myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

शिशु टीकाकरण में रोटावायरस टीके को भी शामिल किया जाता है। रोटावायरस एक तरह का वायरस होता है और यह वायरस बच्चों में फैलने की संभावनाएं बेहद अधिक होती है। रोटावायरस की वजह से शिशु में दस्त की समस्या होती है। इतना ही नहीं रोटावायरस के कारण बच्चे को गंभीर दस्त और निर्जलीकरण के साथ ही उल्टी और बुखार भी हो जाता है। इस वायरस से बचाव के लिए ही बच्चों को रोटावायरस टीका (वैक्सीन) दी जाती है।

(और पढ़ें - बच्चों की इम्यूनिटी कैसे बढ़ाएं)

रोटावायरस की गंभीरता और उससे होने वाली समस्याओं के चलते ही इस लेख में आपको रोटावायरस वैक्सीन के बारे में विस्तार से बताया गया है। साथ ही इसमें रोटावायरस वैक्सीन क्या है, रोटावायरस वैक्सीन की खुराक, रोटावायरस वैक्सीन के फायदे, रोटावायरस टीके के साइड इफेक्ट और रोटावायरस वैक्सीन किसे नहीं देनी चाहिए आदि विषयों को भी विस्तार से बताया गया है।

(और पढ़ें - शिशु की देखभाल)

  1. रोटावायरस वैक्सीन क्या है और फायदे - Rotavirus vaccine kya hai aur fayde
  2. रोटावायरस वैक्सीन की खुराक और उम्र - Rotavirus vaccine ki khurak aur umar
  3. रोटावायरस वैक्सीन की कीमत - Rotavirus vaccine ki kimat
  4. रोटावायरस वैक्सीन के साइड इफेक्ट - Rotavirus vaccine ke side effect
  5. रोटावायरस वैक्सीन किन बच्चों को नहीं दी जानी चाहिए - Rotavirus vaccine kin baccho ko nahi de jani chahiye
  6. रोयावायरस वैक्सीन से होने वाले जोखिम कारक - Rotavirus vaccine se hone vale jokhim karak
  7. रोटावायरस टीका के डॉक्टर

रोटवायरस के टीके को समझने से पहले आपको रोटावायरस के बारे में जानना होगा। रोटावायरस दुनियाभर के शिशुओं और बच्चों में दस्त होने का एक आम कारण होता है। इसके कारण बच्चे को आंतों का संक्रमण गैस्ट्रोएन्टराइटिस (gastroenteritis) हो जाता है। यह संक्रमण आंतों की अंदरूनी परत को क्षति पहुंचाता है, जिसकी वजह से खाने के पोषक तत्व शरीर में अवशोषित नहीं हो पाते हैं।

(और पढ़ें - बच्चों में भूख ना लगने का समाधान)

दुनियाभर के बच्चों में यह गंभीर दस्त की मुख्य वजह होता है, इस वायरस की चपेट में आने से करीब 20 लाख बच्चे अस्पताल में भर्ती होते हैं, जबकि 5 साल से कम आयु के करीब 5 लाख बच्चों की हर साल इस वायरस की वजह से मृत्यु हो जाती है। बड़े बच्चे और व्यस्क भी इस वायरस से संक्रमित हो सकते हैं लेकिन इनका संक्रमण गंभीर नहीं होता है।

(और पढ़ें - टीकाकरण क्यों करवाना चाहिए)

रोटावायरस एक संक्रामक रोग होता है। इसके रोगाणु संक्रमित व्यक्ति के मल में मौजूद होते है और लंबे समय तक जीवित रहते हैं। जब बच्चा किसी गंदी जगह या चीज को छूकर अपने हाथों को अपने मुंह में डाल लेता है, तो इससे यह रोगाणु बच्चे को भी संक्रमण की चपेट में ले लेते हैं। रोटावायरस के संक्रमण की एक बच्चे से दूसरे में फैलने की संभावना मुख्य रूप से अस्पतालों व क्रेच या डे-केयर (जहां पर बच्चे दिन में कुछ समय के लिए रहते हैं) में काफी अधिक होती है।

(और पढ़ें - शिशु का वजन कैसे बढ़ाएं)

