myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

डायबिटिक फुट अल्सर - Diabetic Foot Ulcer in Hindi

कई बार आवाज़ आने में कुछ क्षण का विलम्ब हो सकता है!
डायबिटिक फुट अल्सर
सुनिए कई बार आवाज़ आने में कुछ क्षण का विलम्ब हो सकता है!

डायबिटिक फुट अल्सर क्या है?

डायबिटिक फुट अल्सर एक आम लेकिन गंभीर समस्या है, जो आमतौर पर डायबिटीज मेलिटस को ठीक से कंट्रोल न कर पाने के कारण होती है। सामान्य तौर पर किसी घाव के भरने की प्रक्रिया चरणबद्ध होती है, जिसमें कोशिकाओं के उन बाहरी हिस्सों की मरम्मत होती है, जो क्षतिग्रस्त हो चुके हैं। हालांकि, कुछ विकार ऐसे होते हैं, जो घाव भरने की इस सामान्य प्रक्रिया को प्रभावित कर देते हैं। इस स्थिति में घाव को ठीक होने में सामान्य से अधिक समय लगता है। डायबिटीज मेलिटस भी उन बीमारियों में से एक है, जो घाव के भरने की प्रक्रिया को धीमी कर देता है। इस कारण ये है कि डायबिटीज मेलिटस बीमारी में स्वस्थ ऊतक बनने की प्रक्रिया (ग्रैन्युलेशन) धीमी हो जाती है।

(और पढ़ें - घाव को भरने के घरेलू उपाय)

डायबिटिक फुट अल्सर के लक्षण - Diabetic Foot Ulcer Symptoms in Hindi

डायबिटीक फुट अल्सर के सभी मामलों में दर्द नहीं होता है। यदि अल्सर से संबंधित तंत्रिका क्षतिग्रस्त नहीं हुई है, तो व्यक्ति को दर्द महसूस हो सकता है। डायबिटिक फुट अल्सर एक गंभीर समस्या है और इसलिए इसका इलाज भी जल्द से जल्द करना बहुत जरूरी होता है।

डायबिटिक फुट अल्सर में होने वाला घाव (या छाला) देखने में लाल होता है, जिसके चारों ओर की त्वचा मोटी हो जाती है। गंभीर मामलों में छाले का बीच वाला लाल हिस्सा गहरा पड़ जाता है, जिसमें त्वचा के साथ-साथ उसके नीचे की हड्डी या टेंडन भी क्षतिग्रस्त हो जाता है। छाले के आस-पास सूजन व लालिमा रहती ही जिसमें दर्द, जलन और खुजली होती है और त्वचा गर्म रहती है। डायबिटिक फुट अल्सर समस्या के बाद के चरणों में घाव से असाधारण द्रव (रंगहीन द्रव या पस) निकलना, बदबू आना और घाव के चारों तरफ रंगहीन या असाधारण ऊतक बनने लगना आदि गंभीर लक्षण भी देखे जा सकते हैं।

(और पढ़ें - डायबिटीज में परहेज)

डायबिटिक फुट अल्सर का कारण - Diabetic Foot Ulcer Causes in Hindi

डायबिटिक फुट अल्सर अधिकतर उन लोगों में देखा जाता है, जो डायबिटीज मेलिटस के मरीज हैं और इन्सुलिन का इस्तेमाल करते हैं। शरीर का वजन सामान्य से अधिक होना, धूम्रपानतंबाकू का इस्तेमाल करना और शराब पीना आदि  कुछ ऐसे कारक हैं, जो डायबिटिक फुट अल्सर होने के खतरे को बढ़ा सकते हैं।

कभी-कभी आपको अल्सर में किसी प्रकार के लक्षण महसूस नहीं हो पाते हैं, ऐसा आमतौर पर इसलिए होता है क्योंकि डायबिटीज मेलिटस के कारण उस क्षेत्र संवेदना की कमी हो जाती है। इसके अलावा रक्त का परिसंचरण भी ठीक से न हो पाने के कारण घाव भरने की प्रक्रिया प्रभावित हो जाती है। 

डायबिटिक फुट अल्सर शुरू में एक छोटे छाले के रूप में विकसित होता है और संवेदना की कमी के कारण आमतौर पर इसके लक्षण विकसित नहीं होते हैं। घाव के भरने की प्रक्रिया धीमी होने के कारण यह घाव भरने की बजाए बड़ा और गहरा होने लगता है। यदि डायबिटिक फुट अल्सर का समय पर इलाज न किया जाए, तो घाव में संक्रमण हो जाता है और परिणामस्वरूप मवाद बनने लगता है। संक्रमित घाव गहरा होने के कारण संक्रमण हड्डी तक फैल जाता है, जिस स्थिति को ओस्टियोमाइलाइटिस के नाम से जाना जाता है।

यदि घाव के संक्रमित होने के बाद भी उसे उचित इलाज न मिल पाए, तो इससे प्रभावित हिस्से में गैंग्रीन रोग हो जाता है। गैंग्रीन एक अत्यंत गंभीर स्थिति है, जिसमें प्रभावित हिस्से को काटकर शरीर से अलग किया जाता है।

(और पढ़ें - बैक्टीरियल संक्रमण का इलाज)

