नाक में दर्द - Nose Pain in Hindi

Dr. Ayush PandeyMBBS,PG Diploma

April 06, 2022

April 06, 2022

नाक में दर्द
नाक में दर्द

सर्दी-जुकाम या फिर वायरल संक्रमण के चलते नाक में दर्द की समस्या हो सकती है. इसके अलावा, नेसल कैविटी के अंदर की समस्याओं के कारण भी नाक में दर्द हो सकता है. साथ ही चेहरे पर सेंसेशन को नियंत्रित करने वाली एक या एक से अधिक नसों में होने वाली समस्या के कारण भी ये परेशानी हो सकती है. नाक में दर्द होने के कारणों के आधार पर इसका इलाज किया जाता है.

आज इस लेख में नाक में दर्द के लक्षण, कारण व इलाज के बारे में विस्तार से जानेंगे -

(और पढ़ें - नाक में कुछ फंस जाना)

नाक में दर्द के लक्षण - Nose Pain Symptoms in Hindi

यहां बताए गए लक्षणों के आधार पर कहा जा सकता है कि नाक में दर्द हो रहा है -

(और पढ़ें - नाक में जलन का इलाज)

नाक में दर्द के कारण - Nose Pain Causes in Hindi

नाक में दर्द के कई सामान्य और गंभीर कारण हो सकते हैं, जिनके बारे में नीचे विस्तार से बताया गया है -

सेलुलाइटिस

सेलुलाइटिस एक बैक्टीरियल संक्रमण है, जो स्किन की गहरी परतों पर मौजूद होता है. नाक के अलावा यह शरीर के किसी भी हिस्से को प्रभावित कर सकता है. आमतौर पर इसका असर सबसे ज्यादा पैरों, तलवों व चेहरे पर होता है.

यह स्थिति तब विकसित हो सकती है, जब शरीर में स्टैफिलोकोकस नामक बैक्टीरिया कट, खरोंच या फिर किसी स्किन इंफेक्शन की वजह से स्किन की दरारों से शरीर में प्रवेश कर जाता है. अगर यह संक्रमण नाक की परतों पर फैल जाए, तो नाक में दर्द हो सकता है.

(और पढ़ें - नाक साफ करने का तरीका)

एक्यूट वायरल साइनसिसिस

एक्यूट वायरल साइनसिसिटिस को साइनस इंफेक्शन भी कहा जाता है. यह समस्या तब होती है, जब वायरस चेहरे के साइनस कैविटीज को संक्रमित करते हैं. सामान्य सर्दी-जुकाम का कारण बनने वाले वायरस की वजह से ही साइनस की परेशानी बढ़ती है. साइनस इंफेक्शन की परेशानी बढ़ने पर खांसी, जुकाम, नाक में दर्द इत्यादि परेशानी हो सकती है. साथ ही इसके कारण नाक में दर्द व नाक का बहना इत्यादि लक्षण शामिल होते हैं.

(और पढ़ें - नाक का मांस बढ़ना)

नाक टूटना

नाक की हड्डी टूटने के कारण नाक में दर्द हो सकता है. यह स्थिति तब बनती है, जब चेहरे या नाक पर काफी ज्यादा बल पड़ा हो या फिर बच्चा शारीरिक रूप से काफी कमजोर हो. इस स्थिति में तुरंत सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है. इस अवस्था में बच्चों और बड़ों का इलाज अलग-अलग तरीके से किया जाता है.

(और पढ़ें - नाक में जलन के घरेलू उपाय)

पिंपल्स

नाक व उसके आसपास मुंहासे होने से भी दर्द महसूस हो सकता है. दरअसल, जब स्किन की कोशिकाओं में एक्स्ट्रा ऑयल और बैक्टीरिया जमा हो जाते हैं, तो ये छोटे-छोटे दानों के रूप में नाक के आसपास उभरने लगते हैं. इस स्थिति में नाक में दर्द की परेशानी हो सकती है.

युवावस्था में अक्सर पिंपल्स की परेशानी देखी जाती है. खासतौर से शरीर में हार्मोनल बदलाव की वजह से स्किन पर तेल का उत्पादन काफी ज्यादा बढ़ने लगता है, जिसके कारण पिंपल्स की परेशानी होने लगती है.