रोटावायरस से संक्रमित होने पर बच्चे में बुखार, जी मिचलाना, उल्टी, पेट के निचले हिस्से में दर्द और बार-बार पतले दस्त के लक्षण हो सकते हैं। यह समस्या करीब आठ दिनों तक चलती है। अगर बच्चे को अधिक दस्त हों, तो इसकी वजह से उसके शरीर में पानी की कमी भी हो जाती है। इसके कारण बच्चे को कई बार अस्पताल में भर्ती भी करना पड़ता है। यहां तक कि कुछ मामलो में तो इस संक्रमण के कारण बच्चों की मृत्यु भी हो जाती है।

(और पढ़ें - बच्चे की मालिश कैसे करें)

इस वारयस से बचाव के लिए बच्चों को रोटावायरस का टीका दिया जाता है। यह वैक्सीन बच्चे को पोलियो की दवा की तरह पिलाई जाती है और यही इस वैक्सीन का मुख्य फायदा होता है। भारत में निम्न चार तरह की रोटावायरस वैक्सीन मिलती है।  

  • रोटावैक ओरल वैक्सीन (Rotavac Oral Vaccine)
  • रोटारिक्स ओरल वैक्सीन (Rotarix Oral Vaccine)
  • रोटाटेक ओरल वैक्सीन (RotaTeq Oral Vaccine)
  • रोटास्योर ओरल वैक्सीन (Rotasure  Oral Vaccine)

(और पढ़ें - बच्चे को मिट्टी खाने की आदत)

रोटावायरस वैक्सीन के ब्रांड के आधार पर उसकी खुराक को निर्धारित किया जाता है। बच्चे को पिलाई जाने वाली इस दवा की कुछ ब्रांड की कम, तो कुछ की अधिक खुराक दी जाती है। किस दवा को दो बार या तीन बार देना है इसका निर्णय डॉक्टर करते हैं।

(और पढ़ें - नवजात शिशु को खांसी क्यों होती है)

रोटावायरस वैक्सीन की खुराक कितनी उम्र में दी जाती है, इस बारे में जानें-

  • पहली खुराक – शिशु के 2 महीने का होने पर, 
  • दूसरी खुराक – शिशु के 4 महीने का होने पर, (और पढ़ें - बच्चे को दूध पिलाने के तरीके)
  • तीसरी खुराक – शिशु के 6 महीने का होने पर (यदि बेहद आवश्यक हो)

सामान्यतः शिशु को 15 सप्ताह का होने तक रोटावायरस वैक्सीन की पहली खुराक दी जाती है, जबकि शिशु के 8 महीनों का होने से पहले उसको रोटावायरस वैक्सीन की अंतिम खुराक दे देनी चाहिए। अन्य टीकों के साथ भी रोटावायरस वैक्सीन को दिया जा सकता है, ऐसे करने से शिशु को किसी प्रकार का खतरा नहीं होता है। 

(और पढ़ें - नवजात शिशु को कफ को दूर करने के घरेलू नुस्खें)

रोटावायरस से बचाव के लिए शिशु टीकाकरण में रोटावायरस वैक्सीन को भी शामिल किया जाता है। भारत में इस वैक्सीन के चार ब्रांड मिलते हैं और इन सभी की कीमत करीब 650 से 1650 के बीच है। रोटावाटरस वैक्सीन के ब्रांड और कीमत को निम्नतः चार्ट के माध्यम से जानें -  

ब्रांड    कीमत
रोटावैक ओरल वैक्सीन (Rotavac Oral Vaccine)   689
रोटारिक्स ओरल वैक्सीन (Rotarix Oral Vaccine)  1613
रोटाटेक ओरल वैक्सीन (RotaTeq Oral Vaccine) 1050
रोटास्योर ओरल वैक्सीन (Rotasure  Oral Vaccine)  729

किसी भी वैक्सीन के साथ रोटावायरस वैक्सीन गंभीर एलर्जीक प्रतिक्रियाएं कर सकती है। वैसे सामान्य मामलों में रोटावायरस वैक्सीन से साइड इफेक्ट नहीं होते हैं। लेकिन यदि किसी बच्चे को इससे दुष्प्रभाव हो भी जाए, तो वह बेहद ही हल्के और कुछ ही दिनों में अपने आप ही ठीक हो जाते हैं। फिलहाल, इससे होने वाले साइड इफेक्ट के लक्षणों को विस्तार से जानें:

(और पढ़ें - पोलियो का टीका कब, क्यों लगवाना चाहिए)

