myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

आपकी डाइट बहुत अच्छी है, आप नियमित एक्सरसाइज करते हैं। इसके बावजूद आप नोटिस करेंगे कि आप कभी-कभी बीमार पड़ जाते हैं। दरअसल नियमित अपना ख्याल न रखने और डाॅक्टर से रूटीन चेकअप नहीं करवाने की  वजह  ऐसा होता है। नियमित चेकअप कराने की वजह से आप पहले से ही अपनी बिगड़ी हालत के बारे में जान जाते हैं। इससे न सिर्फ छोटी-मोटी बीमारियां बल्कि कैंसर जैसी घातक बीमारियों से निपट सकते हैं। कैंसर को मात देने का बेहतरीन तरीका है इसके पूर्व लक्षणों के बारे में जानना। इस लेख में हम पुरूषों में कैंसर के शुरूआती लक्षणों पर बात करेंगे। जानिए, इनके बारे में और स्वस्थ रहिए।

(और पढ़ें - कैंसर में क्या खाना चाहिए)

पेशाब करने में दिक्कत आना

बढ़ती उम्र में पेशाब करने में समस्या होना आम बात है। खासकर रात को यह समस्या ज्यादा बिगड़ जाती है। तेज पेशाब आने पर, पेशाब अपने आप निकल जाता है। इसके अलावा पेशाब करने के दौरान शुरूआत में  पेशाब नहीं निकलता और पेशाब करने के दौरान जलन का अहसास होता है। यही सब समस्याएं कैंसर होने की स्थिति में भी नजर आती हैं। ध्यान दें, यदि आपका प्रोस्टेट ग्लैंड सामान्य से बड़े आकार का नजर आ रहा है तो यह प्रोस्टेट कैंसर का लक्षण है। इस तरह की दिक्कतें होने पर डाॅक्टर से मिलें। वे आपका चेक अप करके जरूरी टेस्टों की सलाह देंगे।

(और पढ़ें - गुदा कैंसर का इलाज)

अंडकोष में बदलाव

यदि आपको अंडकोष में भारीपन, गांठ या कोई अन्य बदलाव नजर आए तो इसे नजरंदाज न करें। विशेषज्ञों का कहना है कि प्रोस्टेट कैंसर की ही तरह टेस्टीक्यूलर कैंसर भी होता है। टेस्टीक्यूलर कैंसर बहुत धीरे-धीरे विकसित होता है। इसे रातों-रात ठीक नहीं किया जा सकता है। अतः यहां बताए गए लक्षणों के बारे में जानकर आप तुरंत डाॅक्टर से संपर्क करें। अगर डाॅक्टर को फिजिकल एग्जाम के दौरान कोई समस्या महसूस हुई, तो वे ब्लड टेस्ट और वृषण (अंडकोष की थैली) के अल्ट्रासाउंड के लिए कह सकते हैं।

(और पढ़ें - खाने की नली के कैंसर का कारण)

पेट खराब होना

कभी-कभी पेट खराब होना बिल्कुल सामान्य है। यदि आप नोटिस करें कि अक्सर आपका पेट खराब रहता है या फिर इस प्रक्रिया में कोई बदलाव आया हैं तो यह आंत का कैंसर (कोलोन कैंसर) या मलाशय कैंसर (रेक्टल कैंसर) की ओर इशारा कर सकता है। ये दोनों जब एक साथ होते हैं तो यह कोलोरेक्टल कैंसर के नाम से जाना जाता है। जहां एक ओर आंत का कैंसर आंत में होता हैं, वहीं दूसरी ओर मलाशय का कैंसर, मलाशय को प्रभावित करता है। बार-बार डायरिया, कब्ज जैसे लक्षण नजर आने पर सतर्क हो जाएं, ये कैंसर के लक्षण हैं। खासकर, यह गौर करें कि कहीं एकाएक आपको यह शिकायत तो नहीं हुई हैं। इन लक्षणों के अलावा आपको बार-बार गैस और पेट में दर्द होने की शिकायत भी बनी रहेगी। आंत के आकार में आ रहा बदलाव कैंसर की निशानी है।

(और पढ़ें - अग्नाशय कैंसर के लक्षण)

मलाशय कैंसर

मलाशय से एकाएक ब्लीडिंग होने लगे तो इसे भी मलाशय कैंसर के शुरूआती लक्षण के तौर पर लिया जा सकता है। यह खासकर तब चिंता का विषय बन जाता है जब खून बहना बंद नहीं होता और शरीर में खून बहने की वजह से आपके शरीर में आयरन की कमी हो जाती है यानी एनीमिया हो जाता है। इसके साथ ही आपके मल में खून भी नजर आने लगता है। हालांकि मलाशय से खून निकलने की और भी वजहें होती हैं जैसे बवासीर। आपको इन लक्षणों के नजर आने पर खुद अपना इलाज शुरू नहीं करना चाहिए। इसके बजाय तुरंत डाॅक्टर से संपर्क करें। कैंसर को मात देना है तो 50 साल की उम्र के बाद नियमित कोलोन कैंसर स्क्रीनिंग करवाएं।

(और पढ़ें - ब्रेन कैंसर का कारण)

पेशाब में खून आना

पेशाब में खून आने की अनदेखी कतई नहीं करनी चाहिए। यह मूत्राशय कैंसर (ब्लैडर कैंसर) का सामान्य लक्षण है। इस तरह का कैंसर धूम्रपान न करने वालों से ज्यादा धूम्रपान करने वालों को होता है। धूम्रपान छोड़ चुके पुरूष भी इसकी चपेट में आते हैं। इसके इतर प्रोस्टेटिटिस, प्रोस्टेट कैंसर और यूटीआई की वजह से भी पेशाब में खून आ सकता है। प्रोस्टेट कैंसर की वजह से शुरूआती चरण में वीर्य में भी खून नजर आ सकता है।

असामान्य खांसी

असामान्य खांसी सिर्फ धूम्रपान करने वाले और एलर्जी से परेशान पुरूषों को ही नहीं होती। इसके साथ ही लंग कैंसर के शुरूआती लक्षण के तौर पर भी आपको लगातार खांसी हो सकती है। यदि आपको खांसी के साथ-साथ बुखार और संक्रमण हो, तो इसे सामान्य खांसी न समझें। इसके उलट खांसते हुए बलगम में खून नजर आए तो सतर्क हो जाएं। यह पुरूषों में लंग कैंसर की ओर संकेत दे रहा होता है।

अगर आप खुद को कैंसर से बचाना चाहते हैं, तो यहां बताए गए लक्षणों को जानें। तभी आप खुद को कैंसर जैसी घातक बीमारी से बचा सकते हैं।

(और पढ़ें - गले के कैंसर का कारण)

और पढ़ें ...