डायबिटिक फुट अल्सर का परीक्षण - Diagnosis of Diabetic Foot Ulcer in Hindi

आमतौर पर डॉक्टर घाव को देखकर और उसकी जांच करके ही डायबिटिक फुट अल्सर का परीक्षण कर लेते हैं। इसके बाद डॉक्टर खून में शर्करा के स्तर (ब्लड शुगर लेवल) की जांच करते हैं। साथ ही साथ परीक्षण के दौरान मरीज के चलने के तरीके की जांच भी की जाती है, ताकि यह पता लगाया जा सके कि पैर के किस हिस्से पर अधिक दबाव पड़ता है। पैर और टांग में संवेदना की जांच करने के लिए भी कुछ टेस्ट किए जा सकते हैं।

डॉक्टर कुछ विशेष टेस्ट करवाने की सलाह दे सकते हैं -

(और पढ़ें - ब्लड शुगर टेस्ट क्या है)

 

डायबिटिक फुट अल्सर का इलाज - Diabetic Foot Ulcer Treatment in Hindi

ब्लड शुगर के स्तर पर सख्ती से नियंत्रण रखना डायबिटिक फुट अल्सर का इलाज व बचाव करने का सबसे पहला और मुख्य तरीका माना जाता है। फुट अल्सर के इलाज का सबसे मुख्य लक्ष्य घाव के ठीक होने की प्रक्रिया में जितना संभव हो सके जल्दी सुधार करना होता है क्योंकि जितना जल्दी घाव ठीक होगा संक्रमण होने का खतरा उतना ही कम होगा।

विभिन्न इलाज प्रक्रियाओं की मदद से डायबिटिक फुट अल्सर के अंदर दबाव को कम कर दिया जाता है और साथ ही साथ नष्ट हो चुके ऊतकों को भी निकाल दिया जाता है। डॉक्टर घाव के अंदर से द्रव व पस को निकाल कर और दवा लगाकर पट्टी कर देते हैं या फिर उसे ढकने की सलाह देते हैं, ताकि संक्रमण विकसित न हो पाए।

डायबिटिक फुट अल्सर का इलाज करने के कुछ अन्य तरीके भी हैं, जैसे-

  • हाइपरबेरिक ऑक्सीजन थेरेपी
  • नेगेटिव प्रेशर वूंड थेरेपी
  • जिस भाग में बाहरी कचरा और नष्ट ऊतक हैं उसका रिवैस्कुलराइजेशन करना
  • ओजोन थेरेपी
  • घाव का अंदरूनी दबाव कम करना
  • संक्रमण नियंत्रित करने लिए एंटीबायोटिक दवाएं
  • दर्दसूजन को कम करने के लिए सूजन रोधी व दर्द निवारक दवाएं

(और पढ़ें - सूजन कम करने के घरेलू उपाय)



संदर्भ

  1. Kleopatra Alexiadou, John Doupis. Management of Diabetic Foot Ulcers. Diabetes Ther. 2012 Dec; 3(1): 4. PMID: 22529027
  2. David G. Armstrong. Diabetic Foot Ulcers: Prevention, Diagnosis and Classification. Am Fam Physician. 1998 Mar 15;57(6):1325-1332. American Academy of Family Physicians; [Internet]
  3. American Podiatric Medical Association. What is a Diabetic Foot Ulcer?. Advancing Foot and Ankle Medicine and Surgery; [Internet]
  4. Sue E. Gardner et al. Clinical Signs of Infection in Diabetic Foot Ulcers with High Microbial Load. Biol Res Nurs. Author manuscript; available in PMC 2010 Oct 1. PMID: 19147524
  5. Feingold KR, Anawalt B, Boyce A, et al. The Diabetic Foot. Endotext [Internet]. South Dartmouth (MA): Inc.; 2000-.

डायबिटिक फुट अल्सर के डॉक्टर

Dr. Tanmay Bharani Dr. Tanmay Bharani एंडोक्राइन ग्रंथियों और होर्मोनेस सम्बन्धी विज्ञान
15 वर्षों का अनुभव
Dr. Sunil Kumar Mishra Dr. Sunil Kumar Mishra एंडोक्राइन ग्रंथियों और होर्मोनेस सम्बन्धी विज्ञान
23 वर्षों का अनुभव
Dr. Parjeet Kaur Dr. Parjeet Kaur एंडोक्राइन ग्रंथियों और होर्मोनेस सम्बन्धी विज्ञान
19 वर्षों का अनुभव
Dr. M Shafi Kuchay Dr. M Shafi Kuchay एंडोक्राइन ग्रंथियों और होर्मोनेस सम्बन्धी विज्ञान
13 वर्षों का अनुभव
डॉक्टर से सलाह लें

डायबिटिक फुट अल्सर की दवा - Medicines for Diabetic Foot Ulcer in Hindi

डायबिटिक फुट अल्सर के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

दवा का नाम

कीमत

₹631.4

20% छूट + 5% कैशबैक


₹59.5

20% छूट + 5% कैशबैक


₹239.65

20% छूट + 5% कैशबैक


₹382.9

20% छूट + 5% कैशबैक


₹99.4

20% छूट + 5% कैशबैक


₹292.6

20% छूट + 5% कैशबैक


₹62.3

20% छूट + 5% कैशबैक


₹84.7

20% छूट + 5% कैशबैक


₹67.38

20% छूट + 5% कैशबैक


₹98.93

20% छूट + 5% कैशबैक


Showing 1 to 10 of 740 entries

डायबिटिक फुट अल्सर की ओटीसी दवा - OTC Medicines for Diabetic Foot Ulcer in Hindi

डायबिटिक फुट अल्सर के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

दवा का नाम

कीमत

₹156.75

20% छूट + 5% कैशबैक


Showing 1 to 0 of 1 entries