(और पढ़ें - नाक साफ करने के उपाय)

आईट्रोजेनिक नोज कंडीशन

नाक की सर्जरी या नाक छिदवाने के परिणामस्वरूप नाक में संक्रमण फैलने की वजह से दर्द और सूजन की स्थिति उत्पन्न हो सकती है. इसके साथ-साथ कुछ मामलों में नाक सुन्न होना और गंध की कमी जैसे साइड-इफेक्ट भी देखे गए हैं. ऐसे में तुरंत डॉक्टर की सलाह लेने की आवश्यकता होती है.

(और पढ़ें - नाक बहने की होम्योपैथिक दवा)

नाक में दर्द का इलाज - Nose Pain Treatment in Hindi

नाक में दर्द का इलाज कारणों के आधार पर किया जाता है. जैसे- अगर किसी व्यक्ति को सेलुलाइटिस की वजह से नाक में दर्द हो रहा है, तो इस स्थिति में उन्हें एंटी-बैक्टीरियल दवाएं लेने की सलाह दी जा सकती है. इसी तरह अन्य समस्याओं के आधार पर नाक दर्द का इलाज किया जाता है. आइए विस्तार से जानते हैं कि नाक दर्द का इलाज कैसे किया जाता है -

सेलुलाइटिस का इलाज

सेलुलाइटिस की वजह से नाक में दर्द होने पर डॉक्टर एंटीबायोटिक जैसी दवाएं शामिल करने की सलाह देते हैं. ये दवा 5 से 10 दिन तक चल सकती है. सेलुलाइटिस की परेशानी दोबारा अटैक कर सकती है. इसलिए, सेलुलाइटिस का इलाज कराने के बाद सही पोषण और इम्यून सिस्टम को बूस्ट करने की आवश्यकता होती है. इसके लिए डॉक्टर सही डाइट और बेहतर लाइफस्टाइल का पालन करने की सलाह दे सकते हैं.

(और पढ़ें - बहती नाक को रोकने के उपाय)

एक्यूट वायरल साइनसिसिस का इलाज

वायरल और बैक्टीरिया की वजह से साइनस की परेशानी बढ़ती है. इस समस्या में डॉक्टर एंटी-बायोटिक्स लेने की सलाह देते हैं. इलाज के दौरान डॉक्टर आराम करने, ज्यादा तरल पदार्थ लेने व पेनकिलर का सेवन करने की सलाह दे सकते हैं.

वायरल साइनसिसिस के लक्षण लगभग सात से दस दिन तक रहते हैं. इसके लक्षण आम सर्दी की तरह ही होते हैं. इन लक्षणों से बचाव के लिए अच्छी तरह से हाथ धोना और साफ-सफाई का ध्यान रखना जरूरी होता है.

(और पढ़ें - नाक का कैंसर)

नाक की हड्डी टूटने का इलाज

नाक की हड्डी टूटने पर तुरंत हॉस्पिटल में एडमिड की आवश्यकता होती है. इस स्थिति में डॉक्टर सर्जरी की सलाह दे सकते हैं. सर्जरी के बाद मरीज को एक्स्ट्रा देखभाल की जरूरत होती है.

(और पढ़ें - सूखी नाक का इलाज,)

पिंपल्स का इलाज

पिंपल्स का इलाज घर में आसान तरीकों से किया जा सकता है. हालांकि, अगर परेशानी ज्यादा बढ़ती है, तो इस स्थिति में डॉक्टर के पास जाने पर डॉक्टर क्रीम, लोशन व साबुन बदलने की सलाह देते हैं. इसके अलावा दूसरों के कपड़े व तौलिया इस्तेमाल न करने के लिए भी कहा जाता है.

(और पढ़ें - बंद नाक खोलने के एक्यूप्रेशर पॉइंट्स)

सारांश – Summary

नाक दर्द कई कारणों से हो सकता है, जिसमें साइनस, नाक में चोट लगना व पिंपल्स इत्यादि शामिल हैं. ऐसे में इन समस्याओं को दूर करके नाक के दर्द का इलाज किया जा सकता है. नाक में दर्द के साथ-साथ अन्य किसी तरह की परेशानी का अनुभव होने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें, ताकि गंभीर स्थितियों से बचा जा सके.

(और पढ़ें - बंद नाक खोलने के उपाय)



सम्बंधित लेख

cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