जब बच्चे को रोटावायरस वैक्सीन की पिछली खुराक से गंभीर एलर्जी हो तो ऐसे में वैक्सीन की अन्य खुराक नहीं देनी चाहिए। साथ ही कुछ विशेष तरह के लक्षण होने पर आपको अपने बच्चे को रोटावायरस वैक्सीन नहीं देनी चाहिए या डॉक्टर की सलाह के बाद ही देनी चाहिए। निम्न स्थिति में रोटावायरस वैक्सीन को देने से बचें-

  • वैक्सीन के किसी तत्व से गंभीर एलर्जी होना
  • कंबाइंड इम्युनोडेफिसियेंसी डिस्आर्डर (combined immunodeficiency disorder) – जन्म से होने वाला विकार जो बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता को प्रभावित करता है
  • एचआईवी या अन्य रोग जिसकी वजह से बच्चे की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो गयी हो
  • किसी बीमारी के इलाज में स्टेरॉइड दवाइयों का इस्तेमाल किया गया हो
  • कैंसर या कैंसर के इलाज के लिए कीमोथेरपी या रेडिएशन थैरेपी से इम्युनिटी कमजोर हो गयी हो

कुछ स्थितियों में डॉक्टर बच्चे को रोटावायरस वैकसीन देने की सलाह देते हैं।  

रोटावायरस वैक्सीन से बच्चे को जोखिम भी होते हैं। इस वैक्सीन से बच्चे को इंटुस्सुसेप्शन (Intussusception : आंतों की परत अंदर की ओर फोल्ड हो जाना) का खतरा होता है। यह एक गंभीर समस्या होती है। इसमें आंतों में रूकावट आ जाती है और जिसको ऑपरेशन के बाद ठीक किया जाता है। रोटावायरस से बच्चे को इंटुस्सुसेप्शन होने का खतरा बेहद कम होता है।

इंटुस्सुसेप्शन होने पर बच्चे के पेट मे तेज दर्द होता है और वह रोता रहता है। प्रारंभिक अवस्था में इसके लक्षण कुछ मिनट के लिए होते हैं जो बाद में एक घंटे तक भी हो सकते हैं। ऐसा होने पर शिशु अपने पैर तेजी से हिलाते हुए रोता है। साथ ही इस स्थिति में बच्चे को कई बार उल्टियां, मल में खून आना, कमजोरी होना व चिड़चिड़ापन आदि समस्या होने लगती है। सामान्यतः ऐसे लक्षण रोटावायरस वैक्सीन की पहली और दूसरी खुराक के बाद होते हैं, इसके अलावा दवा लेने के बाद किसी भी समय आप बच्चे में इस तरह के लक्षण को देख सकती हैं।

रोटावायरस वैक्सीन लेने के बाद इंटुस्सुसेप्शन और गंभीर एलर्जी होने पर आपको तुरंत डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए। 

(और पढ़ें - एलर्जी होने पर क्या करें)

Dr. Yeeshu Singh Sudan

Dr. Yeeshu Singh Sudan

पीडियाट्रिक

Dr. Veena Raghunathan

Dr. Veena Raghunathan

पीडियाट्रिक

Dr. Sunit Chandra Singhi

Dr. Sunit Chandra Singhi

पीडियाट्रिक

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें
कोरोना मामले - भारतx

कोरोना मामले - भारत

CoronaVirus
604643 भारत
2दमन दीव
100अंडमान निकोबार
15252आंध्र प्रदेश
195अरुणाचल प्रदेश
8582असम
10249बिहार
446चंडीगढ़
2940छत्तीसगढ़
215दादरा नगर हवेली
89802दिल्ली
1387गोवा
33232गुजरात
14941हरियाणा
979हिमाचल प्रदेश
7695जम्मू-कश्मीर
2521झारखंड
16514कर्नाटक
4593केरल
990लद्दाख
13861मध्य प्रदेश
180298महाराष्ट्र
1260मणिपुर
52मेघालय
160मिजोरम
459नगालैंड
7316ओडिशा
714पुडुचेरी
5668पंजाब
18312राजस्थान
101सिक्किम
94049तमिलनाडु
17357तेलंगाना
1396त्रिपुरा
2947उत्तराखंड
24056उत्तर प्रदेश
19170पश्चिम बंगाल
6832अवर्गीकृत मामले

मैप देखें