और खुरदरापन का इलाज करने में अत्यधिक योग्य साबित होती है। इसलिए उम्र बढ़ने के लक्षणों की प्रगति को दूर करने के लिए आप नारियल के तेल में कुछ चंदन का तेल मिलाकर मालिश कर सकते हैं। 

(और पढ़ें - खुजली दूर करने के घरेलू उपाय)

गुलाब जल

माना जाता है कि गुलाब एक्शन में हल्का और ठंडा होता है। यह विटामिन सी में समृद्ध है और त्वचा के लिए अच्छा है। गुलाब का पानी बेहतर परिणाम और बेहतर रंग के लिए त्वचा पर बाहरी रूप से लगाया जा सकता है। आप रोज के एक चम्मच गुलाब जल को एक गिलास पानी में मिलाकर खाली पेट एक या दो बार दिन में ले सकते हैं।

(और पढ़ें - एंटी एजिंग के घरेलू उपाय)

आंवला

आंवला फल में पूरे शरीर की प्रणालियों के कायाकल्प और पुनर्जीवन के विशेष गुण हैं। आंवला स्वाद  में खट्टे, प्रकृति में ठंडे और भारी और खाने के बाद मीठा होते हैं। रासायनिक रूप से, आंवला फल साइट्रिक एसिड से भरा होता है। इसलिए, प्रकृति से निकले जाने वाले विटामिन सी के लिए इसको अधिक मात्रा में शामिल करने के लिए कहा जाता है। इसमें कम मात्रा में कैल्शियम और खनिज भी शामिल है, जैसे लौह और फास्फोरस। इसके कुछ अन्य महत्वपूर्ण तत्व अल्बुमिन, सेल्युलोज, फाइबर, कार्बोहाइड्रेट, चीनी और पानी हैं। आयुर्वेद का मानना है कि आंवला फल सभी त्रिदोष (वात, पित्त और कफ) को कम करने में मदद करता है।

योगाभ्यास और प्राणायाम की गहरी साँस लेने की तकनीक उन सभी लोगों के लिए आभासी लाभ है जो प्रगतिशील वर्षों के बारे में जागरूक हो रहे हैं। कई तरीकों से बुढ़ापे की प्रक्रिया को धीमा करने के योग जब नियमित रूप से अभ्यास किया जाता है तो शरीर की कोशिका का अध: पतन काफी कम हो जाता है और इसके बदले में मन, शरीर और आत्मा को जीवन शक्ति और ताकत मिलती है। ध्यान का अभ्यास आंतरिक शांति प्रदान करता है, दुर्बलता और सीमाओं को कम करने में मदद करता है और यहां तक कि बुढ़ापे की प्रक्रिया धीमा कर देता है।

इसके अलावा अपने दैनिक दिनचर्या में इष्टतम व्यायाम शामिल करें। इससे अधिक सक्रिय, लचीले और प्रगतिशील बीमारियों से दूर रहने में मदद मिलती है। ये अभ्यास आपकी ताकत और सहन शक्ति के अनुसार होने चाहिए। सुबह में एक ब्रिस्क वॉक व्यायाम एक अच्छा तरीका है। सात से आठ घंटे तक आरामदायक नींद आराम का सबसे अच्छा तरीका है। यह शरीर और मन को पूरी तरह से शांत करने में मदद करती है और ऊर्जा के दैनिक नुकसान से उभरने में भी मदद करती है। यह रिटेनिंग बनाए रखने के साथ-साथ सजीव रहने के लिए एक आवश्यक घटक भी है जो प्राकृतिक कल्याण, शक्ति और जीवन शक्ति के लिए बेहद महत्वपूर्ण हैं।

Dr. Priti Kulkarni

Dr. Priti Kulkarni

डर्माटोलॉजी
3 वर्षों का अनुभव

Dr. Puneet Agarwal

Dr. Puneet Agarwal

डर्माटोलॉजी
11 वर्षों का अनुभव

Dr. Neha Baig

Dr. Neha Baig

डर्माटोलॉजी
3 वर्षों का अनुभव

Dr. Avinash Jhariya

Dr. Avinash Jhariya

डर्माटोलॉजी
5 वर्षों का अनुभव

cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